Breaking

Showing posts with label Poltical News. Show all posts
Showing posts with label Poltical News. Show all posts

Saturday, January 23, 2021

January 23, 2021

हरियाणा भाजपा मंत्रिमंडल में बदलाव की तैयारी, विधायकों और मंत्रियों का रिपोर्ट कार्ड तैयार

हरियाणा भाजपा मंत्रिमंडल में बदलाव की तैयारी, विधायकों और मंत्रियों का रिपोर्ट कार्ड तैयार

चंडीगढ़ : हरियाणा सरकार जल्द ही अपने मंत्रिमंडल में बदलाव कर सकती है। इसकी संभावना किसान आंदोलन के बाद या हरियाणा विधानसभा के बजट सत्र के बाद की है। इसको लेकर भाजपा के प्रदेश प्रभारी विनोद तावड़े ने गुरुवार को पार्टी के सभी जिलाध्यक्षों के साथ चंडीगढ़ में मंथन किया। तीन दिनों तक चंडीगढ़ प्रवास के दौरान कुछ विधायकों व जिलाध्यक्षों ने तावड़े के समक्ष मंत्रिमंडल में बदलाव की पटकथा तैयार करने में भी सहयोग दिया है।
सूत्रों का कहना है कि किसान आंदोलन के समाप्त होने या फिर हरियाणा विधानसभा के बजट सत्र के बाद मंत्रिमंडल में फेरबदल हो सकता है। कुछ मंत्रियों के विभाग भी बदले जा सकते हैं। सभी विधायकों और मंत्रियों का रिपोर्ट कार्ड तैयार किया गया है। भाजपा प्रभारी को विधायकों व जिलाध्यक्षों ने कुछ मंत्रियों के मंत्रालयों तो कुछ मंत्रियों को बदले जाने के सुझाव भी दिए हैं। विधायकों और मंत्रियों का रिपोर्ट कार्ड बनाया है। इसे पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व के समक्ष रखा जाएगा।

किसान आंदोलन से संबंधित कुछ सुझावों को कलमबद्ध किया गया है। सूत्रों का कहना है कि बजट सत्र के बाद मंत्रिमंडल में फेरबदल तय है। प्रभारी ने बुधवार देर रात सीएम के साथ उनके निवास पर डिनर किया। सूत्रों के अनुसार इस दौरान संगठन की मजबूती को लेकर गहन मंथन हुआ।
इसके साथ ही खबर है कि हरियाणा कांग्रेस भी जिला और प्रदेश कार्यकारिणी का गठन अगले दो माह में कर सकती है। इसके लिए प्रदेश प्रभारी विवेक बंसल मैदान में उतर चुके हैं। दरअसल प्रदेश में पिछले सात साल में कांग्रेस सिर्फ प्रदेशाध्यक्ष के भरोसे चल रही है। 2014 में अशोक तंवर के प्रदेशाध्यक्ष बनने के बाद खुलकर गुटों में बंटी कांग्रेस का संगठन खड़ा नहीं हो सका। प्रभारी कार्यकर्ताओं की नब्ज टटोलकर जिला और प्रदेश कार्यकारिणी के गठन का काम पूरा करने में जुटे हैं।
तीन दिनों में जीटी बेल्ट के तीन जिले पानीपत, करनाल और कुरुक्षेत्र में कार्यकर्ताओं बातचीत के बाद प्रभारी ने अगले एक माह में सभी जिलों के कार्यकर्ताओं से वन-टू वन मिलने का लक्ष्य रखा है। खासकर किसान आंदोलन के बीच पंचायत चुनाव की शुरू हुई सुगबुगाहट के बाद कांग्रेस जिला परिषद के चुनाव सिंबल पर लड़ने का मन भी बना रही है। परंतु इसका फैसला कार्यकर्ताओं से फीडबैक पर निर्भर करेगा।

Sunday, January 17, 2021

January 17, 2021

आज चार राज्यों के किसान निकालेंगे संविधान पदयात्रा,प्रधानमंत्री निवास का करेंगे घेराव

आज चार राज्यों के किसान निकालेंगे संविधान पदयात्रा,प्रधानमंत्री निवास का करेंगे घेराव

रोहतक : लगातार चल रहा किसान आंदोलन अब बढ़ता जा रहा है। तो वहीं दूसरी तरफ किसानों ने बड़ा ऐलान कर दिया है। बताना लाजमी है कि चार राज्यों के किसान आज दिल्ली को कूच करेंगे। चार राज्य (राजस्थान, हरियाणा, गुजरात, दिल्ली) के किसान आज दिल्ली कूच करेंगे। सत्याग्रह के तहत संविधान पद यात्रा निकाली जाएगी। दिल्ली में प्रधानमंत्री निवास का घेराव करते हुए धारा 197 के तहत नितिन गडकरी पर मुकदमा चलाने कि मांगे की जाएगी। यह बात रमेश दलाल अध्यक्ष भारत भूमि बचाओ संघर्ष समिति के अध्यक्ष रमेश दलाल ने कही। वे शनिवार को गांव हुमायुंपुर में धरनास्थल पर किसानों को संबोधित कर रहे थे।

रमेश दलाल ने कहा कि किसानों की कीमती जमीनों का सरकार ने अधिग्रहण किया है, जो कानून गलत है। इसको लेकर वे लंबे समय से संघर्ष कर रहे हैं। अब समय आ गया है कि सरकार से किसानों के हक के लिए आरपार की लड़ाई लड़ने का। उन्होंने कहा कि भाजपा किसानों पर आरोप लगाते हैं कि किसान संविधान और संसद को नहीं मानते। लेकिन केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और उच्च अधिकारियों की त्रुटि और गोलमाल पकड़ी गई है इन जन सेवकों द्वारा संसद में बनाए गए किसानों के हक के कानून का उल्लंघन किया गया है। रमेश दलाल ने प्रधानमंत्री से मांग करते हुए कहा है कि संविधान और संसद को नहीं मानने वाले जन सेवकों को सजा दिलवाए और किसानों के मुआवजे को बढ़वाएं।
January 17, 2021

आंदोलन में दो और आंदोलनकारी किसानों की थम गई सांसें

आंदोलन में दो और आंदोलनकारी किसानों की थम गई सांसें

हिसार : लगातार चल रहा किसान आंदोलन रुकने का नाम नहीं ले रहा है लेकिन किसानों की सांसे लगातार रूकती जा रही है। उसके बाबजूद भी सरकार किसानों की बात मानने को तैयार नहीं है। दरअसल कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन में एक और किसान की मौत होने का मामला सामने आया है।

तबीयत बिगड़ने अथवा हृदयाघात की आशंका जताई जा रही है। असल कारण का खुलासा पोस्मार्टम रिपोर्ट आने के बाद हो पाएगा। फिलहाल शव को नागरिक अस्पताल में रखवा दिया गया है। कृषि कानूनों को रद कराने की मांग को लेकर जारी आंदोलन के बीच शनिवार को दो और किसानों की मौत हो गई है। एक किसान की बहादुरगढ़ में तो दूसरे की हिसार के बरवाला में मौत हुई है। बरवाला में किसान की अचानक मौत होने से ट्रैक्टर मार्च को बीच में ही समाप्त कर दिया गया।

जांच अधिकारी ने बताया कि मृतक बोहर सिंह के परिवार के लोगों को सूचना दी गई है। उनके यहां पहुंचने के बाद पोस्टमार्टम करवाया जाएगा। उधर, शुक्रवार को 83 वर्षीय किसान जगीर सिंह की मौत हो गई थी। शनिवार को स्वजनों के यहां पहुंचने के बाद पोस्टमार्टम करवाया गया। अब तक हुई मौत के सभी मामलों में पीड़ित परिवारों की ओर से सरकार से मुआवजा व सरकारी नौकरी की मांग की जा रही है।

Wednesday, December 16, 2020

December 16, 2020

'सरकार के जुल्म के खिलाफ', सिंघु बॉर्डर के पास संत बाबा राम सिंह ने खुद को मारी गोली, मौत

सुसाइड नोट के मुताबिक, संत बाबा राम सिंह ने किसानों पर सरकार के जुल्म के खिलाफ आत्महत्या की है. बाबा राम सिंह किसान थे और हरियाणा एसजीपीसी के नेता थे. 

दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर (सिंघु बार्डर) पर किसानों के धरने में शामिल संत बाबा राम सिंह ने बुधवार को खुद को गोली मार ली. जिस वजह से उनकी मौत हो गई है. उन्होंने सिंघु बॉर्डर के पास आत्महत्या की है. बाबा राम सिंह करनाल के रहने वाले थे. उनका एक सुसाइड नोट भी सामने आया है.

उन्होंने किसान आंदोलन का जिक्र करते हुए उनके हक के लिए आवाज बुलंद की है. सुसाइड नोट के मुताबिक, संत बाबा राम सिंह ने किसानों पर सरकार के जुल्म के खिलाफ आत्महत्या की है. बाबा राम सिंह किसान थे और हरियाणा एसजीपीसी के नेता थे.



संत बाबा राम सिंह ने सुसाइड नोट में लिखा है कि किसानों का दुख देखा. वो अपना हक लेने के लिए सड़कों पर हैं. बहुत दिल दुखा है. सरकार न्याय नहीं दे रही. जुल्म है. जुल्म करना पाप है, जुल्म सहना भी पाप है.

संत बाबा राम सिंह आगे लिखते हैं कि किसी ने किसानों के हक में और जुल्म के खिलाफ कुछ नहीं किया. कइयों ने सम्मान वापस किए. यह जुल्म के खिलाफ आवाज है. वाहेगुरु जी का खालसा, वाहेगुरु जी की फतेह.


संत बाबा राम सिंह की मौत पर

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने दुख जताया है. राहुल गांधी ने बाबा राम सिंह को श्रद्धांजलि देने के साथ मोदी सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि कई किसान अपने जीवन की आहुति दे चुके हैं. मोदी सरकार क्रूरता की हर हद पार कर चुकी है.



राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि करनाल के संत बाबा राम सिंह जी ने कुंडली बॉर्डर पर किसानों की दुर्दशा देखकर आत्महत्या कर ली. इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदनाएं और श्रद्धांजलि. कांग्रेस सांसद ने आगे लिखा कि कई किसान अपने जीवन की आहुति दे चुके हैं. मोदी सरकार क्रूरता की हर हद पार कर चुकी है. जिद छोड़ो और तुरंत कृषि विरोधी कानून वापस लो. 

बता दें कि कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन के कारण अभी तक कई किसान अपनी जान गंवा चुके हैं. सोमवार को दो, मंगलवार को एक किसान और अब बुधवार को संत बाबा राम सिंह की मौत हुई है. सोमवार की देर रात को पटियाला जिले के सफेद गांव में एक सड़क हादसा हो गया था, जिसमें दिल्ली से धरना देकर लौट रहे दो किसानों की मौत हो गई थी. 

मंगलवार को सिंघु बॉर्डर के उषा टॉवर के सामने एक किसान की मौत हो गई. मृतक किसान की पहचान गुरमीत निवासी मोहाली (उम्र 70 साल) के रूप में हुई. 

21 दिनों से जारी है आंदोलन

कृषि कानूनों के खिलाफ 21 दिनों से दिल्ली के बॉर्डर पर किसान प्रदर्शन कर रहे हैं. सरकार और किसानों में कई दौर की वार्ता हो चुकी. सभी बेनतीजा रहीं. किसान तीनों कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े हैं. वहीं, सरकार संशोधन करने को तैयार है, लेकिन किसान इस प्रस्ताव को ठुकरा रहे हैं. 

वहीं, बुधवार को संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से सरकार को लिखित में जवाब दिया गया. किसान मोर्चा ने सरकार से अपील की है कि वो उनके आंदोलन को बदनाम ना करें और अगर बात करनी है तो सभी किसानों से एक साथ बात करें. 

उधर, किसान आंदोलन को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. अदालत ने कहा है कि वो किसान संगठनों का पक्ष सुनेंगे, साथ ही सरकार से पूछा कि अबतक समझौता क्यों नहीं हुआ. अदालत की ओर से अब किसान संगठनों को नोटिस दिया गया है. अदालत का कहना है कि ऐसे मुद्दों पर जल्द से जल्द समझौता होना चाहिए. अदालत ने सरकार और किसानों के प्रतिनिधियों की एक कमेटी बनाने को कहा है, ताकि दोनों आपस में मुद्दे पर चर्चा कर सकें.



Tuesday, December 15, 2020

December 15, 2020

स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की हालत स्थिर, मेदांता अस्पताल में किया जा सकता है शिफ्ट

स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की हालत स्थिर, मेदांता अस्पताल में किया जा सकता है शिफ्ट

रोहतक : प्लाज्मा थेरेपी देने के बाद स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की हालत स्थिर है। अनिल विज का पीजीआई में इलाज चल रहा है। कोरोना से संक्रमित अनिल विज को रविवार को प्लाज्मा थैरेपी दी गई थी। सूत्रों की माने तो उन्हें मेदांता में शिफ्ट करने की तैयारी है। हालांकि अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि नहीं की है। सोमवार को स्वास्थ्य मंत्री को हल्का बुखार भी था। चिकित्सकों ने उनके सभी जरूरी टेस्ट किए। अनिल विज को ऑक्सीजन भी दी जा रही है। साथ ही हो सकता है उन्हें मंगलवार को दोबारा प्लाजमा थैरेपी दी जाए। क्योंकि एक बार प्लाजमा थैरेपी देने के बाद 24 से 48 घंटे में दूसरी बार थैैरेपी दी जाती है। 

टीम की निगरानी में विज

बता दें कि स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज कोरोना संक्रमण होने के बाद निगरानी के लिए पीजीआईएमएस के वार्ड-24 में भर्ती है। चिकित्सकों का कहना है कि जब तक उनकी रिपोर्ट निगेटिव नहीं आ जाती तब तक उनसे मिलने अस्पताल में कोई ना आएं। स्वास्थ्य मंत्री के इलाज के लिए डॉक्टरों की एक टीम का गठन किया गया है जो उनके स्वास्थ्य पर लगातार नजर बनाए हुए है। मेदांता के डॉक्टरों की देखरेख में दी गई थैरेपी बता दें कि रविवार को स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के इलाज के लिए गठित मल्टी स्पेशलिस्ट चिकित्सकों की टीम में एम्स के डायरेक्टर, मेदांता अस्पताल से डॉ. सुशीला, पीजीआई के पीसीसीएम विभाग के एचओडी व स्टेट नोडल अधिकारी डॉ. ध्रुव चौधरी व मेडिसिन विभाग के एचओडी डॉ. वीके कत्याल सहित एनेस्थीसिया विभाग के चिकित्सकों को शामिल किया गया है। मेदांता अस्पताल की कोविड-19 एक्सपर्ट डॉ. सुशीला रविवार को स्वास्थ्य मंत्री का हेल्थ अपडेट लेने पहुंची थी। सभी चिकित्सकों ने एम्स के डायरेक्टर से फोन पर संपर्क कर प्लाज्मा थैरेपी दिए जाने पर चर्चा की। जिसके बाद सभी ने सहमति जताई और शाम को स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को सवा घंटे तक चली प्रक्रिया के जरिए प्लाज्मा थैरेपी दी गई l

