Breaking

Showing posts with label Poltical News. Show all posts
Showing posts with label Poltical News. Show all posts

Saturday, October 24, 2020

October 24, 2020

बरोदा उपचुनाव:बरोदा में हुड्‌डा-चाैटाला की इमोशनल राजनीति, विपक्ष ने एमएसपी पर घेरा तो भाजपा ने नौकरियों से रिझाया

बरोदा उपचुनाव:बरोदा में हुड्‌डा-चाैटाला की इमोशनल राजनीति, विपक्ष ने एमएसपी पर घेरा तो भाजपा ने नौकरियों से रिझाया

गोहाना : बरोदा में वोटरों को रिझाने के लिए सत्ता पक्ष और विपक्ष को कोई कसर नहीं छोड़ रहे। शुक्रवार को हलके में अपने-अपने प्रत्याशियों के पक्ष में प्रचार करने पहुंचे दो पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा और ओपी चौटाला ने इमोशनल कार्ड खेला तो रोहतक से भाजपा सांसद डॉ. अरविंद शर्मा ने योग्यता के आधार पर मिली सरकारी नौकरियों की बात रखी।
हुड्‌डा ने भावुक होते हुए उपचुनाव की हार-जीत को जनता की हार-जीत बताया। उन्होंने कहा कि इस चुनाव से मेरी नहीं, बल्कि जनता की प्रतिष्ठा जुड़ी हुई है। बता दें कि सीएम मनोहर लाल ने बरोदा सीट से हुड्डा की प्रतिष्ठा जुड़ी होना कहा था। इसका जवाब देते हुए पूर्व सीएम ने कहा कि उनकी प्रतिष्ठा जनता के साथ जुड़ी है। अब जनता ही भाजपा को इसका जवाब देगी।
वहीं, पूर्व सीएम एवं इनेलो सप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला की जुबां पर लंबे समय से सत्ता से दूर होने का दर्द सामने आया। चौटाला ने कहा कि इनेलो सत्ता से बाहर रहकर 15 वर्ष का बनवास काट चुकी है। इस उपचुनाव में इनेलो जीतती है तो प्रदेश में मध्यावति चुनाव होंगे, जिससे इनेलो सत्ता में वापसी करेगी। उन्होंने कहा कि इन 15 सालों में जनता का जो नुकसान हुआ है, इनेलो सत्ता में आने पर भरपाई करेगी। वहीं, भाजपा सांसद डॉ. अरविंद शर्मा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि भाजपा सरकार ने 6 सालों में बिना पर्ची व खर्ची के 85 हजार युवाओं को नौकरियां दी है। इनमें से बरोदा हलके के योग्य युवाओं ने 700 से ज्यादा नौकरियां प्राप्त की हैं। सरकार कहती है कि योग्य युवाओं ने सरकारी नौकरियां ली।

*भाजपा आजादी से पहले की व्यवस्था बना रही, तब एमएसपी नहीं था: हुड्‌डा*

हुड्‌डा ने कृषि के तीन बिलों पर कहा कि नए अध्यादेश लाकर भाजपा आजादी से पहले की व्यवस्था कर रही है। तब फसलों का एमएसपी नहीं मिलता था। अब सरकार ने नए कानून लागू करके दो मंडी बना रही है। एक मंडी में सरकार फसल एमएसपी मिलने की बात कह रही है। दूसरी मंडी बाहर होगी, जहां पर बड़ी कंपनियां मनमाफिक रेट पर फसल खरीदेंगी। दोनों ही मंडियों में किसानों को कम रेट में फसल बेचने को मजबूत होना पड़ेगा।
*खिड़की से समस्याओं का समाधान करना ढकोसला था, खिड़की बंद पड़ी : चौटाला*
इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला ने सीएम विंडो को लेकर कहा कि लोगों की समस्या का समाधान करने के लिए जो खिड़की खोली थी, वह बंद पड़ी हुई है। यह केवल ढकोसला था और लोगों को गुमराह करने के लिए किया था। आज गांवों में पेयजल समस्या है। सड़कों की मरम्मत नहीं हो रही। किसानों की फसल एमएसपी पर खरीदी जा रही है। बस में सवार चौटाला ने शामड़ी, मुंडलाना, सिरसाढ़ का दौरा किया।

*उपचुनाव न होता तो विपक्षी नेता करते कृषि कानूनों का समर्थन: अरविंद*

भाजपा सांसद डॉ.अरविंद शर्मा ने कांग्रेस के पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा पर बरोदा हलका के साथ भेदभाव और विश्वासघात करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि हुड्‌डा बरोदा हलके को अपना घर बताता है, लेकिन जब विकास करने की बात आई तो रोहतक ही याद रहा। सांसद डॉ. शर्मा ने कृषि कानूनों का विरोध किसान नहीं, बल्कि विपक्षी पार्टियों के कार्यकर्ता कर रहे हैं। यदि उपचुनाव नहीं होता तो सभी विपक्षी पार्टियों के नेता कानूनों का समर्थन करते। पीएम नरेंद्र मोदी ने तीनों कृषि कानून किसानों की आय बढ़ाने के लागू किए हैं, लेकिन विपक्ष इस पर भी राजनीति कर रहा है। सांसद ने कहा कि भाजपा बरोदा हलके का विकास करा रही है तो विपक्ष इसे चुनावी स्टंट बता रहा है। जब विपक्षी पार्टियां सत्ता में थी, तब हलके का विकास नहीं कराया, अब भाजपा करा रही है तो उसे भी नहीं कराने दे रही। कांग्रेस और इनेलो नेता इन्हें चुनावी घोषणाएं बता रहे हैं।

Monday, October 19, 2020

October 19, 2020

दलेल कुंडू बने इनेलो के जिला प्रेसपर्वकता

दलेल कुंडू बने इनेलो के जिला प्रेसपर्वकता 

जींद : ( संजय तिरँगाधारी )  इंडियन नेशनल लोकदल पार्टी के सुप्रीमो चौधरी ओमप्रकाश चौटाला, प्रधान महासचिव चौधरी अभय सिंह चौटाला व् पार्टी प्रदेश अध्यक्ष चौधरी नफे सिंह राठी जी से विचार विमर्श करके जिला प्रधान रामफल कुंडू जी ने दलेल कुंडू को अपनी जींद कार्यकारिणी में जिला इनेलो  प्रेस पर्वक्ता जींद नियुक्त किया है।  अपनी इस नियुक्ति पर दलेल कुंडू ने कहा कि पार्टी ने जो जिम्मेवारी दी है उस पर वे पार्टी की नीतियों का अनुसरण करेंगे व् पार्टी को और अधिक मजबूत करेंगे। उन्होंने चौधरी ओमप्रकाश चौटाला , प्रधान महासचिव चौधरी अभय सिंह चौटाला व् पार्टी प्रदेश अध्यक्ष व् जिला प्रधान रामफल कुंडू जी का आभार व्यक्त किया।

Sunday, October 18, 2020

October 18, 2020

बरोदा उपचुनाव:नरवाल गोत्र से दो प्रत्याशी मैदान में होने से रोचक हुआ मुकाबला, तीनों मुख्य दलों ने तेज किया प्रचार

बरोदा उपचुनाव:नरवाल गोत्र से दो प्रत्याशी मैदान में होने से रोचक हुआ मुकाबला, तीनों मुख्य दलों ने तेज किया प्रचार

गोहाना : बरोदा उपचुनाव के लिए जमा हुए 24 नामांकन पत्र की जांच की गई। निर्दलीय चुनाव मैदान में उतरने के लिए नामांकन पत्र जमा करने वाले पिता-पुत्र के नामांकन पत्र रद्द कर दिए गए। पुत्र की आयु 25 साल से कम थी तो पिता के नामांकन में सत्यापित मतदाता सूची और नियमानुसार शपथ संग्लन नहीं था। कांग्रेस प्रत्याशी इंदुराज नरवाल का नामांकन सही मिलने पर कवरिंग के तौर पर पत्नी द्वारा भरा गया नामांकन भी रद्द कर दिया गया है।
अब 17 प्रत्याशी ही चुनाव मैदान में रह गए हैं। कोई भी प्रत्याशी 19 अक्टूबर को दोपहर बाद तीन बजे तक नामांकन पत्र वापस ले सकता है। बरोदा उपचुनाव मैदान में उतरने के लिए 21 प्रत्याशियों ने 24 आवेदन जमा कराएं थे। इनमें से भाजपा प्रत्याशी योगेश्वरदत्त, कांग्रेस प्रत्याशी इंदुराज नरवाल और निर्दलीय प्रत्याशी दीक्षित खत्री ने दो-दो नामांकन पत्र जमा कराए गए थे। बरोदा निर्वाचन अधिकारी आशीष वशिष्ठ ने कहा कि नामांकन पत्र जमा कराने के अंतिम दिन तक 21 प्रत्याशियों ने 24 नामांकन पत्र जमा कराएं थे। जांच करने के बाद सात नामांकन पत्र को रद्द कर दिया गया है। 17 प्रत्याशियों के नामांकन पत्र ठीक मिले हैं। 19 अक्टूबर को दोपहर बाद तीन बजे तक कोई भी प्रत्याशी नामांकन पत्र वापस ले सकता है। इसके बाद चुनाव चिन्ह अलॉट कर दिया जाएगा।

सिर्फ कागजों में घोषणाएं करती थी कांग्रेस: दलाल

कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि भाजपा ने कागजों में घोषणाएं नहीं की हैं, जो की हैं, उनके टेंडर लगाकर कार्य शुरू कराए हैं। युवाओं को रोजगार देने के लिए आईएमटी विकसित की जाएगी। वहीं, कांग्रेस सरकार द्वारा कागजों में घोषणा करके जनता को गुमराह किया जाता था। चाहे फसल खराब होने पर मुआवजा राशि बढ़ाने की बात हो या फिर लाठ-जौली में रेलकोच फैक्ट्री लगाने की।
कृषि मंत्री दलाल शनिवार को भाजपा कार्यालय में प्रत्याशी योगेश्वर दत्त के साथ संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे। योगेश्वर ने कहा कि भाजपा ने बरोदा हलके के विकास के लिए जो कार्य शुरू कराएं हैं, विकास की यह गति अगले चार साल तक निरंतर बनी रहेगी। हम यहां राजनीति करने नहीं आए हैं, क्योंकि एक सीट न तो सरकार पलटने वाली है और न विपक्षी पार्टी की सरकार बनने वाली है। हम यहां विकास के लिए आए हैं।

