/>

Breaking

Monday, May 24, 2021

वार्ता के लिए माने किसान, 21 सदस्यीय कमेटी बनी

वार्ता के लिए माने किसान, 21 सदस्यीय कमेटी बनी 

 हिसार छावनी में तब्दील हुए क्रांतिमान पार्क से लेकर लघुसचिवालय में दिनभर किसान तथा पुलिस, आरपीएफ जवान आमने सामने रहे। तनावपूर्ण स्थिति के बीच किसान नेता राकेश टिकैत, गुरनाम सिंह चढूनी समेत अन्य नेता क्रांतिमान पार्क पर पहुंचे। पार्क में आंदोलनकारियों का जमावड़ा सुबह से ही लगा रहा। दोपहर आते आते आंदोलकारियों की तादाद हजारों तक पहुंच गई। दोपहर करीब ढाई बजे एसडीएम जगदीप आंदोलनकारियों के बीच पहुंचे और उन्हें प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत का न्योता दिया। आंदोलनकारी सीएम आगमन के दिन गत 16 मई को पुलिस तथा आंदोलनकारियों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद करीब 350 आंदोलनकारियों पर मुकदमा दर्ज किए जाने का विरोध कर रहे थे। आंदोलनकारियों ने सोमवार को हिसार में आयुक्त कार्यालय पर प्रदर्शन करने का ऐलान किया हुआ था। स्थिति को भांपते हुए प्रशासन ने एक दिन पहले भी आंदोलकारियों को बातचीत के लिए आह्वान कर रहा था। आज आंदोलनकारियों ने प्रशासन का वार्ता का आमंत्रण स्वीकार कर लिया। दोपहर पौने तीन बजे से लघु सचिवालय में 21 सदस्यीय कमेटी की प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत जारी है।
बताया जाता है कि कमेटी के 11 सदस्य तो वही हैं जो गत 16 मई को आईजी संजय कुमार आर्या के साथ मीटिंग में शामिल हुए थे। आज पहुंचे अन्य किसान संगठनों में से कमेटी में एक एक सदस्य को शामिल किया गया है। अभी मीटिंग पर कोई सहमति नहीं बनी है। ऐसे में आंदोलनकारियों ने लघु सचिवालय से थोड़ी दूर डेरा जमा लिया है। गौर हो कि एक हफ्ता पहले मुख्यमंत्री मनोहर लाल जिंदल मॉर्डन स्कूल में बने अस्थाई अस्पताल का उद्घाटन करने आए थे। उनके उद्घाटन करने के बाद नए केंद्रीय कृषि अध्याधेशों का विरोध कर रहे सैकड़ों आंदोलनकारियों के साथ पुलिस की झड़प हुई थी। झड़प वाले दिन किसान नेता राकेश टिकैत तथा गुरनाम सिंह चढूनी आईजी आवास पर पहुंचे थे। दोनों पक्षों के बीच घंटों चली बैठक के बाद किसान नेताओं ने दावा किया था कि प्रशासन तथा आंदोलनकारियों के बीच कोई भी कानूनी कदम नहीं उठाने की सहमति बनी है। ऐसे में कोई भी पक्ष पुलिस को शिकायत नहीं देगा। प्रशासन ने किसान नेताओं के बयान पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी। आंदोलनकारियों को बाद में पता चला कि करीब 350 आंदोलनकारियों के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। इसके बाद से आंदोलनकारी आयुक्त कार्यालय पर प्रदर्शन के लिए पहुंचे।

No comments:

Post a Comment