Saturday, December 12, 2020

December 12, 2020

हरियाणा के मशहूर कलाकार करेंगे एक रुपया -एक ईंट शिक्षा के नाम अभियान कीं शुरूआत : शुभम जयहिंद

जींद शिक्षा भवन का भूमि पूजन एवं एक रुपया-एक ईंट शिक्षा के नाम अभियान कीं कि जाएगी शुरुआत 

:11तीर्थों कीं मिट्टी द्वारा किया जाएगा भूमि पूजन, हरियाणा के मशहूर कलाकार करेंगे एक रुपया -एक ईंट शिक्षा के नाम अभियान कीं शुरआत 

जींद : जींद शिक्षा सहयोग समिति जरूरतमंद बच्चों कीं शिक्षा के लिए जींद शिक्षा भवन का निर्माण करने जा रही हैं जिसमें जरूरतमंद बच्चों कीं शिक्षा के लिए वर्ग चलाए जाया करेंगे। संस्था के चेयरमैन शुभम जयहिंद द्वारा बताया गया कीं  जींद शिक्षा भवन का भूमि पूजन एक जनवरी को नए साल वाले दिन किया जाएगा। इस शिक्षा के मंदिर का भूमि पूजन 11 तीर्थों कीं मिट्टी से किया जाएगा। भूमि पूजन के दौरान एक रुपया-एक ईंट शिक्षा के नाम अभियान कीं शुरुआत कीं जाएगी जो कीं हरियाणा के मशहूर कलाकार  गगन हरियाणवी करेंगे। इस मुहिम से समाज के बड़े -बड़े उध्योगपतियों, समाज सेवी, अधिकारीयो एवं सामाजिक संस्थाओं को जोड़ा जाएगा । जींद शहर में ऐसा भवन पहली बार बनने जा रहा हैं जो जरूरतमंद बच्चों कीं शिक्षा के लिए बड़े स्तर पर कार्य करेगा । जींद शिक्षा सहयोग समिति पिछले पांच साल से जरूरतमंद बच्चों को शिक्षा एवं शिक्षा सम्बन्धित सामग्री उपलब्ध करवा रही हैं। संस्थान  अभी 500 से ज्यादा बच्चों को शिक्षित कर चुका हैं। 

Sunday, December 6, 2020

December 06, 2020

-कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर बोला हमला, कहा कि भाजपाई नेता किसान को आज देशद्रोही, टुकड़े-टुकड़े गैंग, खालिस्तानी, चीन और पाकिस्तान का षड्यंत्र बताने की कर रहे गंदी राजनीति

-कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर बोला हमला, कहा कि भाजपाई नेता किसान को आज देशद्रोही, टुकड़े-टुकड़े गैंग, खालिस्तानी, चीन और पाकिस्तान का षड्यंत्र बताने की कर रहे गंदी राजनीति 

कैथल : कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव व मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि आज हरियाणा की भाजपा-जजपा और केंद्र की मोदी सरकार इतनी अत्याचारी व अहंकारी बन चुकी है कि जहाँ उन्होंने एक तरफ भारत के अन्नदाताओं के रास्ते में पत्थर लगाए, कटीले तार और वॉटर केनन से स्वागत किया। दूसरी तरफ कोरोना योद्धाओं स्वास्थ्य कर्मियों के साधारण से समूह पर जिसमें महिलाएं भी हैं उनपर लाठियाँ बरसाई जा रही है। ये है नए भारत का आज का परिदृश्य। जहाँ सरकार विरोधी प्रदर्शन राष्ट्रविरोधी बन जाता है। भाजपा और जजपा की सरकार को एक दिन भी सत्ता में रहने का कोई हक नही है। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सुरजेवाला आज कैथल में कई शादी समारोह में शामिल हुए और अपने निवास किसान भवन पर कार्यकर्ताओं से भी रूबरू हुए। 
सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि विपक्ष में होते हुए अपने आपको किसान हितैषी होने का स्वांग रचने वाले राजनाथ सिंह व भाजपा के नेता आज चुप क्यों बने बैठे हैं? या फिर सत्ता में आने से पहले सिर्फ किसान अन्नदाता और अब कुर्सी पाने के बाद किसान से क्या वास्ता ये सच साबित हो चुका है। अन्नदाता एक सप्ताह से भीषण ठंड में दिल्ली की चौखट पर बैठे हैं।
सुरजेवाला ने कहा कि किसान-मज़दूर मोदी सरकार से भीख नही माँग रहा बल्कि अपनी मेहनत की क़ीमत माँग रहा है। लेकिन भाजपाई नेता किसान को आज देशद्रोही, टुकड़े-टुकड़े गैंग, खालिस्तानी, चीन और पाकिस्तान का षड्यंत्र बताने की गंदी राजनीति कर रहे हैं। किसानों पर षडयंत्र की बजाय उनको उनका अधिकार दीजिए। 
सुरजेवाला ने कहा कि मोदी सरकार के मंत्रियों का किसानों के प्रति दुर्व्यवहार और अपमानजनक भाषा बहुत ही शर्मनाक है। क्या अब अन्नदाताओं को किसान होने और दिखने का सर्टिफ़िकेट भी मोदी सरकार से लेना पड़ेगा?ये किसान-मज़दूरों के प्रति भाजपाई दुर्भावना का जीता जागता सबूत है। ऐसे मंत्रियों को बर्खास्त किया जाना चाहिए। 
उन्होंने कहा कि मोदी सरकार राजहठ त्यागिये,राजधर्म मानिये। अन्नदाता की सुनें,काले क़ानूनों को निरस्त करें। याद कीजिए कि इतिहास ने कभी अहंकार को माफ़ नहीं किया है।
December 06, 2020

पीजीआई कोरोना ट्रायल सवालों के घेरे में, तीसरे चरण के ट्रायल के लिए वालंटियर बनने वाले हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज कोरोना से संक्रमित

पीजीआई कोरोना ट्रायल सवालों के घेरे में 

चंडीगढ़। पीजीआई रोहतक में वालंटियर को लगने वाली कोरोना की वैक्सीन संदेह के घेरे में आ गई है। दरअसल कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के लिए वालंटियर बनने वाले हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। उन्हें शनिवार को कोरोना पॉजिटिव पाया गया। विज ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि वह कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं और अंबाला कैंट के एक सिविल अस्पताल में भर्ती हैं।विज ने पिछले कुछ दिन में उनसे मिलने वालों से अपील की है कि वे भी कोरोना का टेस्ट करवाएं।  

गौर रहे कि हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल में बतौर वॉलंटियर इंजेक्शन लगवाने वाले विश्व के पहले मंत्री बने हैं। रोहतक पीजीआई के एक्सपर्ट डाक्टरों की निगरानी में अम्बाला छावनी के सिविल अस्पताल में अनिल विज को वैक्सीन इंजेक्ट की गई थी।
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने विज के संक्रमित होने पर दुख जताया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'गृहमंत्री जी, आपके कोरोना संक्रमित होने का समाचार मिला। मुझे विश्वास है कि आप अपनी दृढ़शक्ति से इस बीमारी को जल्द मात देंगे। ईश्वर से आपके जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।' 

बता दें कि बीते 20 नवंबर को विज को कोरोना की वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के लिए पहला टीका लगाया गया था। विज ने खुद ही कोरोना वैक्सीन के परीक्षण के लिए वालंटियर बनने की इच्छा जताई थी। 20 नवंबर को हरियाणा में कोवाक्सिन का तीसरे चरण का ट्रायल शुरू किया गया था। इस दौरान अनिल विज को पहला टीका लगाया गया था। विज के साथ 200 वालंटियर्स को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज दी गई थी।