बरोदा का परिणाम चंडीगढ़ में कुर्सी हिलाएगा: दीपेंद्र

राज्यसभा सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि कांग्रेस उपचुनाव में भाजपा सरकार की नाकामी, 6 साल बरोदा की अनदेखी, प्रदेश के भविष्य और सरकार के खिलाफ जनमत का मुद्दा लेकर जनता के बीच जाएगी। कांग्रेस ने आम परिवार के बेटे इंदुराज नरवाल को प्रत्याशी बनाया है। बरोदा उपचुनाव का परिणाम सिर्फ हलके तक सीमित नहीं रहेगा, बल्कि चंडीगढ़ की कुर्सी को हिलाने का काम करेगा। इसीलिए भाजपा ने आम परिवार के एक बेटे से मुकाबला करने के लिए करीब 100 स्टार प्रचारकों, दूसरे राज्यों के नेताओं और पूरी सरकार को बरोदा में उतार दिया है। बरोदा की जनता पहले ही भाजपा सरकार को सबक सिखाने का मन बना चुकी है। सरकार को लेकर इतना अधिक रोष है कि सत्ताधारी नेताओं को जनता के बीच में जाने के लिए भी पुलिस बल का सहारा लेना पड़ रहा है।

Saturday, October 17, 2020

October 17, 2020

हरियाणा से बड़ी खबर कर्मचारियों की बॉडी पर लगेंगे कैमरे सरकार का बड़ा ऐलान

हरियाणा से बड़ी खबर कर्मचारियों की बॉडी पर लगेंगे कैमरे सरकार का बड़ा ऐलान

चंडीगढ़ : हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने जनता को नवरात्रों की बधाई देने के साथ ही कुछ बड़े ऐलान किये जिसमे उन्होंने बताया की परिवहन विभाग के आरटीए दफ्तर में सुधार की योजना बनाई गयी है । जिसमे आरटीए की रेड टीम के अधिकारियों व् कर्मचारियों के शरीर पर अब बॉडी कैमरे लगेंगे ताकि सारी बात की रिकॉर्डिंग की जा सके और किसी तरह का घपलेबाजी न हो सके । 
हरियाणा के परिवहन विभाग में बढ़ते करप्शन पर अंकुश लगाने के लिए मनोहर सरकार ने बड़े कदम उठाते हुए आर टी ए का नाम बदलकर डी टी ओ कर दिया गया है जिसमे अब क्लास वन अधिकारी को जिम्मेवारी दी गयी है जिसके तहत 22 लोगों की नियुक्ति आज हो जाने का ऐलान किया गया है । दूसरी ओर सेक्रेटरी आरटीए के लिए अब जिले का एक अलग से अधिकारी इस पद को संभालेगा किसी को भी अब एडिशनल चार्ज नहीं दिया जाएगा ।
इस फेर बदल के पीछे का मुख्य कारण बिचौलियों को खत्म करना है। जिसपर करवाई करते हुए बिचौलियों की एक सूची तैयार तैयार कर ली गयी है । जो कुछ समय में अधिकारियों को दे दी जाएगी ताकि इनकी अप्रोच दफ्तर में न हो पाए और इनकी सूची अगर दफ्तरों के बाहर भी लगानी पड़े तो अवश्य लगाई जाएगी ।
सूचियों का विवरण देते हुए मुख्यमंत्री ने 250 लोग जो बिचौलियों का काम करते है उनपर डंडा चलने की बात कही है । कई व्हाट्सएप ग्रुपों का भी जिक्र किया जिनमे ट्रांसपोर्टर, बिचौलिए, दफ्तर के कर्मचारी शामिल हैं जो रेड्स की जानकारी साझा कर देते है उनपर भी करवाई करने की बात कही है ।  इसके साथ ही 150 करोड़ रूपये से 6 सेंटर प्रदेश के अलग अलग इलाकों में बनाए जायेंगे जिनके माध्यम से इलेक्ट्रॉनिकली गाड़ियों को फिटनेस सर्टिफिकेट दिया जाएगा ।
भविष्य में ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने वालों के लिए बड़े बदलाव देखने को मिलेंगे जिसमे ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक बनाये जाएंगे ताकि लाइसेंस सही तरीके से मिले। ओवरलोड गाड़ियों के लिए भी नया नियम बनाया जायेगा जैसे पहले कहीं भी धर्मकांटे पर वजन करा लिया जाता था अब ऑटमैटिक पोर्टेबल स्केल सड़क पर रख दिया जाएगा जिससे वाहन का एक्चुअल भार निकल जाया करेगा और इस बात का वाहन चालक को पता भी नहीं चलेगा । हरियाणा में फ़िलहाल 45 स्केल खरीद लिए गए हैं ।
माइनिंग की बड़ी वारदातों पर अंकुश लगाने के लिए माइनिंग का ई रवना सॉफ्टवेयर और वाहन सॉफ्टवेयर का इंटीग्रेशन कर दिया जाएगा ताकि जितना भार वाहन ले के चलेगा वही आंकड़ा आगे मिल सकेगा । वहीँ सरकार की ओर से वाहन धारकों के लिए वाहनों की पार्किंग की जिम्मेदारी अब डीटीओ की होगी । हरियाणा में सवा लाख कमर्शियल वाहन हैं उनकी जिम्मेदारी विभाग की है । उनकी शिकायतों को निपटाने के लिए एक डेडिकेटेड हेल्प लाइन दी जाएगी।
October 17, 2020

हरियाणा मंत्रीसमूह की बैठक, विधवा महिला व अविवाहिता को मिलेगी ऑनलाइन तबादला नीति में छूट

हरियाणा मंत्रीसमूह की बैठक, विधवा महिला व अविवाहिता को मिलेगी ऑनलाइन तबादला नीति में छूट

चंडीगढ़ : शुक्रवार को हरियाणा सचिवालय में देर शाम को मंत्रीसमूह की अहम बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक के बाद में खुद मुख्यमंत्री ने इसमें लिए गए फैसलों की जानकारी दी। राज्य के एकमात्र आनलाइन तबादले वाले विभाग की आनलाइन तबादला नीति में थोड़ा बदलाव कर दिया गया है।
जिसके तहत विधवा महिला और अविवाहित को तरजीह मिलेगी। मंत्री समूह ने अन्य भी कईं विभागों से संबंधित फैसले लिए हैं, जिसमें दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम द्वारा सात सौ करोड़ का ऋण लिया गया है, इसकी गारंटी राज्य सरकार की ओर से दी गई है।
हरियाणा सचिवालय में मंत्रीसमूह की मीटिंग के बाद में सीएम ने ने बताया कि राज्य में वाटर ऑथिरिटी को स्वीकृति प्रदान कर दी गई है, जिसके तहत अलग से स्टेट वाटर अथॉरिटी का गठन किया जाएगा। इसके पहले तक पहले सेंट्रल वाटर अथॉरिटी के फैसले ही माने जाते थे। अब से पहले 8 राज्यों की ओर से अथॉरिर्टी का गठन कर लिया गया है।

मंत्री समूह में यह भी फैसला लिया गया कि यूटी (चंडीगढ़) की ओऱ से जो भी सीटीयू चलेंगी उन पर किसी भी तरह का कोई टैक्स नहीं वसूला जाएगा। इन बसों के संचालन से पंचकूला शहर और आसपास के आम लोगों, बुजुर्गों विद्यार्थियों को लाभ मिलेगा। मीटिंग के दौरान हरियाणा बिजली वितरण निगम की रिपोर्ट पेश की गई। अहम स्कीम उदय को लेकर कुछ शर्तें लगाई गईं थी, जिसमें बदलाव कर कमी की है।
8 हजार 670 करोड़ की बचत पिछले पांच वर्षों में हुई है। इस दौरान बताया गया कि 4525 गांवों में म्हारा गावं जगमग गांव स्कीम के तहत 24 घंटे बिजली की आपूर्ति की जा रही है। दक्षिणी हरियाणा बिजली वितरण निगम की ओऱ से सात सौ करोड़ का ऋण लिया गया है औऱ राज्य सरकार ने इसके लिए गारंटी दी गई है।

रोहतक में मेगा फूड प्रोजेक्ट को लेकर 55 करोड़ कर्ज को लेकर भी गारंटी दी गई है। राज्य सरकार के एकमात्र शिक्षा विभाग में तबादला नीति लागू हुई है, बाकी विभागों में फिलहाल लागू नहीं हो सकी है। लेकिन आनलाइन तबादला नीति में संशोधन किया गया है। जिसके तहत अविवाहित और विधवा शिक्षकों को प्राथमिकता दी जाएगी।

हाउसिंग बोर्ड का काम हुआ व्यापक, अब हाउसिंग फार आल

हाउसिंग बोर्ड के नाम में परिवर्तन कर दिया गया है। पीएम के ड्रीम प्रोजेक्ट को ध्यान में रखते हुए हाउसिंग फार आल नाम देते हुए इसका काम भी व्यापक कर दिया गया है। पूर्व में इसका काम बेहद ही छोटे दायरे तक सीमित था लेकिन अब हाउसिंग से सभी योजनाएं शामिल कर ली जाएंगी। एमएसएमई को ज्यादा मजबूत करने के लिए इस काम को तीन जगह वांट दिया गया है। बरौदा में जनता कॉलेज बुटाना को यूनिवर्सटी बनाए जाने के फैसले को आचार सहिंता लागू होने औऱ उपचुनाव होने के कारण आगे विचार के लिए लंबित रख लिया गया है।

विधानसभा का सत्र दोबारा बुलाने पर भी मुहर

कोविड के कारण विधानसभा सत्र की पिछली बार स्थगित हुई कार्रवाई को दोबारा चलाने को लेकर भी फैसला लिया गया है। इस तरह से नवंबर प्रथम सप्ताह में सत्र को दोबारा से संचालित किया जाएगा। इस संबंध में विधानसभा अध्य़क्ष से एक बार फिर पिछले सत्र को दोबारा से चलाने के लिए सिफारिश की जाएगी। अब एक बार फिर से स्पीकर से चर्चा के बाद सत्र को दोबारा शुरू करने और तारीख निश्चित कर दी जाएगी। बतााया जा रहा है कि 3 नवंबर या 10 नवम्बर के बाद सत्र की कार्रवाई दोबारा शुरू हो सकती है।

