Breaking

Showing posts with label Social News. Show all posts
Showing posts with label Social News. Show all posts

Tuesday, May 17, 2022

May 17, 2022

स्कूल की किताबों से भगत सिंह को हटाना उनकी अमर शहीद का अपमान: विक्रम चहल

*स्कूल की किताबों से भगत सिंह को हटाना उनकी अमर शहीद का अपमान: विक्रम चहल*

जींद /उचाना: हाल ही में कर्नाटक में टेक्स्टबुक संशोधन समिति द्वारा दसवीं कक्षा की पाठ्य पुस्तक में शहीद भगत सिंह के पाठ को हटाकर उसके स्थान पर आर एस एस के संस्थापक हेडगेवार के भाषण को शैक्षणिक सत्र 2022-23 के लिए शामिल किया गया।
आम आदमी पार्टी के युवा जिलाध्यक्ष विक्रम चहल ने भाजपा सरकार के इस फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि कन्नड़ पाठ्यपुस्तक में, 23 साल की उम्र में अपने जीवन का बलिदान देने वाले एक महान क्रांतिकारी भगत सिंह पर एक पाठ को हटा दिया गया है, जो उनकी अमर शहीदी का अपमान है और देश हमारे शहीदों का अपमान कभी सहन नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि भगत सिंह के स्थान पर आरएसएस के संस्थापक द्वारा, जो लोगों को एकजुट नहीं करता बल्कि सांप्रदायिक नफरत फैलाता है, उनके भाषण को पाट्यक्रम में शामिल किया गया है। इससे यह स्पष्ट होता है कि सत्तारूढ़ भाजपा और संघ परिवार को भगत सिंह सहित देश के स्वतंत्रता आंदोलन के महान क्रांतिकारियों के प्रति कोई सम्मान नहीं है।
चहल ने भाजपा सरकार पर आरोप लगाए कि भाजपा सरकार देश अपने राज्यों में पाठ्यक्रम बदलने की कवायद की परंपरा चला रही है और अपनी विचारधारात्मक रवैये के हिसाब से पाठ्यक्रम में बदलाव कर रही है जो निहायत ही शर्मनाक विषय है और देश की आजादी के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले शहीदों की कुर्बानी का अपमान है। देश अपने शहीदों का अपमान बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं करेगा, भाजपा सरकार को ये फैसला वापस लेना होगा।
May 17, 2022

बिल्डरों को कराना होगा थर्ड पार्टी से वेरिफिकेशन, वरना होगी कार्यवाही

बिल्डरों को कराना होगा थर्ड पार्टी से वेरिफिकेशन, वरना होगी कार्यवाही

चंडीगढ़ : गुरुग्राम की चिंतल सोसाइटी हादसे के बाद हरियाणा सरकार ने आने वाले वक्त में इस तरह की कोई घटना नहीं हो इसको लेकर आला अफसरों को ठोस प्रबंध करने के निर्देश दिए हैं। आने वाले वक्त में नए भवन और अपार्टमेंट बनाने वाले बिल्डरों को पहले की तरह सेल्फ सर्टिफिकेशन नहीं बल्कि थर्ड पार्टी से कामकाज की गुणवत्ता की जांच करानी होगी। इस दिशा में संबंधित विभाग के अफसरों ने होमवर्क पूरा कर लिया है और थर्ड पार्टी में विशेषज्ञों को शामिल कर बेहतर ढंग से जांच पड़ताल कराने की तैयारी है। यहां पर उल्लेखनीय है कि गुरुग्राम में करोड़ों रुपये का निवेश कर फ्लैट में रहने वाले चिंतल सोसायटी के लोगों को अपनी जान से हाथ गंवाना पड़ा था। हादसे के बाद खुद हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अफसरों के साथ गुरुग्राम और चंडीगढ़ में कई बैठकें की हैं। आने वाले वक्त में कोई हादसा ना हो और बिल्डरों द्वारा तैयार किए जाने वाले टावर पूरी तरह से सुरक्षित व कामकाज गुणवत्ता भरा हो इस बात को लेकर रेरा पंचकूला में गुरुग्राम की ओर से खास तैयारी की गई है।  पहले बिल्डर अपने टावर और कामकाज का खुद सत्यापन कर लिया करते थे जिस कारण से निर्माण की क्वालिटी और इस में रहने वाले लोगों के लिए जान का जोखिम बना रहता था। हरियाणा के गुरुग्राम और अन्य कई स्थानों मोहाली में भी इस प्रकार के हादसे हुए जिसके बाद में आप लोगों ने आवाज उठानी शुरू कर दी है। कुल मिलाकर आने वाले वक्त में बिल्डरों की जवाबदेही ज्यादा बढ़ने जा रही है, इसके साथ ही स्वयं सत्यापन का काम समाप्त होने जा रहा है। आला अफसरों ने बिल्डरों पर शिकंजा कसने और नए टावरो में निवेश करने वह रहने वाले सुरक्षित रहें इस बात की खास तैयारी कर ली गई है। अब थर्ड पार्टी पड़ताल और वेरिफिकेशन बेहद बारीकी से कराने की तैयारी है। इस जांच पड़ताल और वेरिफिकेशन के बाद कोई हादसा हुआ तो थर्ड पार्टी जांच पड़ताल करने वाले भी इसके जिम्मेदार होंगे। कुल मिलाकर इन टावरों में रहने वालों को आने वाले वक्त में कुछ राहत महसूस होगी।
May 17, 2022