बताया गया कि 28 दिन बाद वैक्सीन का दूसरा डोज दिया जाएगा। बता दें कि भारत बायोटेक कंपनी आईसीएमआर के साथ मिलकर कोरोना की वैक्सीन कोवाक्सिन का निर्माण कर रही है। पीजीआई रोहतक देश के उन तीन सेंटर्स में से है जहां तीसरे चरण के ट्रायल का टीका लगाया गया। कंपनी का दावा है कि उनकी वैक्सीन 90 प्रतिशत कारगर होगी।  

Saturday, December 5, 2020

December 05, 2020

किसान आंदोलन का 10वां दिन सरकार और किसानों के बीच 5वें दौर की बातचीत आज,8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान

किसान आंदोलन का 10वां दिन सरकार और किसानों के बीच 5वें दौर की बातचीत आज,8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान


नई दिल्ली : कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन शनिवार को 10वें दिन भी जारी हैं। आज दोपहर 2 बजे से सरकार और किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के बीच 5वें दौर की बातचीत होगी। इससे पहले किसानों ने शुक्रवार को कहा कि अगर कानून वापस नहीं लिया गया तो वे 8 दिसंबर को भारत बंद करेंगे। किसानों ने सभी टोल प्लाजा पर कब्जे की भी चेतावनी दी है। शुक्रवार को किसानों की मीटिंग के बाद उनके नेता हरविंदर सिंह लखवाल ने कहा- आने वाले दिनों में दिल्ली की बची हुई सड़कों को भी ब्लॉक करेंगे। किसान संगठन पहले ही कह चुके हैं कि 5 दिसंबर यानी शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पुतले जलाए जाएंगे।

170 से ज्यादा किसान बीमार, कोरोना टेस्ट के लिए तैयार नहीं

टिकरी-कुंडली बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे 170 से ज्यादा किसान बुखार और खांसी से पीड़ित हैं। यहां लगे कैंपों में हजारों किसान दवा ले रहे हैं। अपील के बावजूद किसान कोरोना टेस्ट नहीं करवा रहे हैं। तीन किसानों की मौत हो चुकी है। समर्थन देने पहुंचे महम विधायक बलराज कुंडू कोरोना पॉजिटिव मिले। हरियाणा भाकियू के प्रवक्ता राकेश बैंस ने बताया- किसानों से अपील कर रहे हैं कि तबीयत खराब होते ही चेकअप करवा कर दवाई लें। जिन्हें बुखार है, वे कोरोना टेस्ट भी कराएं। करीब एक हजार किसान दवा ले चुके हैं।

Friday, December 4, 2020

December 04, 2020

नगर निगम चुनाव: विधानसभा चुनाव में पंचकूला-अम्बाला में भाजपा ने जीती थीं शहरी सीटें, सोनीपत पर कांग्रेस का कब्जा,निगम चुनाव में दोनों पार्टियों में टक्कर

नगर निगम चुनाव: विधानसभा चुनाव में पंचकूला-अम्बाला में भाजपा ने जीती थीं शहरी सीटें, सोनीपत पर कांग्रेस का कब्जा,निगम चुनाव में दोनों पार्टियों में टक्कर

चंडीगढ :  तीन नगर निगमों की शहरी सरकार के चुनावों में इस बार मुकाबला भाजपा-कांग्रेस के बीच होगा। भाजपा के बाद कांग्रेस ने भी सिंबल पर लड़ने का फैसला लिया है। बरोदा उपचुनाव से उत्साहित कांग्रेस अब भाजपा से सीधे मुकाबले के लिए ताल ठोक दी है। विधानसभा की इन तीनों शहरी सीटों पर कांग्रेस-भाजपा आमने-सामने थी। पंचकूला को छोड़कर बाकी दोनों सीटों पर भाजपा-कांग्रेस के वोटों में काफी अंतर था।
अम्बाला में कांग्रेस तीसरे नंबर पर रही थी। पंचकूला-अम्बाला से भाजपा जीती तो सोनीपत पर कांग्रेस का कब्जा रहा। जजपा-इनेलो की जमानत ही नहीं बची थी। करीब 15 साल में कांग्रेस ने भजनलाल के प्रदेशाध्यक्ष रहते हुए पंचकूला नगर परिषद का अप्रत्यक्ष हुआ चुनाव सिंबल पर लड़ा था।

*तीनों शहरी सीटों पर विस में किसे कितने वोट मिले*
पंचकूला मे पिछला विधानसभा चुनाव 61537 मतों के साथ भाजपा ने जीता,जबकि दूसरे नंबर पर 55904 मतों के साथ कांग्रेस रही, इनेलो को 2342 व जजपा को नोटा से कम 676 वोट मिले थे।

अम्बाला मे भाजपा 64,896 वोट लेकर पहले नंबर पर थी, 20 हजार 91 वोटों के साथ कांग्रेस तीसरे और 5711 वोट लेकर जजपा चौथे नंबर पर रही। इनेलो लड़ा नहीं। यहां कांग्रेस-भाजपा में 34 हजार वोटों का अंतर था।

सोनीपत मे कांग्रेस ने 79,438 वोट लिए थे,दूसरे नंबर पर भाजपा को 46,560 वोट मिले थे,जबकि जजपा को 835 व इनेलो को नोटा से कम 549 वोट ही मिले थे।

*भाजपा ने किया होमवर्क पूरा,कांग्रेस का शुरू*
भाजपा सीनियर नेताओं को प्रभारी व सह प्रभारी बना चुकी है। प्रत्याशियों के नामों पर भाजपा होमवर्क कर चुकी है, जबकि कांग्रेस ने शुरू कर दिया है। कांग्रेस ने अकेले सोनीपत के चुनाव की सलाहकार समिति में चार विधायकों शामिल किए हैं। इनमें विधायक जगबीर सिंह मलिक, सुरेंद्र पंवार, जयवीर वाल्मीकि, कुलदीप वत्स के अलावा पूर्व स्पीकर कुलदीप शर्मा समेत अन्य शामिल हैं। इस कमेटी में कांग्रेस ने सोशल इंजीनियरिंग का फॉर्मूला अपनाया है। इधर, इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष नफे सिंह राठी का कहना है कि रणनीति के लिए अभय चौटाला के साथ जल्द बातचीत होगी।

Wednesday, December 2, 2020

December 02, 2020

मुख्यमंत्री आवास घेरने जा रहे कांग्रेसियों पर लाठीचार्ज,वाटर कैनन का भी इस्तेमाल

मुख्यमंत्री आवास घेरने जा रहे कांग्रेसियों पर लाठीचार्ज,वाटर कैनन का भी इस्तेमाल

चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल के आवास का घेराव करने जा रहे पंजाब यूथ कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया और वाटर कैनन का इस्तेमाल किया।पंजाब यूथ कांग्रेस के प्रधान वरिंदर ढिल्लों समेत कई नेताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। प्रदर्शनकारी किसान आंदोलन में हिस्सा ले रहे पंजाब के किसानों को हरियाणा के मुख्यमंत्री द्वारा खालिस्तानी कहे जाने का विरोध कर रहे थे। इसी के विरोध में बुधवार को पंजाब यूथ कांग्रेस ने मनोहर लाल के चंडीगढ़ स्थित आवास के घेराव का एलान किया था। सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ताओं के साथ यूथ कांग्रेस के नेताओं ने बुधवार दोपहर सेक्टर 15 स्थित पंजाब कांग्रेस भवन से हरियाणा के मुख्यमंत्री के आवास की तरफ कूच किया लेकिन चंडीगढ़ पुलिस ने कार्यकर्ताओं को सीएम आवास तक नहीं पहुंचने दिया। पुलिस ने पहले ही सड़क पर बैरिकेड लगाकर कार्यकर्ताओं को रोकने की कोशिश की। इस दौरान पुलिस ने पहले वाटर कैनन का इस्तेमाल किया और उसके बाद कार्यकर्ताओं को खदेड़ने के लिए लाठीचार्ज किया। पुलिस का आरोप है कि यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर पथराव भी किया।
December 02, 2020