75 फीसदी आरक्षण मामला

राज्य में निजी क्षेत्र में हरियाणा के युवा वर्ग को 75 फीसदी आरक्षण मामले में भी अध्यादेश को वापस लेने के लिए राज्यपाल से अपील की गई है। एक बार फिर से इस मुद्दे पर विधानसभा में बिल लाया जाएगा। जिसके लिए तैयारी की जा रही है। यहां पर याद दिला दें कि जजपा द्वारा इस तरह का वायदा युवा वर्ग से किया गया था लेकिन राज्यपाल ने इस पर अपनी मुहर नहीं लगाई साथ ही देश के राष्ट्रपति के पास में भेज दिया था। कुल मिलाकर अभी मामला ठंडे बस्ते में है।
October 17, 2020

बरोदा उपचुनाव:कांग्रेस में बरोदा के टिकट के लिए रातभर ड्रामा, दिन में बिना घोषणा के ही सीधे कराया नामांकन

बरोदा उपचुनाव:कांग्रेस में बरोदा के टिकट के लिए रातभर ड्रामा, दिन में बिना घोषणा के ही सीधे कराया नामांकन

गोहाना : बरोदा उपचुनाव के लिए भाजपा ने जहां गुरुवार देर रात उम्मीदवार खिलाड़ी योगेश्वर दत्त की घोषणा कर दी थी। वहीं, कांग्रेस में टिकट को लेकर रातभर ड्रामा चलता रहा। रात भर नए-नए नाम सामने आते रहे। पार्टी में गुटबाजी के कारण कोई नाम फाइनल नहीं हो रहा था। भूपेन्द्र हुड्डा शुरू से कपूर नरवाल के नाम को फाइनल करवाने के लिए जोर लगाए रहा थे, लेकिन प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा अड़ी थी कि पार्टी के बाहर से किसी आदमी को टिकट न दी जाए।
अंत में प्रदेश प्रभारी विवेक बंसल ने हुड्डा और शैलजा में बीच-बचाव कराया। उन्होंने तय किया कि जिसे टिकट मिलेगी वो पार्टी का ही कार्यकर्ता होगा, लेकिन बरोदा हुड्डा का गढ़ है, इसलिए उनकी पसंद का होगा। ऐसे में रात 2 बजे के बाद भूपेंद्र हुड्डा की नजदीकी इंदुराज नरवाल का नाम फाइनल कर हाईकमान को दिया गया, लेकिन पार्टी की तरफ से कोई घोषणा नहीं की गई। सीधे इंदुराज को कहा गया कि आप नामांकन की तैयारी करें। इसके बाद दिन में सीधे दिल्ली से आकर भूपेन्द्र हुड्डा, दीपेंद्र और कुमारी शैलजा ने उनका आवेदन जमा कराया।
टिकट कटने से नाराज कपूर ने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर पर्चा भरा, समर्थन में पहुंचे विधायक कुंडू के खिलाफ नारेबाजी
कृषि कानून के बाद डॉ. कपूर नरवाल भाजपा से दूरी बनाए थे, लेकिन भाजपा को नहीं छोड़ा था। इस बीच हुड्डा के साथ 4 मीटिंग कर चुके थे। उनका नाम तय माना जा रहा था, लेकिन अंतिम क्षणों में कट गया। इससे नाराज डॉ. नरवाल ने निर्दलीय पर्चा भरा है। उनके नामांकन में आए विधायक बलराज कुंडू के खिलाफ कांग्रेस समर्थकों ने नारेबाजी कर दी। उनका आरोप है कि विधायक ने पंचायती उम्मीदवार को लड़ाने की बात कही थी। अब डॉ. नरवाल को लड़वा रहे हैं। विधायक को अपनी बात पर रहना चाहिए था। कूपर ने कहा कि कांग्रेस की गुटबाजी ने उसे बलि का बकरा बनाया है।

हुड्डा ने मेरी मदद की : कपूर

डॉ. कपूर ने कहा कि कृषि बिलों के कारण भाजपा से जाने का मन बना लिया था। मेरी कांग्रेस के पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा के साथ मीटिंगें भी हुईं। उन्होंने मेरी मदद भी की, लेकिन कांग्रेस में ऊपरी स्तर पर गुटबाजी है। मुझे मोहरा बनाया गया है।

पार्टी कार्यकर्ता को उतारा: शैलजा

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी शैलजा ने कहा कि बरोदा उपचुनाव के लिए प्रत्याशी के नाम पर चर्चा देर रात तक होती रही। पार्टी कार्यकर्ता को ही चुनाव मैदान में उतारना चाहती थी, जिसके कारण देरी हुई। कपूर नरवाल के आरोप गलत हैं और वो तो हमारी पार्टी के कार्यकर्ता ही नहीं हैं।
October 17, 2020

मनोहर कैबिनेट की अहम फैसले:निजी क्षेत्र में 75% स्थानीय को नौकरी का ऑर्डिनेंस वापस होगा, सरकार विधानसभा में लाएगी बिल, स्थानांतरण नीति में संशोधन को भी मंजूरी

मनोहर कैबिनेट की अहम फैसले:निजी क्षेत्र में 75% स्थानीय को नौकरी का ऑर्डिनेंस वापस होगा, सरकार विधानसभा में लाएगी बिल, स्थानांतरण नीति में संशोधन को भी मंजूरी

चंडीगढ़ : हरियाणा सरकार प्राइवेट नौकरियों में स्थानीय को 75% आरक्षण के अपने ऑर्डिनेंस को वापस लेगी। सरकार अब इसके लिए विधानसभा में बिल लेकर आएगी। सत्र 3 नवंबर के बाद कभी भी बुलाया जा सकता है। मनोहर कैबिनेट की जुलाई में हुई मीटिंग में नौकरियों में आरक्षण को लेकर ऑर्डिनेंस लाया गया था। इसे राज्यपाल के पास भी भेजा। लेकिन ऑर्डिनेंस की प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ पाई।
ऐसे में शुक्रवार को सीएम मनोहर लाल की अध्यक्षता में कैबिनेट मीटिंग में ऑर्डिनेंस वापस लेने का फैसला लिया गया। इसके अलावा शिक्षा विभाग में शिक्षकों की ऑन लाइन ट्रांसफर पॉलिसी में बदलाव किया गया। जिसमें 40 साल से अधिक उम्र की विधवा, तलाकशुदा अविवाहिता, सैनिकों और अर्द्ध सैनिकों की पत्नियों को तबादला नीति में 10 अंक अलग से देने का प्रावधान किया है। इसके अलावा पानी से संबंधित फैसले लेने के लिए वाटर अथॉरिटी बनाने का फैसला लिया गया है।

ट्रांसफर पॉलिसी में ऐसे लागू होगा 10 अंकों का संशोधन

कैबिनेट ने स्कूल शिक्षा विभाग हरियाणा के लिए अध्यापक स्थानांतरण नीति में संशोधन को मंजूरी दी है। ट्रांसफर ड्राइव के बाद, नवविवाहिता, तलाकशुदा महिला कर्मचारियों को अनुरोध पर खाली पदों पर पंसदीदा स्थान दिया जाएगा। हालांकि, उन्हें अगले स्थानांतरण अभियान में भाग लेना होगा और उन्हें उस समय उपलब्ध रिक्त पदों के विरुद्ध उनके तीन विकल्पों में से किसी एक में समायोजित किया जाएगा।
संशोधन के अनुसार 40 वर्ष से अधिक आयु की विधवा, तलाकशुदा, अविवाहित महिला शिक्षक, राज्य के बाहर काम करने वाले सेवारत सैनिक और अर्धसैनिक बलों के शिक्षक पति या पत्नी को मौका मिलेगा। इस कैटेगिरी शिक्षकों को ट्रांसफर में 10 अंक दिए जाएंगे। कैंसर मरीजों और कमजोर करने वाले रोगों के लिए एम्स (हरियाणा में इसकी शाखाओं समेत), पीजीआई रोहतक, पीजीआई खानपुर कलां, कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज करनाल, पीजीआई चंडीगढ़ या विधिवत रूप से गठित मेडिकल बोर्ड द्वारा जारी प्रमाण पत्र ही वैध होगा। मेवात काडर को छोड़कर बाकि हरियाणा के अध्यापक मेवात जिले में भी अपनी पोस्टिंग चुनने के लिए स्वतंत्र होंगे।
October 17, 2020

भाजपा नेता बोले- उपचुनाव में रिकॉर्ड मतों से जीतेंगे बरोदा हलके की तस्वीर बदल दूंगा- योगेश्वर दत्त

भाजपा नेता बोले-उपचुनाव में रिकॉर्ड मतों से जीतेंगे,बरोदा हलके की तस्वीर बदल दूंगा- योगेश्वर दत्त 

भाजपा प्रत्याशी योगेश्वर दत्त ने नामांकन पत्र भरा

गोहाना : भारतीय जनता पार्टी के बरोदा विधानसभा उपचुनाव में प्रत्याशी योगेश्वर दत्त ने आज अपना नामांकन पत्र भरा। इससे पूर्व भाजपा के बरोदा रोड स्थित कार्यालय में कार्यकर्ताओं की भारी जनसमूह ने पार्टी प्रत्याशी योगेश्वर दत्त का स्वागत किया। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान से लेकर पार्टी प्रदेश अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने कार्यकर्ताओं के जनसमूह को चार्ज करते हुए आह्वान किया कि हमें इस उपचुनाव में इतिहास रचते हुए रिकॉर्ड मतों से जीत हासिल करनी है। मंच पर भाजपा के बरोदा प्रत्याशी पहलवान योगेश्वर दत्त,केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान,प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़,करनाल से सांसद संजय भाटिया,कृषि मंत्री जेपी दलाल, जिला अध्यक्ष मोहनलाल बडोली, रामविलास शर्मा, राज्यसभा सांसद रामचंद्र जांगड़ा, दादा बलजीत मलिक, सांसद धर्मवीर, कृष्ण लाल पंवार,विधायक कमलेश ढांडा,कैलाशो सैनी पूर्व सांसद कुरुक्षेत्र, पूर्व विधायक कविता जैन,गोहाना नगर परिषद की चेयरमैन रजनी विरमानी, डॉ बनवारी लाल व विधायक डॉ कृष्ण लाल के साथ-साथ भाजपा के कई वरिष्ठ नेता मंच पर मौजूद रहे।

