/>

Breaking

Thursday, July 16, 2020

राजस्थान की सियासत :अशोक तंवर का दर्द झलका, बोले- कांग्रेस में सब कुछ ठीक होता तो हमारे जैसे लोगों को पार्टी न छोड़नी पड़ती

राजस्थान की सियासत :अशोक तंवर का दर्द झलका, बोले- कांग्रेस में सब कुछ ठीक होता तो हमारे जैसे लोगों को पार्टी न छोड़नी पड़ती



अशोक तंवर ने विधानसभा चुनाव से पहले हरियाणा के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और पार्टी से इस्तीफा दिया था।

तंवर ने कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व के साथ-साथ वरिष्ठ नेताओं पर साधा निशाना

बोले- हरियाणा में जितने जनरल सेक्रेटरी आए, उनका मकसद युवा पीढ़ी को खत्म करना था


राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच कांग्रेस छोड़ चुके पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर ने भी कांग्रेस पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में सब कुछ ठीक होता तो हमारे जैसे लोगों को कांग्रेस न छोड़नी पड़ती। आज हरियाणा में भी कांग्रेस होती, मध्यप्रदेश में भी कांग्रेस होती और राजस्थान में भी ऐसे हालात न बनते। 
राजस्थान में बताई सत्ता की हिस्सेदारी के लिए लड़ाई
तंवर ने कहा कि आज जैसी परिस्थतियां हैं, मेरे समय में भी ऐसे ही परिस्थितियों को हैंडल नहीं किया गया था। उस समय हरियाणा में जितने भी कांग्रेस के जनरल सेक्रेटरी आए वो तो हमारे ही विरोध में काम करते थे। किसी ने मध्यस्ता करने की कोशिश नहीं की। अब जो लड़ाई चल रही है, हमारी लड़ाई उससे अलग थी। हमारी लड़ाई न्याय की लड़ाई थी, जितने साथियों ने मेहनत की थी, उनका ध्यान रखने के लिए कहा जा रहा था लेकिन राजस्थान में सत्ता के अंदर हिस्सेदारी की लड़ाई है।

कांग्रेस के कुछ नेताओं को बताया भाजपा के इशारे पर काम करने वाला

तंवर ने कहा कि कांग्रेस में कुछ लोग भाजपा और आरएसएस के इशारे पर काम करते हैं। वे कांग्रेस में दिखावे के लिए हैं लेकिन काम भाजपा के लिए करते हैं। वो कांग्रेस को खत्म करने पर लगे हुए हैं। तंवर ने सीधे-सीधे कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि हरियाणा में मेरे समय में कांग्रेस के जितने जनरल सेक्रेटरी आए उनका मकसद था नई पीढ़ी को खत्म करना। जिनके साथ इन्होंने बड़े-बड़े धंधे किए थे, उनके साथ वे सरकार लूटने का काम करते थे। जब सरकार चली गई तो पार्टी को लूटने का काम करते थे।

No comments:

Post a Comment