/>

Breaking

Friday, September 18, 2020

विरोध:किसानों ने बिजली निगम व सरकार को कोसा, कोई भी सुध लेने को नहीं पहुंंचा

विरोध:किसानों ने बिजली निगम व सरकार को कोसा, कोई भी सुध लेने को नहीं पहुंंचा

जाखल बिजली घर में पिछले 3 दिनों से धरना दे रहे किसान बुधवार को भी अपनी मांगों पर अड़े रहे। किसान लगातार अपनी मांग के चलते बिजली निगम व सरकार को कोस रहे हैं व नारेबाजी कर अपना रोष जता रहे हैं। लेकिन वहीं ना तो सरकार के ही किसी अधिकारी और ना ही बिजली निगम के किसी उच्चाधिकारी ने ही इसका कोई संज्ञान लिया है। किसानों का धरना स्थल पर ही खाना, पीना व सोना चल रहा है। दिन भर में 4 बार चाय के अलावा सुबह, दोपहर व रात का खाना भी धरना स्थल पर ही किसान ले रहे हैं।

अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में दिए जा रहे धरना की अध्यक्षता बिंद्र सिधानी ने की। धरना को आज सर्व कर्मचारी संघ की ओर से मुरारी शर्मा, हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ के राज्य सदस्य धर्मेंद्र ढांडज्ञड़ा, मास्टर अजीत शास्त्री, संदीप कुमार के अलावा किसान संघर्ष समिति के जिला सचिव निर्भय रतिया ने भी संबोधित किया। उन्होंने किसानों की मांगों पर बिजली निगम व सरकार की ओर से की जा रही अनदेखी पर गहरा रोष जताते हुए इसकी कड़ी निंदा भी की। किसानों की लड़ाई में वह पूर्ण तौर पर उनके साथ हैं।

किसान सभा के प्रधान प्रेम सिंह सिधानी ने कहा के अगर बिजली निगम अधिकारी व सरकार के नुमाइंदे यह सोचते हैं कि वह कुछ दिनों के बाद अपने आप इस धरना को उठा देंगे तो यह उनकी गलतफहमी होगी। धरना में किसान नेता रामपाल, धर्मवीर, विक्रम, राजेश, नायब, मंगत राम, गेजा राम, गुरदीप पुनिया, मुंदलिया से जगजीत, साधनवास से गुरदित्त, भजन, जसवीर, नडैल से गोरा, मोहित, तलवाड़ा से गुरतेज, पंजाब, प्रीतपाल व तलवाड़ी से उत्तम आदि किसानों ने हिस्सा लिया।

एसडीओ संजय सिंगला ने कहा कि किसानों की मांगों पर वह काम कर रहे हैं। जुर्माने की रिपोर्ट, नए ट्यूबवेल कनेक्शन लगाने, ट्रांसफार्मर अपग्रेड कर लगाने संबंधी रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेजी जा चुकी है लेकिन फिलहाल इस पर उच्चाधिकारियों की ओर से उन्हें दिशा निर्देश नहीं मिले हैं। दिशा निर्देश मिलते ही इस पर कार्रवाई हो जाएगी।

No comments:

Post a Comment