/>

Breaking

Wednesday, April 28, 2021

राज्य सरकार ने 101 मौतें बताईं, लेकिन कोविड प्रोटोकॉल से 350 चिताएं जलीं, गुड़गांव में कोविड प्रोटोकॉल से 85 संस्कार हुए

राज्य सरकार ने 101 मौतें बताईं, लेकिन कोविड प्रोटोकॉल से 350 चिताएं जलीं, गुड़गांव में कोविड प्रोटोकॉल से 85 संस्कार हुए


गुरुग्राम :  प्रदेश में सबसे ज्यादा मौतें इस समय गुड़गांव में हो रही हैं। मंगलवार को वहां 85 दाह संस्कार कोविड प्रोटोकॉल से हुए, सरकारी आंकड़ों में 10 मौतें बताई हैं।

9 जिलों में वेंटिलेटर, ऑक्सीजन बेड फुल; विज बोले- दिल्ली के मरीज अम्बाला तक आ रहे हैं

प्रदेश में मंगलवार को कोरोना के 11,919 नए मरीज मिले। 7,184 मरीज ठीक हुए हैं। अब सक्रिय मरीज 86,102 हो गए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने अपनी रिपोर्ट में मरीजों की 101 मौतें दिखाई हैं। लेकिन दैनिक भास्कर ने श्मशान घाटों में हुए संस्कारों के आंकड़े जुटाए तो पता चला कि कोविड प्रोटाेकॉल से 350 दाह संस्कार किए गए। वहीं, गंभीर मरीज बढ़ने से 9 जिलों- गुड़गांव, फरीदाबाद, कुरुक्षेत्र, करनाल, पानीपत, सोनीपत, हिसार, रोहतक, कैथल में वेंटिलेटर-ऑक्सीजन बेड फुल हो चुके हैं।
यहां बेड खाली होने पर ही नए मरीज को भर्ती किया जा रहा है। वरना वापस लौटा दिए जाते हैं। मरीजों को लेकर परिजन अस्पतालों के चक्कर काट रहे हैं। अस्पताल संचालकों का कहना है कि ऑक्सीजन समय पर न मिलने से सांसें अटकी रहती हैं। वहीं, स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा है कि गुड़गांव-फरीदाबाद में 70% मरीज दिल्ली से आए हैं। अब रोहतक, करनाल, अम्बाला तक भी दिल्ली के मरीज आ रहे हैं। सभी डीसी को अतिरिक्त बेड की व्यवस्था के लिए कहा है।

मौतों की संख्या 4 हजार पार

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, राज्य में मृतकों की संख्या 4047 हो गई है।

प्रदेश के 17 जिलों में मंगलवार को 200 से 3600 तक नए संक्रमित मिले।

सक्रिय मरीज अब तक मिले कुल संक्रमितों का 19.14% हो गए हैं।

मंगलवार को पॉजिटिविटी रेट 25.2% रहा। रिकवरी दर गिरकर 79.96% रह गई है।

कुल 4,49,848 में से 3,59,699 मरीज ठीक हुए।

*कोरोना से जंग में बड़े फैसले
सख्ती: सभी जिलों में धारा 144 के निर्देश*

केंद्र ने संक्रमण रोकने के लिए बड़े कंटेनमेंट जोन बनाकर लॉकडाउन जैसी सख्ती करने के निर्देश दिए थे।

14 जिलों में 49 कंटेनमेंट जोन बना लॉकडाउन जैसी सख्ती की।

अम्बाला में 7 बड़े कंटेनमेंट जोन बनाए गए, पर सख्ती नहीं की गई।

कई जिलों में पुरानी गाइडलाइंस से ही एक घर को कंटेनमेंट जोन बनाया गया, वो भी सिर्फ कागजों में हैं।

सरकार ने सभी डीसी को जिलों में धारा 144 लगाने के निर्देश दिए।

*तैयारी: ऑक्सीजन का लाइसेंस 24 घंटे में देंगे*

विज बोले- ऑक्सीजन विदेशों से भी मंगवाएंगे। ऑक्सीजन, वेंटिलेटर, बेड जैसी जरूरतों की लिस्ट मांगी।

उद्योगों को मेडिकल ऑक्सीजन लाइसेंस 24 घंटे में दिए जाएंगे।

कोरोना से जंग के लिए जिलों को 9.40 करोड़ रु. जारी किए।

राज्य महिला आयोग ने सुनवाई स्थगित कर दी है। आपतकालीन मामलों की वीसी से सुनवाई होगी।

होम आइसोलेट मरीजों के लिए डॉक्टरों के नंबर छपवाए जाएंगे।
*विज बोले- जरूरत पर अतिरिक्त श्मशान बनाएं*
विज ने यह भी निर्देश दिए कि जिन मरीजों की मौत हो रही है, उनका दाह संस्कार उसी दिन कोरोना प्रोटोकॉल से कराया जाए। इसके लिए अतिरिक्त शमशान भूमि का भी आवश्यकता अनुसार चयन कर लिया जाए। डीसी जिला स्तरीय कोविड निगरानी समिति का गठन करें। उनमें विभिन्न विभागों सहित जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव भी शामिल किए जाएं।
मौत के आंकड़े छिपाने पर सीएम बोले- जिसकी मौत हो गई, वह हमारे शोर मचाने से जीवित तो होता नहीं
पत्रकार ने सवाल पूछा - प्रशासन मौतों के सही आंकड़े जारी नहीं कर रहा है।
*मुख्यमंत्री का जवाब*
इस संकट में हमें आंकड़ों के साथ नहीं खेलना है। सारा ध्यान राहत पहुंचाने पर होना चाहिए। जिसकी मौत हो गई है, वह हमारे शोर मचाने से वापस जीवित तो होता नहीं है। मौत कम हैं या ज्यादा, इस विवाद में पड़ने का कोई अर्थ नहीं है। (सीएम मनोहर लाल ने यह बयान 26 अप्रैल को रोहतक में दिया)

No comments:

Post a Comment