/>

Breaking

Showing posts with label Youth News. Show all posts
Showing posts with label Youth News. Show all posts

Friday, July 9, 2021

July 09, 2021

हरियाणा में स्कूलों और कॉलेजों को खोलने की तैयारी, जानिये सरकार क्या बना रही है फॉर्मुला ?

हरियाणा में स्कूलों और कॉलेजों को खोलने की तैयारी, जानिये सरकार क्या बना रही है फॉर्मुला ?


नई दिल्ली : कोरोना काल में स्कूल और कॉलेजों पर ताले लगे हुए है। लेकिन पिछले कुछ महीनों में कोरोना के केस कम हो गया है। जिसकी वजह से हरियाणा में स्कूल और कॉलेज को खोलने की तैयारी कर चल रही है। जिसके लिए मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल ने आदेश जारी कर दिए है।

हरियाणा पहला ऐसा प्रदेश होगा जहां नई शिक्षा नीति को लागू किया जाएगा। आने वाले 5 सालों में हरियाणा में यह नीति लागू की जाएगी। उम्मीद है कि ये नीति 2030 में लागू होगी, लेकिन हरियाणा में इसे 2025 में लागू कर दिया जाएगा।
राज्‍य के मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल की अध्‍यक्षता में हुई बैठक में इसको लेकर रोडमैप तैयार कर लिया गया। मुख्‍यमंत्री ने राज्‍य के शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर और शिक्षा अधिकारियों के साथ नई शिक्षा नीति लागू करने को लेकर मंथन किया।
बैठक में प्राइमरी एजुकेशन, हायर एजुकेशन, सेकेंडरी एजुकेशन और टेक्निकल एजुकेशन से जुड़े अधिकारियों ने शिरकत की। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बैठक में निर्देश दिए कि दूसरी लहर में बंद हुए स्कूल-कालेजों को जल्द खोलने की योजना बनाई जाए।


नई नीति के तहक कोविड-19 प्रोटोकाल का कड़ाई से पालन करते हुए शिक्षण संस्थानों में पर्याप्त व्यवस्था दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूल छोड़ने वाले बच्चों का सौ फीसद दाखिला सुनिश्चित किया जाए।

बैठक में फैसला किया गया है कि कोविड की वजह से स्कूलों की संख्या बढ़ाई जानी चाहिए। इन स्कूलों में आवासीय सुविधा भी हो। इन स्कूलों के लिए क्लस्टर प्लान बनाया जाए। नई शिक्षा नीति तीसरी क्लास से लेकर हायर एजुकेशन पर लागू होगी।

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय और महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय रोहतक में केजी से पीजी तक की शिक्षा शुरू होगी। हरियाणा सरकार प्राइवेट सेक्टर के साथ मिलकर प्रदेश को शिक्षा का हब बनाएगी। नई शिक्षा नीति में अनुसंधान पर ज्यादा जोर रहेगा।

हरियाणा उच्चतर शिक्षा परिषद नई शिक्षा नीति को लागू करने की निगरानी करेगी। सीएम मनोहरलाल ने कहा कि अब तक देश में बच्‍चों की शिक्षा छह साल कर आयु से शुरू होती थी, लेकिन अब सरकार आंगनवाड़ी के जरिए तीन साल की आयु से ही बच्‍चों की शिक्षा शुरू करेगी।
बैठक में शिक्षामंत्री कंवर पाल गुर्जर ने बताया कि चार हजार प्ले-वे स्मार्ट स्कूलों में से एक हजार स्कूल बन कर तैयार हैं। जैसे ही शैक्षणिक संस्थान दोबारा खुलेंगे, वैसे ही इन प्ले-वे स्कूलों में दाखिला प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। शेष तीन हजार स्कूल खोलने का लक्ष्य भी इसी वर्ष प्राप्त कर लिया जाएगा।
मनोहरलाल ने कहा कि भविष्य की जरूरतों के हिसाब से पाठ्यक्रम में बदलाव किया जाएगा। अब तक बच्चे एक ही विषय को पढ़ पाते थे, लेकिन अब मल्टीपल सब्जेक्ट पढ़ाने की शुरुआत की जाएगी। ताकि, उनको दूसरे विषयों की भी जानकारी मिले।