स्कॉलरशिप के लिए अनुसूचित जाति एवं सामान्य श्रेणी के खिलाड़ी 20 मई तक करें आवेदन

स्कॉलरशिप के लिए अनुसूचित जाति एवं सामान्य श्रेणी के खिलाड़ी 20 मई तक करें आवेदन 

कैथल : जिला खेल एवं युवा कार्यक्रम अधिकारी सुधा भासिन ने बताया कि खेल नीति 2009 अंतर्गत जिनकी वार्षिक आय अनुसूचित जाति के लिए 2.50 लाख रुपये तथा सामान्य श्रेणी के 1.80 लाख रुपये सालाना से कम है, उन्हें फेयर प्ले स्कीम के अतर्गत वित्त वर्ष 2021-22 यानि 1 अप्रैल 2021 से 31 मार्च 2022 की खेल उपलब्धियों के आधार पर खेल छात्रवृति दी जानी है। छात्रवृति के लिए आवेदन का नमूना विभागीय वेबसाइट www.haryanasports.gov.in पर उपलब्ध है। आवेदन पत्र चौधरी छोटूराम इंडोर स्टेडियम कैथल में अंतिम तिथि 20 मई 2022 तक दे सकते हैं। आवेदन पत्र के साथ सत्यापित खेल प्रमाण पत्र, परिवार पहचान पत्र, जन्म प्रमाण पत्र, बैंक अकाउंट नम्बर, आईएफएससी कोड आदि लगाने हैं। इसके अतिरिक्त प्रार्थी को आवेदन करते समय अपने मूल दस्तावेज भी दिखाने होंगे। उन्होंने बताया कि राज्य स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले खिलाड़ी को 3500 रुपये, द्वितीय को 3000 रुपये, तृतीय को 2500 रुपये प्रति मास दिए जाने तथा अनुसूचित जाति के खिलाड़ी को राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में भाग लेने पर 1500 रुपये प्रति मास छात्रवृति दिए जाने का प्रावधान है। इसी तरह राज्य स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले खिलाड़ी को 5000 रुपये, द्वितीय को 4000 रुपये तथा तृतीय को 3000 रुपये प्रति मास दिए जाने का प्रावधान है। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले खिलाड़ी को 7000 रुपये, द्वितीय को 6000 रुपये तथा तृतीय को 5000 रुपये प्रति मास दिए जाने का प्रावधान है। इनके अतिरिक्त महिला खिलाड़ियों को 1000 रुपये प्रति मास दिए जाने का प्रावधान है। उन्होंने बताया कि खिलाड़ी द्वारा आवेदन पत्र के साथ एफिडेविट देना होगा कि वह हरियाणा राज्य का स्थाई निवासी है, खिलाड़ी द्वारा प्रतिभागिता करते समय मद निषेद या किसी नशे का प्रयोग नहीं किया गया हो, खिलाड़ी हरियाणा राज्य का शिक्षण संस्थाओं का विद्यार्थी होना अनिवार्य है। खिलाड़ी गत वर्ष के दौरान परीक्षा में फेल न हुआ हो तथा खिलाड़ी द्वारा अन्य संस्था में छात्रवृति हेतु आवेदन जमा न करवाया हो।
May 17, 2022

