/>

Breaking

Showing posts with label haryana news. Show all posts
Showing posts with label haryana news. Show all posts

Wednesday, July 21, 2021

July 21, 2021

हरियाणा के लिए अलग बने विधानसभा की इमारत

चंडीगढ़ : हरियाणा के लिए अलग बने विधानसभा की इमारत ,विधानसभा स्पीकर ने लोकसभा स्पीकर को दी प्रोजैक्ट रिपोर्ट

चंडीगढ़। हरियाणा में नए परिसीमन के बाद विधायकों की संख्या में इजाफा होगा। जिसके चलते हरियाणा विधानसभा के स्पीकर ज्ञान चंद गुप्ता ने लोक सभा स्पीकर ओम बिरला के साथ मुलाकात करके हरियाणा के लिए चंडीगढ़ में नई विधानसभा इमारत बनाए जाने की मांग की है।
लोकसभा स्पीकर से मुलाकात के बाद ज्ञान चंद गुप्ता ने कहा कि हरियाणा विधानसभा की मौजूदा इमारत के बड़े हिस्से पर पंजाब का कब्जा है। मौजूदा समय में इस इमारत में कामकाज को सुचारू रूप से चलाने में कई तरह की दिक्कते आ रही हैं। एक-एक कमरे में दो-दो विभागों के कर्मचारी बैठ रहे हैं। नए परिसीमन के बाद हरियाणा में विधायकों की संख्या 120 से अधिक हो जाएगी। ऐसे में हरियाणा को चंडीगढ़ में विधानसभा के लिए नई इमारत की जरूरत है। गुप्ता ने कहा कि इस संबंध में चंडीगढ़ प्रशासन को पहले ही प्रोजैक्ट तैयार करके भेजा जा चुका है।
लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने आज इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल के साथ भी बातचीत की है। स्पीकर ने बताया कि उन्होंने इस संबंध में गृहमंत्री अमित शाह से भी मुलाकात का समय मांगा गया है। मुख्य मंत्री मनोहर लाल की सुरक्षा में चूक को लेकर विधानसभा स्पीकर ने कहा कि बजट सत्र के दौरान जब अकाली विधायकों ने सीएम की सुरक्षा में सेंध लगाई गई उस समय आईपीएस पंकज नैन वहां मौजूद थे। सीएम की ओवर ऑल सुरक्षा का जिम्मा उन पर था। डीजीपी द्वारा दी गई रिपोर्ट में उनके समेत कई अन्यों को क्लीन चिट दे दी गई है। जिसके चलते यह मामला अब विधानसभा की विशेषाधिकार समिति को भेजा जाएगा।
*इसी में बाक्स—*
*केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव से भी की मुलाकात*

हरियाणा विधान सभा के अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने दिल्ली दौरे के दौरान मोदी मंत्रीमंडल का हिस्सा बने भूपेंद्र यादव से शिष्टाचार भेंट की। प्रधानमंत्री ने भूपेंद्र यादव को केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन तथा श्रम और रोजगार मंत्रालयों की जिम्मेदारी सौंपी है। ज्ञान चंद गुप्ता ने उन्हें नए दायित्व की बधाई तथा उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं। इस दौरान दोनों नेताओं के बीच किसान आंदोलन जुड़ी गतिविधियों और हरियाणा के सामाजिक, राजनीति मसलों पर भी चर्चा हुई।
July 21, 2021

जींद में बढ़ी ट्रेनों की संख्या, 23 जुलाई से चलेगी ये जरूरी ट्रेन

कोरोनाकाल के बाद जींद में बढ़ी ट्रेनों की संख्या, 23 जुलाई से चलेगी ये जरूरी ट्रेन 
जींद: ( संजय कुमार ) दिल्ली-जींद-बठिंडा रेलवे लाइन पर पांच पैसेंजर ट्रेनों की शुरूआत के बाद अब धौलाधार एक्सप्रेस ट्रेन भी ट्रैक पर लौटी है। धीरे-धीरे अब ट्रेनों का सफर अनलाक होने लगा है। 23 जुलाई से 04037-36 धौलाधार एक्सप्रेस ट्रेन को शुरू हो रही है। जो सप्ताह में तीन दिन चलेगी। सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को यह ट्रेन जींद से सुबह एक बजकर पांच मिनट पर भठिंडा की तरफ जाएगी। मंगलवार, वीरवार और शनिवार को यह ट्रेन सुबह छह बजकर 55 मिनट पर जींद जंक्शन पर पहुंचेगी और दो मिनट रूकने के बाद दिल्ली की तरफ प्रस्थान करेगी।

गौर हो कि कोरोना वायरस के कारण पिछले साल लगे लाकडाउन से पहले दिल्ली-बठिंडा रेलवे लाइन पर करीब 50 एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेनें जींद से होकर गुजरती थी। पंजाब के अंतिम छोर से लेकर दक्षिण भारत तक की कनेक्टिविटी जींद के साथ थी लेकिन लाकडाउन में सभी ट्रेनें बंद हो गई थी। डेढ साल बाद अब कुछ ट्रेनें टैक पर लौटी जरूर हैं लेकिन अभी भी करीब 60 फीसद ट्रेनें बंद पड़ी हैं। 19 जुलाई से पांच पैसेंजर ट्रेनें चलने के बाद अब 23 जुलाई से धौलाधार एक्सप्रेस ट्रेन शुरू होगी।

बेशक कुछ ट्रेनें टैक पर लौट आई हैं लेकिन दिल्ली से जींद होकर कुरुक्षेत्र की तरफ जाने वाली और जींद से सोनीपत जाने वाली पैसेंजर ट्रेनें पिछले डेढ़ साल से बहाल नहीं हो पाई है। इन ट्रेनों के चलने का यात्रियों को इंतजार है। दिल्ली से जींद होते हुए कुरूक्षेत्र के लिए डीईएमयू ट्रेन का ही परिचालन होता है।
दैनिक यात्री वैलफेयर ने भी इन ट्रेनों के चलाने की मांग की है। जींद और नरवाना क्षेत्र के सैकड़ों लोग हर रोज कुरुक्षेत्र की तरफ जाते हैं। सैकड़ों विद्यार्थी कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी में पढ़ते हैं, जो पहले हर रोज अप और डाउन कर लेते थे लेकिन अब उन्हें परेशानी आ रही है। जींद रेलवे जंक्शन के स्टेशन अधीक्षक जयप्रकाश ने कहा कि 23 जुलाई से त्रि-साप्ताहिक धौलाधार एक्सप्रेस ट्रेन शुरू हो रही है। इसके अलावा 12 ट्रेनें जींद रेलवे जंक्शन से होकर गुजरने लगी हैं।
July 21, 2021

