Breaking

Showing posts with label Poltical News. Show all posts
Showing posts with label Poltical News. Show all posts

Tuesday, October 4, 2022

October 04, 2022

आदमपुर उपचुनाव: सियासतदानों ने शुरू की सियासत:AAP ने कसा कुलदीप पर तंज, हुड्‌डा बोले- दूसरे नंबर पर आएगी BJP, भाजपा की चुप्पी

आदमपुर उपचुनाव: सियासतदानों ने शुरू की सियासत:AAP ने कसा कुलदीप पर तंज, हुड्‌डा बोले- दूसरे नंबर पर आएगी BJP, भाजपा की चुप्पी

चंडीगढ़ : हरियाणा में आदमपुर उपचुनाव की घोषणा हो चुकी है। सियासतदानों ने अपनी अपनी जीत के दावे शुरू कर दिए हैं। AAP ने कुलदीप बिश्नोई पर तंज कसते हुए ट्वीट किया है कि परमानेंट पूर्व विधायक बनने का समय आ गया है। वहीं पूर्व CM भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा ने आदमपुर को कांग्रेस का गढ़ बताया है। साथ ही कहा है कि चुनाव में BJP दूसरे नंबर पर आएगी। BJP का अभी तक उपचुनाव को लेकर कोई बयान नहीं आया है।
पूर्व CM ने उपचुनाव पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि आदमपुर कांग्रेस पार्टी का हमेशा से गढ़ रहा है। कुलदीप बिश्नोई हमेशा से ही पार्टी टिकट पर ही चुनाव जीते हैं। इस बार के चुनाव में भी कांग्रेस ही जीत दर्ज करेगी। भाजपा सरकार की कुनीतियों के कारण किसान से लेकर आम जनत परेशान है। इसलिए आदमपुर की जनता उसे इस उपचुनाव में नकार देगी।
*BJP ने साधी चुप्पी*

आदमपुर उपचुनाव की घोषणा के बाद हरियाणा BJP की ओर से अभी तक कोई बयान नहीं आया है। पार्टी नेताओं का कहना है कि पार्टी प्रदेश अध्यक्ष ओपी धनखड़ त्रिपुरा में हैं। CM मनोहर लाल भी दुबई यात्रा पर गए हैं। हालांकि पार्टी आदमपुर उपचुनाव को लेकर भाजपा की पूरी तैयारी है और चुनाव में जीत दर्ज करेगी।
*लोगों से जुड़े हैं बिश्नोई: भव्य*

आदमपुर उपचुनाव पर कुलदीप बिश्नोई के बेटे भव्य बिश्नोई ने प्रतिक्रिया दी है। भव्य का कहना है कि वह चुनाव के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। बिश्नोई आदमपुर की जनता से सीधे जुड़े हुए हैं। व्यक्तिगत रूप से मैं लोगों के बीच हमेशा रहता हूं। इस चुनाव में हम सभी दलों को हराकर जीत दर्ज करेंगे।
*कुलदीप ने पूर्व CM को किया चैलेंज*

BJP नेता कुलदीप बिश्नोई ने उपचुनाव की घोषणा का स्वागत किया है। उन्होंने भूपेंद्र हुड्डा को चैलेंज देते हुए कहा कि यदि भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने आदमपुर में विकास करवाने का काम किया है तो वो स्वयं या अपने बेटे दीपेंद्र को उपचुनाव लड़कर दिखाएं।

Wednesday, September 14, 2022

September 14, 2022

दिल्ली में अब फ्री बिजली नहीं मिलेगी, अगर नहीं किया यह काम, आएगा मोटा बिल

दिल्ली में अब फ्री बिजली नहीं मिलेगी, अगर नहीं किया यह काम, आएगा मोटा बिल

नई दिल्ली : दिल्ली वासियों के लिए उनकी आम आदमी पार्टी की सरकार ने एक बड़ा फैसला लागू कर दिया है। दरअसल, यह फैसला फ्री बिजली को लेकर है। सीएम अरविन्द केजरीवाल ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए जानकारी दी है कि 1 अक्टूबर 2022 से दिल्ली में सबको बिजली पर सब्सिडी नहीं दी जाएगी। यानि फ्री बिजली नहीं मिलेगी। 
केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली में अब सिर्फ उन्हीं लोगों को फ्री बिजली मिलेगी। जो इसके लिए अप्लाई करेंगे। केजरीवाल ने कहा कि 30 सितंबर से पहले दिल्ली वालों को फ्री बिजली के लिए अप्लाई करना होगा। अगर उन्होंने ऐसा नहीं किया तो फिर उन्हें 1 अक्टूबर से बिजली का पूरा बिल देना पड़ेगा। बतादें कि, दिल्ली में 200 यूनिट तक बिजली फ्री है। जबकि 201 से 400 यूनिट पर 50 फीसद बिजली बिल वसूला जाता है। दिल्ली में टोटल 58 घरेलू बिजली उपभोक्ता हैं। जिनमें से 30 लाख लोगों का जीरो बिल आ रहा है। 
*बिजली सब्सिडी के लिए हर माह भी कर सकते हैं अप्लाई*