हरियाणा में अब इलेक्ट्रिक बसों का संचालन होगा , 10 जिलों में 800 बसें आएंगी।

हरियाणा में अब इलेक्ट्रिक बसों का संचालन होगा , 10 जिलों में 800 बसें आएंगी। 

चंडीगढ़ : हरियाणा में अब इलेक्ट्रिक बसों का संचालन होगा। 10 जिलों में 800 बसें आएंगी। इनमें 600 नॉन एसी व 200 एसी बसें होंगी। एक बार बैटरी चार्ज होने पर बस 200 किमी का सफर तय करेगी। इन बसों में पहले से चल रही बसों के समान किराया लगेगा। जबकि एसी बसों में डेढ़ गुणा किराया लगेगा।

बसों का संचालन नगर निगम द्वारा किए जाने पर विचार किया जा रहा है, इसके अलावा स्पेशल पर्पज व्हीकल योजना के तहत भी संचालन हो सकेगा। परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा मंगलवार को यह प्रपोजल सीएमओ को भेजेंगे। यहां से अनुमति मिलते ही बसें आएंगी। संभावना यही है कि नवंबर में पहली बस आएगी, जो महीनेवार बढ़ती रहेंगी। सरकार पहले भी 2000 अन्य बसें खरीदने की योजना बना चुकी है।
*12 साल या 10 लाख किमी तक चलेंगी बसें*

बसों के लिए हरियाणा रोडवेज के अधिकारियों ने सीईसीएल कंपनी से संपर्क किया है, जहां इलेक्ट्रिक बसों के संचालन को लेकर बातचीत का दौर शुरू हुआ है। कंपनी की ओर से ड्राइवर, चार्जिंग स्टेशन, इलेक्ट्रिक रिपेयर मैनेजमेंट, बिजली खर्च आदि शामिल होगा। एक बस को 12 साल या 10 लाख किलोमीटर तक चलाने की योजना है। कंपनी की ओर से देश के 5 शहर सूरत, हैदराबाद, दिल्ली, बैंगलूर और कोलकाता के लिए 5,450 बसें देने के लिए टेंडर फाइनल हुआ है।
*एक बार चार्ज करने पर 200 किमी तक चलेंगी*

रोडवेज अधिकारियों के अनुसार, एक बस की लंबाई 12 मीटर होगी, इसमें 50 प्लस सीट होंगी। यह बस एक बार चार्ज होने पर करीब 200 किलोमीटर का सफर तय करेगी। प्रपोजल पर सीएमओ से यदि इसी माह मुहर लग जाती है तो बसें नवंबर तक हरियाणा में आना शुरू हो जाएंगी।

*एक से दूसरे जिले तक भी कर सकेंगी सफर*

इन बसों का संचालन यूं तो शहरों में करने की योजना है, लेकिन इन बसों को दूसरे जिलों तक भी कनेक्ट किया जाएगा, हरियाणा में एक से दूसरे जिले की दूरी इतनी अधिक नहीं है। चूंकि बस 200 किलोमीटर तक चल सकेगी, रोडवेज डिपो में इन बसों की चार्जिंग की सुविधा मिलेगी।
*कहां कितनी बसें आएंगी*
फरीदाबाद - 100
गुड़गांव - 50
पानीपत - 80
अम्बाला - 100
यमुनानगर - 80
हिसार - 100
रोहतक - 80
करनाल - 100
सोनीपत - 80
पंचकूला - 50

हरियाणा में इलेक्ट्रिक बसों का संचालन शुरू होगा, इससे प्रदूषण कम करने में मदद मिलेगी। 800 बसों का 10 जिलों में संचालन किए जाने की योजना है। प्रपोजल तैयार कर सीएम को भेजा जाएगा। -मूलचंद शर्मा, परिवहन मंत्री, हरियाणा।
May 17, 2022

अपने रक्तचाप को सटीक रूप से मापें , इसे नियंत्रित करें लम्बे समय तक जीवित रहें – डॉ० रमेश पांचाल