अब तक सरकार ने 1418 कलस्टर बनाए हैं। हर क्लस्टर में एक साइंस स्कूल जरूर खोला जाएगा। उन्‍होंने कहा कि हरियाणा सरकार शिक्षा की गुणवत्ता और उसके स्तर पर जोर देगी। शिक्षा में बदलाव के चलते इस बार प्रदेश में अब तक एक लाख 60 हजार बच्चों ने सरकारी स्कूलों में दाखिला लिया है।
बैठक में महिला एवं बाल विकास, स्कूल शिक्षा, उच्चतर शिक्षा और तकनीकी शिक्षा विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को वर्ष 2025 तक नई शिक्षा नीति के सफल कार्यान्वयन के लिए बनाई गई रूपरेखा से अवगत कराया।

Tuesday, May 25, 2021

May 25, 2021

क्या सुशील कुमार को रेलवे की नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा?

क्या सुशील कुमार को रेलवे की नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा?

नई दिल्ली :  दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की ओर से रविवार की सुबह राष्ट्रीय राजधानी से गिरफ्तार किए गए दो बार के ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार के लिए मुसीबत और भी बढ़ गई है, क्योंकि भारतीय रेलवे में उनकी नौकरी भी अब अधर में लटकी हुई है। सुशील कुमार, भारतीय रेलवे में कार्यरत हैं और छत्रसाल स्टेडियम में ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी (ओएसडी) के तौर पर तैनात हैं, जहां अभ्यास करने वाले एक पहलवान की हत्या होने के बाद विवाद पैदा हो गया था।
उत्तर रेलवे के प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा, दिल्ली सरकार से पत्र मिलने के बाद हम नियमानुसार कार्रवाई करेंगे।
सुशील कुमार को उसके सहयोगी अजय कुमार के साथ रविवार सुबह गिरफ्तार किया गया था, जो चार मई को यहां छत्रसाल स्टेडियम में हुए विवाद के बाद पहलवान सागर धनखड़ की मौत के बाद कई राज्यों में 18 दिनों से फरार चल रहे थे।
धनखड़ ने बाद में अस्पताल में दम तोड़ दिया था।
दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के अनुसार, कुमार को पकड़ने के लिए पुलिस पूरा जो लगा रही थी और इन 18 दिनों के दौरान सुशील ने पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और हरियाणा की यात्रा की थी।
आखिरकार रविवार सुबह दिल्ली के मुंडका इलाके से उसे गिरफ्तार कर लिया गया, जब वह कुछ नकदी लेने आया था और राष्ट्रीय स्तर के एक खिलाड़ी से स्कूटी भी ली थी। दिल्ली पुलिस ने कुमार पर एक लाख रुपये और उसके सहयोगी अजय पर 50,000 रुपये के इनाम की भी घोषणा की थी।
स्पेशल सेल के अधिकारियों के मुताबिक, कुमार ने शहर में कुश्ती जगत के पहलवानों को डराने के लिए मोबाइल फोन पर धनखड़ की पिटाई की रिकॉडिर्ंग भी करवाई थी। कुमार को दिल्ली की एक अदालत ने छह दिन की हिरासत में भेज दिया है।
पुलिस ने अदालत को बताया कि कुमार ने अपने दोस्त प्रिंस से धनखड़ की पिटाई का वीडियो बनाने को कहा था। पुलिस ने अदालत को सूचित किया, वह दिल्ली में कुश्ती समुदाय में डर पैदा करना चाहता था।
कुमार ने 18 मई को नई दिल्ली की रोहिणी अदालत में अग्रिम जमानत की अर्जी दी थी, लेकिन अदालत ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी।
4 मई को छत्रसाल स्टेडियम में पहलवानों के दो समूह आपस में भिड़ गए थे, जिससे 23 वर्षीय धनखड़ की मौत हो गई, क्योंकि वह विवाद के दौरान घायल हो गया था। दिल्ली की अदालत ने कुमार के खिलाफ गैर-जमानती वारंट (एनबीडब्ल्यू) भी जारी किया था।
दिल्ली पुलिस ने कुमार के लिए लुकआउट नोटिस भी जारी किया था, जिन्होंने 2008 बीजिंग ओलंपिक खेलों में कांस्य और 2012 लंदन ओलंपिक खेलों में 66 किलोग्राम वर्ग में रजत पदक जीता था।