हालांकि, ऐसा नहीं है कि आप सितंबर में फ्री बिजली के लिए अप्लाई नहीं कर पाए तो आगे नहीं कर पायेंगे। दरअसल, आप सितंबर के बाद भी फ्री बिजली के लिए अप्लाई कर सकते हैं लेकिन यहां एक घाटा आपको यह होगा कि आपसे मौजूदा या पिछले महीने का पूरा बिल वसूला जाएगा। अप्लाई करने वाले महीने के अगले महीने से ही आपकी बिजली फ्री होगी। 
*फ्री बिजली पाने के लिए जान लें तरीका*

बतादें कि, दिल्ली की केजरीवाल सरकार से फ्री बिजली जारी रखने के लिए आपको कुछ इस प्रकार से अप्लाई करना होगा। आप फ्री बिजली के लिए केजरीवाल सरकार द्वारा जारी मोबाइल नंबर 7011311111 पर एक मिस्ड कॉल कर सकते हैं। जिसके बाद आपके मैसेज बॉक्स में लिंक आ जाएगा। उस लिंक जैसे ही आप क्लिक करेंगे। आपको एक फार्म मिलेगा। जिसे आपको भर देना है। 
इसके आलावा आप इस नंबर के जरिये व्हाट्सअप पर Hi लिखकर भेज सकते हैं। जिसके बाद आपके पास व्हाट्सअप पर फार्म भेज दिया जाएगा। इसे भरकर आपको व्हाट्सअप पर ही दोबारा सेंड कर देना है। 
*फ्री बिजली के लिए ऑफलाइन भी हो जाएगा अप्लाई*

बतादें कि, आप फ्री बिजली के लिए ऑफलाइन भी अप्लाई कर सकते हैं। केजरीवाल सरकार आपको बिजली बिल के साथ एक फार्म भेजेगी। जिसे भरकर आपको अपने नजदीकी बिजली कार्यालय में जमा कराना होगा  ।

Tuesday, September 6, 2022

September 06, 2022

चौधरी बीरेन्द्र सिंह का बगावती संदेश:बोले- BJP रेजिमेंटेशन पार्टी, कांग्रेस एक मूवमेंट; काडर बेस पार्टी में एक ही सर्वेसर्वा होता

चौधरी बीरेन्द्र सिंह का बगावती संदेश:बोले- BJP रेजिमेंटेशन पार्टी, कांग्रेस एक मूवमेंट; काडर बेस पार्टी में एक ही सर्वेसर्वा होता

रेवाड़ी : भाजपा नेता एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह भी अब बगावती संदेश दे रहे हैं। चौधरी बीरेन्द्र सिंह ने BJP को रेजिमेंटेशन पार्टी करार दिया। साथ ही कहा कि कांग्रेस एक मूवमेंट है। भाजपा में रहते हुए आजादी के सवाल पर चौधरी बीरेन्द्र सिंह बोले कि काडर बेस पार्टी में एक ही नेता सर्वेसर्वा होता है और जहां काडर होता है, वहां नेता नहीं उभरते।
सोमवार शाम रेवाड़ी में अपने परिचित के कार्यालय में पहुंचे चौधरी बीरेन्द्र सिंह यहीं नहीं रूके। उन्होंने कांग्रेस को लेकर भी बहुत कुछ कह दिया। उन्होंने कहा कि UP और बिहार की तरह हरियाणा में अभी कांग्रेस मरी नहीं है। मगर पार्टी ने सबकुछ भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा को सौंप दिया। उनको पूरी पावर देने से कांग्रेस उठेगी या और गिरेगी, यह पार्टी को खुद सोचना चाहिए।

बीरेन्द्र सिंह ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का UP में 2 करोड़ लाभार्थियों को डेढ़ साल तक मुफ्त में राशन देना चुनाव में जातीय समीकरण पर भारी पड़ गया। देश में आज भी गरीबी, बेरोजगारी व असमानता का माहौल है।
*महत्वकांक्षाओं से आता बिखराव*

