/>

Breaking

Saturday, August 29, 2020

खेेलकूद:खेल नर्सरियों में अब सीनियर खिलाड़ी भी हो सकेंगे कोच नियुक्त

खेेलकूद:खेल नर्सरियों में अब सीनियर खिलाड़ी भी हो सकेंगे कोच नियुक्त

जीन्द :  विभाग ने अब कोच नियुक्ति को लेकर नियमों में बदलाव कर नई गाइडलाइन जारी की है। अब खेल विभाग डिग्रीधारक के साथ-साथ सीनियर खिलाड़ियाें को भी खेल नर्सरियों में कोच नियुक्त कर सकेगा। पहले एनआईएस क्वालीफाई व एमपीएड खिलाड़ियाें को ही नर्सरियों में कोच नियुक्त किया जाता था। खेलों को बढ़ावा देने के लिए जिलेभर में 30 नर्सरियां खोली हुई है। परंतु कोच के अभाव में यहां प्रेक्टिस करने के लिए आने वाले खिलाड़ी सही से प्रशिक्षण नहीं ले पाते थे।

पहले नियम था कि एनआईएस पटियाला से डिप्लोमा धारक व एमपीएड किए गए आवेदकों को ही कोच नियुक्त किया जाता था। वहीं अब खेल विभाग ने ऐसे खिलाड़ियाें को भी कोच नियुक्ति करने की अनुमति प्रदान कर दी है कि जिन्होंने इंटरनेशनल व नेशनल खेलों में बेहतरीन प्रदर्शन किया है। इन खिलाड़ियाें को एक निर्धारित मानदेय दिया जाएगा। सीनियर इंटरनेशनल खिलाड़ी को 25 हजार और जूनियर इंटरनेशनल व नेशनल खिलाड़ी को 20 हजार रुपए प्रतिमाह दिए जाएंगे।

कोच के तौर पर सीनियर इंटरनेशनल खिलाड़ी को दिए जाएंगे 25 हजार

ऐसे होगी अब नए कोच की भर्ती प्रक्रिया : जिन खिलाड़ियाें ने नेशनल, किसी रजिस्टर्ड संस्थान से, जूनियर नेशनल खिलाड़ी, सीनियर इंटरनेशनल खिलाड़ी हो तो खेल नर्सरी शुरू होने के बाद जिला स्तर पर अनुभवी खिलाड़ियाें का इंटरव्यू लिया जाएगा। इसके बाद शारीरिक टेस्ट के बाद जिस नर्सरी के लिए संबंधित कोच ने आवेदन किया था। उस नर्सरी में नियुक्त कर दिया जाएगा।

जिले में 300 से अधिक हैं नेशनल खिलाड़ी

अब अनुभव के आधार पर कोच नियुक्ति की सूचना मिलते ही खिलाड़ियाें में अब उम्मीद की किरण नजर आने लगी है। जिलेभर में 300 से अधिक नेशनल व जूनियर नेशनल खिलाड़ी ऐसे हैं जो एकेडमी या फिर निजी स्तर पर कोचिंग दे रहे हैं। अब इन कोच के लिए सरकारी विभाग में नए खिलाड़ियाें को निखारने की जिम्मेवारी होगी। इसके लिए अब खेलों को बढ़ावा मिलेगा।

नर्सरियां शुरू होने के बाद किए जाएंगे इंटरव्यू

अभी विभाग की तरफ से जो गाइडलाइन आई है। अभी इस पर काम नहीं किया जा सकता है। इसके लिए नर्सरियां खुलेगी तो सबसे पहले इंटरव्यू प्रक्रिया शुरू की जाएगी। जिसके बाद ही उन्हें कोच नियुक्त किया जा सकेगा। कुलदीप, कार्यकारी खेल अधिकारी जींद।

No comments:

Post a Comment