/>

Breaking

Tuesday, October 6, 2020

सीएम मनोहरलाल ने किया दौरा:किसान ने कहा- मैसेज सिस्टम बंद हो, सीएम बोले- नहीं होगा

सीएम मनोहरलाल ने किया दौरा:किसान ने कहा- मैसेज सिस्टम बंद हो, सीएम बोले- नहीं होगा

करनाल : सीएम मनोहरलाल ने सोमवार सुबह करनाल नई अनाज मंडी का निरीक्षण किया। मंडी में आ रही परेशानी को लेकर किसानों ने सीएम के सामने नाराजगी जाहिर की। किसानों ने कहा कि मंडी में पोर्टल चल नहीं रहा है और गेट पास मिलते नहीं हैं। कई दिन मंडी में धान बिकने का इंतजार करना पड़ता है।
मैसेज सिस्टम बंद करवा दो। सीएम ने तल्ख लहजे में जवाब दिया कि मैसेज सिस्टम बंद नहीं होगा। यहां मेला नहीं लगाना है। व्यवस्था बनाए रखने के लिए शेड्यूल के अनुसार जीरी लाएं। फिर भी 25 प्रतिशत किसान बगैर शेड्यूल के भी आ सकते हैं।
सीएम ने बड़ौता निवासी किसान रणबीर की धान की नमी तीन बार चेक करवाई, जिसमें 19 प्रतिशत नमी पाई गई। उस ढेरी की अपने सामने बोली करवाई। सरकारी बोली 1888 रुपए से शुरू हुई। बोली के समय मिलर ने 1890 रुपए प्रति क्विंटल का रेट लगाया, जिससे किसान को 2 रुपए प्रति क्विंटल का मुनाफा हुआ। दूसरी ढेरी भी इसी किसान की थी, जिसमें नमी पहली बार 20 प्रतिशत, दूसरी बार 19.5 प्रतिशत और 20.5 प्रतिशत पाई गई। इस पर सीएम ने किसान को सलाह दी कि धान को एक दिन और सूखा लें, अच्छा रेट मिलेगा।
मार्केट कमेटी के कार्यालय में आढ़ती-राइस मिलर्स, मंडी सेक्रेटरी, खरीद एजेंसियों की मीटिंग ली। किसानों को आ रही परेशानी को समझा। सीएम ने पोर्टल बंद होने की समस्या को गंभीर समझते हुए इससे दो दिन में सुधार करवाने का भरोसा दिया। यदि पोर्टल न चले तो मेन्युअल गेट पास काट दिए जाए। बाद में इसे ऑनलाइन कर दें।
मुख्यमंत्री का राइस मिल एसोसिएशन के प्रधान विनोद गोयल ने मिलिंग के रेट 10 रुपए से बढ़ाकर 25 रुपए किए जाने पर धन्यवाद किया। सीएम के साथ बैठक में मंडी प्रधान रजनीश चौधरी, लेखराज गोयल, बग्गा सिंह, विजय ठक्कर, निशांत राणा, ईलम सिंह, डीएफएससी राठी उपस्थित रहे।
तीन कानून आने वाले समय के लिए बेहतर
मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को कोई दिक्कत नहीं आने दी जाएगी, धान का एक-एक दाना सरकार खरीदेगी। उन्होंने किसानों से अपील की है कि वह अपनी धान को सुखाकर लगाएं, मंडियों में भीड़ से बचें, व्यवस्था को बनाएं, किसी के बहकावे में न आएं।
तीन कानूनों के परिणाम आने वाले समय में बेहतर होंगे और विरोध करने वालों को अपने आप जवाब मिल जाएगा। विरोध करने वालों ने पिछले 60 सालों से किसानों के हित की नहीं सोची। किसानों ने कहा कि सीएम साहब मंडी में जिस प्रकार से बोली आप ने करवाई है इस तरह से जिला प्रशासन बोली नहीं करवाता है।
मंडी सेक्रेटरी 2 मशीन रखें, ताकि रीडिंग सही दें
मुख्यमंत्री ने सरकारी खरीद एजेंसियों, आढ़तियों को निर्देश दिए कि वे अच्छी क्वालिटी की नमी जांच मशीन रखें, जोकि सही रीडिंग दे। उन्होंने मंडी सचिव सुंदर कांबोज को कहा कि वे एक की बजाए दो मशीन अपने पास रखें, ताकि किसान का संदेह दूर करने के लिए क्रॉस चेकिंग करवाई जा सके।
उन्होंने किसानों की समस्याओं को सुना और कहा कि पोर्टल से संबंधी समस्याओं का जल्द समाधान किया जाएगा। इस बार पोर्टल पर कपास, बाजरा व मक्का की खरीद के बारे में भी शेड्यूल दिया गया है।
19% नमी में दो किलो अतिरिक्त देना होगा धान
मुख्यमंत्री नेे कहा कि सरकार द्वारा किसानों की सुविधा के लिए 17% की बजाए 19% तक की नमी वाली धान खरीदी जा रही है, लेकिन किसानों को चाहिए कि वे धान को सुखाकर ही मंडियों में लेकर आएं। उन्होंने मंडी सचिव को निर्देश दिए कि बिना शेड्यूल के किसान मंडियों में धान लेकर आ रहे हैं, उन्हें आढ़तियों की सलाह से गेट पास दिए जाएं।
जिस ढेरी में नमी 19 प्रतिशत मिलेगी उसको प्रति क्विंटल दो किलोग्राम अतिरिक्त धान देना होगा। किसानों ने कहा कि यूपी के किसानों का हरियाणा की मंडी में आने से रोक लगाई है, लेकिन रात को पुलिस प्रति ट्रैक्टर-ट्राली 500 से 1000 रुपए लेकर आने देते हैं।

No comments:

Post a Comment