बिहार में हुई राजनीतिक उठा पटक पर चौधरी बीरेन्द्र सिंह ने कहा कि यह विपक्ष के लिए संगठित होने का एक और मौका है। उन्होंने देश में तीसरे मोर्चे की संभावना पर कहा कि 50 साल के सक्रिय राजनीतिक अनुभव से कह सकता हूं कि महत्वाकांक्षाएं ज्यादा होती हैं तो बिखराव आता ही है।
*सोनिया के अध्यक्ष बनने से बची रह सकती पार्टी*

बीरेन्द्र सिंह ने कहा कि कांग्रेस में निर्णय लेने की क्षमता नहीं है। हरियाणा में इसका सबसे पहला शिकार केन्द्रीय मंत्री राव इन्द्रजीत सिंह हुए और फिर वह खुद हो गए। हालात ऐसे बन गए कि कांग्रेस छोड़नी पड़ी। अगर सब कुछ ठीक होता तो गुलाम नबी आजाद और मेरे जैसे आदमी कभी कांग्रेस नहीं छोड़ते। कांग्रेस के बागी गुट G-23 को लेकर बीरेन्द्र सिंह ने कहा कि 23 आदमी नेतृत्व को चिट्‌ठी लिखें तो उन्हें बागी कहा जाता है। पार्टी के लिए जीवन लगाने वाले कभी बागी नहीं होते।

Friday, September 2, 2022

September 02, 2022

Supreme Court से संस्कृत को राष्ट्रभाषा घोषित करने की याचिका खारिज, सरकार के पास जाने की दी गई नसीहत

Supreme Court से संस्कृत को राष्ट्रभाषा घोषित करने की याचिका खारिज, सरकार के पास जाने की दी गई नसीहत

नई दिल्ली : संस्कृत को भारत की राष्ट्रीय भाषा बनाने की मांग को बड़ा झटका लगा है। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को एक याचिका खारिज कर दी जिसमें संस्कृत को भारत की राष्ट्रीय भाषा बनाने की घोषणा की मांग की गई थी। जस्टिस एमआर शाह और जस्टिस कृष्ण मुरारी की पीठ ने यह कहते हुए याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया कि किसी भाषा को 'राष्ट्रीय' का दर्जा देना एक नीतिगत निर्णय है। कोर्ट ने कहा कि इसके लिए संविधान में संशोधन की आवश्यकता है और यह अदालत द्वारा आदेशित नहीं है।
*संसद को रिट जारी नहीं की जा सकती*

पीठ ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि यह नीतिगत निर्णय के दायरे में आता है और इसके लिए भारत के संविधान में संशोधन किया जाने की जरूरत है। शीर्ष अदालत ने कहा कि किसी भाषा को राष्ट्रीय भाषा घोषित करने के लिए संसद को कोई रिट जारी नहीं की जा सकती है।
*याचिकाकर्ता से पूछे कई सवाल*

शीर्ष अदालत ने याचिकाकर्ता से सुनवाई के दौरान कई सवाल पूछे। कोर्ट ने कहा कि क्या आपको पता है भारत में कितने शहर संस्कृत बोलते हैं? क्या आप संस्कृत बोलते हैं? क्या आप संस्कृत में एक पंक्ति का पाठ कर सकते हैं या कम से कम अपनी रिट याचिका में की गई अपील का संस्कृत में अनुवाद कर सकते हैं। यह जनहित याचिका सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी और वकील केजी वंजारा ने दायर की थी।
*सरकार के पास जाने को कहा*

याचिकाकर्ता के वकील ने कहा कि संस्कृत एक 'मातृभाषा' है जिससे अन्य भाषाओं ने प्रेरणा ली है। याचिका पर विचार करने से इनकार करते हुए शीर्ष अदालत ने कहा कि याचिकाकर्ता सरकार के समक्ष इस तरह का अभ्यावेदन दायर करने के लिए स्वतंत्र हो सकता है।
बता दें कि याचिका में केंद्र सरकार को यह कहते हुए संस्कृत को राष्ट्रभाषा के रूप में अधिसूचित करने का निर्देश देने की मांग की गई है कि इस तरह के कदम से मौजूदा संवैधानिक प्रावधानों में खलल नहीं पड़ेगा जो अंग्रेजी और हिंदी को देश की आधिकारिक भाषाओं के रूप में प्रदान करते हैं।
September 02, 2022

