/>

Breaking

Friday, August 20, 2021

पेपर लीक मामले में अनिल विज ने CBI जांच के लिए सीएम को लिखा पत्र

पेपर लीक मामले में अनिल विज ने CBI जांच के लिए सीएम को लिखा पत्र, HSSC का भी सख्त कदम

चण्डीगढ़ : पेपर लीक मामले में गृह मंत्री अनिल विज ने सीबीआई जांच के लिए मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। अनिल विज ने कहा कि पेपर लीक के कई मामले हो चुके हैं , उसके बावजूद पुलिस किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंची। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग पर जनता का विश्वास बना रहे ऐसे में पेपर लीक मामलों की सीबीआई से जांच की जरूरत है।

हरियाणा में भर्ती परीक्षा के लीक हो रहे पेपरों पर रोक लगाने के लिए हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने सरकार के सामने एक कानून लाने का प्रस्ताव रखा है। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग चाहता है कि प्रदेश सरकार विधानसभा के मानसून सत्र में नकल विरोधी कानून लेकर आए।
आयोग के चेयरमैन भोपाल सिंह खदरी के नेतृत्व में आयोग के सभी सदस्य वीरवार को संसदीय कार्य मंत्री कंवरपाल गुर्जर तथा विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता से मिले तथा उन्हें 16 अगस्त को हुई एक बैठक का हवाला देते हुए नकल विरोधी कानून लाने तथा उसे सख्त बनाने की मांग संबंधी एक अनुरोध पत्र सौंपा।

आयोग ने इस कानून में नकल करने वाले, कराने वाले तथा इसमें सहयोग करने वालों की संपत्ति अटैच करने का प्रावधान करने का सुझाव दिया गया है। आयोग ने ऐसे लोगों को कम से कम सात साल की सजा देने और एक लाख रुपये का जुर्माना लगाने का प्रावधान करने का भी सुझाव दिया है।
यदि किसी कारणवश आरोपित लोगों से रिकवरी न हो पाए, कम रिकवरी हो पाए और आरोपित लोग जुर्माने का भुगतान न कर सकें तो उनके लिए सजा का प्रविधान सात साल से ज्यादा होना चाहिए।
आपको बता दें कि हरियाणा पुलिस की कांस्टेबल की भर्ती का पेपर लीक होने के बाद विपक्ष लगातार सरकार को घेर रहा है। विपक्ष का आरोप है कि अभी तक 28 परीक्षाएं लीक या स्थगित हो चुकी हैं। नकल की घटनाओं को रोकने के लिए कोई कड़ा कानून नहीं है।
भोपाल सिंह ने बताया कि राज्य सरकार को दिए प्रस्ताव में कानून के तहत ऐसे लोगों पर आजीवन नौकरी के लिए पात्र नहीं होने का प्रविधान किया जाए, जो पेपर लीकेज या नकल में दोषी पाए जाते हैं। नकल करने और करवाने वालों को धारा 468, 471, 420 व 120बी के तहत सजा का प्रावधान तो है, लेकिन यह पर्याप्त नहीं है। आयोग ने सर्वसम्मति से फैसला लिया है कि नए कानून में कड़ी सजा का प्रावधान किया जाए।

No comments:

Post a Comment