/>

Breaking

Thursday, October 8, 2020

सर्वर डाउन होने से नहीं पहुंच रहे मैसेज:दादरी को छोड़ अन्य जगहों पर खरीद गड़बड़ाई एक सप्ताह में सौ से भी कम का खरीदा अनाज

सर्वर डाउन होने से नहीं पहुंच रहे मैसेज:दादरी को छोड़ अन्य जगहों पर खरीद गड़बड़ाई एक सप्ताह में सौ से भी कम का खरीदा अनाज

चरखी दादरी : जिले में एक अक्टूबर से बाजरे की सरकारी खरीद तो शुरू हो गई है लेकिन कभी सर्वर डाउन तो कभी पंचकूला से किसानों के पास मैसेज ही नहीं पहुंच रहा। इन दोनों समस्याओं के चलते जिले में किसानों का बाजरा उनके ट्रैक्टर ट्रॉली में ही भरा पड़ा हुआ है। दोनों ही समस्याओं के चलते जिले में 8 खरीद केंद्रों में से अटेला खुर्द और दगड़ौली में तो किसानों के बाजरे का एक दाना तक नहीं खरीदा जा सका है। जबकि अन्य 6 खरीद केंद्रों में सिर्फ दादरी को छोड़कर किसी में भी नियम के अनुसार एक सप्ताह में 350 किसानों का बाजरा नहीं खरीदा गया है। वहीं एक सप्ताह में सिर्फ 711 किसानों का ही बाजरा खरीदा गया है।

अटेला खुर्द व दगड़ौली में अभी तक नहीं हो पाई खरीद

इस बार नई अनाज मंडी में कोरोना महामारी के चलते भीड़ कम रखने के लिए 8 खरीद केंद्र बनाए गए थे। इनमें अटेला खुर्द व दगड़ौली खरीद केंद्र भी शामिल हैं। लेकिन एक अक्टूबर से इन दोनों ही खरीद केंद्रों पर बाजरा बेचने के लिए किसानों के पास पंचकूला एचएसएमएबी की तरफ से मैसेज ही नहीं पहुंचा है। इसलिए इन दोनों खरीद केंद्रों पर बाजरा बेचने के लिए किसान इंतजार कर रहे हैं।

दादरी को छोड़कर किसी भी खरीद केंद्र पर 100 किसानों का नहीं खरीदा बाजरा

जिले में बाजरा खरीद के लिए प्रशासन ने शुरूआत में 11 खरीद केंद्र बनाए थे। लेकिन बाद में 8 खरीद केंद्र निर्धारित कर दिए थे। सरकार के नियम अनुसार हर एक खरीद केंद्र पर प्रतिदिन 50 किसानों का बाजरा खरीदा जाना है। एक अक्टूबर से जिले में बाजरे की खरीद शुरू कर दी गई थी। ऐसे में एक से लेकर 7 अक्टूबर तक एक खरीद केंद्र पर करीब 350 किसानों का बाजरा खरीदा जाना चाहिए था। लेकिन सिर्फ दादरी नई अनाज मंडी में 350 किसानों का बाजरा खरीदा गया है बाकि सभी केंद्रों पर सौ-सौ किसानों का भी बाजरा नहीं खरीदा गया है।

पंचकूला से मैसेज आने पर ही होगी खरीद: मैनेजर

दगड़ौली व अटेला खुर्द में अब तक एक भी किसान के पास बाजरा बेचने के लिए मैसेज नहीं पहुंचा है। इस बार पंचकूला एचएसएमएबी सीधे तौर पर किसानों के पास बाजरा बेचने के लिए मैसेज भेज रहा है। कभी कभी सर्वर भी डाउन हो जाता है। ऐसे में खरीद नहीं हो पाती है। अब तक 711 किसानों से 18 हजार 616 क्विंटल बाजरा खरीदा जा चुका है। -विरेंद्र सिंह, मैनेजर, सरकारी खरीद एजेंसी हैफेड।

No comments:

Post a Comment