/>

Breaking

Friday, October 9, 2020

कृषि बिलों का विरोध:24 किसान संगठन एक मंच पर जुटे, देशभर में 3 नवंबर को रोकेंगे हाईवे, कुरुक्षेत्र में देशभर के संगठनों की बैठक में फैसला

कृषि बिलों का विरोध:24 किसान संगठन एक मंच पर जुटे, देशभर में 3 नवंबर को रोकेंगे हाईवे, कुरुक्षेत्र में देशभर के संगठनों की बैठक में फैसला

कुरुक्षेत्र : केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठन फिर लामबंद होने लगे हैं। किसान संगठनों के साथ विभिन्न व्यापारी व मजदूर संगठन भी इन बिजलों के खिलाफ साथ आ गए हैं। किसानों ने अब देशभर में आंदोलन को फैलाने की तैयारी की है। यही नहीं 3 नवंबर को देशभर में हाईवे जाम करने का ऐलान किया है। गुरुवार को कुरुक्षेत्र की कंबोज धर्मशाला में भाकियू समेत विभिन्न संगठनों की मीटिंग हुई।
वहीं शुक्रवार को पंजाब में भी मीटिंग होगी, जिसमें आंदोलन की रूपरेखा तय की जाएगी। कुरुक्षेत्र की मीटिंग देशभर के 24 किसान संगठनों के पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया। गुरुवार देर शाम तक मीटिंग में सभी ने एकसुर में कृषि बिलों का विरोध किया। मीटिंग की अध्यक्षता भाकियू अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने की। बताया कि इस मीटिंग में फैसला लिया कि किसान आंदोलन को देशव्यापी बनाया जाएगा, इसीलिए गुरुवार को मीटिंग में विभिन्न राज्यों से अलग-अलग संगठनों के पदाधिकारी पहुंचे। न केवल किसान, बल्कि किसानों व मजदूरों से जुड़े कई संगठन आंदोलन में शामिल होंगे।
3 नवंबर को पूरे देश में चक्का जाम किया जाएगा। भारतीय किसान संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीएम सिंह ने कहा कि सुबह 10 से शाम 4 बजे तक देशभर में हाईवे जाम रखे जाएंगे। साथ ही आंदोलन को आगे बढ़ाने के लिए शुक्रवार को पंजाब में बैठक बुलाई गई है, जिसमें तीन नवंबर के बाद आंदोलन की पूरी रूपरेखा बनाई जाएगी।
शिअद का मिला साथ
मीटिंग में शिअद प्रदेशाध्यक्ष शरणजीत सौथा व अन्य पदाधिकारी भी पहुंचे। कृषि अध्यादेशों के खिलाफ भाकियू को पूरा समर्थन देने और हर आंदोलन में शिअद की भागीदारी का ऐलान किया। साथ ही समर्थन जताने के लिए बाकायदा भाकियू को पत्र भी सौंपा।

संत गोपालदास समेत बैठक में इन संगठनों ने दिया समर्थन

बैठक में भाकियू से गुरनाम चढ़ूनी, संत गोपालदास, ग्रामीण किसान मजदूर समिति के संयोजक रणजीत सिंह राजू, किसान यूनियन शामली के राष्ट्रीय अध्यक्ष साबित मलिक, किसान कामगार महासभा के संयोजक विरेंद्र सिंह भारत, हरियाणा किसान संघर्ष समिति फरीदाबाद के अध्यक्ष डीके शर्मा, भारतीय किसान मजदूर यूनियन पलवल के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष केपी सिंह, किसान अधिकार आंदोलन उत्तरप्रदेश के संयोजक नरेंद्र राणा, कानपुर से सतीश चौरसिया, भारतीय किसान हरियाणा के राष्ट्रीय सलाहकार अजीत सिंह हाबड़ी, भाकियू अमरोहा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह, रमनदीप मान, दीवान सिंह, होशियार सिंह, किसान सैल प्रधान सिरसा गुरदास सिंह, जसबीर सिंह भाटी सिरसा, अशोक दनौदा, मध्यप्रदेश से राजकुमार, अखिल भारतीय किसान के राज्य अध्यक्ष गुरभजन सिंह, टोल हटाओ संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष विरेंद्र हुड्डा, किसान महापंचायत जयपुर के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट, घासीराम नैन भाकियू के प्रदेश महासचिव जियालाल, व्यवस्था परिवर्तन अभियान के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी राजेश्वर मुनी, भाकियू लोकतांत्रिक के यूपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश चौहान समेत अन्य संगठनों के लोग पहुंचे।

No comments:

Post a Comment