राहुल गांधी की जासूसी करने पर भड़की कांग्रेस

पेगासस के जरिए राहुल गांधी की जासूसी करने पर भड़की कांग्रेस, सुरजेवाला बोले- ये देशद्रोह है, अमित शाह इस्तीफा दें
नई दिल्ली : जासूसी कांड के सामने आने के बाद से ही केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार लगातार घिरती जा रही है।
कांग्रेस का केंद्र सरकार पर सीधा आरोप है कि उनके नेता और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की जासूसी कराई गई है। राहुल गांधी की जासूसी की बात सामने आते ही कांग्रेस भड़क गई है।
कांग्रेस ने इस बहाने जमकर केंद्र सरकार पर हमला बोला है और पीएम मोदी के साथ ही गृह मंत्री अमित शाह को भी लपेटे में लिया है।
कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि केंद्र की सरकार ने न सिर्फ राहुल गांधी बल्कि खुद अपने मंत्रियों की भी जासूसी कराई है और उनके फोन की टैपिंग कराई है।
सुरजेवाला ने कहा कि केंद्र सरकार ने राहुल गांधी की फोन टैपिंग कराई है। ये बेहद दुखद है। यह सीधे देशद्रोह का मामला बनता है, इसीलिए गृह मंत्री अमित शाह को अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए।
सुरजेवाला ने पीएम मोदी पर तंज कसते हुए उन्हें टैपिंगजीवी करार दिया और कहा कि टैपिंगजीवी, राजनीतिक विरोधियों के साथ साथ अब आप पत्रकार, जज, उद्योगपति, खुद के वरिष्ठ मंत्रियों और आरएसएस तक को नहीं बख्शा। चुन चुन कर सबकी जासूसी और फोन टैपिंग कराई।
विभिन्न राजनीतिक दलों के अलावा कई पत्रकारों ने भी अपने फोन टैपिंग की बात कही है।
खबरों के मुताबिक इस जासूसी कांड में कई मीडिया समूहों के संपादकों की फोन टैपिंग की जा रही थी. करीब 40 भारतीय नागरिकों के फोन टैपिंग की सूचना है।
सुरजेवाला ने कहा कि अबकी बार जासूस सरकार ! वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरुर ने कहा कि इस तरह की जासूसी की घटना राष्ट्रीय सुरक्षा के लिहाज से बेहद चिंताजनक है। इस मामले की स्वतंत्र तरीके से जांच कराए जाने की जरुरत है।
वहीं राहुल गांधी की जासूसी के मामले पर भाजपा पर प्रहार करते हुए रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा का नाम अब भारतीय जासूस पार्टी कर देना चाहिए।
इजरायली जासूसी साॅफ्टवेयर पेगासस के जरिए भारत में जासूसी की खबरों पर कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि देश के लोग ही अब यह कहने लगे हैं कि अबकी बार देशद्रोही जासूसी सरकार।
सुरजेवाला ने कहा कि ये केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की डिजिटल इंडिया नहीं बल्कि सर्विलांस इंडिया है. मोदी सरकार देश के संविधान की धज्जियां उड़ा रही है।
इस तरह से जासूसी कराने की घटनाओं से पता चलता है कि भाजपा सरकार को संविधान और लोकतंत्र पर भरोसा नहीं है. ये लोगों के मौलिक अधिकार पर हमला है।
July 21, 2021

सावधान! वायरल लिंक मैसेज पर क्लिक करना पड़ सकता है भारी

सावधान! वायरल लिंक मैसेज पर क्लिक करना पड़ सकता है भारी
बहादुरगढ़ : यदि आपके मोबाइल  पर किसी नामी ई-कॉमर्स कंपनी की वर्षगांठ के उपलक्ष्य में गिफ्ट मिलने का लिंक-मैसेज आया है तो उस पर क्लिक न करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो वारदात का शिकार हो सकते हैं। खुद इस नामी कंपनी व साइबर एक्सपर्ट ने लोगों को इस संबंध में जागरूकता बरतने की अपील की है। दरअसल, इन दिनों साइबर अपराध लगातार बढ़ रहा है। अपराधी नए-नए तरीके से वारदात को अंजाम दे रहे हैं। अब नामी ई-कॉमर्स कंपनियों के नाम पर लोगों को अपने चंगुल में फंसाने का काम चल रहा है। इन दिनों एक कंपनी की 15वीं वर्षगांठ का मैसेज सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है। मुफ्त मोबाइल व अन्य उपहार के लालच में लोग भी अंधाधुंध इस मैसेज को शेयर कर रहे हैं। इस वायरल मैसेज में एक लिंक भेजा जा रहा है। जिस पर क्लिक करते ही एक वेबपेज खुल जाता है। देखने में यह पेज बिलकुल नामी कंपनी जैसा है। पेज खुलते ही उस पर 15वीं एनिवर्सरी का जिक्र आता है और एक-एक करके चार आसान सवाल पूछे जाते हैं। इसके बाद कुछ गिफ्ट बॉक्स स्क्रीन पर नजर आते हैं। इस पर क्लिक करने के लिए कहा जाता है। दूसरे या तीसरे चांस पर इस बॉक्स में मोबाइल या अन्य उपहार दिखाकर विजेता होने की बधाई दे देती है।
आंखों के सामने फिर पेज पर लिखा आता है कि गिफ्ट पाने के लिए इसे ग्रुपों में शेयर करें। उधर, जब इस कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर पड़ताल की तो सामने आया है इस तरह की कोई स्कीम कंपनी ने नहीं निकाली है। कंपनी के अधिकारियों ने लोगों से सतर्क रहने की अपील की है। साइबर एक्सपर्ट भूपेश का कहना है कि लोगों को ठगने या उनका डाटा चोरी करने के लिए साइबर ठग ऐसा जाल बुनते हैं। ऐसी स्थिति में मोबाइल में मौजूद फोटो, वीडियो व अन्य जरूरी डाटा चोरी होने की प्रबल आशंका रहती है। लोगों को समझना चाहिए कि मुफ्त में कोई भी किसी को कुछ नहीं देता। इसलिए लालच से बचना चाहिए। किसी भी फिशिंग लिंक मैसेज पर क्लिक न करें और न ही इन्हें वायरल करें। यदि कोई सेल/डिस्काउंट संबंधित मैसेज भी आए तो कंपनी की आधिकारिक एप या वेबपेज पर जाकर जांच करें। तभी आगे का कदम उठाएं।

 ‍
July 21, 2021

कोरोना मरीजों से ओवरचार्ज वसूल करने वाले प्राइवेट अस्पतालों के खिलाफ जांच शुरू

कोरोना मरीजों से ओवरचार्ज वसूल करने वाले प्राइवेट अस्पतालों के खिलाफ जांच शुरू
अंबाला : कोरोना काल में मरीजों से उपचार के नाम पर अतिरक्ति पैसे की वसूली करने वाले प्राइवेट अस्पतालों  के खिलाफ जांच शुरू हो गई है। प्रशासन की ओर से इसके लिए एक जांच कमेटी गठित की गई है। डीसी विक्रम सिंह ने जांच कमेटी को जरूरी दिशा निर्देश दिए हैं। दरअसल प्रशासन की ओर से कोरोना मरीजों के उपचार के लिए 10 प्राइवेट अस्पतालों पैनल पर लिया था। इन अस्पतालों में कोरोना मरीज के उपचार पर होने वाले खर्च को तय किया था। इसके बावजूद कुछ अस्पतालों से तय खर्च से अतिरक्ति पैसे की वसूली मरीजों से की है। इस सिलसिले में कुछ मरीजों ने प्रशासन के अलावा गृहमंत्री अनिल विज को भी शिकायत दी थी। अब इन अस्पतालों के खिलाफ जांच के लिए एक कमेटी गठित की गई है। 
*आंखों के सामने हर मरीज से पूछताछ से आदेश* :डीसी

 विक्रम सिंह ने जांच कमेटी को प्राइवेट अस्पताल में उपचार के आदेश दिए हैं। उन्होंने जांच कमेटी के हर सदस्य को सभी कोविड मरीजों का रिकॉर्ड लेकर हर मरीज से पूछताछ करने की बात कही है ताकि यह पता चल सके कि मरीज कितने दिन किस अस्पताल में दाखिल रहा। उसने उपचार के दौरान कितने पैसे अस्पताल को दिए। यह पूरी जानकारी रोगी से मोबाइल फोन या फिर व्यक्तिगत तौर पर उससे संपर्क के जरिए हासिल की जा सकती है। सिटी मजिस्ट्रेट को अहम जिम्मेदारी : डीसी ने सीटीएम आंचल भास्कर के नेतृत्व में जांच कमेटी बनाई है। इसके अलावा जांच टीम में मेडिकल ऑफिसर डॉ. कर्तव्य प्रताप सिंह, आईएमए के अध्यक्ष डॉ. अशोक सारवाल, डीईओ ऑफिस के एकाउंट ऑफिसर मदन लाल तथा जीएम हरियाणा रोडवेज कार्यालय के सेक्शन ऑफिसर मुकेश यादव को बतौर सदस्य शामिल किया गया है। यह कमेटी जिला में कोविड-19 प्राइवेट अस्पताल में जांच करेगी। मीटिंग के दौरान जांच टीम के सभी सदस्य व चेयरपर्सन भी मौजूद थी।