अपने रक्तचाप को सटीक रूप से मापें , इसे नियंत्रित करें लम्बे समय तक जीवित रहें – डॉ० रमेश पांचाल 

जींद : ( संजय कुमार ) --विश्व उच्च रक्तचाप दिवस  के मौके पर स्वास्थ्य विभाग एनसीडी सेल जिला जींद की ओर से सिविल सर्जन डॉ मंजू कादियान की अध्यक्षता में उच्च रक्तचाप दिवस  आयोजन Govt PG College जींद में मनाया गया। 
डिप्टी सिविल सर्जन एनसीडी डॉ रमेश पांचाल ने government PG कॉलेज में उपस्थित छात्रो को विश्व उच्च रक्तचाप दिवस  के उपलक्ष में संबोधित करते हुए बताया कि 17 मई को हर साल विश्व हाइपरटेंशन डे (World Hypertension Day ) मनाया जाता है। इसे मनाने का उद्देश्य हाइपरटेंशन जैसी घातक बीमारी का पता लगाने, उसे कंट्रोल या खत्म करना है। उन्होंने बताया  कि आजकल की दौड़भाग भरी जिंदगी में लोग कम उम्र में ही हाइपरटेंशन (उच्च रक्तचाप) का शिकार हो रहे हैं। ऐसे में एक बैलेंस और तनाव रहित जिंदगी जीने के लिए लोगों को जागरुक करने के मकसद से हर साल विश्व हाइपरटेंशन डे मनाया जाता है। हाइपरटेंशन (Hypertension) को साइलेंट किलर भी कहा जाता है। कई बार इस बीमारी से पीड़ित शख्स में किसी भी तरह के लक्षण नजर नहीं आते। लेकिन यह कार्डियोवस्कुलर सिस्टम और किडनी को नुकसान पहुंचा सकता है। हाइपरटेंशन होने पर ज्यादा पसीना आना, घबराहट होना, अच्छे से नींद न आना जैसी दिक्कतें हो सकती हैं। कई बार हाइपरटेंशन के मरीजों में तेज सिरदर्द और नाक से खून भी आता है। 
 इस अवसर पर जिला प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर एनसीडी डॉ संजीत सिंह ने बताया कि हाइपरटेंशन (Hypertension) ब्लड प्रेशर से जुड़ी एक ऐसी बीमारी है, जिसमें रक्तचाप तय मानक से ज्यादा हो जाता है। दरअसल, धमनियों के जरिए खून को दौड़ने के लिए प्रेशर की एक निश्चित मात्रा की जरूरत होती है। कई बार खून का बहाव सामान्य से ज्यादा हो जाता है तो यह धमनी की दीवार पर ज्यादा दबाव डालता है। इसे ही हाइपरटेंशन कहते हैं। इस मौके पर 200 बच्चों की उच्च रक्तचाप की जांच की गई। 
डॉक्टर गोपाल गोयल एस एम ओ जीएच जींद ने बताया कि हाइपरटेंशन को हल्के में ना लें इसकी निरंतर जांच करवाएं जिससे स्वास्थ्य की पूर्ण देखभाल हो सके। समय-समय पर नागरिक अस्पताल में जांच करवाएं व इनकी दवाई नागरिक अस्पताल में उपलब्ध है जिसका आप लाभ ले सकते है। 
इस अवसर पर गवर्नमेंट कॉलेज के वाईस प्रिंसिपल ओ.पी. गुप्ता, लेक्चरर  गौरव, महिला सेल इंचार्ज Ms सुमन, रेड क्रॉस इंचार्ज भागवान दास, प्रेम, पूनम, निशा, शर्मीला आदि स्टाफ उपस्थित रहे। 
इसके अतिरिक्त जिले जींद के अंतर्गत chc / GH सत्र पर  भी विश्व उच्च रक्तचाप दिवस  मनाया गया | जिस में उपस्थित सभी स्टाफ व छात्राओं को उच्च रक्तचाप के बारे में जागरूक किया गया। 
इस कार्यक्रम में एनसीडी विभाग जिला जींद की तरफ से जिला प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर एनसीडी डॉ संजीत सिंह, नर्सिंग ऑफिसर श्रीमती सुमन, सुनीता , रेनू ,सरोजबाला, डी.ई.ओ. प्रदीप कुमार, एच०ए० नसीब कुमार व एस०ए० विनोद कुमार भी उपस्थित रहे। 
इसके साथ-साथ पूरे जिला जींद के अंतर्गत NCD क्लिनिक जीएच ,नरवाना, उझाना, उचाना,  जुलाना, सफीदों, अलेवा व UPHC-1 &UPHC-2पर भी यह विश्व उच्च रक्तचाप दिवस पर अवेयरनेस का कार्यक्रम आयोजित किया गया।

