/>

Breaking

Monday, September 21, 2020

कृषि अध्यादेशों का विरोध:6 जगहों पर किसानों ने किया प्रदर्शन, 3 घंटे तक रखे राेड जाम, प्रशासन ने रूट डायवर्ट कर निकाले वाहन

कृषि अध्यादेशों का विरोध:6 जगहों पर किसानों ने किया प्रदर्शन, 3 घंटे तक रखे राेड जाम, प्रशासन ने रूट डायवर्ट कर निकाले वाहन

फतेहाबाद : किसान संघर्ष समिति हरियाणा की जिला कमेटी फतेहाबाद के आह्वान पर केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि अध्यादेशों के खिलाफ जिले में किसानों, व्यापारियों, मजदूरों व मुनीमों द्वारा साझे तौर पर प्रदर्शन किया। जगह-जगह रोड जाम कर अपना विरोध जताया। जिले भर में छह जगह जाम लगे जोकि डेढ़ से तीन घंटे तक रहे।

जाम लगने पर प्रशासन व पुलिस की ओर से ट्रैफिक को रूट डायवर्ट करके निकाला गया। किसानों ने शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन किया, जिससे किसी तरह का कोई विवाद, झड़प आदि नहीं हुई। हालांकि जाम की स्थिति में आपात स्थिति से निपटने के लिए पुलिस प्रशासन की ओर से पुख्ता प्रबंध किए गए थे। फतेहाबाद शहर में लघु सचिवालय के सामने हिसार-सिरसा रोड पर करीब डेढ़ घंटे जाम रहा। टोहाना में हिसार रोड नेशनल हाइवे 148 बी पर गांव समैण व कन्हड़ी के पास तीन घंटे, भट्टूकलां में फतेहाबाद रोड पर ढाई घंटे तक, कुलां में टोहाना-रतिया रोड पर व जाखल में पंजाब सीमा पर कडैल बैरियर के पास किसानों ने करीब तीन घंटे तक जाम लगाए रखा।

तीन अध्यादेशों के विरोध में जिले भर के किसान, आढ़ती, मजदूर आदि फतेहाबाद की अनाज मंडी में एकत्र हुए। यहां साझी सभा करने के बाद शहर में प्रदर्शन करते हुए लघु सचिवालय पहुंचे। सुबह 11 बजे सभा करने के बाद करीब 12 बजे प्रदर्शनकारी लघु सचिवालय पहुंचे। जहां जीटी रोड पर जाम लगा कर बैठ गए। करीब डेढ़ घंटे तक जाम लगाए रखा। इस दौरान विभिन्न किसान नेताओं ने सरकार के इन अध्यादेशों को गलत बताते हुए इसे वापस लेने की मांग की।

प्रदर्शन के दौरान सुरक्षा के मद्देनजर डीएसपी अजायब सिंह, दलजीत सिंह व एसएचओ सुरेंद्र कंबोज आदि पुलिस फोर्स के साथ मौजूद रहे। यहां हुए प्रदर्शन में किसान नेता प्रोफेसर जयपाल लुधियाना, किसान संघर्ष समिति के जिला प्रधान ओमप्रकाश ने कहा कि किसानों को संगठित होकर अपने अधिकारों की लड़ाई को और तेज करना होगा। हर गांव में किसान संघर्ष समिति का गठन किया जाएगा। इस दौरान पूर्व विधायक प्रहलाद सिंह के अलावा कांग्रेस नेता विनीत पूनिया ने भी संबोधित किया। प्रदर्शन में भारतीय किसान यूनिसन, व्यापार मंडल फतेहाबाद, मुनीम वेल्फेयर एसोसिएशन आदि के सदस्यों ने भाग लिया। किसानों की भारी तादाद मौजूद रही। युवा कांग्रेस जिला प्रधान चंद्रमोहन पोटलिया ने भी किसानों के प्रदर्शन को समर्थन दिया है। किसानों ने किसानों ने पीएम नरेंद्र मोदी, सीएम मनोहर लाल खट्टर, डिप्टी सीएम दुष्यन्त चौटाला की फोटो लगे बैनर को पुतले जलाए।

पुलिस ने भूना मोड और बाईपास से निकाले वाहन

जाम लगने की स्थिति में पुलिस की ओर से रूट डायवर्ट का ट्रेफिक को निकाला गया। सिरसा रोड से हिसार रोड पर जाने वाले वाहनों को भूना मोड के रास्ते निकाला गया जोकि हुडा बाइपास व नेशनल हाइवे बाइपास के रास्ते निकले। वहीं हिसार रोड से आने वाले लोगों को मिनी बाइपास के रास्ते निकाला गया। इसके लिए जगह-जगह बैरियर लगाए गए थे। वहीं लालबत्ती चौक के पास गाड़ियों को टोचन करने वाली गाड़ी भी पुलिस ने मंगवा रखी थी। इसके अलावा एंबुलेंस व फायर ब्रिगेड की गाड़ी भी मौके पर खड़ी रखी गई ।

किसान बोले - लाठियों के साथ पानी की व्यवस्था भी कर देते

किसान लघु सचिवालय के सामने पहुंचकर सड़क पर बैठ गए और सरकार के खिलाफ जोर से नारेबाजी शुरू कर दी। इस दौरान किसानों ने प्रशासन व सरकार को कोसते हुए कहा कि किसानों के लिए लाठियों की व्यवस्था तो कर दी पानी की भी व्यवस्था कर देते।

टोहाना शहर में नाके लगाकर जांचे वाहनों के कागजात


केंद्र सरकार द्वारा जारी किए गए तीन अध्यादेशों के खिलाफ गांव कन्हड़ी व समैण में किसानों ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर जाम लगाया। वहीं पुलिस प्रशासन की ओर से शहर के विभिन्न एरिया चंडीगढ़ रोड, नरवाना टी प्वाइंट, हिसार बाई पास, हिसार रोड पर न्यूकेम फैक्टरी के पास, गांव समैण के दोनों साइड पर भी नाके लगाए गए। इस दौरान वाहनों की जांच भी की गई। रोडवेज की बसों को अन्य रास्तों से निकाला गया। गांव कन्हड़ी में तो किसानों ने करीब 11 बजे ही जाम शुरू कर दिया और दोपहर एक बजे जाम खोल दिया। इस दौरान एंबुलेंस व दो पहिया वाहनों को नहीं रोका बल्कि बड़े वाहनों को भी दूसरे रास्तों से जाने में कोई व्यवधान नहीं डाला। दूसरी ओर अनाज मंडी में धरना तीसरे दिन भी जारी रहा। जिसमें हरि सिंह, गुरबचन सिंह अमानी, राजपाल सैनी ने संबोधित किया।

No comments:

Post a Comment