Sunday, May 23, 2021

May 23, 2021

पहलवान सुशील कुमार पंजाब से गिरफ्तार, दिल्ली लेकर पहुंचेगी पुलिस

पहलवान सुशील कुमार पंजाब से गिरफ्तार, दिल्ली लेकर पहुंचेगी पुलिस

नई दिल्ली : दिल्ली में बीते दिन छात्रसाल स्टेडियम में हुई हत्या को लेकर दिल्ली पुलिस ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार को पंजाब में गिरफ्तार कर लिया गया है। दिल्ली पुलिस ने पहलवान सुशील कुमार पर 1 लाख रुपये का इनाम घोषित किया था।

आपको बता दें कि पुलिस का पूरे मामले को लेकर कहना है कि प्रथम दृष्या जांच में सामने आया है कि इस हत्याकांड को सुशील पहलवान व उनके साथियों ने अंजाम दिया है। जिसको लेकर सुशील से पूछताछ करनी जरूरी है। फिल्हाल पुलिस ने इस हत्याकांड को लेकर प्रिंस दलाल नामक युवक को गिरफ्तार किया है। वहीं पुलिस ने मौके से एक डबल बैरल गन भी बरामद की थी।
जानकारी के लिए आपको बता दें कि मंगलवार की देर रात मॉडल टाउन स्थित छत्रसाल स्टेडियम में पहलवानो के दो गुटों में झगड़ा हुआ था। झगड़ा इतना बढ़ गया था कि सागर, सोनू महाल और अमित कुमार घायल हो गए थे। इस बीच सागर ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। वहीं अन्य का इलाज चल रहा है।
प्राथमिक जांच में पुलिस को पता चला है कि मॉडल टाउन में सुशील पहलवान का एक फ्लैट है जो उन्होंने सागर को रहने के लिए दिया था। हाल ही में उसने सागर को यह फ्लैट खाली करने के लिए कहा था। इसे लेकर उनके बीच विवाद चल रहा था। इसी विवाद के चलते मंगलवार रात सागर की पीट पीटकर हत्या कर दी गई।
वहीं बता दें कि मरने वाला सागर मूल रूप से हरियाणा के सोनीपत का रहने वाला था। उसके पिता दिल्ली पुलिस में हवलदार है। वह कुश्ती में जूनियर नेशनल चैंपियन रह चुका है। वह दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में प्रैक्टिस करता था। वह सीनियर नेशनल कैम्प का हिस्सा था। घायल हुआ उसका साथी सोनू महाल कुख्यात बदमाश काला जठेड़ी का साथी है। वह हत्या एवं लूट के मामले में पहले गिरफ्तार हो चुका है।

Tuesday, May 18, 2021

May 18, 2021

फरार ओलंपियन सुशील कुमार पर 1 लाख का इनाम घोषित, गैरजमानती वारंट जारी

फरार ओलंपियन सुशील कुमार पर 1 लाख का इनाम घोषित, गैरजमानती वारंट जारी

नई दिल्ली : दिल्ली पुलिस ने पहलवान सागर धनखड़ हत्याकांड मामले में ओलंपियन सुशील कुमार और उसके पीए अजय पर ही इनाम घोषित किया है। हत्याकांड मामले में फरार ओलंपियन पहलवान सुशील कुमार पर दिल्ली पुलिस ने एक लाख रुपये इनाम का घोषित किया है। इसके अलावा सुशील के खास सहयोगी अजय पर 50 हजार का इनाम घोषित किया गया है। इस मामले में पुलिस सुशील और उनके सहयोगियों के खिलाफ गैरजमानती वारंट पहले ही जारी कर चुकी है।