 ‍

Tuesday, July 20, 2021

July 20, 2021

कार की बॉडी से बनाई अद्भुत नंदी सफारी

फतेहाबाद में कार की बॉडी से बनाई अद्भुत नंदी सफारी, सैलानियों को आ रही है खुब रास

फतेहाबाद : सफारी नाम सुनते ही मन अपने आप पुलकित हो उठता है। वह चाहे रेगिस्तान सफारी हों या अन्य, रोमांच पैदा हो जाता है। कुछ ऐसा ही सुखद अहसास टोहाना की शिव नंदीशाला में होता है। लेकिन यहां रेगिस्तान सफारी में ऊंट की अहमियत से उपर कार और बैल, दोनों की संयुक्त सफारी का आनंद उठाया जा सकता है। कार की बॉडी वाली इस सफारी में सामाजिक सरोकारों से जुड़े मानव- मूल्यों के दर्शन होते हैं। साथ ही, सरकार के भरोसे गोवंश संवर्द्धन की बांट जोहने वाली गौशालाओं को आत्मनिर्भरता का मैसेज भी मिलता है।

यह अनूठी पहल है , सैलानियों के लिए सुहाने सफर के माध्यम से नंदीशाला को आत्मनिर्भर बनाने का। आइडिया यूं आया कि शिव नंदीशाला के संयोजक व एक निजी स्कूल के प्रिंसिपल धर्मपाल सैनी जब अपने स्कूल के बच्चों को टूर पर ले जाते तो बच्चे धरोहर दर्शन के दौरान बैलगाड़ी देखकर बहुत खुश होते थे। यहीं से मन में ख्याल आया कि क्यों न नंदीशाला में नंदी के सहारे सफारी की पहल की जाएं। प्लान किया गया कि कार की बॉडी और एक बहलवान के साथ नंदी का उपयोग किया जाएं।

कोशिश परवान चढ़ी और तैयार हो गई सफारी और नाम दिया गया नंदी सफारी। फिर चल पड़ी हरियाली से पर्यावरण संरक्षण, रोजगार से ग़रीबी उन्मूलन, जोहड़ से जल संरक्षण आदि जैसे जीवन -मूल्यों के दर्शन की सफारी… . सफारी से होने वाली आमदनी से नंदीशाला की आत्मनिर्भरता… इस जज्बे को सलाम।

*यूं बनी अद्भुत नंदी सफारी*
कार मार्केट से 13 हजार रुपए में एक पूरानी इंडिका कार खरीदी गई। फिर नंदीशाला में ही गेट वगैरह का काम करने वाले नारायणगढ़ के प्रकाश को आइडिया से अवगत कराया। कार का इंजन वाला हिस्सा काटकर हटा दिया गया। शेष हिस्से को जूहा से जोड़ा गया। कार वाले हिस्से में म्यूजिक सिस्टम लगा दिया। तैयार हो गई अनूठी सफारी एक नंदी के सहारे यह चलतीं है।
*दस रुपए टिकट*
नंदीशाला परिसर लगभग सात एकड़ में फैला हुआ है। यहां राधिका गाय है तो कन्हैया नंदी भी। पूरे परिसर में हरियाली मौजूद है। परिसर में फैले मानव- मूल्यों के दर्शन करने में नंदी सफारी से दस मिनट का समय लगता है। टिकट का मूल्य 10 रुपए है।

*शहर में भी चलाने की योजना*
नंदीशाला संयोजक धर्मपाल सैनी ने बताया कि शनिवार और रविवार को सफारी के रोमांच का आनंद उठाने वालों की अच्छी- खासी भीड़ होती है। इस आमदनी से नंदीशाला में गोवंश के पालन-पोषण के लिए काफी सहायता मिलती है। अब इसे शहर में चलाने की योजना बनाई गई है।
हमें Google News www.haryanabulletinnews.com पर फॉलो करें- क्लिक करें । हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़ें
July 20, 2021

हरियाणा में बारिश का कहर

हरियाणा में बारिश का कहर: गुरुग्राम में मॉल की छत गिरी, देखिये मौके की तस्वीरें
गुरुग्राम :  मानसून आ रखा है और ऐसे में झमाझम बारिश हो रही है और यह भारी बारिश कहीं कोई पूरी की पूरी इमारत को ढा दे रही है तो कहीं छत पर अपना कहर बरपा रही है। हरियाणा के गुरुग्राम में भारी बारिश का कहर देखने को मिल रहा है। बारिश के चलते गुरुग्राम में सोमवार को एंबिएंस मॉल की छत गिर गई जिसके कारण मॉल को बंद करना पड़ा। हालांकि छत गिरने से किसी के घायल होने की खबर नहीं है।

*अंदर भरा पानी….*
अब जब मॉल की छत गिर गई तो ऊपरी हिस्सा खुल जाने के कारण मॉल में बारिश का पानी आने लगा और देखते ही देखते काफी पानी मॉल के अंदर भर गया। बताया जाता है कि मॉल की तीसरे मंजिल की छत गिरी। बतादें कि, इससे पहले बीती रात गुरुग्राम के खवासपुर इलाके में एक तीन मंजिला इमारत ढह गई थी। इस हादसे में तीन लोगों की जान चली गई है। 
*– गुरुग्राम इमारत गिरने की घटना: चल रहा था रेस्क्यू ऑपरेशन, मिलीं इतनी लाशें*

*गुरुग्राम की एक यह भी खबर पढ़िए*
इमारत गिरने की दर्दनाक घटनाएं कई जगह से सामने आती हैं और अब खासकर जब बरसात का मौसम शुरू हो गया है तो ऐसे में कमजोर इमारतों को ढहने में देर नहीं लगती। खबर हरियाणा से है। जहां, बीते रविवार की रात को गुरुग्राम के खवासपुर इलाके में एक तीन मंजिला इमारत ढह गई। देखते ही देखते इमारत मलबे में तब्दील हो चुकी थी। वहीं, इस घटना से इलाके में अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया। सूचना फौरन पुलिस और प्रशासन को दी गई। जिसके बाद पुलिस और प्रशासनिक टीम मौके पर पहुंची और बचाव कार्य शुरू किया गया।
बताया गया जब इमारत गिरी उस वक्त इसमें कुछ लोग मौजूद थे जो कि इमारत गिरने के साथ मलबे में दब गए। जिन्हें बचाव कार्य की कड़ी में बाहर निकालने की कोशिश की गई। बतादें कि, बचाव कार्य अभी भी जारी है और बताया जाता है कि बचाव कार्य में अबतक तीन लाशें बरामद हो चुकी हैं। जबकि एक को इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया है।
घटना के संबंध में एक अधिकारी ने बताया कि, इमारत अच्छी स्थिति में नहीं थी और एक पिलर टूटने से पूरी बिल्डिंग ढह गई। इमारत में गोदाम चलता था ऐसा बताया जाता है। जिसमें घटना के वक्त कुछ मजदूर थे जो कि इमारत गिरने की चपेट में आ गए। फिलहाल, शुरू किया बचाव कार्य अब समाप्ति की ओर है। पूरे मलबे को लगभग साफ़ कर लिया गया है। अगले 1-2 घंटों में मलबा पूरी तरह से साफ हो जाएगा।FacebookTwitterWhatsAppShare www.haryanabulletinnews.com
July 20, 2021

बारिश से बेहाल- आधा हरियाणा सूखा, आधे में बाढ़ जैसे हालात, देखिये कौनसे जिले में कितनी है बारिश ?

बारिश से बेहाल- आधा हरियाणा सूखा, आधे में बाढ़ जैसे हालात, देखिये कौनसे जिले में कितनी है बारिश ?

