/>

Breaking

Thursday, May 28, 2020

एक दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय संस्कृत वेबिनार (ऑनलाइन संगोष्ठी) का हुआ आयोजन

(मनोज)चंडीगढ़, 28 मई- हरियाणा संस्कृत अकादमी ने प्रदेश मुख्यालय में ‘संस्कृत,-संस्कृति एवं स्वास्थ्य संरक्षण’ विषय पर एक दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय संस्कृत वेबिनार (ऑनलाइन संगोष्ठी) का आयोजन किया। इस आयोजन में देश एवं विदेश के प्रसिद्ध संस्कृत विद्वानों और शोधार्थियों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया। संगोष्ठी में 1000 के लगभग  संचार तकनीकी के माध्यम से प्रतिभागी सम्मिलित हुए।
         संगोष्ठी का शुभारम्भ अकादमी निदेशक डॉ. सोमेश्वर दत्त शर्मा द्वारा वैदिक मंत्रों से किया गया। उन्होंने संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए कहा कि संस्कृत भाषा पूर्णतया वैज्ञानिक और नैतिक मूल्यों से परिपूर्ण भाषा है। प्रसिद्ध चिकित्सा विज्ञानियों आचार्य चरक, श्रुसुत आदि द्वारा लिखे चिकित्सा ग्रंथों में हर एक रोग का निदान है। उन्होंने सभी से इस महामारी से निपटने के लिये योग, संयम और अनुशासन का प्रमुख रूप से पालन करने की कही।
         संगोष्ठी में कनाडा से डॉ. ऋषि राम आचार्य ने विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल हुए। संस्कृत विद्वान और डीएवी महाविद्यालय पेहोवा, कुरुक्षेत्र के प्राचार्य डॉ. कामदेव झा प्राचार्य ने मुख्य अतिथि के रूप में सहभागिता की।
         डॉ. कामदेव झा ने अपने बताया कि संस्कृत भाषा बहुत सरल, सरस और मधुर है।  चौ. बंसीलाल राजकीय महाविद्यालय के असिस्टेंट प्रोफेसर जयपाल शास्त्री ने संगोष्ठी की शुरुआत की। उन्होंने संस्कृत के महान विद्वानों के तत्कालीन उदाहरणों के माध्यम से संस्कृत की महत्ता पर प्रकाश डाला 
         आहार विशेषज्ञ डॉ. शिवा कुमारी ने आज के समय में उचित खानपान और सावधानियों के बारे में बताया। डॉ. पीयूष अग्रवाल ने संगोष्ठी में शामिल हुए सभी विद्वानों एवं शोधार्थियों का धन्यवाद ज्ञापन किया।

No comments:

Post a Comment