Sunday, May 15, 2022

May 15, 2022

गूंगा पहलवान ने जीता ब्रॉन्ज मेडल:PM मोदी को समर्पित किया पदक, ट्वीट- तहेदिल से शुक्रिया, हमने 65 वर्ष का इतिहास तोड़ा

गूंगा पहलवान ने जीता ब्रॉन्ज मेडल:PM मोदी को समर्पित किया पदक, ट्वीट- तहेदिल से शुक्रिया, हमने 65 वर्ष का इतिहास तोड़ा

वीरेंद्र उर्फ गूंगा पहलवान मेडल सेरेमनी के दौरान।

चंडीगढ़ : हरियाणा के वीरेंद्र उर्फ गूंगा पहलवान ने ब्राजील में खेले जा रहे 5वें डेफ ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता है। वीरेंद्र ने इस बात की जानकारी सोशल मीडिया पर ट्वीट करके दी है। वीरेंद्र ने लिखा कि मैं यह अपना 5वां डेफ ओलिंपिक मेडल भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को समर्पित करता हूं। उन्होंने हमें किरण रिजिजू के नेतृत्व में वर्ष 2020 में पैरा एथलीटों के समान अधिकार दिए। हमने भी 65 वर्ष का इतिहास तोड़ दिया, खेल मंत्री अनुराग ठाकुर का तहे दिल से धन्यवाद।
*गूंगा पहलवान द्वारा किया गया ट्वीट*

बता दें कि गूंगा पहलवान ने हरियाणा में डेफ खिलाड़ियों को पैरा ओलिंपिक खिलाड़ियों के समान अधिकार दिए जाने की मांग उठाई है। इसके चलते वे हरियाणा भवन और विधानसभा के बाहर धरना भी दे चुके हैं। इसके बाद सरकार ने एक कमेटी का गठन किया, हालांकि अभी तक कमेटी ने रिपोर्ट नहीं दी।
*सीएम और खेल मंत्री के रवैये पर जताया था ऐतराज*

गूंगा पहलवान ने डेफ ओलिंपिक शुरू होने पर हरियाणा के सीएम मनोहर लाल और खेल मंत्री संदीप सिंह द्वारा शुभकामनाएं न देने पर ऐतराज जताया था। वीरेंद्र ने लिखा था कि एक तरफ हमारा पीएम, हमारा अभिमान, प्रधानमंत्री मोदी हमें शुभकामनाएं दे रहे हैं, दूसरी ओर मेरे राज्य के मुख्यमंत्री और खेल मंत्री को यह भी पता नहीं कि आज से डेफ ओलिंपिक 2021 शुरू हो चुका है।
May 15, 2022

आर्थिक तंगी में डोनेट की थी किडनी:इकरारनामा करके मुकरे बाप-बेटा; मंत्री विज के दरबार में पहुंचा मामला तो केस दर्ज हुआ

आर्थिक तंगी में डोनेट की थी किडनी:इकरारनामा करके मुकरे बाप-बेटा; मंत्री विज के दरबार में पहुंचा मामला तो केस दर्ज हुआ

अंबाला : किडनी ट्रांसप्लांट के बाद इकरारनामे से मुकरने का मामला गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के दरबार में पहुंचा तो देर रात आरोपी पिता-पुत्र के खिलाफ केस दर्ज हो गया। अंबाला कैंट थाना पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ ट्रांसप्लांट ऑफ ह्यूमन ऑर्गन एक्ट के साथ-साथ अन्य कई धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया है।
*पीड़ित ने जनता दरबार में लगाई थी फरियाद*

