/>

Breaking

Saturday, October 17, 2020

गोरखधंधा:युवक से 100 रुपए की 10 नकली नोटों की गड्डी बरामद, केस दर्ज कर 4 दिन के रिमांड पर लिया, आरोपी रात के समय चलाता था नोट

गोरखधंधा:युवक से 100 रुपए की 10 नकली नोटों की गड्डी बरामद, केस दर्ज कर 4 दिन के रिमांड पर लिया, आरोपी रात के समय चलाता था नोट

नारनौल : जलमहल के नजदीक गुरुवार रात एक युवक से 100-100 रुपए की 10 नकली नोटों की गड्डी बरामद की गई। आरोपी संदीप के खिलाफ केस दर्ज कर 4 दिन के रिमांड पर लिया गया है। अब पुलिस नकली नोटों के धंधे से जुड़े अन्य लोगों व कमाए जा चुकी रकम का हिसाब लेगी। आरोपी संदीप ने बताया कि ये नकली नोट रात के समय बाजार में चलाते थे। इनके निशाने पर छोटे दुकानदार व शराब के ठेके होते थे।
एसपी कार्यालय के सुरक्षा एजेंट हेड कांस्टेबल राजबीर द्वारा 10 दिन पहले यह मामला नोटिस में लाया गया। गुरुवार शाम को जानकारी मिली की संदीप नकली नोट की सप्लाई करने नारनौल आ रहा है। पता चला कि संदीप बाइक पर जलमहल की तरफ गया है। पुलिस ने आरोपी को पकड़ लिया। बाइक पर हैंडल में टंगे थैले से एक डिब्बे में 100-100 रुपए की 10 गड्डी नकली नोटों की बरामद की गई।
आरोपी संदीप ने बताया कि उसे एक असली नोट के बदले 5 नकली नोट मिलते थे। संदीप ने बताया कि नकली नोट छापने के पीछे माजरा गांव के राजेश का हाथ है। ये नकली नोट की छपाई कम्प्यूटर पर तैयार करके प्रिंटर से निकालकर करता है। अभी दो सप्लायर राजेश वासी नंगली गोड राजस्थान व यश खोडमा निवासी शामिल है। एक असली नोट के बदले 5 नकली नोट देते हैं।

1 comment:

  1. Dear Editor,

    लोगों की नैतिकता का स्तर एकदम निचले पायदान पर है। ठगी करने के नए नए तरीके लोग ढूंढते भी हैं और अपना ठगधंधा चलाते भी हैं। बहरहाल अगर आप ऐसा लिखें "जालसाजी : युवक से १०० रुपये के नोटों की १० नकली नोटों की गड्डी बरामद" उचित वाक्य है। "गोरख-धंधा" शब्द अनुचित है।

    भगवान शिव महायोगी स्वरूप में भगवान "गुरू गोरखनाथ" होते हैं।भगवान गुरू "गोरख" जैसे पवित्र कल्याणकारी नाम को किसी घटिया धंधे से जोड़ने से लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचती है और शिव तो सदैव कल्याण ही करते हैं।

    "गोरख-धंधा" शब्द अनुचित है और एक निम्न श्रेणी की उपहासात्मक अवमाननापूर्ण अपमानजनक गरिमाहीन अभद्र संज्ञा है जो प्रयोग में नहीं होनी चाहिए कृप्या इस पहलू का भी संज्ञान लें �� ।

    कुछ शब्द हैं जो आप प्रचुरता से प्रयोग कर सकते हैं जैसे अवैध धंधा /अनैतिक धंधा /जालसाजी /ठगधंधा /फरेबजाल /गोलमाल /घोटाला/गडबडघोटाला इत्यादि ।

    एक पाठक के रूप में यही सुझाव है अगर इस शब्द को ठीक कर लें और आप अपनी रिपोर्टिंग टीम को भी इस संवेदनशील पहलू की ओर आगाह करें और एक विज्ञप्ति जारी कर भविष्य में भी प्रयोग से बचें रें तो आपकी ज्वलंत पत्रकारिता उम्दा ही प्रतीत होगी और पाठकगण भी एक जुडाव महसूस कर पाएंगे

    अलख निरंजन!!

    ReplyDelete