चंडीगढ़ : हरियाणा के कई इलाकों में जहां बारिश से लोगों का बुरा हाल हो गया है वहीं कई इलाकों में अभी तक बारिश का इंतजार है। हरियाणा के कई हिस्सों में अभी तक बारिश नहीं पहुंची है जिस वजह से लोगों को गर्मी से दो चार होना पड़ रहा है।
हरियाणा के कई इलाकों में आज लगातार तीसरे दिन भी तेज बारिश से मौसम बदलता रहा। कई जगहों पर तेज बारिश की वजह से सड़कें लबालब पानी से भरी हुई दिखाई दी। वहीं कई जगहों पर अंडरपास और निचले हिस्से भरे हुए दिखाई दिये।

रेवाड़ी में पिछले 24 घंटों से लगातार रुक रुक कर बारिश हो रही है जिस वजह से पानी ही पानी हो गया है। राजस्थान के साथ लगते रेवाड़ी के 5 गांवों में बाढ़ के हालात बन गए हैं। राजस्थान की तरफ से आए पानी के कारण खंडोडा, मोहनपुर, टांकड़ी, कांकर, कुतिना व नया गांवों के खेतों में पानी भर गया है। रेवाड़ी प्रशासन ने विभागों को अलर्ट कर दिया है।

इधर रोहतक, जींद, सोनीपत, झज्जर, गुरुग्राम, फरीदाबाद समेत कई जिलों में तेज बारिश से लोग बेहाल है। गुरुग्राम में रात के समय तीन मंजिला इमारत ढह गई। वहीं एक फ्लाइओवर में पानी में डूबने से एक युवक की मौत हो गई। चरखी दादरी में जिला प्रशासन ने रेड अलर्ट जारी किया है।
वहीं दूसरी तरफ हिसार, फतेहाबाद, सिरसा समेत कई जिलों में अभी तक लोगों को बूंदों का इंतजार है। यहां पर बारिश नहीं होने के चलते गर्मी बढ़ती जा रही है। लोगों को बारिश का इंतजार करना पड़ रहा है, वहीं किसान भी लगातार खेतों में सिंचाई कर रहे हैं।
July 20, 2021

देवशयनी एकादशी के साथ आज से चातुर्मास शुरू, चार माह तक नहीं होंगे मांगलिक कार्य

देवशयनी एकादशी के साथ आज से चातुर्मास शुरू, चार माह तक नहीं होंगे मांगलिक कार्य
कुरूक्षेत्र ; कुरुक्षेत्र देवशयनी एकादशी के साथ आज से चातुर्मास शुरू हो रहे हैं। इनका समापन 15 नवंबर को होगा। चातुर्मास में शादी-विवाह, मुंडन आदि जैसे कार्य नहीं किए जाते हैं। कॉस्मिक एस्ट्रो के डायरेक्टर व श्री दुर्गा देवी मंदिर पिपली के अध्यक्ष डॉ. सुरेश मिश्रा ने बताया कि 20 जुलाई मंगलवार अनुराधा नक्षत्र, शुक्ल योग को आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी का विशेष महत्व है। इस तिथि से जगत के संचालक भगवान विष्णु चार माह के लिए शयन करने चले जाते हैं, इस तिथि से चार माह तक देवताओं की रात्रि होती है। देवता शयन करने जाते हैं, इसलिए आषाढ़ी एकादशी को देवशयनी एकादशी और हरिशयनी एकादशी आदि नामों से जाना जाता है।
 देवताओं के योग निद्रा में जाने के कारण चार माह तक कोई भी मांगलिक कार्य नहीं होते हैं। आषाढ़ मॉस के शुक्ल पक्ष की देवशयनी एकादशी से श्रावण, भाद्रपद ,आश्विन,कार्तिक मॉस के शुक्ल पक्ष की देव प्रबोधिनी एकादशी के समय को चातुर्मास कहा जाता है। चातुर्मास हरिप्रबोधिनी एकादशी 15 नवम्बर 2021 तक रहेगा। विशेष चातुर्मास में भगवान शिव और उनके परिवार की आराधना होती है। चातुर्मास में भगवान शिव जगत के संचालन और संहारक दोनों ही भूमिका में होते हैं। देवशयनी एकादशी का महत्व जो भी व्यक्ति सच्चे हृदय से देवशयनी एकादशी का व्रत करता है और भगवान विष्णु की विधि विधान से पूजा करता है। उस व्यक्ति के सारे पाप नष्ट हो जाते हैं। उसको कष्टों से मुक्ति मिल जाती है। भगवान श्रीहरि उसकी मनोकामनाओं की पूर्ति करते हैं। मृत्यु के बाद उसकी आत्मा को श्री हरि के चरणों में स्थान प्राप्त होता है। भगवान विष्णु के विश्राम करने के 4 महीने बाद तक कोई भी मांगलिक कार्य नहीं किए जाते है क इस समय तीर्थ स्नान, सत्संग, योग, प्राणायाम, ध्यान, संकीर्तन, भगवान शिव की पूजा-अर्चना होती है लेकिन कोई मंगल कार्य नहीं होते हैं। शुभ और मांगलिक कार्यों का प्रारम्भ भगवान विष्णु का पूरा विश्राम होने के बाद देवप्रबोधिनी एकादशी से ही होते है।
 *देवउठनी एकादशी कब है?*
देवउठनी एकादशी का व्रत 15 नवंबर 2021 को कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को रखा जाएगा। इसी दिन से चातुर्मास का समापन होगा और इसी दिन तुलसी विवाह किया जाएगा। ‍
July 20, 2021

पदोन्नति की परीक्षा में फेल हो गए हिसार मंडल के पुलिस कर्मचारी

पदोन्नति की परीक्षा में फेल हो गए हिसार मंडल के पुलिस कर्मचारी
हिसार ;  हिसार मंडल के पुलिस कर्मचारियों की पदोन्नति के लिए गुजवि के कम्यूटर व इनफरमेटिक सेंटर में बी-1 परीक्षा का आयोजन किया गया। परीक्षा का परिणाम भी साथ ही जारी कर दिया गया। उल्लेखनीय है कि ऑनलाइन परीक्षा में उत्तीर्ण कर्मचारियों की आउटडोर परीक्षा होनी अभी शेष है। मंडल के पांचों जिलों हिसार, हांसी, जींद, सिरसा तथा फतेहाबाद से 898 पुलिस कर्मचारी इस परीक्षा के लिए योग्य घोषित किए गए थे, जिनमें से 886 पुलिस कर्मचारियों ने फाइनल परीक्षा में भाग लिया। हिसार रेंज के आईजी राकेश कुमार आर्य ने परीक्षा के निष्पक्ष आयोजन के लिए स्वयं की देखरेख में कमेटी का गठन किया। कमेटी में हांसी की पुलिस अधीक्षक निकिता गहलोत तथा तृतीय वाहिनी हिसार के कमांडेंट सुमित कुमार को सदस्य बनाया गया। आईजी राकेश कुमार आर्य ने हांसी की एसपी निकिता गहलोत के साथ परीक्षा केंद्र का दौरा किया। जिला पुलिस हिसार से 245 कर्मचारी परीक्षा में बैठे, हांसी से 151, जींद से 160, सिरसा से 173 तथा फतेहाबाद से 157 पुलिस कर्मचारियों ने परीक्षा दी। ऑनलाइन परीक्षा में केवल 77 पुलिस कर्मचारी उत्तीर्ण हुए हैं जिनमें 13 महिला पुलिस कर्मचारी हैं। परीक्षा में उत्तीर्ण कर्मचारियो में हिसार के 27, सिरसा के 19, जींद के 19, पुलिस जिला हांसी के 7 तथा फतेहाबाद के 5 कर्मचारी हैं।

