/>

Breaking

Thursday, October 8, 2020

स्वास्थ्य विभाग की कार्रवाई:विधायकों के फोन न उठाने और आउटसोर्सिंग में भ्रष्टाचार के आरोप पर कैथल के सिविल सर्जन सस्पेंड

स्वास्थ्य विभाग की कार्रवाई:विधायकों के फोन न उठाने और आउटसोर्सिंग में भ्रष्टाचार के आरोप पर कैथल के सिविल सर्जन सस्पेंड

कैथल : सिविल सर्जन डाॅ. जयभगवान जाटान को स्वास्थ्य विभाग ने बुधवार को सस्पेंड कर दिया। सिविल सर्जन के खिलाफ विधायक लीलाराम गुर्जर व कौल सीएचसी के डाॅ. अजय शेर ने मंत्री अनिल विज को शिकायत की थी। उनके सस्पेंड होने का कारण विधायकों को जानकारी दिए बिना आउटसोर्सिंग पर भर्ती करना माना जा रहा है। भर्ती में भ्रष्टाचार की आशंका के भी आरोप हैं।
विधायक लीलाराम गुर्जर ने दो दिन पहले स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखकर सिविल सर्जन को सस्पेंड करने की मांग की थी, जिसमें आरोप लगाए थे कि सिविल सर्जन के खिलाफ भ्रष्टाचार की शिकायतें मिल रही हैं। फोन करते हैं तो ऐसा लगता है कि अधिकारी नशे में है। सीएमओ ने अपने अधीनस्थ अधिकारियों को भी आदेश दिए हुए हैं कि वे कैथल व पूंडरी के विधायकों के फोन न उठाएं। विधायक लीलाराम के अलावा कौल सीएचसी के एसएमओ डाॅ. अजय शेर ने भी 28 सितंबर को पत्र लिखकर सीएमओ पर भ्रष्टाचार व नाजायज परेशान करने के आरोप लगाए थे।
सिविल सर्जन डाॅ. जयभगवान जाटान ने इस मामले पर कोई भी टिप्पणी करने से मना कर दिया। जयभगवान जून में जींद के सिविल सर्जन रहते एएमओ भर्ती विवाद में सस्पेंड हुए थे। उन पर हाईकोर्ट के स्टे होने के बावजूद एनएचएम में कॉन्ट्रैक्ट पर एएमओ की भर्ती करने व भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे। जींद विधायक डाॅ. कृष्ण मिड्ढा के साथ भी इनका विवाद रहा था और कहा था कि विधायक प्रेशर बना रहे हैं। इससे पहले उनके गुड़गांव समेत दो जगह भी सस्पेंड होने की बात आई है।

No comments:

Post a Comment