/>

Breaking

Monday, November 9, 2020

हुड्‌डा और स्पीकर आमने-सामने:स्पीकर ने कहा- सुर्खियां बटोरने के लिए भूपेंद्र हुड्‌डा की नकारात्मक बयानबाजी ठीक नहीं

हुड्‌डा और स्पीकर आमने-सामने:स्पीकर ने कहा- सुर्खियां बटोरने के लिए भूपेंद्र हुड्‌डा की नकारात्मक बयानबाजी ठीक नहीं

चंडीगढ़ : विधानसभा में कृषि कानूनों पर हुए हंगामे की सियासत की आंच ठंडी नहीं हुई है। इस मामले में नेता प्रतिपक्ष एवं पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा और हरियाणा विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता आमने-सामने हैं। हुड्‌डा ने एक दिन पहले सदन में लोकतंत्र का गला घोटने के आरोप लगाए थे, जिसे स्पीकर ने गैरजिम्मेदाराना बताया। गुप्ता ने कहा कि इतने महत्वपूर्ण विषय पर वरिष्ठ नेताओं से गंभीर चर्चा की अपेक्षा थी, लेकिन पता नहीं किन कारणों से चर्चा में भाग नहीं लिया।
सुर्खियों के लिए नकारात्मक बयानबाजी ठीक नहीं है। सदन की कार्रवाई का संचालन नियमाें के तहत किया गया है। कृषि कानूूनों के खिलाफ कांग्रेस को प्रस्ताव लेकर आना था तो कांग्रेस काे नियमों का पालन करना चाहिए था। कोई भी गैर सरकारी संकल्प या प्राइवेट मेंबर बिल सत्र शुरू होने से 15 दिन पहले पेश किया जा सकता है।
स्पीकर का कहना है कि कांग्रेस कृषि अधिनियमों के खिलाफ जो प्रस्ताव लेकर आ रहे थी, उसमें 'अधिनियम' की बजाय 'अध्यादेश' का जिक्र था। अध्यादेश तो अधिनियम बन चुके हैं। नियम-184 में स्पष्ट है कि संशोधन प्रस्ताव पेश होने की स्थिति में चर्चा की जाती है, उसके बाद वोटिंग। कांग्रेस पहले वोटिंग चाहती थी। इधर, नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र हुड्‌डा का कहना है कि नियम-183 में स्पष्ट है कि चर्चा से पहले वोटिंग हो सकती है। हमने इसी की डिमांड की थी, लेकिन सरकार वोटिंग कराने से डर गई।

एमबीबीएस की फीस बढ़ाना, गरीब का सपना तोड़ना : सुरजेवाला

राज्य सरकार की ओर से सरकारी मेडिकल काॅलेजों में फीस बढ़ोतरी पर विपक्ष ने सरकार को घेरा। इस फैसले को गरीबों के डॉक्टर बनने के सपने को तोड़ने वाला बताया। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने मेडिकल की पढ़ाई महंगी कर दी है। 4 साल में 40 लाख रुपए का लोन लेने पर ब्याज समेत विद्यार्थी को 55 लाख रुपए चुकाने होंगे।
पहले तो गरीब परिवार का बच्चा अब डॉक्टर नहीं बन सकेगा, जो डॉक्टर बनेगा, वह महंगा इलाज करेगा। दोनों तरफ से मार गरीब पर पड़ेगी। सरकार गरीब विद्यार्थियों को प्राइवेट मेडिकल कॉलेज की ओर धकेलना चाहती है, ताकि वो वहां दाखिला लें और प्राइवेट कॉलेज कमाई कर पाएं।

No comments:

Post a Comment