 बी-1 परीक्षा के लिए यह थी शर्त पुलिस कर्मचारी का अच्छा सर्विस रिकॉर्ड सहित कम से कम पांच वर्ष का सेवाकाल जरूरी है। बी-1 में फाइनल सिलेक्शन उपरांत पुलिस कर्मचारियों को 6 माह के लिए पुलिस अकादमी मधुबन या अन्य पुलिस ट्रेनिंग सेंटरों मे कोर्स के लिए भेजा जाता है। ट्रेनिंग के दौरान उन्हें कानूनी पढ़ाई के साथ तथा समाज में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रभावी भूमिका, केसों का अनुसंधान, निष्पक्ष कार्यशैली के साथ मानवीय मूल्यों का पाठ पढ़ाया जाता है। ऑनलाइन परीक्षा के बाद आउटडोर परीक्षा होगी ऑनलाइन परीक्षा के बाद आउटडोर परीक्षा होगी। दोनों परीक्षाओं तथा सर्विस रिकार्ड के नम्बर सहित परिणाम पुलिस मुख्यालय पंचकूला भेजा जाएगा। जहां प्रदेशस्तरीय वरिष्ठता सूची में उत्तीर्ण होने वाले पुलिस कर्मियों का नाम दर्ज किया जाएगा। - राकेश कुमार आर्य, आईजी हिसार रेंज

 *यह रहा परिणाम*
 पात्र परीक्षार्थी 898 परीक्षा दी 886 अनुपस्थित 12

*हिसार से परीक्षा दी 245 और पास हुए 27*

 *जींद के पुलिस कर्मी 160 और पास हुए 19*

 *हांसी से 151 और पास हुए 7*

*सिरसा से 173 और पास हुए 19* 

 *फतेहाबाद से 157 और पास हुए 5*

 ‍
July 20, 2021

चौटाला की नई सियासी पारी की शुरुआत किसानों से

चौटाला की नई सियासी पारी की शुरुआत किसानों से:

 गाजीपुर बॉर्डर व पलवल में चल रहे आंदोलन में पहुंचेंगे इनेलो सुप्रीमो, JBT घोटाले में सजा काटकर लौटे हैं पूर्व CM
रेवाड़ी : सियासत के मंझे हुए खिलाड़ी पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला प्रदेश में अपनी नई सियासी पारी की शुरुआत करने जा रहे हैं। चौटाला किसान आंदोलन के जरिए अपनी पार्टी इंडियन नेशलन लोकदल को नए सिरे से खड़ा करने की जुगत में लगे हैं। आंदोलनरत किसानों के प्रति उनकी हमदर्दी पहले भी देखने को मिली है, लेकिन कानूनी अड़चनों के चलते अभी तक वह किसानों के धरने में शामिल नहीं हो पाए थे।
लेकिन हाल में ही जेबीटी भर्ती मामले में सजा पूरी होने के बाद रिहा हुए चौटाला ने अपनी नई सियासी पारी की शुरुआत किसान आंदोलन से शुरू करने का फैसला किया है। इसके लिए चौटाला 20 जुलाई को हरियाणा के पलवल में चल रहे किसानों के धरने व गाजीपुर बॉर्डर पर बैठे किसानों के बीच पहुंचेंगे। इसकी जानकारी उनके पुत्र अभय चौटाला ने ट्वीट करके दी है।
बता दें कि ओमप्रकाश चौटाला 4 बार हरियाणा के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। आखिरी बार उनका कार्यकाल 2005 में पूरा हुआ था। पिछले विधानसभा चुनाव से पहले उनकी इनेलो पार्टी दो फाड़ हो गई थी। अजय चौटाला के पुत्र दुष्यंत चौटाला ने बगावत करके अपनी नई पार्टी जन नायक जनता पार्टी का गठन कर लिया था। उसके बाद से इनेलो एक जिले तक सिमट कर रह गई थी।
कई बड़े सीनियर नेता पार्टी छोड़कर दूसरे दल में चले गए थे। चौटाला जेबीटी भर्ती मामले में तिहाड़ जेल में सजा काट रहे थे, इसलिए पार्टी को संभालने का दारोमदार छोटे बेटे अभय चौटाला पर रहा। लेकिन पिछले दिनों सजा पूरी होने के बाद ओम प्रकाश चौटाला जैसे ही जेल से बाहर आए, उसके बाद से ही पार्टी को नए सिरे से खड़ा करने को लेकर मंथन चल रहा है।
ओम प्रकाश चौटाला भली भांति जानते हैं कि इस समय प्रदेश में सबसे बड़ा आंदोलन कोई चल रहा है तो वह किसान आंदोलन है और इसी को भुनाकर नए तरीके से पार्टी को खड़ा किया जा सकता है। वैसे भी कांग्रेस से लेकर अन्य विपक्षी दल किसान आंदोलन के जरिए समय- समय पर सरकार पर निशाना साधने के साथ ही उनके हमदर्द बनने में हर संभव कोशिश करते रहे हैं।
यही कारण है कि ओमप्रकाश चौटाला ने भी जेल से बाहर आने के बाद अब नई सियासी पारी की शुरुआत किसान आंदोलन के जरिए करने का निर्णय लिया। पलवल व गाजीपुर बॉर्डर पर जाने के बाद चौटाला पूरे प्रदेश के भ्रमण पर निकलकर कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे।
July 20, 2021

मर्यादा लांघने वाले लेक्चरर को मिली सजा

 मर्यादा लांघने वाले लेक्चरर को मिली सजा

12वीं की छात्रा की कॉपी पर लिखा था-'Do You Like Me', अब 5 वर्ष की कैद और 25 हजार रुपए जुर्माना

करनाल : करनाल में कोर्ट ने छात्रा की कॉपी पर गंदे शब्द लिखने वाले एक लेक्चरर को कैद और जुर्माने की सजा का फैसला सुनाया है।
करनाल मे मर्यादा लांघकर छात्रा के लिए आपत्तिजनक मैसेज लिखने के मामले में एक लेक्चरर को कोर्ट ने दोषी करार दे सजा का फैसला सुनाया है। मामला करीब साढ़े 3 साल पहले एक लेक्चरर द्वारा 12वीं कक्षा की छात्रा की कॉपी पर 'Do You Like Me' लिखने का है। अब अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश, विशेष न्यायालय एससी/एसटी व पॉक्सो और क्राइम अगेंस्ट वुमैन जिला कैथल की अदालत ने दोषी को 5 वर्ष कैद और 25 हजार रुपए जुर्माने की सजा दी है। जुर्माना न भरने पर दोषी को अतिरिक्त कारावास भुगतना पड़ेगा।
पुलिस अधीक्षक लोकेंद्र सिंह ने बताया कि 24 अक्टूबर 2017 को थाना सीवन में दर्ज अभियोग के अनुसार थाना सीवन अंतर्गत के एक गांव निवासी 12वीं कक्षा की नाबालिग छात्रा की कापी पर अंग्रेजी पढ़ाने वाला प्राध्यापक संजीव करीब 15 दिन पूर्व बुरी नियत से छात्रा का हाथ पकड़ कर कॉपी की जांच दौरान डू यू लाइक मी यश/नॉट के अतिरिक्त बाद में मिश यू, लव, यू आर जान आदि अपशब्द लिखता रहा। छात्रा द्वारा प्रिसिंपल से शिकायत करने उपरांत भी मिश यू का कमेंट किया गया। आरोप अनुसार प्राध्यापक छात्रा पर क्लास में भी अक्सर व्यंग्य कसता रहता था।
पुलिस द्वारा अभियोग की जांच के दौरान आरोपी संजीव कुमार निवासी दयोरा 12 मार्च 2018 को भादसं की धारा 354, 506 तथा पॉस्को एक्ट की धारा 10 व 12 अंतर्गत गिरफ्तार कर लिया गया था। पुलिस द्वारा जांच के दौरान ठोस साक्ष्य जुटाने उपरांत अभियोग को न्यायालय के सुपुर्द कर दिया गया।

Monday, July 19, 2021

July 19, 2021

डिप्टी सीएम ने किया योजनाओं का बखान

डिप्टी सीएम ने किया योजनाओं का बखान, ‘महामारी में जरूरतमंदों की हमदर्द बनी हरियाणा सरकार’  