केंद्रीय मंत्री बालियान ने दिया योगेश्वर दत्त को आशीर्वाद

केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने कहा कि मैं केवल और केवल पहलवान योगेश्वर दत्त को आशीर्वाद देने यहां आया हूं।अगर आलाकमान आज बरोदा के प्रत्याशी के रूप में पहलवान को टिकट नहीं देती,शायद मैं आज यहां नहीं आता। पहलवान योगेश्वर ने हमारे देश का नाम देश के साथ-साथ विदेशों में भी ऊंचा किया है। देश में कुश्ती को अगर किसी ने जिंदा किया है तो वह केवल और केवल योगेश्वर दत्त हैं। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों की झूठी चौधर के चक्कर में बरोदा हल्का विकास से अछूता रहा है। ओलंपिक पदक जीतकर देश का नाम रोशन करने वाले खिलाड़ी,युवा और ईमानदार योगेश्वर दत्त को बरोदा की महान जनता ने जाती-पाती के भेद से ऊपर उठकर अपना लिया है। पहलवान की अपनी कोई जाति नहीं होती,36 बिरादरी का घी पी पीकर,योगेश्वर पहलवान बने हैं। मैं बरोदा की जनता से आह्वान करूंगा कि वह कमल के निशान वाला बटन दबाकर पहलवान योगेश्वर दत्त को विजयी बनाएं।

कांग्रेस की राजनीति झूठ के सहारे- ओमप्रकाश धनखड़

नामांकन कार्यक्रम में पहुंचे प्रदेश अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने मंच पर खड़े होकर कहा की एक खिलाड़ी अपने दम पर देश का नाम पूरे विश्व में करवा सकता तो फिर अपने हलके के लिए विकास कार्य भी करवा सकता है।पहलवान ने हल्के की सेवा के लिए डीएसपी के पद से इस्तीफा दे दिया तो आप लोगों ने भी उसको सेवा का एक मौका देना चाहिए। आज कांग्रेस की राजनीति झूठ के सहारे चल रही है। झूठ के सहारे किसानों में भ्रम फैलाकर अपनी राजनीति को वह जिंदा रखे हुए है। लेकिन,सच यह है कि कांग्रेस का झूठ नहीं बिकेगा । आज कांग्रेस में केवल विचार बदलू लोग बचे हुए हैं। कांग्रेस ने अपने ही घोषणापत्र और अपनी ही बनाई रिपोर्टों को दरकिनार कर केवल विरोध के नाम पर विरोध करना शुरू कर दिया है।उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपने चुनाव घोषणापत्र में वादा किया था कि पार्टी सत्ता में आने पर कृषि उपज मंडी समितियों के कानून में संशोधन करेगी। इसके साथ कृषि उपज के निर्यात और दूसरे राज्यों में व्यापार पर लगे सभी प्रतिबंधो को  समाप्त किया जाएगा,पर जब आज ये काम हो रहे हैं तो इनका विरोध कर रही है। कांग्रेस द्वारा एक माहौल बनाया जा रहा है कि मंडियां बंद हो जाएंगी, एमएसपी को खत्म कर देंगे, किसान की जमीन को बड़े बड़े कारपोरेट घरानों को बेच देंगे।जबकि, ऐसा कुछ नहीं होना है। मंडियां पहले की तरह रहेंगी, फसलों का एमएसपी पहले की तरह ही मिलेगा। किसानों को गुमराह होने की जरूरत नहीं, वे कांग्रेस के भ्रम में ना आएं। उन्होंने कहा कि किसानों को पीछे रखना कांग्रेस की फितरत है। कांग्रेस कभी नहीं चाहती कि देश का किसान भी खुशहाल हो समृद्ध हो। और अंत में कहा कि वक्त के हिसाब से बदलाव भी जरूरी है इसलिए बरोदा में बदलाव आप ही ला सकते हैं।

विकास के लिए चुनाव लड़ रहा हूं- योगेश्वर दत्त

नामांकन भर लोगों के बीच आशीर्वाद लेने  पहुंचे योगेश्वर दत्त ने कहा,मैं केवल आप लोगों के विकास के लिए चुनाव लड़ रहा हूं। मेरा केवल एक ही मकसद है कि बरोदा हलके का विकास करवाना। मैं आप लोगों से केवल 4 साल मांगने आया हूं। अगर मैं आपको दिए हुए वादों पर खरा नहीं उतरता हूं तो आप मुझे दोबारा मौका मत देना। मैंने अपना डीएसपी का पद केवल और केवल आप लोगों की सेवा करने के लिए ही त्यागा है। अब अगर आप अपना आशीर्वाद मुझ दोगे तो मैं बरोदा हलके की तस्वीर बदल दूंगा।

राज में हिस्सा करना सीख लो तभी तुम्हारा विकास संभव

डॉ केसी बांगड़ ने मंच से भाजपा और जजपा के गठबंधन को इस उपचुनाव के लिए काफी अहम बताया। बांगड़ ने कहा कि हमारा गठबंधन तो भाजपा से काफी पुराना है। दुष्यंत चौटाला ने तो केवल रीत को आगे बढ़ाया है। दुष्यंत चौटाला से पहले अजय चौटाला,चौधरी ओमप्रकाश चौटाला सभी ने गठबंधन से सरकार बनाई है। इस उपचुनाव को गठबंधन लड़ेगा और भाजपा के चुनाव चिन्ह पर लड़ा जाएगा। डॉक्टर बांगड़ ने कहा कि बिना किसी के बहकावे में आए गठबंधन के उम्मीदवारों को ज्यादा से ज्यादा वोट देकर विजयी बनाएं। जाते-जाते उन्होंने एक काफी महत्वपूर्ण बात कह डाली। उन्होंने छोटूराम की उन पंक्तियों का जिक्र किया जो आज के समय बरोदावासियों के लिए काफी महत्वपूर्ण है। बांगड़ ने कहा कि चौधरी छोटूराम हमेशा से एक बात कहते थे की प्रदेशवासियों "राज में हिस्सा करना सीख लो तभी तुम्हारा विकास संभव है"।

योगेश्वर को आप भी एक मौका दें- रामबिलास शर्मा

पहलवान योगेश्वर दत्त को टिकट मिलने पर आशीर्वाद देने आए रामविलास शर्मा ने कहा कि आज आप लोगों का प्यार देखकर ऐसा लग रहा है,जैसे योगेश्वर कोई मेडल ले आया हो। गठबंधन के प्रत्याशी पहलवान योगेश्वर दत्त को टिकट मिलने पर रामविलास शर्मा ने कहां कि जब योगेश्वर दत्त कुश्ती जीत के आता था तो गांव के और आसपास के जमीदार इनाम में दूध,घी व दही दे देते थे यह उस दूध,घी और दही का ही परिणाम है कि योगेश्वर पहलवान खेल में नाम चमकाने के बाद अब राजनीति में अपना नाम चमकाने जा रहा है। योगेश्वर दत्त ने जनता की सेवा के लिए अपने डीएसपी पद से भी इस्तीफा दे दिया था ताकि वह आप लोगों के बीच में रहकर आप की सेवा कर सके। अब आप का भी फर्ज बनता है कि आप भी उन्हें एक मौका दें ताकि वह बरोदा की तस्वीर बदलने में कामयाब हो।

Friday, October 16, 2020

October 16, 2020

जेजेपी विधायक जोगी राम ने चेयरमैन का पद अस्वीकार किया

जेजेपी विधायक जोगी राम ने चेयरमैन का पद अस्वीकार किया

हिसार :  बरवाला से विधायक जोगीराम सिहाग ने सरकार द्वारा बनाए गए चेयरमैन पद ग्रहण करने से इन्कार कर दिया है। तीन विधेयक को लेकर उन्हाेंने कहा विधेयक सही नहीं है तो कैसे सरकारी पद ग्रहण करू। जब तक तीन अध्यादेशों को ठीक नहीं किया जाता तब तक कोई सरकारी पद का लाभ नहीं लेंगे। 
उन्होंने तीनों अध्यादेशों को किसान विरोधी बताया है। इस दौरान उन्होंने कहा अगर बरवाला की जनता कहेंगी तो इस्तीफा देने को भी तैयार हैं। उन्होंने कहा डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला से मेरी रात को बात हुई थी और मैंने उनका आभार जताते हुए जिम्मेदारी लेने से मना कर दिया और कहा कि आपने गलत समय में जिम्मेदारी दे दी जो मुझे स्वीकार नहीं है। उन्होंने ने कहा अगर बरोदा चुनाव के लिए अगर ड्यूटी लगाई गई तो प्रचार के लिए जाऊंगा। 

विधायक सिहाग को जेजेपी कोटे से चेयरमैन बनाया गया था। सिहाग की नियुक्त की बड़ी वजह सरकार के खिलाफ उनकी नाराजगी को कम करना था। सिहाग की नाराजगी को देखते उपमुख्यमंत्री एवं जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला व भाजपा सरकार पर लगातार दबाव बढ़ रहा है। 
सिहाग का राजनीतिक सफरनामा
जोगीराम सिहाग की पहचान समाजसेवी के रूप में थी। सिहाग समाजसेवा के साथ-साथ राजनीति में भी उतरने की इच्छा थी। इसे देखते राजनीति में भी दो-दो हाथ करने के मकसद से वर्ष 2000 में जोगीराम सिहाग ने नगर पार्षद का चुनाव लड़ा और वे पार्षद निर्वाचित हुए। वर्ष 2005 में घिराय विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ा और कांग्रेस के प्रत्याशी पूर्व मंत्री प्रो. छत्रपाल को कड़ी टक्कर दी, लेकिन सिहाग चुनाव हार गए। वर्ष 2009 में सिहाग ने परिसीमन के बाद घिराय हलका टूटने पर बरवाला हलके को अपना चुनाव क्षेत्र बनाया। बरवाला से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर ही चुनाव लड़ा और 11500 वोट प्राप्त किए। बाद में उन्होंने भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली। वर्ष 2014 में भाजपा ने सिहाग की बरवाला से टिकट काट दी। इस बात से सिहाग नाराज भी हुए, लेकिन पार्टी नेतृत्व ने किसी तरह इन्हें मना लिया और प्रदेश में पहली बार मनोहर सरकार बनने के बाद जोगीराम सिहाग को हरियाणा राज्य हाऊसिंग कॉपरेटिव फैडरेशन का चेयरमैन बनाया गया। सिहाग वर्ष 2019 में बरवाला से भाजपा की टिकट के प्रबल दावेदार थे, लेकिन पार्टी ने टिकट काट दिया। इससे नाराज सिहाग ने जेजेपी में शामिल होते हुए बरवाला से चुनाव लड़ा और पहली बार विधायक निर्वाचित हुए।
October 16, 2020