गिर जाएगी हरियाणा की खट्टर सरकार? खाप पंचायतों ने किया ये बड़ा ऐलान

गिर जाएगी हरियाणा की खट्टर सरकार? खाप पंचायतों ने किया ये बड़ा ऐलान


जींद। खाप महापंचायतों ने हरियाणा की खट्टर सरकार को गिराने के सारे इंतजाम कर लिए हैं। जींद जिले में 40 खापों की महापंचायत हुई। इस महापंचायत में कई अहम फैसले लिए गए। महापंचायत में खाप ने फैसला लिया कि वो हरियाणा सरकार को गिराने के लिए मुहीम की शुरुआत करेगी। बता दें कि बीजेपी की सरकार के पास हरियाणा में पूर्ण बहुमत नहीं है। जेजेपी और निर्दलीय विधायकों के समर्थन से हरियाणा के खट्टर सरकार चल रही है।

खाप महापंचायत के नेताओं ने ऐलान किया है कि जिन विधायकों ने सरकार को समर्थन दिया हुआ है उन पर समर्थन वापिस लेने के दबाव बनाया जाएगा। हर एक खाप इन विधायकों से जाकर मुलाकात करेगी। पहले शान्ति से विधायकों से अपील की जाएगी और अगर वो नहीं मानें तो उनकी गांवों में एंट्री बैन कर दी जाएगी।

खापों के प्रतिनिधि दिल्ली बॉर्डर पर पहुंच चुके है। उन्होंने कहा कि किसानों की हर तरह से आंदोलन में खापें मदद करेंगी। खापों ने कहा की केंद्र सरकार तानाशाही की और बढ़ रही है। खापों ने एलान किया कि अगर जरुरत पड़ी तो पूरे हरियाणा से एक खाप महापंचायत का भी आयोजन हो सकता है।

जींद में हुई इस महापंचायत में बिनैन खाप, हिसार की सतरोल खाप, चहल खाप, सोनीपत की दहिया खाप, दाडन खाप, माजरा खाप, कंडेला खाप, पंघाल खाप, सहारण खाप, नांदल खाप, ढुल खाप, पंचग्रामी खाप, चौगामा खाप, किनाना 12 खाप, नोगामा खाप, जाट महासभा और अन्य कई खाप शामिल हुईं।

Thursday, November 12, 2020

November 12, 2020

बरोदा उपचुनाव पर सीएम-डिप्टी सीएम की प्रतिक्रिया:पूरे वोट मिलते तो 80 हजार होते

बरोदा उपचुनाव पर सीएम-डिप्टी सीएम की प्रतिक्रिया:पूरे वोट मिलते तो 80 हजार होते: मनोहर लाल, दुष्यंत ने कहा- दोनों पार्टियां लड़ीं, तभी 50 हजार मिले

चंडीगढ : बरोदा उपचुनाव में भाजपा-जजपा गठबंधन प्रत्याशी की हार के बाद सीएम मनोहर लाल ने चंडीगढ़ तो डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने पानीपत में मीडिया से बात की। जजपा के सहयोग के सवाल पर सीएम ने कहा कि यदि पूरे वोट मिलते तो हमारे प्रत्याशी के 80 हजार तक वोट होते। लेकिन किसी पार्टी या आदमी के कहने से पूरा वोट ट्रांसफर नहीं होता। स्वाभाविक है कि पोलराइजेशन होती है तो वोट थोड़ा इधर-उधर होता है।
एक पार्टी जिसे पूरा वोट मिलता है, उसके कहने पर हर आदमी ट्रांसफर हो जाए, ऐसा कभी नहीं होता। हालांकि कुछ लाभ जरूर मिलता है। पिछली बार हमारे 37 हजार वोट थे। इस बार 50 हजार से ज्यादा हैं। वहीं, जजपा का वोट भाजपा को नहीं शिफ्ट हाेने के सवाल पर उपमुख्यमंत्री ने कहा 50 हजार से अधिक वोट मिलने का मतलब है कि दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं ने मेहनत की है। यह तो कांग्रेस की सीट थी। अगर गठबंधन की होती और हम हार जाते तो कह सकते थे कि जनता ने सपोर्ट नहीं किया।
November 12, 2020

राजनीति:निगम चुनाव में फीडबैक ले भाजपा की तर्ज पर सिंबल पर प्रत्याशी उतार सकती है कांग्रेस

राजनीति:निगम चुनाव में फीडबैक ले भाजपा की तर्ज पर सिंबल पर प्रत्याशी उतार सकती है कांग्रेस

चंडीगढ : बरोदा उपचुनाव में जीत के बाद कांग्रेस अब शहरी सरकार के चुनाव सिंबल पर लड़ सकती है। हालांकि कांग्रेस जल्दबाजी से फैसला लेने के मूड में नहीं है। इसलिए सबसे पहले अंबाला और पंचकूला नगर निगम चुनाव के लिए फीडबैक लेने को एक-एक सलाहकार समिति का गठन किया है।

यह समिति क्षेत्र के लोगों से मिलकर उनसे बातचीत करेगी और सिंबल पर चुनाव लड़ने या न लड़ने को लेकर भी चर्चा करेगी। समिति चर्चा से सामने आने वाली रिपोर्ट प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा को सौंपेंगी। जिसके बाद ही सिंबल पर चुनाव लड़ने या न लड़ने का आखिरी निर्णय होगा।
अंबाला और पंचकूला कुमारी सैलजा के परंपरागत संसदीय क्षेत्र में ही आते हैं। इसलिए उन्होंने सबसे पहले यहीं पर ही कार्यकर्ताओं और लोगों की नब्ज टटोलने के लिए समितियां बनाई है। हालांकि इनके साथ ही सोनीपत नगर निगम के भी चुनाव होने हैं। इधर, भाजपा नगर निगमों के चुनाव पहले से ही सिंबल पर लड़ रही है। ऐसे में एक बार फिर वह अपने अधिकृत प्रत्याशियों को ही चुनाव मैदान में उतारेगी। सिंबल पर लड़े पिछले पांच नगर निगमों के चुनाव में भाजपा के सभी प्रत्याशियों ने जबरदस्त जीत दर्ज की थी।
पूर्व में हुए पांच नगर निगमों के चुनाव के वक्त तत्कालीन प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर भी सिंबल पर ही कांग्रेस के प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारने के पक्ष में थे। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी शैलजा ने कहा कि हमने अभी समितियों का गठन किया है। ये समितियों उम्मीदवारों से लेकर सिंबल पर चुनाव लड़ने या न लड़ने को लेकर भी लोगों से चर्चा करेगी। जो फीडबैक आएगा, उसके आधार पर निर्णय लिया जाएगा। वे इस बारे में फैसले को लेकर कोई जल्दबाजी नहीं करेंगे।

Wednesday, November 11, 2020

November 11, 2020

हरियाणा राज्य निर्वाचन आयोग ने निकाय चुनाव में प्रत्याशियों के लिए खर्च की सीमा बढ़ाई

हरियाणा राज्य निर्वाचन आयोग ने निकाय चुनाव में प्रत्याशियों के लिए खर्च की सीमा बढ़ाई