हरियाणा के इतिहास में सबसे भ्रष्ट मुख्यमंत्री का रिकॉर्ड हुड्डा के नाम

हुड्डा का ‘सोनिया का साथ’ वाला बयान हास्यास्पद-कुलदीप बिश्नोई

-हरियाणा के इतिहास में सबसे भ्रष्ट मुख्यमंत्री का रिकॉर्ड हुड्डा के नाम-

चंडीगढ़ : भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता कुलदीप बिश्नोई ने भूपेन्द्र हुड्डा के उस बयान को हास्यास्पद बताया जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्होंने हमेशा सोनिया गांधी का साथ दिया है। कुलदीप बिश्नोई ने कहा कि 2016 के राज्यसभा चुनाव से पूर्व पार्टी की मीटिंग में सोनिया गांधी ने सबके सामने हुड्डा से पार्टी प्रत्याशी को जिताने का निर्देश दिया था और सभी जानते हैं कि किस प्रकार से स्याही कांड में हुड्डा की मिलीभगत से 14 विधायकों के वोट रद्द हुए थे और कांग्रेस प्रत्याशी को हार मिली थी।  अपने बेटे को जबरदस्ती राज्यसभा भेजा, जबकि सोनिया गांधी किसी और को भेजना चाहती थी। इसी प्रकार 2019 हरियाणा विधानसभा चुनाव से पूर्व रोहतक में रैली करके उन्होंने सरेआम कांग्रेस हाईकमान को ब्लैकमेल किया था। हुड्डा ने हमेशा स्वार्थ की राजनीति की है और अपने बेटे के सिवाय उन्होंने हरियाणा कांग्रेस में कोई और नजर नहीं आता। 8 साल के हुड्डा सरकार के कार्यकाल को सीएलयू और भू माफिया की सरकार के नाम से लोग आज भी याद करते हैं। अपने कार्यकाल में करीब 8 लाख करोड़ रूपए के घोटालों को अंजाम देकर हुड्डा ने हरियाणा को जमकर लूटा था। सीबीआई और ईडी के भ्रष्टाचार के विभिन्न मामलों पर उनके खिलाफ केस चल रहे हैं। स्वच्छ, पारदर्शी और ईमानदार सरकार का क्या होती है यह हुड्डा को मुख्यमंत्री मनोहर लाल से सीखना चाहिए, जिन पर 8 साल के बाद भी भ्रष्टाचार का एक भी दाग नहीं है। मुख्यमंत्री के कुशल नेतृत्व में हरियाणा प्रदेश जहां औद्योगिक  हब बनता जा रहा है, वहीं उन्होंने सरकारी विभागों में व्याप्त भ्रष्टाचार पर लगाम कसकर राज्य की जनता को स्वच्छ एवं जवाबदेह शासन व प्रशासन दिया है। हुड्डा सरकार में जहां नौकरियों की बोली लगती थी, वहीं मनोहर लाल सरकार ने काबिलियत के आधार पर नौकरियों का आवंटन किया और समाज के गरीब तबके तक तक रोजगार उपलब्ध करवाने के दिशा में बेहतरीन कार्य किया है। अगर हुड्डा भी मनोहर लाल सरकार की तरह ईमानदारी से सरकार चलाते तो आज हरियाणा राज्य उन्नति और विकास के पथ पर और ज्यादा तेजी से दौड़ता, मगर हुड्डा ने जहां 8 वर्षों तक अपने मुठ्ठी में सरकार व प्रशासन को रखा, वहीं अब भी वे हरियाणा कांग्रेस को अपनी मर्जी से चलाना चाहते हैं और वरिष्ठ नेताओं का अपमान करके हाईकमान पर दबाव बनाकर अपनी खड़ाउं उन्होंने एचपीसीसी में रख दी हैं, जिसका परिणाम यह हुआ की हरियाणा में कांग्रेस खात्मे की कगार पर पहुंच गई है।
September 02, 2022