बरोदा से कांग्रेस व् इनेलो ने प्रत्याशी घोषित किये, इन नेताओं को बनाया उमीदवार

बरोदा से कांग्रेस व् इनेलो ने प्रत्याशी घोषित किये, इन नेताओं को बनाया उमीदवार

चंडीगढ़ : हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के सांसद सुपुत्र दीपेंद्र हुड्डा अपने खासमखास कार्यकर्ता इंदुराज नरवाल उर्फ भालू को बरोदा से कांग्रेस का टिकट दिलाने में कामयाब हो गए है । ज्ञात रहे अर्थ प्रकाश ने पहले ही बरोदा सीट को लेकर स्पष्ट क्र दिया था की कांग्रेस ने काफी माथापच्ची के बाद बरोदा से इंदुराज नरवाल उर्फ भालू को अपना कैंडिडेट बनाने का फैसला किया है।
आपको इंदुराज नरवाल उर्फ भालू के बारे में बताते चले की ये पूर्व जिला पार्षद हैं और रिंढाणा गांव निवासी हैं। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, प्रदेश अध्यक्ष कुमारी सैलजा समेत अनेक कोंग्रेसी नेता इंदुराज नरवाल का नामांकन दाखिल करने गुहाना पहुंच चुके है । जबकि इनेलो ने बरोदा से जोगिंदर सिंह मालिक को प्रत्याशी घोषित किया है उनका नामांकन दाखिल करने के लिए अभय चौटाला गोहाना पहुंच गए है। दूसरी ओर पता चला है की डॉक्टर कपूर सिंह नरवाल पंचायती उमीदवार के तोर पर पर्चा दाखिल करेंगे । ज्ञात रहे भाजपा पहले ही पूर्व प्रत्याशी योगेश्वर दत्त शर्मा को पुनः प्रत्याशी घोषित कर चुकी है।


फिलहाल इस खबर से जुड़ी जितनी जानकरी हमारे पास थी हमने आप तक पहुंचाई………अगर इस खबर से जुड़ा कोई अपडेट हमें मिलता है तो हम तक जरूर और जल्द से जल्द पहुंचाएंगे…

October 16, 2020

बरोदा उपचुनाव:बरोदा में भाजपा से फिर योगेश्वर लड़ेंगे, गुटबाजी से कांग्रेस के ऐलान में देरी

बरोदा उपचुनाव:बरोदा में भाजपा से फिर योगेश्वर लड़ेंगे, गुटबाजी से कांग्रेस के ऐलान में देरी

चंडीगढ़ :बरोदा उप चुनाव के लिए शुक्रवार को नामांकन का अंतिम दिन है। देर रात भाजपा ने अपने उम्मीदवार की घोषणा कर दी। फिर से पहलवान योगेश्वर दत्त पर पार्टी ने विश्वास जताया है। पार्टी ने दिन में अपने स्टार प्रचारकों का भी ऐलान कर दिया था। लेकिन कांग्रेस में टिकट गुटबाजी के कारण रुकी हुई है। वहीं इनेलो को इंतजार है कि भाजपा और कांग्रेस किसे टिकट देती हैं।
भाजपा से चुनाव लड़ चुके पहलवान योगेश्वर दत्त हलके के लोगों और पहलवानों के साथ सीएम मनोहर लाल से मिले थे और टिकट के लिए बात की। जिस पर सीएम ने उन्हें कहा था कि जाओ और अपनी तैयारी करो। इसलिए दिन में योगेश्वर ने तैयारी पूरी कर ली थी। सुबह 11 बजे गोहाना राजघराना पैलेस में भाजपा कार्यालय में कार्यक्रम है, जहां से वे नामांकन के लिए जाएंगे।
योगेश्वर को टिकट क्यों ?

योगेश्वर भैंसवाल कलां गांव के रहने वाले हैं, जो बरोदा हलके का बड़ा गांव हैं।

2019 में डीएसपी पद से त्यागपत्र देकर यहीं से भाजपा के लिए चुनाव लड़ चुके हैं।

कांग्रेस के श्रीकृष्ण हुड्डा को 42566 व योगेश्वर को 37726 वोट मिले थे।

कांग्रेस में गुटबाजी ऐसी

दिल्ली में कांग्रेस की कई दौर की मीटिंग के बाद भी गुटबाजी चलती रही। भूपेन्द्र हुड्डा की तरफ से कपूर नरवाल का नाम फाइनल है और वो उन्हीं के लिए जोर लगाते रहे।

कांग्रेस में प्रदेश अध्यक्ष सैलजा समेत कई नेता मिलकर स्व. विधायक कृष्ण हुड्डा की पुत्रवधू गायत्री हुड्डा के लिए जोर लगा रहे हैं।

*इनेलो को इंतजार*

इनेलो दिनभर ऐसे नेताओं से संपर्क बनाती रही जिन नेताओं की भाजपा या कांग्रेस से टिकट कट सकती है। सूत्रों के अनुसार पूर्व विधायक कृष्ण हुड्डा के बेटे से भी इनेलो संपर्क बनाए हुए है। वहीं इनेलो ने शुक्रवार सुबह 10 बजे पूर्व विधायक कृष्ण हुड्डा के कार्यालय के पास अपने कार्यालय उद्घाटन का कार्यक्रम रखा है।
October 16, 2020

गठबंधन सरकार के 14 नेता एडजस्ट:भाजपा के 8, जजपा के 5 नेता और एक निर्दलीय को बनाया चेयरमैन; बीजेपी के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष बराला, बबीता समेत आठ को मिले पद

गठबंधन सरकार के 14 नेता एडजस्ट:भाजपा के 8, जजपा के 5 नेता और एक निर्दलीय को बनाया चेयरमैन; बीजेपी के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष बराला, बबीता समेत आठ को मिले पद

चंडीगढ़ : बरोदा उपचुनाव से ठीक पहले भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार ने 14 नेताओं को बोर्ड-निगमों की चेयरमैनी दी है, वहीं एक को वाइस चेयरमैन बनाया गया है। इसमें सबसे ज्यादा विधायकों, चुनाव हारने वालों और टिकट न मिलने वालों को जिम्मेदारी दी गई हैं। चेयरमैन बनने वालों में आठ नेता भाजपा के हैं, जबकि गठबंधन की सहयोगी जजपा के भी 5 नेताओं को जगह मिली है।
चेयरमैन बनने वालों में बड़े नामों की बात करें तो इसमें भाजपा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला और हाल ही में खेल विभाग में डिप्टी डायरेक्टर का पद छोड़ने वाली ओलिंपियन बबीता फौगाट का नाम शामिल है। जजपा लगातार अपने विधायकों को एडजस्ट करने का दबाव भाजपा पर बना रही थी।
डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला और अनूप धानक पहले ही मंत्री हैं। ऐसे में दस में से तीन विधायक बाकी रह गए हैं। इनमें दुष्यंत की मां नैना चौटाला, रामकुमार गौतम और देवेंद्र बबली हैं। वहीं, सरकार को समर्थन देने वाले बादहशाहपुर से निर्दलीय विधायक राकेश दौलताबाद को भी सरकार ने चेयरमैनी दी है। छह निर्दलीय को पद मिल चुके हैं।

जानिए किसके कोटे से किसे क्या और क्याें मिला

भाजपा के इन नेताओं को ओहदा
1. सुभाष बराला : सार्वजनिक उपक्रम ब्यूरो
क्योंकि: भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रहे हैं। सीएम के करीबी हैं। चर्चा यह भी थी कि सीएम उन्हें अध्यक्ष बनवाए रखना चाहते थे।
2. कैलाश भगत : हैफेड
क्योंकि: कैलाश कैथल से हैं। विधानसभा चुनाव के वक्त भाजपा में आए थे, लेकिन लीलाराम को टिकट मिला था।
3. निर्मल बैरागी: पिछड़ा वर्ग कल्याण निगम
क्योंकि: ये सीएम सिटी करनाल से हैं और सीएम से नजदीकी भी हैं। भाजपा की महिला मोर्चा की प्रदेशाध्यक्ष भी हैं।
4. रामनिवास गर्ग : व्यापारी कल्याण बोर्ड
क्योंकि: ये यमुनानगर से हैं। इसी बोर्ड के सदस्य हैं। विधानसभा चुनाव में टिकट के दावेदार थे और टिकट नहीं मिली थी, इसलिए यह जिम्मेदारी दी गई है।
5. अरविंद यादव : हरको बैंक
क्योंकि: ये रेवाड़ी से हैं और भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष रहे हैं। अब प्रदेश अध्यक्ष बदले तो इनकी किस्मत चमक गई।
6. मुकेश गौड़ : हरियाणा युवा आयोग
क्योंकि: भिवानी से हैं और युवा के प्रदेश अध्यक्ष रहे हैं। अभी प्रदेश सचिव हैं। तोशाम से टिकट के दावेदार थे।
7. जगदीश नैय्यर: भूमि सुविधा व विकास निगम
क्योंकि: होडल से विधायक हैं। मंत्रिमंडल का गठन हुआ तब चर्चा में थे, लेकिन नहीं बन पाए थे। इसलिए अब चेयरमैन बनाया है।
8. बबीता फौगाट : महिला विकास निगम
क्योंकि: भाजपा की फायर ब्रांड नेत्री हैं। सोशल मीडिया पर खुलकर पक्ष रखती हैं।
9. धूमन किरमच: सरस्वती हेरिटेज बोर्ड के उपप्रधान
क्योंकि: भाजपा के कुरुक्षेत्र जिला अध्यक्ष रहे हैं। लाेकसभा चुनाव के लिए टिकट चाह रहे थे, नहीं मिली। अब संतुष्ट किए गए।
जेजेपी : विरोध और भारोसे के चलते पांच को मिली चेयरमैनी
1. जोगीराम सिहाग : हाउसिंग बोर्ड हरियाणा
क्योंकि: बरवाला से विधायक हैं। नाराजगी भी जाहिर कर चुके थे। कृषि बिलों को लेकर किसानों के प्रदर्शन में भी समर्थन देने गए थे।
2. रामकरण काला : शुगरफैड
क्योंकि:शाहबाद विधायक हैं। पार्टी के विश्वसनीय नेताओं में से एक हैं।
3. रामनिवास सुरजाखेड़ा : खादी-ग्रामोद्योग
क्योंकि:नरवाना से विधायक हैं। कर्मचारी नेता भी रहे हैं। जींद पर पार्टी का फोकस रहता है, इसलिए जिम्मेदारी मिलनी तय थी।
4. रणधीर सिंह : हरियाणा डेयरी विकास संघ
क्योंकि: गुहला-चीका से विधायक डॉ. ईश्वर सिंह के बेटे हैं। ईश्वर विधायक दल के उपनेता हैं।
5. पवन खरखौदा: अनु. जाति वित्त विकास निगम
क्योंकि: 2019 में जेजेपी टिकट पर खरखौदा से चुनाव लड़े थे लेकिन हार गए थे और पार्टी के विश्वसनीय नेता हैं।