चण्डीगढ़ : हरियाणा राज्य निर्वाचन आयोग ने मेयर, नगर निगम सदस्यों, नगर परिषद व नगरपालिका सदस्यों के लिए चुनाव खर्च की सीमा में संशोधन करते हुए खर्च सीमा में बढ़ोतरी की है। अब मेयर के लिए अधिकतम चुनाव खर्च सीमा 22 लाख रुपये होगी, जोकि पहले 20 लाख रुपये थी। इसी प्रकार, नगर निगम सदस्यों के लिए 5 लाख रुपये से बढ़ाकर 5.50 लाख रुपये, नगर परिषद के सदस्यों के लिए 3 लाख रुपये से बढ़ाकर 3.30 लाख रुपये और नगरपालिका सदस्यों के लिए 2 लाख रुपये से बढ़ाकर 2.25 लाख रुपये कर दी है।
राज्य निर्वाचन आयोग के एक प्रवक्ता ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि आयोग ने यह भी निर्देश दिए हैं कि नगर निगम, नगर परिषद और नगरपालिका चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार या उनके चुनाव एजेंट द्वारा चुनाव खर्च का ब्यौरा रखना होगा और परिणाम घोषित होने से 30 दिनों के अंदर खर्च का ब्यौरा जिला उपायुक्त के पास जमा कराना होगा। इसके अलावा, यह भी निर्देश दिए गए हैं कि यदि कोई उम्मीदवार निर्धारित समया‌वधि में चुनाव खर्च का ब्यौरा पेश करने में असफल होता है तो आयोग उसे अयोग्य घोषित कर सकता है और उम्मीदवार आदेश जारी होने की तिथि से 5 साल तक के लिए आयोग्य घोषित रह सकता है।
उम्मीदवार स्वयं या उसके अधिकृत चुनाव एजेंट द्वारा नामांकन पत्र भरने से लेकर चुनाव परिणाम घोषित होने वाले दिन तक चुनाव से संबंधित सभी खर्चों के लिए अलग से खाता रखना होगा। कुल खर्च उपरोक्त सीमा से अधिक नहीं होना चाहिए। राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार या उसके चुनाव एजेंट द्वारा उपरोक्त सीमा से अधिक खर्च करने के मामले में किसी भी प्रकार के उल्लंघन को गंभीरता से लिया जाएगा और उल्लंघन करने वाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
November 11, 2020

राजनीति:पंचकूला और अम्बाला निगम चुनाव के लिए कांग्रेस ने बनाई समिति, शैलजा ने जारी की सदस्यों की सूची

राजनीति:पंचकूला और अम्बाला निगम चुनाव के लिए कांग्रेस ने बनाई समिति, शैलजा ने जारी की सदस्यों की सूची

चंडीगढ़ : बरोदा उपचुनाव के परिणाम के साथ कांग्रेस और राज्य निर्वाचन आयोग ने नगर निगमों की तैयारी शुरू कर दी है। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी शैलजा ने पंचकूला व अम्बाला नगर निगम चुनाव को लेकर सलाहकार समितियों का गठन किया है। पार्टी महासचिव डॉ. अजय चौधरी ने बताया कि दोनों जिलों में शीघ्र नगर निगम के चुनाव होने वाले हैं।
पंचकूला की समिति में पूर्व संसदीय सचिव राम किशन गुर्जर, पूर्व उपमुख्यमंत्री चंद्रमोहन बिश्नोई, विधायक प्रदीप चौधरी, प्रताप चौधरी और जलमेघा दहिया को शामिल किया गया है, जबकि अम्बाला की समिति में पूर्व संसदीय सचिव रामकिशन गुर्जर, विधायक वरुण चौधरी, किरण बाला जैन, हरजिंद्र पूनिया व तरुण चुघ को सदस्य बनाया गया है।

*नगर निकायों के चुनाव खर्च की सीमा बढ़ाई*

चुनाव आयोग ने मेयर, नगर निगम सदस्यों, नगर परिषद व नगरपालिका सदस्यों के लिए चुनाव खर्च सीमा में बढ़ोतरी की है। अब मेयर के लिए अधिकतम चुनाव खर्च सीमा 22 लाख रुपए होगी, जो पहले 20 लाख थी। निगम सदस्यों के लिए 5 लाख रुपए से बढ़ाकर 5.50 लाख रुपए, नप के सदस्यों के लिए 3 लाख रुपए से बढ़ा 3.30 लाख रुपए और नपा सदस्यों के लिए 2 लाख रुपए से बढ़ाकर 2.25 लाख रुपए की है। परिणाम घोषित होने से 30 दिनों के अंदर खर्च का ब्योरा डीसी के पास जमा कराना होगा। ऐसा न करने पर उम्मीदवार को 5 साल अयोग्य घोषित हो सकता है।

Tuesday, November 10, 2020

November 10, 2020

हरियाणा उपचुनाव परिणाम LIVE:बरोदा में मतगणना जारी 15वें राउंड में भी कांग्रेस को बढ़त, इंदुराज 7831 वोटों से आगे; योगेश्वर दत्त पिछड़े

हरियाणा उपचुनाव परिणाम LIVE:बरोदा में मतगणना जारी


हरियाणा के 33वीं विधानसभा बरोदा का सिरमौर चुनने के लिए मंगलवार सुबह से मतगणना जारी है। सुरक्षा के मद्देनजर मतगणना केंद्र के 500 मीटर के दायरे में धारा-144 लगा दी गई है। उपचुनाव में कांग्रेस और भाजपा के बीच कांटे की टक्कर है। भाजपा-जजपा गठबंधन से पहलवान योगेश्वर दत्त, कांग्रेस से इंदुराज नरवाल, इनेलो से जोगेंद्र मलिक, लोसुपा से राजकुमार सैनी सहित 14 प्रत्याशी मैदान में हैं। अब इंदुराज जीतेंगे या योगेश्वर दत्त यह दोपहर तक तय हो जाएगा।

इस बार बरोदा उपचुनाव केवल हार-जीत तक सीमित नहीं है, बल्कि तीनों पार्टियों भाजपा, कांग्रेस और इनेलो के बड़े नेताओं की साख दांव पर लगी हुई है। कई दिग्गज नेताओं का कद भी तय होगा। कांग्रेस जीती तो हुड्‌डा पिता पुत्र की साख बची रहेगी। बरोदा हलका पहले इनेलो का गढ़ था, लेकिन 2009 से इस पर कांग्रेस का राज है। लेकिन बरोदा को पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा का गढ़ माना जाता है। ऐसे में अगर कांग्रेस प्रत्याशी जीतते हैं तो हुड्‌डा का रुतबा बढ़ेगा।

15 वे राउंड के बाद

कांग्रेस : 45779

भाजपा : 37948

इनेलो : 4092

लोसपा : 4435

पहले राउंड में कांग्रेस के इंदुराज 1020 वोटों से आगे चल रहे थे। 2595 वोट इंदुराज नरवाल को, 202 जोगेंद्र मलिक को, 1575 योगेश्वर दत्त को, 14 इंद्र सिंह को और 250 राजकुमार सैनी को मिले। 27 नोटा हुए और कुल 4710 वोटों की गिनती हुई।

दूसरे राउंड में कांग्रेस के इंदुराज 672 वोटों से आगे चल रहे थे। 5322 वोट इंदुराज नरवाल को, 4660 योगेश्वर दत्त को, 899 राजकुमार सैनी और जोगेंद्र सिंह मलिक को 701 मिले। 61 नोटा हुए और कुल 11827 वोटों की गिनती हुई।