चंडीगढ़ : हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने बताया है कि कोरोना काल में हरियाणा सरकार गरीबों की हमदर्द बनकर उभरी है। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के कारण प्रदेश के लाखों गरीब परिवार न तो दिहाड़ी पर जा पाए और न ही छोटी-मोटी नौकरी पर, ऐसे में ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना’ के माध्यम से उनके घर-द्वार तक लगातार पांच किलो गेहूं प्रति सदस्य पहुंचाया जा रहा है। दुष्यंत चौटाला ने बताया कि इस योजना के तहत राज्य में करीब 27 लाख परिवारों को अनाज मुफ्त दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि हर माह गरीब परिवारों को करीब 60 हजार मीट्रिक टन गेहूं वितरीत हो रहा है, अगर चालू माह जुलाई की बात करें तो इस माह में प्रदेश के 27,04,846 राशन कार्ड धारकों को करीब 60,391 मीट्रिक टन गेहूं वितरित किया जा रहा है।
डिप्टी सीएम, जिनके पास खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग का प्रभार भी है, ने बताया कि कोरोना के संक्रमण के कारण पिछले वर्ष मार्च माह में पूरे देश में लॉकडाउन लगाना पड़ा। उन्होंने बताया कि आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के नागरिक जैसे की सड़क पर रहने वाले, कूड़ा उठाने वाले, फेरी वाले, रिक्शा चालक, प्रवासी मजदूर आदि को खाने की समस्या का सामना न करना पड़े, इसको ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गरीब हितैषी सोच के मद्देनजर अप्रैल 2020 से ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना’ शुरू की गई। इसमें एएवाई (गुलाबी कार्ड), बीपीएल (पीला कार्ड) व ओपीएच (खाकी कार्ड) धारकों को पांच किलोग्राम गेहूं प्रति सदस्य मुफ्त उपलब्ध कराया गया। उन्होंने बताया कि यह अनाज पूर्व में चल रही ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना’ के तहत राशन कार्ड पर मिलने वाले तय कोटे के अतिरिक्त वितरित किया गया। उपमुख्यमंत्री ने बताया कि कोरोना से कुछ हालात सुधरने पर उद्योग-धंधे चलने के कारण उक्त योजना नवंबर 2020 तक चलाई गई और कोरोना सकंट के बीच सरकार ने इस योजना के तहत गरीब परिवारों को बड़ी राहत दी है।

दुष्यंत चौटाला ने बताया कि इस साल फिर कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना’ मई 2021 से दोबारा शुरू कर दी गई ताकि गरीब व्यक्ति भूखा न सोए, इस योजना की समयावधि को दिवाली तक बढ़ा दिया गया है, यानि मुफ्त राशन नवंबर 2021 तक मिलता रहेगा।

उन्होंने बताया कि हरियाणा सरकार द्वारा पहले से ही राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम,2013 के तहत एएवाई (गुलाबी कार्ड) बीपीएल (पीला कार्ड) व ओपीएच (खाकी कार्ड) धारकों को खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग द्वारा आटा, बाजरा, चीनी, नमक, सरसों तेल उनकी पात्रता के अनुसार उपलब्ध करवाया जाता है। उन्होंने कहा कि ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना’ के तहत इन श्रेणी के कार्ड धारकों को पांच किलोग्राम गेहूं प्रति सदस्य प्रति माह जो मुफ्त उपलब्ध करवाया जा रहा है उससे गरीब तबके के लोगों को बहुत लाभ हुआ है।
July 19, 2021

कांग्रेस ने पूछा- 18 घंटे काम करने वाले ‘साहेब’ दूसरों के फोन की जासूसी में कितना समय बिताते हैं?

कांग्रेस ने पूछा- 18 घंटे काम करने वाले ‘साहेब’ दूसरों के फोन की जासूसी में कितना समय बिताते हैं?

नई दिल्ली : भारत के 40 से ज्यादा पत्रकारों और विपक्ष नेताओं के फोन टैपिंग का मामला सामने आने से मोदी सरकार एक बार फिर विपक्षी दलों के निशाने पर आ गई है।
इंटरनेशनल मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, फोन टैपिंग मामले में इजरायल द्वारा निर्मित पेगासस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया गया है।
दरअसल कुछ वक्त पहले भी भारत के कुछ पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं के फोन टेप किए जाने का मामला सामने आया था।
जिसके बाद पेगासस ने यह कहा था कि उनका सॉफ्टवेयर सिर्फ सरकारी कंपनियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
रिपोर्ट के मुताबिक इजराइल के इस जासूसी सॉफ्टवेयर के जरिए पत्रकारों, मंत्रियों के साथ-साथ बड़ी संख्या में कारोबारियों और अधिकार कार्यकर्ताओं के मोबाइल भी हैक किए जाने की आशंका है। इसमें भाजपा के दिग्गज नेताओं के नाम भी शामिल हैं।
इस मामले में कांग्रेस ने मोदी सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा है कि
“टैपिंगजीवी जी, राजनीतिक विरोधियों के साथ-साथ अब पत्रकार, जज, उद्योगपति, खुद के वरिष्ठतम मंत्री और यहाँ तक की आरएसएस की लीडरशिप को भी नहीं बख्शा, आपने तो। ठीक ही कहा- अबकी बार, जासूस सरकार !
दूसरे ट्वीट में लिखा- “साहेब, देश पूछता है। रोज़ाना 18 घंटे काम करते समय दूसरों के फ़ोन की जासूसी में कितना समय बिताते हो? 

https://twitter.com/rssurjewala/status/1416978038688948237?s=20

भाजपा पर उठ रहे सवालों पर सफाई देते हुए मोदी सरकार ने कहा है कि इस रिपोर्ट का कोई ठोस आधार नहीं है। भारत एक मजबूत लोकतंत्र है जो अपने सभी नागरिकों के निजता के अधिकार को सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है।
आपको बता दें कि भारतीय जनता पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने इस संदर्भ में ट्वीट कर पहले ही जानकारी दे दी थी।
उन्होंने कहा था कि वाशिंगटन पोस्ट और लंदन गार्जियन भारत के मंत्रियों और पत्रकारों के फोन टैपिंग की जानकारी साझा करने वाली एक रिपोर्ट जल्द ही प्रकाशित करने वाले हैं। जिसमें बड़ा खुलासा हो सकता है

इससे पहले साल 2019 में भी भारत समेत दुनियाभर के 100 से ज्यादा पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं के व्हाट्सएप अकाउंट की जासूसी की गई थी। जिसके बाद मोदी सरकार पर जासूसी करवाने के गंभीर आरोप लगे थे।
July 19, 2021

जुलाना में कांग्रेस कार्यकर्ताओं की हुई बैठक

जुलाना में कांग्रेस कार्यकर्ताओं की हुई बैठक
-युवा अध्यक्ष चुनाव से कांग्रेस को मिलेगी अलग ऊर्जा : मोहित लाठर
जींद ; ( संजय कुमार ) ÷रविवार को जुलाना में प्रदेश के पूर्व जनस्वास्थ्य मंत्री सत्यनारायण लाठर के आवास स्थान पर उनके समर्थकों की एक बैठक हुई। इस बैठक की अध्यक्षता पूर्व जनस्वास्थ्य मंत्री सत्यनारायण के पौते एवं कांग्रेस के युवा नेता मोहित लाठर ने की। इस मौके पर काफी संख्या में बुजुर्ग व युवा कांग्रेस कार्यकरता मौजूद रहे। बैठक में देश व प्रदेश में हो रहे युवा कांगे्रस के चुनावों को लेकर चर्चा की गई की यूथ कांग्रेस चुनावों में प्रदेश और जिला स्तर पर वे किस उम्मीदवार को अपना समर्थन देंगे। मोहित लाठर ने कहा कि देश व प्रदेश में यूथ कांगे्रस कार्यकतर पूरी तरह से सकि्रय हैं और चुनावों में बढ़-चढ़कर भाग ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस बैठक का मुख्य उद्देश्य यूथ कांग्रेस पार्टी को मजबूत करना हैं ताकि ज्यादा से ज्यादा युवा। कांगे्रस पार्टी के साथ जुड़ सके। लाठर ने कहा कि युवा कांग्रेस के अध्यक्ष पदों के चुनावों से प्रदेश में कांग्रेस को एक अलग उजर मिलेगी। 
इस मौके पर अजमेर नंबरदार, राज सिंह, शमशेर लाठर, बारूराम, शमशेर सिंह दलाल, ईश्र्वर, प्रदीप, बलदेव सिह चहल, आजाद लाठर व राजेश आदि मौजूद रहे।