Thursday, October 15, 2020

October 15, 2020

बरोदा उपचुनाव:भाजपा-कांग्रेस के दो-दो नाम फाइनल, अपनों को छोड़ बाहरी नेताओं को दे सकते हैं टिकट

बरोदा उपचुनाव:भाजपा-कांग्रेस के दो-दो नाम फाइनल, अपनों को छोड़ बाहरी नेताओं को दे सकते हैं टिकट

नई दिल्ली : बरोदा उपचुनाव के लिए नामांकन करने के दो दिन ही शेष हैं। टिकट को लेकर दावेदारों की लड़ाई अंतिम दौर में पहुंच चुकी है। अभी तक प्रत्याशियों की तस्वीर पूरी तरह से साफ नहीं हुई है, लेकिन गुरूवार 15 अक्टूबर को तीनों बड़ी पार्टियों अपने-अपने उम्मीदवारों का एलान कर देंगी। लेकिन इससे पहले कई बड़े उल्ट फेर देखने को मिल सकते हैं।
क्योंकि तीनो ही पार्टियां अपनों की बजाए दूसरे दलों के नेताओं पर ज्यादा विश्वास दिखा रही हैं। ऐसे में टिकट की स्थिति के अनुसार कुछ नेता इन दो दिनों में अचानक दल बदल सकते हैं। सूत्रों के अनुसार भाजपा और कांग्रेस ने अपने दो-दो नाम फाइनल कर लिए हैं लेकिन दोनों पार्टियां एक दूसरे का इंतजार कर रही हैं।
जिससे देख सकें कि सामने वाली पार्टी ने किस जाति का उम्मीदवार उतारा है और उसी के अनुसार वो अपने जातीय समीकरण साध सकें। इस उपचुनाव में सभी पार्टियों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। ऐसे में इनकी तरफ से चुनाव में पूरा जोर लगाया जाएगा इसलिए मैदान में प्रत्याशी जाने-माने और पुराने चेहरे ही होंगे लेकिन उनका झंडा दूसरा हो सकता है।

कांग्रेस: गुटबाजी में फंसा टिकट का खेल

1. अंदरूनी नेता: कांग्रेस का एक गुट चाहता है कि पार्टी अपने अंदर के ही किसी पुराने नेता को टिकट दे। प्रदेश अध्यक्ष कुमारी सैलजा और राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सुरजेवाला आदि चाहते हैं कि यहां से विधायक रहे स्व. कृष्ण हुड्डा के बेटे जीता हुड्डा को टिकट मिले।
2. बाहरी नेता: चर्चा है कि 2019 चुनाव से ठीक पहले जेजेपी से भाजपा में आए कपूर नरवाल पिछले कुछ समय से पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा से नजदीकी बनाए हुए हैं और भाजपा के कार्यक्रमों से दूर हैं। वो पहले भी यहां से चुनाव लड़ चुके हैं। भूपेन्द्र हुड्डा उनको टिकट दिलाने का मन बना चुके हैं और उनका नाम ऊपर भेजा भी गया है।
क्यों जातीय समीकरण जरूरी
बरोदा हलका जाट बहुल क्षेत्र है। हलके में करीब 178250 मतदाता हैं। करीब 94 हजार जाट मतदाता हैं। वर्ष 2019 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने गैर जाट कार्ड खेलते हुए पहलवान योगेश्वर दत्त को चुनाव मैदान में उतारा था। बड़ा चेहरा होने और मुकाबला त्रिकोणीय हाेने से कांग्रेस जीत गई।

भाजपा: जाट-नॉन जाट में उलझी पार्टी

1. जाट : पार्टी का मन किसी जाट उम्मीदवार को उतारने का है। ऐसे में पिछली बार यहां जेजेपी से चुनाव लड़े भूपेंद्र मलिक को पार्टी टिकट दे सकती है। भाजपा पहले उसे अपनी पार्टी में शामिल करवाना चाहती है। भाजपा ने भूपेंद्र से बात भी की है। जेजेपी नेता इस बात पर कम सहमत हैं कि भूपेन्द्र भाजपा ज्वाइन करे, ऐसे में विकल्प के लिए महेंद्र मलिक का नाम पैनल में रखा है। 2. योगेश्वर दत्त: अगर नॉन जाट उम्मीदवार उतारती है तो पहलवान योगेश्वर दत्त का मैदान में उतरना तय है। 2019 विधानसभा चुनाव में भी वो भाजपा की तरफ से मैदान में थे। लेकिन भाजपा अभी इंतजार कर रही है कि कांग्रेस जाट को उम्मीदवार बनाती है या किसी नॉन जाट नेता को।

भाजपा ने पहले रोहतक फिर दिल्ली में की चर्चा

भाजपा ने बुधवार रात दिल्ली में राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा के साथ बैठक की। इससे पहले दिन में रोहतक सर्किट हाउस में वरिष्ठ नेताओं की मीटिंग हुई। इसमें जजपा से केसी बांगड़ा व भूपेंद्र मलिक और भाजपा की ओर से महेंद्र मलिक और रणधीर लठवाल को लेकर बनाए गए पैनल के नामाें पर चर्चा हुई।

Wednesday, October 14, 2020

October 14, 2020

वीआईपी कल्चर रिटर्न्स:तीन साल पहले लालबत्ती हटाने का मोदी सरकार ने लिया था फैसला, अब हरियाणा सरकार ने विधायकों की गाड़ी पर लगाने के लिए झंडी लॉन्च कर दी

वीआईपी कल्चर रिटर्न्स:तीन साल पहले लालबत्ती हटाने का मोदी सरकार ने लिया था फैसला, अब हरियाणा सरकार ने विधायकों की गाड़ी पर लगाने के लिए झंडी लॉन्च कर दी

चंडीगढ़ :  पीएम मोदी ने भले वीआईपी कल्चर रोकने का प्रयास किया। मई 2017 से नेताओं की गाड़ियों से लालबत्ती व झंडियां हटवा दीं। लेकिन अब उन्हीं की पार्टी की हरियाणा सरकार ने इसका तोड़ निकाला है। मंगलवार को सीएम मनोहर लाल, स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता, उपाध्यक्ष रणबीर गंगवा, संसदीय कार्यमंत्री कंवरपाल गुर्जर ने विधायकों की गाड़ियों पर लगाने के लिए विधानसभा के लोगो की मैरून रंग की झंडी लाॅन्च कर दी। झंडी जल्द सभी विधायकों को दी जाएंगी।
इसे लेकर विधायक भी खुश हैं, क्योंकि झंडी से अब विधायकों की गाड़ी दूर से ही पहचानी जाएगी। न कोई टोल पर रोकेगा, न पुलिस हाथ देगी। स्पीकर से लेकर विधायक तक झंडी को वीआईपी कल्चर नहीं मानते हैं। उनका कहना है कि यह विधायक की पहचान के लिए है। इसे लेकर परिवहन, गृह विभाग व सीएम से भी अनुमति ली गई है। कानूनी विशेषज्ञों से सलाह ली गई। उधर, सीएम ने मंगलवार को विधानसभा परिसर में भगवान श्रीकृष्ण के रथ व भगवद् गीता के चित्र का अनावरण किया।

विधायकों ने पहचान के लिए रखी थी मांग

गाड़ियों पर झंडी की मांग विधायकों ने ही विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता के सामने रखी थी। ज्यादातर ने यही कहा था कि उनकी कोई पहचान होनी चाहिए। क्योंकि टोल बूथों पर उन्हें रोक लिया जाता है। जब एमएलए का कार्ड दिखाते हैं, तो उसे मान्य तक नहीं करते। रास्ते में कहीं भी पुलिस कर्मचारी रोक लेते हैं। इससे उन्हें दिक्कत होती है। इसके बाद स्पीकर ने इस पर सलाह करके आखिरी फैसला लिया।

मौजूदा विधायक ही कर सकेंगे इसका इस्तेमाल: मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने कहा कि मौजूदा विधायक ही इस झंडी का इस्तेमाल अपने उन वाहनों पर कर सकेंगे, जो उनके नाम पर पंजीकृत हैं। यदि मौजूदा विधायक के पास अपने नाम से पंजीकृत कोई वाहन नहीं है, तो झंडी का इस्तेमाल निजी या किराए के वाहनों पर किया जा सकता है। झंडी के इस्तेमाल के लिए परिवहन आयुक्त की ओर से पत्र जारी किया जाएगा। यह पत्र हरियाणा विधानसभा का कार्यकाल पूरा होने या मौजूदा विधायक के विधानसभा का सदस्य रहने तक वैध रहेगा।
पक्ष-विपक्ष सब खुश, लेकिन गाड़ी में विधायक नहीं होंगे तो झंडी कवर रहेगी

गाड़ी में यदि विधायक नहीं हैं और कोई दूसरा व्यक्ति गाड़ी लेकर जाता है तो उसे झंडी को कवर करना होगा।

झंडी के गलत इस्तेमाल और ऐसी दूसरी नकली झंडी बनाने पर संबंधित के खिलाफ कानूनी कार्रवाई होगी।

भाजपा विधायक लक्ष्मण सिंह यादव ने कहा कि झंडी लगने से समय की बचत होगी।

जजपा विधायक देवेंद्र बबली बोले कि बिना पहचान के लिए कई बार विधायक के प्रॉटोकाॅल में दिक्कत आती है।

कांग्रेस विधायक गीता भुक्कल का कहना है कि भाजपा सरकार को अब समझ आया है कि पहले झंडी लगाने वाले गलत नहीं थे।