तीसरे राउंड में कांग्रेस के इंदुराज 2049 वोटों से आगे चल रहे थे। 8708 वोट इंदुराज नरवाल को, 6659 योगेश्वर दत्त को, 1100 राजकुमार सैनी और जोगेंद्र सिंह मलिक को 991 मिले। 84 नोटा हुए और कुल 17792 वोटों की गिनती हुई।

चौथे राउंड में कांग्रेस के इंदुराज 2843 वोटों से आगे चल रहे थे। 11504 वोट इंदुराज नरवाल को, 8661 योगेश्वर दत्त को, 1280 राजकुमार सैनी और जोगेंद्र सिंह मलिक को 1138 मिले। 100 नोटा हुए और कुल 22968 वोटों की गिनती हुई।

पांचवें राउंड में कांग्रेस के इंदुराज 3206 वोटों से आगे चल रहे थे। 14942 वोट इंदुराज नरवाल को, 11736 योगेश्वर दत्त को, 1780 राजकुमार सैनी और जोगेंद्र सिंह मलिक को 1439 मिले। 145 नोटा हुए और कुल 30422 वोटों की गिनती हुई।

छठे राउंड में कांग्रेस के इंदुराज 3842 वोटों से आगे चल रहे थे। 17827 वोट इंदुराज नरवाल को, 13985 योगेश्वर दत्त को, 2065 राजकुमार सैनी और जोगेंद्र सिंह मलिक को 1582 मिले। 159 नोटा हुए और कुल 36048 वोटों की गिनती हुई।

सातवें राउंड में कांग्रेस के इंदुराज 5217 वोटों से आगे चल रहे थे। 20834 वोट इंदुराज नरवाल को, 15617 योगेश्वर दत्त को, 2369 राजकुमार सैनी और जोगेंद्र सिंह मलिक को 2719 मिले। 189 नोटा हुए और कुल 42224 वोटों की गिनती हुई।

आठवें राउंड में कांग्रेस के इंदुराज 5217 वोटों से आगे चल रहे थे। 23554 वोट इंदुराज नरवाल को, 17652 योगेश्वर दत्त को, 2584 राजकुमार सैनी और जोगेंद्र सिंह मलिक को 2870 मिले। 208 नोटा हुए और कुल 47416 वोटों की गिनती हुई।

नौंवे राउंड में कांग्रेस के इंदुराज 8191 वोटों से आगे चल रहे थे। 28169 वोट इंदुराज नरवाल को, 19978 योगेश्वर दत्त को, 2886 राजकुमार सैनी और जोगेंद्र सिंह मलिक को 3054 मिले। 245 नोटा हुए और कुल 54959 वोटों की गिनती हुई।

10वें राउंड में भी कांग्रेस के इंदुराज 9117 वोटों से आगे चल रहे थे। 31723 वोट इंदुराज नरवाल को, 22606 योगेश्वर दत्त को, 3153 राजकुमार सैनी और जोगेंद्र सिंह मलिक को 3279 मिले। 263 नोटा हुए और कुल 61722 वोटों की गिनती हुई।

11वें राउंड में भी कांग्रेस के इंदुराज 10330 वोटों से आगे चल रहे थे। 35301 वोट इंदुराज नरवाल को, 24971 योगेश्वर दत्त को, 3241 राजकुमार सैनी और जोगेंद्र सिंह मलिक को 3548 मिले। 293 नोटा हुए और कुल 68117 वोटों की गिनती हुई।

12वें राउंड में भी कांग्रेस के इंदुराज 9483 वोटों से आगे चल रहे थे। 37614 वोट इंदुराज नरवाल को, 28131 योगेश्वर दत्त को, 3550 राजकुमार सैनी और जोगेंद्र सिंह मलिक को 3561 मिले। 320 नोटा हुए और कुल 74111 वोटों की गिनती हुई।

13वें राउंड में भी कांग्रेस के इंदुराज 9553 वोटों से आगे चल रहे थे। 40727 वोट इंदुराज नरवाल को, 31174 योगेश्वर दत्त को, 3732 राजकुमार सैनी और जोगेंद्र सिंह मलिक को 3817 मिले। 344 नोटा हुए और कुल 80698 वोटों की गिनती हुई।

14वें राउंड में भी कांग्रेस के इंदुराज 9938 वोटों से आगे चल रहे थे। 43409 वोट इंदुराज नरवाल को, 33471 योगेश्वर दत्त को, 4092 राजकुमार सैनी और जोगेंद्र सिंह मलिक को 3899 मिले। 365 नोटा हुए और कुल 86185 वोटों की गिनती हुई।

इसलिए आई उपचुनाव की नौबत

दरअसल, 12 अप्रैल 2020 को बरोदा विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस के विधायक श्रीकृष्ण हुड्‌डा का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह लगातार तीसरी बार जीतकर विधानसभा पहुंचे थे।

ये 14 प्रत्याशी हैं मैदान में


योगेश्वर दत्त, भाजपा
इंदुराज नरवाल, कांग्रेस
जोगेंद्र मलिक, इनेलो
राजकुमार सैनी, लोसुपा
इंद्र सिंह, राष्ट्रीय मजदूर एकता पार्टी
सुमित चौधरी, पीपुल्स पार्टी आफ इंडिया (डेमोक्रेटिक)
सोनू चोपड़ा, भारतीय जनराज पार्टी
कमलजीत, निर्दलीय
गुलशन, निर्दलीय
प्रवीन कुमार, निर्दलीय
रामफल शर्मा, निर्दलीय
शक्ति सिंह हुड्डा, निर्दलीय
संत धर्मवीर चोटीवाला, निर्दलीय
सरोजबाला, निर्दलीय

Monday, November 9, 2020

November 09, 2020

हुड्‌डा और स्पीकर आमने-सामने:स्पीकर ने कहा- सुर्खियां बटोरने के लिए भूपेंद्र हुड्‌डा की नकारात्मक बयानबाजी ठीक नहीं

हुड्‌डा और स्पीकर आमने-सामने:स्पीकर ने कहा- सुर्खियां बटोरने के लिए भूपेंद्र हुड्‌डा की नकारात्मक बयानबाजी ठीक नहीं

चंडीगढ़ : विधानसभा में कृषि कानूनों पर हुए हंगामे की सियासत की आंच ठंडी नहीं हुई है। इस मामले में नेता प्रतिपक्ष एवं पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा और हरियाणा विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता आमने-सामने हैं। हुड्‌डा ने एक दिन पहले सदन में लोकतंत्र का गला घोटने के आरोप लगाए थे, जिसे स्पीकर ने गैरजिम्मेदाराना बताया। गुप्ता ने कहा कि इतने महत्वपूर्ण विषय पर वरिष्ठ नेताओं से गंभीर चर्चा की अपेक्षा थी, लेकिन पता नहीं किन कारणों से चर्चा में भाग नहीं लिया।
सुर्खियों के लिए नकारात्मक बयानबाजी ठीक नहीं है। सदन की कार्रवाई का संचालन नियमाें के तहत किया गया है। कृषि कानूूनों के खिलाफ कांग्रेस को प्रस्ताव लेकर आना था तो कांग्रेस काे नियमों का पालन करना चाहिए था। कोई भी गैर सरकारी संकल्प या प्राइवेट मेंबर बिल सत्र शुरू होने से 15 दिन पहले पेश किया जा सकता है।
स्पीकर का कहना है कि कांग्रेस कृषि अधिनियमों के खिलाफ जो प्रस्ताव लेकर आ रहे थी, उसमें 'अधिनियम' की बजाय 'अध्यादेश' का जिक्र था। अध्यादेश तो अधिनियम बन चुके हैं। नियम-184 में स्पष्ट है कि संशोधन प्रस्ताव पेश होने की स्थिति में चर्चा की जाती है, उसके बाद वोटिंग। कांग्रेस पहले वोटिंग चाहती थी। इधर, नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र हुड्‌डा का कहना है कि नियम-183 में स्पष्ट है कि चर्चा से पहले वोटिंग हो सकती है। हमने इसी की डिमांड की थी, लेकिन सरकार वोटिंग कराने से डर गई।