हत्याकांड मामले में पहलवान सुशील की पुलिस को तलाश है। पुलिस रोहिणी कोर्ट से सुशील और 6 अन्य आरोपितों के खिलाफ गैर जमानती वारंट भी हासिल कर चुकी है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि अजय सुशील की गाड़ी चलाने के अलावा छत्रसाल स्टेडियम में एडहॉक पीटीआई भी है। जांच में सामने आया है कि पहलवान सागर धनखड़ की हत्या में सुशील के अलावा अजय ने प्रमुख भूमिका निभाई थी। दूसरी तरफ सुशील पहलवान की कई गैंगस्टरों से सांठगांठ सामने आई है। दिल्ली पुलिस की जांच में पता चला है कि गैंगस्टरों के गुर्गे छत्रसाल स्टेडियम में आते थे। उधर, दिल्ली पुलिस की कई टीमों ने रविवार को भी सोनीपत, पानीपत, झज्जर व गुरुग्राम समेत कई जगहों पर दबिश दी, मगर सुशील के बारे में कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। सागर की पिटाई के दौरान बीच-बचाव करने वाले तीन पहलवान भक्तू, सोनू और अमित का भी पुलिस ने बयान दर्ज किया है।

Friday, May 14, 2021

May 14, 2021

27 जून को होने वाली ये परीक्षा हुई रद्द, ये है परीक्षा की नई तारीख

27 जून को होने वाली ये परीक्षा हुई रद्द, ये है परीक्षा की नई तारीख



चंडीगढ़ : कोरोना संक्रमण से जहां बड़ी संख्या में देश की जनता पर समस्याओं का पहाड़ टूटा है तो छात्रों के भविष्य पर भी संकट आ चुका है। खासकर असर उन छात्रों पर पड़ा है, जो बड़ी बड़ी परीक्षाओं के लिए तैयारियों में लगे हैं। क्योंकि एक तरफ कोरोना के चलते कोचिंग संस्थान बंद हो चुके हैं तो दूसरी तरफ सिविल सर्विस के एक्जाम स्थगित हो रहे हैं। इस बीच अब कोरोना वायरस (कोविड-19) के चलते पैदा हालात को देखते हुए संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा, 2021 को स्थगित कर दिया है।
यूपीएससी ने सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा 27 जून को होनी थी। जिसे संघ लोक सेवा आयोग ने मौजूदा कोरोना वायरस की दूसरी लहर के भयावय प्रकोप के कारण परीक्षा को स्थगित कर दिया है। हालांकि यूपीएससी ने अगली तारीख की भी घोषणा कर दी है। अब ये परीक्षा फिर से 4 महीने बाद अक्टूबर में होगी। सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा 10 अक्टूबर को आयोजित की जाएगी। यूपीएससी ने गुरुवार को यह घोषणा तब की जब भारत ने 3,62,727 नए कोविड मामलों 4,120 मृत्यु की सूचना दी। सिविल सेवा परीक्षाओं के शीर्ष निकाय ने पिछले साल भी कोविड के संकट के कारण परीक्षाओं को स्थगित पुनर्निर्धारित किया था।
गौरतलब यह कि पिछले कुछ हफ्तों में देश में लगातार हर रोज 3 लाख से ज्यादा नए मरीज संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं। बीच बीच में यह आंकड़ा 4 लाख के पार भी पहुंच चुका है। अगर बृहस्पतिवार को आए कोरोना के मामलों की बात करें तो देश में एक दिन में कोविड-19 के 3,62,727 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमण के कुल मामले 2,37,03,665 हो गए। जबकि कोरोना वायरस संक्रमण से 4,120 लोगों की मौत होने के बाद मृतक संख्या 2,58,317 पर पहुंच गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक 37,10,525 मरीजों का अब भी इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 15।65 प्रतिशत है जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर कुछ सुधरकर 83।26 प्रतिशत हो गई है। आंकड़ों के मुताबिक, बीमारी से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या 1,97,34,823 हो गई है जबकि संक्रमण से मृत्यु दर 1।09 फीसदी दर्ज की गई है।
 

Thursday, May 13, 2021

May 13, 2021

हरिद्वार में एक बड़े योग गुरु के आश्रम में छिपा है ओलंपियन सुशील कुमार !