शनिवार को लगे जनता दरबार में सुंदर नगर DRM ऑफिस अंबाला कैंट निवासी राकेश कुमार ने फरियाद लगाई थी। उसने बताया था कि वह वर्ष 2007 में कुम्हार मंडी अंबाला कैंट में किराए के एक मकान में रहता था। वह आर्थिक तंगी से जूझ रहा था। परिवार का पालन पोषण करने में काफी परेशानी झेलनी पड़ रही थी। शारीरिक कमजोरी के चलते मेहनत मजदूरी भी नहीं कर पा रहा था। इसका फायदा उठाते हुए अमित नागपाल और अमन नागपाल ने उसकी किडनी अपने पिता ओमप्रकाश नागपाल को ट्रांसप्लांट करा दी, लेकिन बाद में इकरारनामे से मुकर गए।
*3 हजार हर माह, राशन व मकान का किराया देने का था इकरारनामा*

शिकायतकर्ता राकेश कुमार ने बताया कि किसी ने उसको ओम प्रकाश नागपाल की एक किडनी खराब होने की बात बताई थी और कहा था कि अगर वह उसको किडनी डोनेट करेगा तो वे अच्छे रुपए दे देंगे। उक्त व्यक्ति ने राकेश की मुलाकात रेलवे रोड अंबाला कैंट स्थित ऑफिस में ओमप्रकाश नागपाल से कराई थी। साथ में अशोक के दोनों बेटे अमित नागपाल व अमन नागपाल से बातचीत हुई। उसने अपनी आर्थिक कमजोरी के बारे में बताया। इसका फायदा उठाते हुए तीनों ने उसे अपनी बातों में फंसा लिया। कहा कि वह उसको 30 हजार रुपए देंगे। हर माह 3 हजार रुपए, राशन और मकान का किराया भी देंगे। इस इकरारनामे के बाद उसने किडनी डोनेट करने का मन बनाया।
*कागजों पर सहमति न होते हुए कराए हस्ताक्षर*

शिकायतकर्ता ने बताया कि आरोपियों ने अंबाला सिटी स्थित लैब में उसके खून व किडनी के टेस्ट कराए। इसके बाद वे उसे सिविल अस्पताल अंबाला शहर ले गए। यहां CMO व डॉक्टरों से बातचीत कराई। इसके 3-4 दिन बाद उसे दोबारा सिविल अस्पताल अंबाला सिटी ले गए। यहां कुछ कागजों पर सहमति न होते हुए भी आरोपियों ने उसके ऊपर दबाव बनाकर हस्ताक्षर कराए। 15 जुलाई 2007 को सिल्वर ओक्स अस्पताल मोहाली में उसकी किडनी निकाल ओमप्रकाश नागपाल को ट्रांसप्लांट की। वह 8 दिन तक अस्पताल में दाखिल रहा। इस वक्त भी आरोपियों ने अपने इकरारनामे के अनुसार उसकी मदद करने का आश्वासन दिया था।
*शुरुआत में की आर्थिक मदद, बाद में मुकर गए*

शिकायतकर्ता ने बताया कि आरोपियों ने अगस्त 2007 में 30 हजार रुपए दिए। इसके कुछ समय तक आरोपियों ने हर माह 3 हजार रुपए, राशन व मकान का किराया दिया। आरोपी डॉक्टर द्वारा इंक्वायरी की बात कहकर उसका राशन कार्ड भी ले गए, लेकिन उसके बाद इकरारनामे के अनुसार आर्थिक मदद देना बंद कर दिया।
*थाना पड़ाव में भी की थी शिकायत*

राकेश कुमार ने बताया कि आरोपी उसे मात्र 300/400 रुपए ही देने लगे, जिसकी शिकायत उसने थाना पड़ाव में की थी। यहां आरोपियों ने इकरारनामे के तहत आर्थिक मदद करने तथा राशन कार्ड वापस करने की बात कहते हुए समझौता कर लिया था। कुछ समय तक ठीक रहा, लेकिन फिर वे अपने इकरारनामे से मुकर गए। अब जान से मारने की धमकी देते हैं।
*पिता व दोनों बेटों के खिलाफ किया केस दर्ज*

अंबाला कैंट थाना पुलिस ने आरोपी ओम प्रकाश नागपाल, उसके बेटे अमित नागपाल व अमन नागपाल के खिलाफ ट्रांसप्लांट ऑफ ह्यूमन ऑर्गन एक्ट की धारा 19 और धारा 120 बी, 420, 423, 506 के तहत केस दर्ज किया है।