/>

Breaking

Tuesday, November 17, 2020

कक्षाएं शुरू:निदेशालय ने जारी की गाइडलाइन, कॉलेजों में लगेंगी नियमित कक्षाएं, माता-पिता से लाना होगा अनुमति पत्र

कक्षाएं शुरू:निदेशालय ने जारी की गाइडलाइन, कॉलेजों में लगेंगी नियमित कक्षाएं, माता-पिता से लाना होगा अनुमति पत्र

जींद : उच्चतर शिक्षा निदेशालय ने एक बार फिर कॉलेजों में कक्षाएं लगाने को लेकर अपनी स्थिति स्पष्ट कर दी है। अब नियमित से कॉलेजों में कक्षाएं लगेंगी। इसके लिए कॉलेज में आने वाले विद्यार्थियों को अपने *माता-पिता से हस्ताक्षरित अनुमति पत्र लाना होगा।*
उसके बाद ही कॉलेज में कक्षाएं लगाने की अनुमति विद्यार्थियों को मिलेगी। इसके अलावा कॉलेज में केवल उन्हीं विद्यार्थियों को एंट्री दी जाएगी, जो मास्क लगाकर आएंगे। बिना मास्क आने वाले विद्यार्थियों की एंट्री नहीं होगी। विद्यार्थी चाहे तो पानी की बोतल भी साथ ला सकेंगे। इसके अलावा कॉलेजों को सेनिटाइज कराने का काम किया जा रहा है। साथ ही तापमान चेक करने के लिए स्क्रीनिंग मशीनों की व्यवस्था कर ली गई है।
सोशल डिस्टेंस का पालन करके कॉलेजों में कक्षाएं लगाई जाएंगी। उच्चतर शिक्षा निदेशालय ने इसके लिए सभी कॉलेज प्रिंसिपल और विश्वविद्यालयों को पत्र जारी कर दिया है। कॉलेजों को कोविड-19 के नियमों के तहत कक्षाएं लगाने के निर्देश दिए गए हैं।
हालांकि अब भी कॉलेजों में विद्यार्थियों की उपस्थिति नाममात्र की है। कॉलेजों द्वारा ऑनलाइन क्लासेज भी लगाई जा रही है।

*प्रतिदिन की हाजिरी करनी होगी अपलोड*

उच्चतर शिक्षा निदेशालय ने सोमवार को निर्देश जारी किए हैं कि अब संबंधित कॉलेज आने वाले विद्यार्थियों की हाजिरी ईआरपी पोर्टल पर दोपहर तीन बजे तक प्रतिदिन अपलोड करेंगे। इससे पता चल सकेगा कि कॉलेज में कितने विद्यार्थी प्रतिदिन आ रहे हैं।

*जल्द बनाया जाएगा स्टूडेंट अटेंडेंस पोर्टल* : 

उच्चतर शिक्षा निदेशालय द्वारा जल्द ही स्टूडेंट अटेंडेंस पोर्टल पर भी लांच किया जाएगा। इस पर छात्रों की हाजिरी भरी जा सकेगी।

पहले दिन छात्र संख्या कम थी

कॉलेजों में नियमित कक्षाएं लगनी शुरू हो गई हैं। पहला दिन होने के कारण छात्र संख्या कम थी, लेकिन मंगलवार से नियमित कक्षाएं कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए लगाई जाएंगी। छात्राओं को आने से पहले उन्हें माता-पिता से अनुमति पत्र लाने को कहा गया है, जिसे ग्रुपों में भेज दिया गया है। डॉ. मंजूलता रेढू, प्रिंसिपल, राजकीय महिला कॉलेज, पिल्लूखेड़ा।

No comments:

Post a Comment