हरिद्वार में एक बड़े योग गुरु के आश्रम में छिपा है ओलंपियन सुशील कुमार !

नई दिल्ली : अब दिल्ली पुलिस को जानकारी मिली है कि मुख्य आरोपित ओलंपियन सुशील पहलवान देश के एक बड़े योग गुरु के हरिद्वार स्थित आश्रम में छिपा है। सुशील के बेहद खास रहे रोहतक निवासी भूरा ने पुलिस को दिए बयान में इस बात का राजफाश किया है। सुशील पर हत्या का आरोप लगने के कारण किसी न किसी दबाव में आकर पुलिस इससे जुड़े हर पहलुओं पर शुरू दिन से चुप्पी साध रखी है। भूरा के बयान को अत्यंत गोपनीय रखा गया है। इसके बयान को पुलिस अपनी तफ्तीश में शामिल करेगी या नहीं यह कहना मुश्किल है।
जांच से जुड़े पुलिस अधिकारियों का कहना है कि पहलवान भूरा, सुशील का पहले सबसे खास होता था। सुशील के सारे काम का देखरेख वही करता था। लेकिन कुछ साल पहले किसी बात को लेकर सुशील ने उससे दूरी बना ली। उसके बाद सुशील ने अपने सभी कामकाज की जिम्मेदारी अजय और भूपेंद्र को सौंप दी। इस वक्त ये दोनों सुशील के सबसे खास हैं। भूपेंद्र फरीदाबाद का रहने वाला है और इसके खिलाफ फरीदाबाद के थानों में उगाही, आ‌र्म्स एक्ट आदि के सात मामले दर्ज हैं। अजय के बारे में पुलिस को अभी जानकारी नहीं मिली है। उसके पिता बक्कर वाला इलाके से कांग्रेस के निगम पार्षद बताए जा रहे हैं।
पुलिस का कहना है कि भूरा को सुशील ने भले ही किनारे कर दिया हो, लेकिन दोनों के बीच झगड़ा नहीं है। चार मई की देर रात छत्रसाल स्टेडियम में पहलवान सागर धनखड़ की हत्या के बाद सुशील और उसके साथ आए सभी पहलवान वहां से भाग गए थे। सभी अलग अलग जगहों पर जाकर छिप गए थे। अगले दिन सुबह 10 बजे सुशील को जब पता चला की सागर की सुश्रुत ट्रामा सेंटर में मौत हो गई और पुलिस ने इस मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है। मुकदमें में उसका नाम भी है। तब सभी अलग-अलग दिल्ली से भाग निकले। अजय को सुशील समयपुर बादली छोड़ देने को कहा। वहां कुछ देर रुकने के बाद सुशील ने फोन कर भूरा को बुला लिया और बाबा के आश्रम हरिद्वार में छोड़ देने को कहा। भूरा उसे सीधे आश्रम ले जाकर छोड़ आया और कुछ देर वहां रुकने के बाद वापस रोहतक लौट गया। आश्रम पहुचने के बाद सुशील ने अपने सभी फोन बंद कर लिए।पुलिस की अंतिम लोकेशन वहीं की मिली। कॉल डिटेल से पुलिस को जब भूरा के बारे में पता लगा तब उसे रोहतक से हिरासत में ले लिया गया।
सुभाष प्लेस थाने के इंस्पेक्टर प्रताप सिंह को सौंपी। उसे तीन दिन तक सुभाष प्लेस थाने में रखकर पूछताछ की गई। पूछताछ में भूरा से सबकुछ सच्चाई बता दिया। उसने यह भी बताया कि जब वह सुशील को लेकर आश्रम पहुंचा तब बाबा ने उसके सामने दिल्ली पुलिस के एक संयुक्त आयुक्त को फोन कर सुशील को हर हाल में बचाने को कहा। इकबालिया बयान में भूरा से सबकुछ सही बता दिया। जिसके बाद उसे और दो अन्य को मंगलवार को छोड़ दिया गया।
छत्रसाल स्टेडियम में बीते चार मई की रात ओलंपियन सुशील पूरी तैयारी के साथ पहलवानों और बदमाशों को लेकर उभरते हुए पहलवान सागर धनखड़ की हत्या करने आया था। सागर के शरीर पर मिले चोट के निशान से परिजनों का कहना है कि सुनियोजित तरीके से उसकी हत्या की गई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक सागर की छाती को छोड़कर पूरे शरीर पर लाठी और लोहे की रॉड से मारने के घाव थे। पैर से लेकर सिर तक 50 से अधिक गहरे घाव के निशान थे। सिर पर सबसे ज्यादा वार किया गया था।
परिजन का आरोप है कि स्टेडियम के सीसीटीवी कैमरे में सुशील की तस्वीर भी सागर को बुरी तरीके से मारते हुए कैद है। घटना वाली रात सागर के जिन तीन साथियों सोनू, भगत सिंह व अमित की भी सुशील के बदमाशों ने पिटाई की थी । शनिवार को उन सभी के बयान मॉडल टाउन थाने में दर्ज किए गए।