सीधी बात (ज्ञानचंद गुप्ता, स्पीकर) अफसर झंडी लगा रहे, विधायक उनसे ऊपर
Q. विधायकों की गाड़ियों पर झंडी की जरूरत क्यों हुई।
A. अनेक विधायकों ने पहचान के लिए झंडी की बात रखी थी। उनका कहना था कि पहचान के बिना काफी दिक्कतें आती हैं।
Q. क्या झंडी से वीआईपी कल्चर को बढ़ावा नहीं मिलेगा।
A. ऐसा नहीं है। जो चुना हुआ व्यक्ति है, उसकी पोजिशन की पहचान होनी चाहिए। प्रोटोकॉल में विधायक सीएस से भी ऊपर है। जबकि सीएस से लेकर एसीएस और डीसी तक झंडी लगा रहे हैं।

Sunday, October 11, 2020

October 11, 2020

रोहतक:भाजपा की ट्रैक्टर यात्रा में कृषि विधेयकों के विरोध में किसानों ने दिखाए काले झंडे

भाजपा की ट्रैक्टर यात्रा में कृषि विधेयकों के विरोध में किसानों ने दिखाए काले झंडे

रोहतक : संसद में पास हुए कृषि विधेयकों के विरोध में किसानों का गुस्सा थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक तरफ भाजपा के नेता इस विधेयक के पक्ष में ट्रैक्टर यात्रा निकाल रहे हैं, दूसरी तरफ किसान इसका विरोध भी कर रहे हैं। ऐसा ही वाकया शनिवार को रोहतक में देखने को मिला। यहां डीघल से सांपला के बीच निकाली गई ट्रैक्टर यात्रा को किसानों ने काले झंडे दिखाए और विरोध में प्रदर्शन भी किया।

इस यात्रा में भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़, रोहतक के सांसद डॉ. अरविंद शर्मा और पूर्व सहकारिता मंत्री मनीष ग्रोवर शामिल थे। डीघल से सांपला चौ छोटूराम संग्रहालय तक ट्रैक्टर यात्रा निकाली। इसी दौरान किसान संघर्ष समन्वय समिति की ओर से इस रैली को काले झंडे दिखाकर विरोध किया गया।

डीघल गांव के बस स्टैंड पर समिति के सदस्य व पदाधिकारी पहले से मौजूद थे जैसे यात्रा यहां से निकले सभी किसानों ने काले झंडे दिखाकर विरोध करना शुरू कर दिया। उन्होंने जमकर नारेबाजी भी की।
October 11, 2020

बरोदा उपचुनाव:सीएम का हुड्डा पर निशाना, ये तो अपने घर में चौधर लिए बैठे हैं, बापू-बेटा पहले लोकसभा चुनाव हार गए, राज्यसभा की बारी आई तो फिर कोई और नी मिला

बरोदा उपचुनाव:सीएम का हुड्डा पर निशाना, ये तो अपने घर में चौधर लिए बैठे हैं, बापू-बेटा पहले लोकसभा चुनाव हार गए, राज्यसभा की बारी आई तो फिर कोई और नी मिला

गोहाना : 3 नवंबर को होने वाले बरोदा उपचुनाव को लेकर हरियाणा के सभी राजनीतिक दलों ने कमर कस ली है। इसी के चलते हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर शनिवार को गोहाना पहुंचे। सीएम यहां प्रेसवार्ता करते हुए पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि ये तो अपने घर में ही चौधर लिए बैठे हैं। बापू-बेटा पहले दो लोकसभा चुनाव हार गए और जब राज्यसभा की बारी आई तो पूरे हरियाणा में कोई और नेता नहीं मिला, फिर दीपेंद्र को राज्यसभा भेज दिया। सीएम ने कहा कि इनकी चौधर तो घर की है, जनता के लिए नहीं है।

भाजपा और जजपा का उम्मीदवार कौन होगा नहीं बोले सीएम

सीएम मनोहर लाल खट्टर से जब उम्मीदवार को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि अभी उम्मीदवार का नाम तय नहीं किया गया है। जल्द इस पर फैसला किया जाएगा। वहीं चुनाव प्रचार कोरोना को ध्यान में रखकर किया जाएगा। सीएम ने कहा कि भाजपा और जजपा उम्मीदवार के नाम की घोषणा होते ही डोर टू डोर प्रचार करेंगी। करीब डेढ़ लाख लोगों से संपर्क किया जाएगा।

कांग्रेस पर साधा निशाना

सीएम ने कहा कि कांग्रेस के नेता अब भाजपा द्वारा की गई घोषणाओं पर सवाल उठा रहे हैं, जब उनके राज में उनके विधायक ने कुछ नहीं किया तो हमें तो करना ही था। विकास का काम अगर कांग्रेस करती तो हमें ये न करना पड़ता। हालत ये है कि बिल्डिंग बनाकर छोड़ दी और कॉलेज तक शुरू नहीं किए। हमने जो कहा वो किया।
October 11, 2020

डाटा कांड में बड़ा खुलासा:गांव के ही युवक को शराब पिलाई फिर मारकर जलाया, गर्लफ्रेंड की कार से पहुंचा छत्तीसगढ़

डाटा कांड में बड़ा खुलासा:गांव के ही युवक को शराब पिलाई फिर मारकर जलाया, गर्लफ्रेंड की कार से पहुंचा छत्तीसगढ़

हिसार : कारोबारी राममेहर की कार में जला व्यक्ति उसका ही जानकार रमलू निकला। 1.60 करोड़ रु. का बीमा क्लेम लेने के लिए राममेहर ने खुद को मरा घोषित करने के लिए रमलू को मार डाला। हत्या करने के बाद राममेहर ने अपनी कार को आग लगा दी। कार में रमलू का शव ड्राइवर के साथ वाली सीट पर था। यह खुलासा राममेहर ने पुलिस की पूछताछ में किया है। छत्तीसगढ़ के बिलासपुर से हांसी लाने के बाद पुलिस ने उसे कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे पूछताछ के लिए 7 दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया।
हांसी के एसपी लोकेंद्र सिंह ने बताया कि कार में जला शव राममेहर के डाटा के युवक रमलू का था। राममेहर उसे शाम को गांव से लाया था। शाम से ही दोनों ने शराब पीना शुरू कर दिया। तीन जगह शराब पी। वारदात स्थल पर फिर शराब पी और राममेहर ने गला दबाकर रमलू को मार डाला। रमलू कार में उसके साथ वाली सीट पर बैठा था। रमलू को मारने के बाद राममेहर ने कार के फ्यूल टैंक से डीजल निकाला। डीजल निकालने के लिए वह पाइप साथ लाया था। कार स्टार्ट रख डीजल छिड़का और आग लगा दी।
वारदात के बाद वह पैदल ही ढाणी कुतुबपुर गया। वहां उसने एक कार खड़ी की हुई थी। उसमें दो साथियों को लेकर छत्तीसगढ़ के लिए निकल गया। ढाणी कुतुबपुर में उसका कोई पुराना कर्मचारी रहता है। बिलासपुर में वह परिचित के पास रुका। परिचित को बताया कि वह खेती करना चाहता है और जमीन खरीदने आया है। पुलिस ने आरोपी राममेहर पर हत्या समेत विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया है। रिमांड के दौरान राममेहर से बिलासपुर जाने के लिए इस्तेमाल कार, बरामद हुए मोबाइल नंबर, एटीएम कार्ड, घटना में अन्य किन-किन व्यक्तियों की संलिप्तता रही है, आदि के बारे में पूछताछ की जाएगी।

कबूलनामा: परिवार को झूठी सूचना दे वारदात कर खेतों के रास्ते निकल गया

मेरी आर्थिक स्थिति खराब है। एक से डेढ़ करोड़ रुपए के कर्ज में डूब गया। फैक्ट्री में नुकसान हो रहा था। कर्ज चुकाने के लिए पीएनबी और एचडीएफसी बैंक से पर्सनल लोन लिए। कुछ प्राइवेट लोगों से भी पैसा उठा रखा है। कर्ज में डूबने के बाद आत्महत्या करने के बारे में भी सोची। लेकिन जुलाई में बीमा पॉलिसी खरीदी और खुद को मरा घोषित कर बीमा क्लेम लेने का प्लान बनाया। 6 अक्टूबर को बैंक से 10.90 लाख रुपए निकलवाए। कुछ रकम एक महिला मित्र को दी। दूसरी महिला मित्र के बैंक खाते में पैसा ट्रांसफर किया। बाकी पैसे छिपा दिए। मैंने घरवालों को रात 11:30 बजे झूठी सूचना दी थी कि 2 बाइक व 1 गाड़ी महजद-भाटला रोड पर पीछे लगे हैं। मेरे को मारेंगे व पैसे छीनेंगे। रमलू की हत्या के बाद गाड़ी में अपनी पहचान के लिए लॉकेट डालकर कार को आग लगा दी। कार के जलने के बाद मैं मौके से खेतों के रास्ते पैदल चला। रास्ते में नए मोबाइल नंबर का प्रयोग करके अपने साथियों से सामान पैक करके तैयार रहने को कहा। ढाणी कुतुबपुर में पहले से कार खड़ी कर रखी थी। वहां से कार में अपने साथियों के साथ सवार होकर छत्तीसगढ़ के बिलासपुर पहुंचा। वहां हांसी पुलिस ने मुझे काबू कर लिया। -जैसा आरोपी राममेहर ने पुलिस को पूछताछ में बताया

ढाणी कुतुबपुर में खड़ी कर रखी थी महिला मित्र की कार

एसपी ने बताया कि राममेहर ने ढाणी कुतुबपुर में जो कार खड़ी कर रखी थी, वह उसकी महिला मित्र के नाम पर है। कार में जो दो लोग उसके साथ छत्तीसगढ़ गए थे, उन्हें राममेहर द्वारा जघन्य घटना को अंजाम देने की जानकारी थी, ऐसा पुलिस की अभी तक की छानबीन में नहीं आया है। वारदात को अंजाम देने के बाद राममेहर नए नंबर से फोन कर रहा था। वह हांसी की महिला मित्र के संपर्क में था। पुलिस को उसी से राममेहर के बारे में सुराग लगा। महिला से पुलिस ने पूछताछ की है।

रमलू के 6 बच्चे हैं, शव का डीएनए टेस्ट कराया जाएगा

28 वर्षीय रमलू बावरिया समाज से ताल्लुक रखता था। उसके तीन बेटे व 3 बेटियां हैं। रमलू की हत्या 6 अक्टूबर की रात को हुई। परिवार का कहना है कि रमलू डेरू बजाता था। वह कई-कई दिन बाहर रहता था। उसके लापता होने का शक नहीं हुआ, इसलिए पुलिस को काेई शिकायत नहीं दी थी। रमलू शराब पीने का आदी था। राममेहर भी शराब पीने का आदी था। इसलिए वह शराब के लालच में साथ चला गया होगा। शिनाख्त के लिए पुलिस शव का डीएनए टेस्ट कराएगी।

