/>

Breaking

Friday, April 30, 2021

जींद में जहरीली लस्सी पीने से एक और व्यक्ति की मौत

जींद में जहरीली लस्सी पीने से एक और व्यक्ति की मौत 

जींद /जुलाना :  23 अप्रैल को उधार की मांगी गई लस्सी पीने से पडाना गांव दो लोगों की मौत हो गई थी जबकि एक चार वर्ष की बच्ची सहित सात लोगों की तबीयत बिगड़ गई थी, जिनका उपचार रोहतक, हिसार व जींद के अस्पतालों में चल रहा है। वीरवार को धर्मपाल (55) ने ईलाज के दौरान दम तोड़ दिया। घटना के बाद धर्मपाल को हिसार के नीजि अस्पताल में भर्ती करवाया गया था लेकिन तीन दिन पहले उसे जींद के एक नीजि अस्पताल में दाखिल करवाया गया था जहां पर उसने ईलाज के दौरान दम तोड़ दिया और उसकी चार वर्षीय पोती की हालत गंभीर बनी हुई है। गांव पडाना का छोटू गांव में परचून की दुकान कर अपना तथा अपने परिवार का पेट पालता है। छोटू दो-तीन भैंस भी रखता है। छोटू के घर से उसके परिवार के लोग व कई पड़ौसी पीने के लिए प्रतिदिन लस्सी लेकर जाते हैं। गुरुवार को छोटू दुकान का समान लेने के लिए जींद चला गया। छोटू का भाई 50 वर्षीय रोहताश, पड़ौसी जयनारायण, रामदिया, रविंद्र व खुशीराम का परिवार के लोग लस्सी लेकर गए। यह लस्सी रोहताश, रोहताश की पत्नी मंजू, भाई राजा, पड़ाौसी जय नारायण, धर्मपाल, धर्मपाली की चार वर्षीय पौती प्राचाी, रविंद्र व खुशीराम ने खाना खाने के साथ पी ली। लस्सी पीने के थोड़ी देर बात इन सभी की हालत बिगड़ने लगी। हालत बिगड़ने पर सभी को जींद के सरकारी अस्पताल व निजी अस्पतालों में ले जाया गया। रोहताश, जयनारायण व प्राची को हालत गंभीर होने के कारण डाक्टरों ने पीजीआई रोहतक रेफर कर दिया। पीजीआई में पहंुचने से पहले की जय नारायण ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। 23 अप्रैल देर सायं पीजीआई में उपचार के दौरान रोहताश की भी मौत हो गई थी। धर्मपाल की मौत के बाद परिवार पर दूखों का पहाड़ टूट पड़ा है। इसके अलावा उसकी 4 वर्षीय पौती और राजा का ईलाज अभी भी चल रहा है। दादा की मौत के बाद पोती की हालत गंभीर बनी हुई है।

No comments:

Post a Comment