Sunday, May 9, 2021

May 09, 2021

हरियाणा से पहली बार 8 पहलवानों ने हासिल किया ओलिंपिक का कोटा

हरियाणा से पहली बार 8 पहलवानों ने हासिल किया ओलिंपिक का कोटा

सोनीपत : दंगल के राजा के नाम से विख्यात सुमित और घट में नटखट और नेशनल कैंप में बेहद गंभीर सीमा बिसला अब ओलिंपिक में भारतीय दल की हिम्मत बढ़ाने के लिए जुड़ गई हैं। दोनों ने सोफिया में आयोजित अंतिम ओलिंपिक क्वालीफाइंग में कोटा हासिल किया है। यह पहला मौका है, जब हरियाणा के 8 पहलवान ओलिंपिक में उतरेंगे।

खेल मंत्री संदीप सिंह ने सबको शुभकामनाएं दी हैं। इनमें 57 केजी में रवि कुमार, 65 केजी में बजरंग पूनिया, 86 केजी में दीपक पुनिया तथा 125 केजी में सुमित शामिल हैं। महिला वर्ग में 53 केजी में विनेश फोगाट, 57 केजी में अंशु मलिक व 62 केजी में सोनम मलिक ने ओलिंपिक कोटा हासिल किया है। अब 50 केजी में सीमा ने ओलिंपिक कोटा हासिल किया है।
*महज 20 दिन की उम्र में खो दी थी मां की गोद*

राष्ट्रमंडल खेलों में गोल्ड मेडल जीत चुके सुमित का बचपन बेहद तनाव के माहौल में बीता है। सुमित ने महज 20 दिन में मां खो दी थी। इसके बाद बचपन ननिहाल में बीता। मामा के कुश्ती के प्रति जुड़ाव से पहले अखाड़े में अभ्यास के बाद तकनीकी ट्रेनिंग छत्रसाल स्टेडियम में की। 2015 व 2020 में दो बार ऑप्रेशन हुए। डॉक्टरों ने खेल से दूर रहने की नसीहत दी, लेकिन कुश्ती से प्रेम वापस उन्हें मैट पर ले आया। प्राथमिक तौर पर सुमित को कुश्ती सिखाने वाले उनके मामा नरेन्द्र सहरावत से वादा किया था कि इस बार ओलिंपिक कोटा जरूर हासिल करेंगे।

*1 बेटी की कामयाबी से दूसरी की मेहनत सफल*

पिता आजाद सिंह कबड्डी खिलाड़ी रहे हैं, लेकिन खुद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नहीं पहुंचे, लेकिन इस टीस को बड़ी बेटी सुशीला ने समझा और छोटी बहन को शादी के बाद साथ ले गई। जीजा की तरह पहलवान बना दिया। बहन ने सेहत की जिम्मेदारी संभाली तो जीजा ने प्रशिक्षण की। दुनिया के तानों के बीच पिता के प्रोत्साहन का असर था कि सीमा ने परिणाम देने शुरू किए और अब अलमाटी में एशियाई चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली सीमा ने बेलारूस की अनास्तासिया यानोतावा को 8.0 से हराकर अपना ओलिंपिक कोटा सुनिश्चित किया।