परिजन लेट क्यों आए, इस पर छानबीन जारी

राममेहर द्वारा हत्या कर शव जलाने के मामले में पुलिस गहन छानबीन कर रही है। अभी तक की छानबीन में परिवार के किसी सदस्य की संलिप्पता सामने नहीं आई है। परिजनों ने पुलिस को देर से क्यों सूचना दी और खुद क्यों देरी से वारदात स्थल पर पहुंचे, पुलिस इसकी छानबीन करेगी। छानबीन में पुलिस को किसी तरह की मिलीभगत के सबूत मिले तो कार्रवाई होगी। अभी तक सामने आया है कि राममेहर के पास घर, दुकान और फैक्ट्री के अलावा 13 एकड़ जमीन है।
October 11, 2020

कामकाजी महिलाओं के लिए खुशखबरी, 500 क्रेच खोले जाएंगे

कामकाजी महिलाओं के लिए खुशखबरी, 500 क्रेच खोले जाएंगे

चण्डीगढ़ : हरियाणा की महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा  ने कहा कि प्रदेश में कामकाजी महिलाओं की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए 500 क्रेच केन्द्र खोले जाएंगे। आज यहां जारी एक वक्तव्य में उन्होंने बताया कि यह योजना दो चरणों में पूरी की जाएगी, जिसके तहत प्रथम चरण में पहले से ही चल रहे 182 क्रेच केन्द्रों को सुदृढ़ व मूलभुत सुविधाएं प्रदान कर बेहतर तरीके से चलाने की योजना है।
इसी प्रकार, दूसरे चरण में शेष 318 नए क्रेच केन्द्र कामकाजी महिलाओं की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए ऐसे स्थानों पर खोले जाएंगे, जहां पर ज्यादा संख्या में महिलाएं कार्य करती हैं। उन्होंने बताया कि क्रेच केन्द्रों के प्रशिक्षण, पाठय सामग्री तथा बेहतर संचालन के लिए भी समझौता भी किया जाएगा।

उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश अभी कोविड-19 संक्रमण काल से गुजर रहा है जिसके चलते सभी आंगनवाड़ी केन्द्र  बंद हैं तथा बच्चे इन केन्द्रों में आने में असमर्थ हैं। बच्चों के लिए आवंटित पूरक पोषण उनके घरों में उपलब्ध करवाया जा रहा है।
परंतु आंगनवाड़ी केन्द्रों के बंद होने के कारण बच्चों के लिए निर्धारित स्कूल पूर्व शिक्षा प्रभावित हुई हैं। इसी के मदेनजर विभाग ने निर्णय लिया है कि 3 से 6 साल तक के बच्चों के लिए विशेष वर्कशीट, विभिन्न प्रकार के रंग व अन्य सामग्री उनके घरों में ही उपलब्ध करवाई जाएगी।
मंत्री ढांडा ने बताया कि प्रत्येक आंगनवाड़ी कार्यकर्ता उसके अधीन क्षेत्र में समय-समय पर बच्चों द्वारा इन वर्कशीटों पर किए कार्य का मूल्यांकन करेगी तथा उनके अभिभावकों को इस संबंध में जानकारी देगी ताकि वे घरों में बच्चों की अनौपचारिक शिक्षा पर ध्यान दें सकें।

Saturday, October 10, 2020

October 10, 2020

मोदी जी! धनखड़ तो आपकी भी नहीं सुनते:गोहाना में कार्यक्रम के दौरान 35 गुना 20 वर्गफीट के मंच पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष समेत 46 लोग हैं, लेकिन सिर्फ 2 ने ही सही से मास्क लगाया है।

मोदी जी! धनखड़ तो आपकी भी नहीं सुनते:गोहाना में कार्यक्रम के दौरान 35 गुना 20 वर्गफीट के मंच पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष समेत 46 लोग हैं, लेकिन सिर्फ 2 ने ही सही से मास्क लगाया है।

गोहाना : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को जन जागरुकता कार्यक्रम शुरू करते हुए कहा था कि जब तक कोरोना की दवा नहीं आ जाती, तब तक मास्क ही वैक्सीन है। पूरे देश से आह्वान किया था कि मास्क लगाएं और सोशल डिस्टेंस रखें, लेकिन ओमप्रकाश धनखड़ जब से हरियाणा भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष बने हैं, वे सार्वजनिक कार्यक्रमों में न तो सही से मास्क पहनते हैं और न ही सोशल डिस्टेंस रख रहे।

प्रधानमंत्री की अपील के अगले दिन भी गोहाना में नियम तोड़ते दिखे। इस बारे में जब ओपी धनखड़ से हमने सवाल किया तो उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर मुझे कोई बात नहीं करनी है।
झूठ के सहारे चल रही कांग्रेस की राजनीति : धनखड़
भाजपा प्रदेशाध्यक्ष धनखड़ ने कृषि कानूनों को केंद्र सरकार का क्रांतिकारी कदम बताया। नए कानून में किसानों के लिए फसल बेचने को अन्य विकल्पों का प्रावधान किया है। कांग्रेस किसानों को गुमराह कर रही है। जब कांग्रेस सत्ता में थी तो स्वामीनाथन रिपोर्ट को दबाए रही। कांग्रेस की राजनीति झूठ के सहारे चल रही है। इसलिए सच को हारने नहीं देंगे।
October 10, 2020

बरोदा विधानसभा क्षेत्र से ग्राउंड रिपोर्ट:लोगों को उम्मीदवारों की तस्वीर साफ होने का इंतजार, उससे पहले गोहाना की जलेबी जैसी गोल-गोल घूम रही राजनीति

बरोदा विधानसभा क्षेत्र से ग्राउंड रिपोर्ट:लोगों को उम्मीदवारों की तस्वीर साफ होने का इंतजार, उससे पहले गोहाना की जलेबी जैसी गोल-गोल घूम रही राजनीति

गोहाना :  ठेठ ग्रामीण सीट बरोदा में उपचुनाव के लिए नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो गई, लेकिन अभी तक किसी भी पार्टी ने अपना उम्मीदवार घोषित नहीं किया है। इसके बावजूद इस सीट के 54 गांवों का हर घर अब चुनावी चर्चा की चौपाल बन गया है। हलके में कोई शहरी कस्बा नहीं है। इसलिए बरोदा में चुनाव होते हुए भी राजनीतिक अखाड़ा गोहाना बना हुआ है। सभी पार्टियों के कार्यक्रम गोहाना में हो रहे हैं और गांवों के किसान शहर की मंडी में तो खरीदार दुकानों पर बरोदा चुनाव की ही चर्चा कर रहे हैं।
गोहाना की जिस तरह से भूमिका नजर आ रही है, उससे लगता है कि गोहाना की मातुराम वाली जलेबी की भूमिका चुनाव में जरूर रहेगी। वोटरों को जलेबी का स्वाद चखने को मिलेगा। वैसे भी जब तक उम्मीदवारों का Wलान नहीं हो जाता, तब तक चुनावी राजनीति इस जलेबी की तरह ही गोल-गोल घूम रही है। हर पार्टी से दर्जनों ऐसे सफेद कुर्ते पायजामे वाले नेता घूम रहे हैं, जो कह रहे हैं कि चुनाव तो मैं ही लड़ूंगा।
मेरी टिकट बिल्कुल पक्की है, बस आप लोग साथ दे देना, लेकिन यहां के लोग अपना मन किसी भी तरफ का अभी नहीं बना पा रहे हैं। सभी का कहना है कि दुल्हन का मुंह देखे बिना कैसे तय कर लें कि कौन सही होगी और कौन गलत। इसलिए अभी हलके में मुद्दों से ज्यादा इसी बात की चर्चा है कि कौनसी पार्टी से कौनसा नेता मैदान में उतरेगा और कौन अंतिम मौके पर पलटी मार जाएगा।
यहां के मुद्दों की बात की जाए तो उन पर यहां के लोगों को हमेशा नेता घुमाते ही रहे हैं। खेती और नौकरी ही यहां रोजगार है। नहरी पानी, पेयजल, ग्रामीण विकास ही यहां लोगों से जुड़े मुद्दे हैं। हाल ही में सरकार ने उपचुनाव की घोषणा से पहले विश्वविद्यालय, आईएमटी, राइस मिल लगाने परियोजनाएं देकर विकास को हवा दी, लेकिन मुद्दों से ज्यादा चर्चा अब किसान अध्यादेशों पर दिख रही है। किसान नाखुश नजर आ रहे हैं। भाजपा नेता किसानों को इस मुद्दे पर समझाने के हर संभव प्रयास कर रहे हैं। गोहाना में शुक्रवार को इस मुद्दे पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने किसान धन्यवाद रैली भी की। शनिवार को खुद सीएम भी यहां आ रहे हैं।

ये हैं हलके के बड़े गांव

मुडलाना, शामड़ी, चिडाना, महमदपुर, गंगाना, जागसी, बुटाना, बरोदा, कथूरा, आहुलाना, भैंसवाल, कटवाल हलके के बड़े गांव है। हलके में मलिक खाप का भी प्रभाव है। वहीं नरवाल बहुल्य भी कई गांव हैं। इसके विभिन्न वर्ग के लोग अपनी वोट से प्रभाव डालते हैं।

गोहाना विस के 15 गांव बरोदा में शामिल

हरियाणा बनने के बाद वर्ष 1977 और 2009 में परिसीमन हुआ। 2005 तक बरोदा विधानसभा आरक्षित था। 2009 में विधानसभा सामान्य वर्ग के लिए आरक्षित हुआ। परिसीमन में बरोदा विधानसभा से केवल सिवानामाल गांव को हटाया गया। यह गांव जींद जिला में आता था। जबकि बरोदा विधानसभा में गोहाना विधानसभा के 15 गांवों को शामिल किया था। इनमें एसपी माजरा, रभड़ा, बली ब्राह्मणान, कटवाल, आंवली, बिलबिलान, भैंसवाल, जसराना, रिवाड़ा, मोई हुड्डा, पुठी, भैंसवान खुर्द, माहरा और रूखी गांव शामिल हैं।