Sunday, July 18, 2021

July 18, 2021

दीपक गोयल बने शक्तिपीठ मां बनभौरी सेवा मंडल के प्रधान

दीपक गोयल बने शक्तिपीठ मां बनभौरी सेवा मंडल के प्रधान

जींद ( संजय कुमार ) ÷  शक्तिपीठ मां बनभौरी सेवा मंडल जीन्द के सदस्यों की एक बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में आगामी वर्ष के लिए कार्यकारिणी का गठन किया गया जिसमें सर्वसम्मति से दीपक गोयल नरवाना वाले को सेवा मंडल का प्रधान नियुक्त किया गया।
शेष कार्यकारिणी में पवन गर्ग को संरक्षक, पवन गुप्ता को उपप्रधान, दिनेश गोयल को महासचिव, जगमोहन मितल को सचिव, पवन मितल को कोषाध्यक्ष, दीपक गर्ग को सह कोषाध्यक्ष, आंनद को प्रेस प्रवक्ता व रोहित गर्ग, अक्षय, राघव, नवीन, विकास गर्ग, विशाल जिंदल, विपिन जिंदल, पुनीत गर्ग, अनिल जैन को कार्यकारी सदस्य नियुक्त किया गया।
नवनिुयक्त प्रधान दीपक गोयल का कहना है कि उनकी संस्था धार्मिक कार्यो के लिए सदैव तत्पर रहेगी। संस्था ने जो जिम्मेवारी उन्हें सौंपी है उसको वे निस्वार्थ भाव से पूरा करने का हर संभव प्रयास करेंगे।
July 18, 2021

आठवें रक्तदान शिविर में 51 यूनिट रक्त एकत्रित

आठवें रक्तदान शिविर में 51 यूनिट रक्त एकत्रित
-सति भाई सांई दास सेवा दल ने आयोजित किया शिविर
जींद : ( संजय कुमार ) सति भाई सांई दास सेवा दल द्वारा रविवार को पुराना बस अड्डा के निकट स्थित पंजाबी धर्मशाला में आठवां रक्तदान शिविर आयोजित किया जाएगा। रक्तदान शिविर में मुख्यातिथि के तौर पर विधायक डॉ. कृष्ण मिढ़ा व सम्मानित अतिथि के तौर पर नागरिक अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. मनजीत सिंह ने शिरकत की। वहीं नागरिक अस्पताल के डिप्टी एमएस डॉ. राजेश भोला भी विशेष तौर पर मौजूद रहे। रक्तदान शिविर का शुभारंभ मुख्यातिथि द्वारा रक्तदाताओं को बैज लगाकर किया गया। शिविन में 51 यूनिट एकत्रित हुई। 
मुख्यातिथि डॉ. कृष्ण मिढ़ा ने रक्तदाताओं का हौंसला बढ़ाते हुए कहा कि रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को समय-समय पर रक्तदान जरुर करना चाहिए। हमारे द्वारा दान किया गया रक्त किसी जरुरतमंद को नई जिंदगी देता है। किसी को जीवनदान देना बड़े पुण्य का कार्य है। डॉ. मिढ़ा ने कहा कि अब रक्तदान के प्रति लोगों की सोच बदल रही है। युवा वर्ग रक्तदान के लिए आगे आ रहा है। इसके चलते अब जींद जिले में रक्त की कमी नहीं है। 
सिविल सर्जन डॉ. मनजीत सिंह ने कहा कि एक स्वस्थ व्यक्ति तीन माह बाद रक्तदान कर सकता है। रक्तदान करने से शरीर में किसी तरह की कमजोरी नहीं आती बल्कि रक्तदान करने से शरीर को कई प्रकार की बीमारियों से छुटकारा मिल जाता है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को समय-समय पर रक्तदान करना चाहिए। डिप्टी एमएस डॉ. राजेश भोला ने कहा कि रक्तदान एक पुण्य का कार्य है और सभी सामाजिक संस्थाओं को चाहिए कि वह समय-समय पर इस तरह के आयोजन करें ताकि रक्त के अभाव में किसी व्यक्ति की जान न जाए। डॉ. भोला ने कहा कि रक्तदान करने से शरीर पर किसी प्रकार का कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है। बल्कि हमारे द्वारा रक्तदान करने से हमारे शरीर में नए रक्त का निर्माण होता है। उन्होंने कहा कि रक्त का कोई विकल्प नहीं है। रक्तदान ही रक्त का विकल्प है इसलिए हमें समय-समय पर रक्तदान जरुर करना चाहिए। सेवा दल के प्रधान भारत भूषण व सदस्य कमल चुघ ने बताया कि सति भाई सांई सेवा दल द्वारा महंत रामसुख दास महाराज के सानिध्य में आयोजित किए जाने वाले इस रक्तदान शिविर में 51 यूनिट रक्त एकत्रित किया गया। रक्तदान को लेकर युवाओं में खासा उत्साह था। सेवा दल समय-समय पर इस तरह के आयोजन करना रहता है। 
इस अवसर पर शिविर में गुरदीप अरोड़ा, हरपाल आनंद, हंसराज चुघ, कश्मीरी लाल हडिय़ा, अनिल गांधी, अनिल गिरधर, गौरव सिंधवानी, वासुदेव सिंधवानी सहित सेवा दल के सभी सदस्य मौजूद रहे।

Friday, July 9, 2021

July 09, 2021

कृषि-किसानों के लिए CM खट्टर का बड़ा ऐलान, देखें क्या फैसला लिया?

कृषि-किसानों के लिए CM खट्टर का बड़ा ऐलान, देखें क्या फैसला लिया?

चंडीगढ़ : इस बार झमाझम मानसूनी बारिश में देरी हो रही है| गर्मी से बेहाल लोग आकाश की ओर टकटकी लगाए देख रहे हैं कि कब बदरा बरसेंगे| वहीं, सबसे ज्यादा दिक्कत ऐसे में किसानों को है धान की बुहाई का समय है और बारिश धोखा दे रही है| बरहाल, इस बीच हरियाणा सरकार ने अपने प्रदेश के किसानों के लिए बड़ा ऐलान करते हुए उन्हें बड़ी राहत दे दी है| सीएम खट्टर ने ऐलान किया है कि प्रदेश के किसानों को मानसूनी बारिश आने तक बिजली 8 घंटे की जगह 10 घंटे दी जाएगी| यानि अब रोजाना कृषि के लिए किसानों को दो घंटे अतरिक्त बिजली मिलेगी|
*गन्नौर में 550 एकड़ में सबसे बड़ी मंडी…..*
इधर, हरियाणा में गन्नौर में 550 एकड़ में सबसे बड़ी मंडी बनने जा रही है। प्रदेश कृषि मंत्री जे. पी. दलाल ने कहा कि हम हरियाणा के गन्नौर में 550 एकड़ में एशिया की सबसे बड़ी मंडी बनाने जा रहे हैं जिसमें हजारो करोड़ रुपये का पूंजी निवेश होगा। मंडियां समाप्त करने का एक दुष्प्रचार है। सवाल ही नहीं पैदा होता की कोई मंडी बंद हो जाए।
July 09, 2021

हरियाणा में स्कूलों और कॉलेजों को खोलने की तैयारी, जानिये सरकार क्या बना रही है फॉर्मुला ?

हरियाणा में स्कूलों और कॉलेजों को खोलने की तैयारी, जानिये सरकार क्या बना रही है फॉर्मुला ?