प्रमोद सहवाग करेंगे 3750 किलोमीटर लंबी भारत जोड़ो यात्रा

प्रमोद सहवाग करेंगे 3750 किलोमीटर लंबी भारत जोड़ो यात्रा

जींद :  कांग्रेस नेता प्रमोद सहवाग ने पार्टी के शीर्ष नेतृत्व द्वारा 3750 किलोमीटर लंबी भारत जोड़ो यात्रा के लिए भारत यात्री चयनित करने पर पार्टी के नेता राहुल गांधी और राज्य सभा सांसद दीपेंद्र हुड्डा का आभार जताया है। सहवाग ने कहा कि देश में नफरत का माहौल खत्म करने के लिए सात सितंबर को कन्याकुमारी से प्रारंभ की जा रही भारत जोड़ो यात्रा में तिरंगा लेकर चलना अपने आप में गौरव की बात होगी। उन्होंने बताया कि पार्टी ने बतौर भारत यात्री 118 कार्यकर्ताओं को चुना है। जो पूरी यात्रा के दौरान मौजूद रहेंगे। उल्लेखनीय है कि प्रमोद सहवाग ने कांग्रेस की छात्र विंग एनएसयूआई और युवा कांग्रेस से राजनीति शुरू की थी और गुजरात, उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्यों में पार्टी की ओर से चुनाव पर्यवेक्षक का दायित्व भी निभा चुके हैं। 
पार्टी ने 2014 में जींद विधानसभा क्षेत्र से चुनाव भी लड़वाया था।
सहवाग ने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा में बतौर भारत यात्री का चयन होने से  हरियाणा और विशेषकर जींद हलके की भागीदारी होना मेरे लिए ही नहीं पूरे जींद हलके के लिए खुशी के पल है। कांग्रेस ने हमेशा बड़े कार्यो में जींद की भागीदारी की परंपरा को आगे बढ़ाया है। उन्होंने बताया कि पार्टी के निर्देशानुसार भारत यात्रियों को पांच सितंबर को कन्याकुमारी पहुंचना है। कन्याकुमारी से कश्मीर तक होने वाली  इस भारत जोड़ो यात्रा में राहुल गांधी समेत सभी चयनित भारत यात्री 3750 किलोमीटर लंबी यात्रा में मौजूद रहेंगे। सहवाग ने बताया कि भारत जोड़ो यात्रा की टैग लाइन एक तेरा कदम, एक मेरा कदम मिल जाए तो जुड़ जाए अपना वतन। आओ मिलकर भारत जोड़ें। उन्होंने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा राहुल गांधी की अगुवाई मेें ऐतिहासिक होगी। यह यात्रा लगभग 12 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों से होकर गुजरेगी। हरियाणा में भारत जोड़ो यात्रा आएगी। सहवाग ने कहा कि देश में जब भी नफरत का माहौल पैदा हुआ है तब-तब कांग्रेस ने देश को जोड़ने का काम किया है। भारत जोड़ो यात्रा भी देश को जोड़ने का काम करेगी। कांग्रेस नेता प्रमोद सहवाग के भारत यात्री बनने पर पूरे दिन कांग्रेसी कार्यकर्ताओं का उनको बधाई देने का तांता लगा रहा।
September 02, 2022

हरियाणा में इस बीजेपी नेता की सरेआम गोली मारकर कर दी हत्या

हरियाणा में इस बीजेपी नेता की सरेआम गोली मारकर कर दी हत्या

गुरुग्राम : गुरुवार को साइबर सिटी गुरुग्राम ताबड़तोड़ फायरिंग से दहल उठा। भाजपा नेता की दिनदिहाड़े सदर बाजार में गोली मारकर हत्या कर दी गई। भाजपा नेता रेमंड के शोरूम पर खरीददारी करने के लिये आये थे, जहां अज्ञात हमलावरों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। घायल नेता को जब तक अस्पताल पहुंचाया जाता उससे पहले ही उसने दम तोड़ दिया। मृतक का नाम सुखबीर उर्फ सुखी है, जो सोहना मार्केट कमेटी के पूर्व वाइस चेयरमैन थे।
मृतक सुखबीर गांव रिठौज के रहने वाले थे और सदर बाजार के पास गुरुद्वारा रोड पर रेमंड के शोरूम में कपड़े खरीदने के लिए पहुंचे थे। जब वो खरीददारी कर रहे थे तो पांच अज्ञात हमलावर शोरूम में दाखिल हुए और अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। जिस समय सुखबीर को गोलियां मारी गई उस वक्त शोरूम में बड़ी संख्या में खरीददार और कर्मचारी भी मौजूद थे। लेकिन बेखौफ बदमाश हत्या की वारदात को अंजाम देकर फरार हो गये।
वारदात की सूचना मिलते ही पुलिस पहुंच गई और घायल को अस्पताल पहुंचाया। हत्या की ये वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई है। जिसमें हमलावर दिखाई दे रहे हैं। पुलिस सीसीटीवी फुटेज के आधार पर हत्यारों की पहचान कर रही है। पुलिस का दावा है कि जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। पुलिस भले ही आरोपियों को गिरफ्तार करने का दावा करे लेकिन सदर बाजार में हुई इस हत्या की वारदात ने दहशत पैदा कर दी है।