/>

Breaking

Tuesday, May 25, 2021

अब डबल नहीं सिंगल सीटर डेस्क पर बैठेंगे बच्चे

अब डबल नहीं सिंगल सीटर डेस्क पर बैठेंगे बच्चे, शिक्षा निदेशालय ने कक्षा 9वीं से 12वीं तक के विद्यार्थियों की मांगी संख्या

सिरसा : कोरोना संक्रमण के चलते जिला में लॉकडाउन लगा हुआ है। ऐसे में शिक्षा पर भी कोरोना महामारी का असर पड़ रहा है। कोरोना की वजह से पिछले साल भी स्कूल बंद हो गए थे और अब स्कूलों को बंद कर गर्मी की एडवांस छुट्टियां की गई हैं। स्कूलों के बंद रहने के कारण बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाया जा रहा है। ऑनलाइन पढ़ाई में कुछ बच्चे दिलचस्पी नहीं दिखाते तो बहुत से बच्चों के पास स्मार्टफोन नहीं हैं।
फिलहाल 31 मई तक गर्मियों की छुट्टियां हैं। ऐसे में विद्यालय शिक्षा निदेशालय ने स्कूलों के खुलने से पहले ही नई व्यवस्था बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। इस क्रम में एक सीट पर एक ही बच्चे को बैठाया जाएगा। अभी तक एक बेंच पर दो या तीन बच्चे बैठते थे।
शिक्षा विभाग ने डीईओ को पत्र भेज कक्षा 9वीं से 12वीं तक के बच्चों की संख्या के अनुसार डेस्क की डिमांड मांगी है, ताकि पढ़ते वक्त सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा सके। सिरसा में कक्षा 9वीं से 12वीं तक के करीब 183 स्कूल हैं। वहीं जिला शिक्षा अधिकारी ने बीईओ को निर्देश देकर डेस्क की संख्या मांगी। जिला में 25713 सिंगल डेस्क हैं, जबकि 13726 डेस्क डबल उपलब्ध हैं।
डेस्क डिमांड की जानकारी शिक्षा निदेशालय को भेजी गई है।दरअसल, पिछले साल लॉकडाउन के कारण स्कूल बंद रहे थे। कोरोना के केस कम होने पर शिक्षा विभाग ने धीरे-धीरे कर स्कूलों को खोलना शुरू किया था। फरवरी में कक्षा पहली से 8वीं तक के स्कूल भी खोल दिए थे।
मार्च से कोरोना की दूसरी लहर शुरू हुई। जिस कारण स्कूलों में कोरोना केस बढ़ने शुरू हो गए थे। इस कारण विभाग ने स्कूल बंद ही करा दिए। अब शिक्षा विभाग नई व्यवस्था को लेकर मंथन कर रहा है।
*एक बेंच एक बच्चा का नियम होगा लागू*
स्कूल खुलने के बाद क्लास रूम में दो छात्रों के बीच छह फुट की दूरी रहेगी। अगर सिंगल सीटर बेंच है तो एक ही छात्र उस पर बैठेगा। स्कूलों में एक बेंच एक बच्चा का नियम लागू किया जायेगा। रिसेप्शन पर कम लोगों को बैठाने का निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ स्कूल खुलने के समय गेट पर स्कूल की तरफ से सोशल डिस्टेंसिंग की पालन करवाई जाएगी।
*सिलेब्स के अनुसार लग रही ऑनलाइन क्लास*
प्राइवेट स्कूलों के साथ-साथ सरकारी स्कूलों में भी ऑनलाइन क्लासेस शुरू हुई हैं। ऑनलाइन कक्षाओं का सिलेबस सभी विद्यार्थियों को वाट्सअप व अन्य सोशल मीडिया सहायता से पढ़ाने का काम शुरू है। बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाने के लिए विद्यालयों के अध्यापकों द्वारा गृह कार्य दिया जा रहा है, ताकि बच्चे घर बैठे अपनी कक्षा का होम वर्क कर सकें। शिक्षक से वाट्सअप, वीडियो बनाकर, प्रोजेक्टर के माध्यम से पढ़ाई करवाने में जुटे हैं।
शिक्षा निदेशालय ने 9वीं से 12वीं तक के बच्चों की संख्या के अनुसार डेस्क की डिमांड मांगी थी। जो उपलब्ध करवाकर विभाग को भेज दी है। स्कूल खुलने पर सिंगल सीटर डेस्क पर विद्यार्थियों को बैठाया जाएगा। ताकि सोशल डिस्टेंस बनी रहे।'' - संत कुमार, जिला शिक्षा अधिकारी, सिरसा।

No comments:

Post a Comment