नई दिल्ली : कोरोना काल में स्कूल और कॉलेजों पर ताले लगे हुए है। लेकिन पिछले कुछ महीनों में कोरोना के केस कम हो गया है। जिसकी वजह से हरियाणा में स्कूल और कॉलेज को खोलने की तैयारी कर चल रही है। जिसके लिए मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल ने आदेश जारी कर दिए है।

हरियाणा पहला ऐसा प्रदेश होगा जहां नई शिक्षा नीति को लागू किया जाएगा। आने वाले 5 सालों में हरियाणा में यह नीति लागू की जाएगी। उम्मीद है कि ये नीति 2030 में लागू होगी, लेकिन हरियाणा में इसे 2025 में लागू कर दिया जाएगा।
राज्‍य के मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल की अध्‍यक्षता में हुई बैठक में इसको लेकर रोडमैप तैयार कर लिया गया। मुख्‍यमंत्री ने राज्‍य के शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर और शिक्षा अधिकारियों के साथ नई शिक्षा नीति लागू करने को लेकर मंथन किया।
बैठक में प्राइमरी एजुकेशन, हायर एजुकेशन, सेकेंडरी एजुकेशन और टेक्निकल एजुकेशन से जुड़े अधिकारियों ने शिरकत की। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बैठक में निर्देश दिए कि दूसरी लहर में बंद हुए स्कूल-कालेजों को जल्द खोलने की योजना बनाई जाए।


नई नीति के तहक कोविड-19 प्रोटोकाल का कड़ाई से पालन करते हुए शिक्षण संस्थानों में पर्याप्त व्यवस्था दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूल छोड़ने वाले बच्चों का सौ फीसद दाखिला सुनिश्चित किया जाए।

बैठक में फैसला किया गया है कि कोविड की वजह से स्कूलों की संख्या बढ़ाई जानी चाहिए। इन स्कूलों में आवासीय सुविधा भी हो। इन स्कूलों के लिए क्लस्टर प्लान बनाया जाए। नई शिक्षा नीति तीसरी क्लास से लेकर हायर एजुकेशन पर लागू होगी।

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय और महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय रोहतक में केजी से पीजी तक की शिक्षा शुरू होगी। हरियाणा सरकार प्राइवेट सेक्टर के साथ मिलकर प्रदेश को शिक्षा का हब बनाएगी। नई शिक्षा नीति में अनुसंधान पर ज्यादा जोर रहेगा।

हरियाणा उच्चतर शिक्षा परिषद नई शिक्षा नीति को लागू करने की निगरानी करेगी। सीएम मनोहरलाल ने कहा कि अब तक देश में बच्‍चों की शिक्षा छह साल कर आयु से शुरू होती थी, लेकिन अब सरकार आंगनवाड़ी के जरिए तीन साल की आयु से ही बच्‍चों की शिक्षा शुरू करेगी।
बैठक में शिक्षामंत्री कंवर पाल गुर्जर ने बताया कि चार हजार प्ले-वे स्मार्ट स्कूलों में से एक हजार स्कूल बन कर तैयार हैं। जैसे ही शैक्षणिक संस्थान दोबारा खुलेंगे, वैसे ही इन प्ले-वे स्कूलों में दाखिला प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। शेष तीन हजार स्कूल खोलने का लक्ष्य भी इसी वर्ष प्राप्त कर लिया जाएगा।
मनोहरलाल ने कहा कि भविष्य की जरूरतों के हिसाब से पाठ्यक्रम में बदलाव किया जाएगा। अब तक बच्चे एक ही विषय को पढ़ पाते थे, लेकिन अब मल्टीपल सब्जेक्ट पढ़ाने की शुरुआत की जाएगी। ताकि, उनको दूसरे विषयों की भी जानकारी मिले।

अब तक सरकार ने 1418 कलस्टर बनाए हैं। हर क्लस्टर में एक साइंस स्कूल जरूर खोला जाएगा। उन्‍होंने कहा कि हरियाणा सरकार शिक्षा की गुणवत्ता और उसके स्तर पर जोर देगी। शिक्षा में बदलाव के चलते इस बार प्रदेश में अब तक एक लाख 60 हजार बच्चों ने सरकारी स्कूलों में दाखिला लिया है।
बैठक में महिला एवं बाल विकास, स्कूल शिक्षा, उच्चतर शिक्षा और तकनीकी शिक्षा विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को वर्ष 2025 तक नई शिक्षा नीति के सफल कार्यान्वयन के लिए बनाई गई रूपरेखा से अवगत कराया।
July 09, 2021

अशोक तंवर बोले- इन दो लोगों ने सांसद बृजेंद्र को नहीं बनने दिया केंद्र में मंत्री

अशोक तंवर बोले- इन दो लोगों ने सांसद बृजेंद्र को नहीं बनने दिया केंद्र में मंत्री

चंडीगढ़ : अपना भारत मोर्चा के राष्ट्रीय संयोजक एवं पूर्व सांसद डॉ अशोक तंवर ने कहा है कि हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा भाजपा के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। इसी के चलते भाजपा के निर्देश पर हुड्डा बहुत जल्द नई पार्टी का गठन करेंगे और यही वजह हैं कि कांग्रेसी विधायक कुमारी सैलजा का लगातार विरोध कर रहे हैं ताकि हुड्डा को नई पार्टी बनाने का बहाना मिल सके।
अशोक तंवर गुरुवार को चंडीगढ़ में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में रहते हुए चौधरी बीरेंद्र सिंह को कभी केंद्र में मंत्री नहीं बनने देने वाले भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने अब मुख्यमंत्री मनोहर लाल के साथ मिलकर सांसद ब्रिजेन्द्र सिंह को केंद्र में मंत्री नहीं बनने दिया।
उन्होंने कहा कि केंद्र ने मंत्रिमंडल विस्तार के समय हरियाणा में हिस्सा बढ़ोतरी की बजाए एक मात्र दलित केंद्रीय मंत्री रतन लाल कटारिया को हटाकर कटौती कर हरियाणा का अपमान किया है।
उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के साथ साथ कल केंद्रीय मंत्री मंडल में हरियाणा से एक भी प्रतिनिधि और सांसद को शामिल न करके ये साबित कर दिया कि भाजपा के मंत्री और सांसद निक्कमे और नकारा है।
अशोक तंवर ने हुड्डा का नाम लिए बगैर कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने रोहतक लैंड डील को पूर्व सीएम के संबंध में सराहनीय फैसला किया है लेकिन इस पूरे मामले में भाजपा कटघरे में खड़ी है।
उन्होंने कहा कि प्रदेश के लोगों ने वर्ष 2014 में भाजपा को उस समय के भ्रष्ट सिस्टम के खिलाफ वोट दी थी लेकिन सात साल बाद भी भाजपा ने दस साल राज करने वालों पर कोई कार्रवाई नहीं की। इसी बात से पता चलता है कि इनकी भाजपा से सांठगांठ है और ऐसे लोग आज भी खुलेआम घूम रहे हैं।

हरियाणा कांग्रेस में मचे घमासान पर बोलते हुए अशोक तंवर ने कहा कि कुछ लोग अनुशासनहीनता को अपना जन्मसिद्ध अधिकार मानते हैं और यही गुटबाजी की बड़ी वजह है। यह सब भाजपा के इशारे पर हो रहा है।
उन्होंने कहा कि जब वह कांग्रेस अध्यक्ष थे तो कुमारी सैलजा ने कभी उनका साथ नहीं दिया इसके बावजूद उनका मानना है कि सैलजा फ़िलहाल पूरी तरह से सुरक्षित हैं और उन्हें नहीं बदला जाएगा।
उन्होंने इस बात पर जोर देते हुए कहा कि संकट और संघर्ष के समय में उनकी भावनाएं उनके साथ है। इस अवसर पर मोर्चे के वरिष्ठ नेता पवन वालिया, नरेश मग्गू, संजीव चौधरी, जेडी सिंह समेत कई नेता मौजूद थे।