/>

Breaking

Tuesday, May 18, 2021

करनाल प्रदेश का पहला जिला, जहां सभी सीएचसी में कोविड मरीजों के लिए ऑक्सीजन युक्त बेड

करनाल प्रदेश का पहला जिला, जहां सभी सीएचसी में कोविड मरीजों के लिए ऑक्सीजन युक्त बेड

करनाल :  करनाल प्रदेश का ऐसा पहला जिला बन गया है, जहां सभी सीएचसी यानि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में कोविड मरीजों के लिए ऑक्सीजन युक्त बेड की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। ताकि ऐसे मरीजों को उनके घर द्वार पर ही स्वास्थ्य लाभ मिल सके।
ये बात डीसी निशांत कुमार यादव ने रविवार को घरौंडा, बल्ला और असंध सीएचसी में बनाए गए कोविड केयर वार्डों का दौरा करते हुए कही। उन्होंने कहा कि इस सुविधा से कल्पना चावला राजकीय मेडिकल कॉलेज में डी कंजेशन यानि मरीजों की भीड़ कम होगी। फिलहाल सभी नौ सीएचसी मेंऑक्सीजन युक्त 10-10 बिस्तरों की व्यवस्था की गई है। जरूरत के अनुसार इनकी संख्या बढ़ाई जाएगी। इस दौरान उन्होंने सीएचसी के कोविड वार्डो में दाखिल स्वास्थ्य लाभ ले रहे मरीजों का हाल-चाल पूछा और दुआओं का मरहम लगाया। डीसी के साथ एसपी गंगाराम पुनिया और एडीसी वीना हुड्डा भी थीं। बता दें कि इससे पूर्व उपायुक्त इंद्री, कुंजपुरा, नीलोखेड़ी, तरावड़ी, निगदु, निसिंग की सीएचसी का दौरा भी कर चुके हैं।

घरौंडा सीएचसी के निरीक्षण के दौरान डीसी ने कहा, सभी पीएचसी में ऑक्सीमीटर, स्टीमर व थर्मामीटर जैसे उपकरणों की किट भेंजेगे। अपने दौरे में उपायुक्त ने पहले घरौंडा सीएचसी में कोविड वार्डो का निरीक्षण किया और वहां उपलब्ध सुविधाओं को जांचा। फिलहाल वहां 10 बेड की व्यवस्था थी। कोविड के केवल चार मरीज दाखिल थे। सभी ऑक्सीजन की जरूरत वाले थे। उन्होंने एसएमओ मुनीष कुमार से व्यवस्था पर बातचीत की और दाखिल मरीजों का कुशलक्षेम पूछकर उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की। उन्होंने कहा कि सीएचसी में कोविड वार्डो का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग हो, उसी मरीज को करनाल रेफर किया जाए, जो गंभीर हो।
उन्होंने एसएमओ से कहा कि केसीजीएमएस में घरौंडा और इसके आस-पास के जितने भी मरीज हैं, उनकी स्क्रीनिंग करवाकर सीएचसी में बनाए गए कोविड केयर सेंटरों में लाएं। उन्होंने बताया कि सीएचसी के अधीन सभी पीएचसी में ऑक्सीमीटर, स्टीमर व थर्मामीटर जैसे जरूरी उपकरणों की किट भेजने की तैयारियां चल रही है। जल्द ही इसकी शुरूआत की जाएगी। उन्होंने एसएमओ से अतिरिक्त बेड, व्हीलचेयर, स्ट्रेचर तथा इंवर्टर,बैटरी जैसी जरूरतों पर भी बात की और कहा कि जो भी जरूरत होंगी, उन्हें तुरंत पूरा कर दिया जाएगा। लेकिन सीएचसी के आस-पास के सभी मरीज यहीं दाखिल होने चाहिए, जो होम आईसोलेशन में नहीं रह सकते, वे यहां ईलाज करवा सकते है।
*कोविड केयर सेंटर के सभी बेड मिले खाली*

डीसी ने बल्ला सीएचसी का दौरा किया, जहां कोविड मरीजों के ईलाज के लिए 14 बेड लगाए गए थे, जिनमें 10 ऑक्सीजन सपोर्ट के और चार सामान्य थे। उन्होंने बल्ला के एसएमओ डॉ. कुलजीत सैनी से कोविड के हालात पर चर्चा की। हालांकि अच्छी खबर ये भी थी कि सीएचसी में सभी बेड खाली मिले। उपायुक्त का कहना था कि ऑक्सीजन की जरूरत वाले कोविड मरीजों को यहीं रखा जाए, केसीजीएमएस में ना भेजा जाए। इस सुविधा का आस-पास के गांवों में अच्छा प्रचार होना चाहिए।

No comments:

Post a Comment