एमबीबीएस की फीस बढ़ाना, गरीब का सपना तोड़ना : सुरजेवाला

राज्य सरकार की ओर से सरकारी मेडिकल काॅलेजों में फीस बढ़ोतरी पर विपक्ष ने सरकार को घेरा। इस फैसले को गरीबों के डॉक्टर बनने के सपने को तोड़ने वाला बताया। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने मेडिकल की पढ़ाई महंगी कर दी है। 4 साल में 40 लाख रुपए का लोन लेने पर ब्याज समेत विद्यार्थी को 55 लाख रुपए चुकाने होंगे।
पहले तो गरीब परिवार का बच्चा अब डॉक्टर नहीं बन सकेगा, जो डॉक्टर बनेगा, वह महंगा इलाज करेगा। दोनों तरफ से मार गरीब पर पड़ेगी। सरकार गरीब विद्यार्थियों को प्राइवेट मेडिकल कॉलेज की ओर धकेलना चाहती है, ताकि वो वहां दाखिला लें और प्राइवेट कॉलेज कमाई कर पाएं।
November 09, 2020

मांग को लेकर सीएम से मिले किसान:मुख्यमंत्री बाेले- मशीनें हो चुकी डैमेज, किसी भी सूरत में नहीं चलेगी शुगर मिल

मांग को लेकर सीएम से मिले किसान:मुख्यमंत्री बाेले- मशीनें हो चुकी डैमेज, किसी भी सूरत में नहीं चलेगी शुगर मिल

फतेहाबाद : सीएम मनोहर लाल रविवार को फतेहाबाद में पहुंचे। वे यहां गांव दौलतपुर में पूर्व विधायक एवं भाजपा नेता बलवान दौलतपुरिया के आवास पर उनकी भतीजी के शादी समारोह में शिरकत करने आए थे। इस दौरान विभिन्न संगठनों ने सीएम से मुलाकात कर अपनी मांगे रखी। भूना के किसान शुगर मिल को शुरू करने की मांग को लेकर सीएम से मिले। हालांकि सीएम ने उन्हें जवाब दिया कि मिल पूरी तरह से डैमेज हो चुकी है, इसलिए इसे किसी भी सूरत में दोबारा शुरू नहीं किया जा सकता।

मिल शुरू नहीं करने पर समिति न जताई नाराजगी

इधर, भूना में शुगर मिल शुरू कराने की मांग को लेकर शुगर मिल बचाओ संघर्ष समिति के प्रतिनिधि मंडल समिति संयोजक चांदी राम कड़वासरा के नेतृत्व में सीएम से मिले। सीएम ने प्रतिनिधिमंडल को स्पष्ट कर दिया है कि मिल किसी भी कीमत पर नहीं चल सकती और वह प्राइवेट लोगों की संपत्ति है।
मगर कुछ लोग मिल के गेट पर धरना देकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं वह कांग्रेस का सरकार के खिलाफ षड्यंत्र है। इस पर समिति ने कड़ा एतराज जताया है। समिति के संयोजक चांदी राम कड़वासरा ने कहा कि चीनी मिल फतेहाबाद की एकमात्र औद्योगिक इकाई को डैमेज करके कबाड़ के भाव बेचा जा रहा है।

8 करोड़ की लागत से सदन का निर्माण हाेगा

पंचनद सेवा ट्रस्ट का प्रतिनिधि मंडल विधायक दुड़ा राम के नेतृत्व में सीएम से मिला। प्रतिनिधिमंडल ने फतेहाबाद में प्रस्तावित पंचनद सदन के शिलान्यास कार्यक्रम को लेकर समय मांगा। इसके लिए ट्रस्ट ने 10 दिसंबर का समय मांगा है। जिस पर सीएम ने आश्वासन दिया है कि वह जल्द ही इसके बारे में जानकारी दे देंगे। ट्रस्ट की ओर से जगजीवनपुरा मोहल्ला रोड पर 8 करोड़ की लागत से पंचनद सदन का निर्माण किया जाना है।

दौलतपुरिया की भतीजी की शादी में पंहुचे नेता

रविवार को पूर्व विधायक दौलतपुरिया के फार्म हाउस पर आयोजित विवाह समारोह में सीएम मनोहर लाल के अलावा हरियाणा विधानसभा के डिप्टी स्पीकर रणबीर सिंह गंगवा, बिजली मंत्री रणजीत चौटाला, विधायक दुड़ाराम, विधायक एडवोकेट लक्ष्मण नापा, भाजपा जिलाध्यक्ष बलदेव ग्रोहा, सुरेश दौलतपुरिया, जिप अध्यक्ष राजेश कसवां, नप अध्यक्ष दर्शन नागपाल, नरेश सरदाना आदि पहुंचे।

Sunday, November 8, 2020

November 08, 2020

सोनीपत जहरीली शराब कांड:मुख्यमंत्री मनोहर लाल का विवादित बयान, बोले- ऐसी घटनाएं होती रहती हैं, 24 साल में 12 बार हो चुकी हैं

सोनीपत जहरीली शराब कांड:मुख्यमंत्री मनोहर लाल का विवादित बयान, बोले- ऐसी घटनाएं होती रहती हैं, 24 साल में 12 बार हो चुकी हैं

फ़तेहाबाद : सोनीपत में जहरीली शराब कांड मामले को लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विवादित बयान दिया है। वे रविवार को फतेहाबाद के गांव दौलतपुर में पूर्व विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया की भतीजी की शादी में शिरकत करने पहुंचे थे। यहां पत्रकारों से बातचीत करते हुए सीएम ने कई मुद्दों पर बात की। इस कड़ी में जहरीली शराब कांड मामले में इस्तीफे की मांग संबंधी सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने बयान दिया। उन्होंने कहा कि समाज में, किसी भी प्रदेश में ऐसी घटनाएं होती रहती हैं। 1980 से 2004 तक ऐसी 12 घटनाएं हो चुकी हैं। हाल ही में पंजाब में भी ऐसा कांड हुआ था।
जानलेवा नशा :सोनीपत में जहरीली शराब से तीन दिन में 27 मौतें, कार्रवाई में देरी पर एसपी बोले- चुनाव ड्यूटी में व्यस्त थे
मुख्यमंत्री ने कहा कि जहरीली शराब बेचने वालों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। मामले में आरोपी कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। एसआईटी अपना काम कर रही है। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। इस्तीफे जैसी मांग करना ओछी बाते हैं। गौरतलब है कि पिछले छह दिन में जहरीली शराब का सेवन करने से हरियाणा में 47 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें सबसे ज्यादा सोनीपत में 36, पानीपत में 8 और फरीदाबाद में 3 की मौत हुई है। यह मसला विधानसभा में भी उठा और इस दौरान गृह मंत्री अनिल विज ने सिर्फ 9 लोगों की मौत की बात कही।
नहीं थम रहा मौत का तांडव:सोनीपत में जहरीली शराब से 4 और लोगों की मौत के बाद 31 हुए मृतक; 2 थाना प्रभारी और एक बीट इंचार्ज सस्पेंड
राज्य सरकार ने शनिवार को मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है। साथ ही शराब को अवैध रूप से बेचने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की बात की जा रही है। यह अलग बात है कि मौतों के आंकड़े को लेकर प्रदेश की सरकार और हकीकत में बहुत बड़ा झोल है।