/>

Breaking

Friday, October 9, 2020

कार्रवाई शुरू:10 साल से बंद पटवी प्लांट राफेल की बदौलत इस महीने चालू होगा

कार्रवाई शुरू:10 साल से बंद पटवी प्लांट राफेल की बदौलत इस महीने चालू होगा

अम्बाला : राफेल विमानों के लिए खतरा बने ट्विन सिटी के सैकड़ों टन कूड़े को पटवी प्लांट में निस्तारण के लिए कार्रवाई शुरू कर दी गई है। पहले चरण में पटवी प्लांट में 10 वर्षों से इकट्ठा हो रहे कूड़े का निस्तारण किया जाएगा। प्लांट में कूड़े का निस्तारण करने के लिए वर्क ऑर्डर जारी कर दिए हैं। प्लांट में कितने टन कूड़ा है, इसका सर्वे कर उसके हिसाब से 3 से 4 नए प्लांट लगाए जाएंगे। दूसरे चरण में डोर-टू-डोर कूड़ा कलेक्शन के टेंडर अलॉट किए जाएंगे जिसके लिए नगर निगम द्वारा फाइल मुख्यालय में एप्रूवल के लिए भेजी गई है।
कूड़ा निस्तारण करने के लिए ठेकेदार को नगर निगम द्वारा 793 रुपए प्रति टन के हिसाब से पेमेंट की जाएगी। नगर निगम द्वारा गत माह पटवी प्लांट में पड़े कूड़े का निस्तारण करने के लिए टेंडर निकाले थे, गत दिनों टेंडर एप्रूवल कर इसे मुख्यालय मंजूरी के लिए भेजा गया था। अब बुधवार ही ठेकेदार को वर्क आर्डर अलॉट हुआ है। कंपनी को पटवी प्लांट में अब तक इकट्ठा हुए कूड़े का निस्तारण करना है। यहां पर 10 वर्षों से कूड़ा फेंका जा रहा है। ट्विन सिटी के अलावा कैंटोनमेंट बोर्ड, नारायणगढ़ नगर पालिका व पंजाब की फैक्ट्रियां भी यहां कूड़ा फेंक रही हैं जिस कारण कूड़े के 12 फुट ऊंचे ढेर लग गए हैं। अनुमान है कि करीब 4 लाख टन से ज्यादा कूड़ा यहां पर है जिसका पहले चरणबद्ध तरीके से निस्तारण किया जाना है।
नया प्लांट लगाने के लिए जल्द होगा निर्माण
पटवी प्लांट में नई मशीनें लगाने के लिए नगर निगम द्वारा जल्द कार्रवाई शुरू की जाएगी। मशीनों के लिए समतल फर्श, बाउंडरी व अन्य सिविल वर्क किए जाने हैं। निर्माण के बाद ही नई मशीनें प्लांट में लगाई जाएगी और इस कार्य को एक माह में पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया है। एक नए प्लांट से औसतन 600 टन कूड़े का निस्तारण प्रतिदिन होगा। कूड़े का सटीक अंदाजा लगाने के लिए आगामी 2-3 दिनों में प्लांट में सर्वे भी कंपनी द्वारा शुरू कर दिया जाएगा। कूड़े को सेग्रिगेट (अलग-अलग) किया जाएगा जिसके बाद खाद बनाकर निगम द्वारा इसे बेचा जाएगा। पॉलीथिन को सीमेंट प्लांट या फिर इसका रीयूज किया जा सकेगा।
2008 में 10 करोड़ से बना था प्लांट
वर्ष 2008 में 10 करोड़ रुपए की लागत से 17 एकड़ जमीन पर पटवी प्लांट को चालू किया गया था, तब बिजली व्यवस्था नहीं होने के कारण जनरेटर के माध्यम से इसे चलाया जाता था। मगर 2 वर्ष बाद प्लांट ठप हो गया। इसके बाद प्लांट को चलाने की कई कोशिशें हुई जोकि सिरे नहीं चढ़ सकी थी। प्लांट में प्रतिदिन ट्विन सिटी का लगभग 225 टन कूड़ा फेंका जाता था। सिटी से औसतन 125 टन और कैंट से 100 टन कचरा इकट्ठा किया जाता है।
मीटिंग के 1 माह के भीतर ही प्लांट चलाने की मंजूरी
राफेल विमानों की सुरक्षा को लेकर बीती 7 सितंबर को गृह मंत्री अनिल विज ने नगर निगम, नगर परिषद, कैंटोनमेंट व अन्य विभागों की संयुक्त मीटिंग बुलाई थी। इसमें चंडीगढ़ यूएलबी के चीफ इंजीनियर की अध्यक्षता में 3 सदस्यीय कमेटी गठित की गई थी। बैठक में गृह मंत्री अनिल विज ने स्पष्ट कर दिया था कि पटवी प्लांट को जल्द से जल्द चालू करना उनकी प्राथमिकता है और अधिकारियों को इस पर तेजी से काम करने को कहा था। यही वजह है कि बैठक के एक माह के भीतर ही प्लांट चालू करने की मंजूरी प्रदान कर दी गई है।
पटवी प्लांट में पड़े पुराने कूड़े का निस्तारण किया जाना है जिसके लिए टेंडर अलॉट कर दिए हैं और जल्द कार्य शुरू कर दिया जाएगा। डोर-टू-डोर कांट्रेक्ट के टेंडर अप्रूवल के लिए फाइल मुख्यालय भेजी गई है। अप्रूवल मिलते ही यह कांट्रेक्ट अलॉट किया जाएगा। -पार्थ गुप्ता, आयुक्त, नगर निगम, अम्बाला सिटी।

No comments:

Post a Comment