/>

Breaking

Monday, May 10, 2021

रोजाना कई बसें सवारियों को लेकर बिहार, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ रवाना हो रहीं

रोजाना कई बसें सवारियों को लेकर बिहार, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ रवाना हो रहीं


बहादुरगढ़ : कोरोना संक्रमण के बीच बहादुरगढ़ से दूसरे प्रदेशों के लोगों का पलायन का सिलसिला खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। पहले दिल्ली में लॉकडाउन, फिर हरियाणा में नाइट कर्फ्यू और उसके बाद एक सप्ताह के लॉकडाउन लगने के कारण पलायन करने वालों की अच्छी खासी संख्या देखी जा रही है। बीते वर्ष के कटु अनुभवों को देखते हुए इस बार हालात खराब होने से पहले ही मजदूर अपने राज्यों को लौट रहे हैं। प्रवासी मजदूरों के काम छोड़कर अपने राज्य लौटने का क्रम जारी है। बीते साल भी लॉकडाउन के दौरान मजदूरों को काफी परेशानी आई थी। मजदूरों को दो वक्त का खाना भी नसीब नहीं हो पा रहा था। इस बार भी लॉकडाउन लगते ही निर्माण कार्य धीमे पड़ गए हैं। फैक्ट्रियों व कंपनियों में श्रमिकों को वेतन नहीं मिल रहा। ऐसे में खर्च निकालना मुश्किल होता देख मजदूर पलायन कर रहे हैं। रोजाना कई बसें सवारियों को लेकर बिहार, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ आदि जा रही हैं। वहीं, जिन लोगों को इन बसों में जगह नहीं मिल रही, वे अन्य माध्यमों से दिल्ली पहुंच रहे हैं। वहां से रेल और बसें पकड़कर अपने घरों को लौट रहे हैं। सांखोल से एक बस भरकर प्रवासी बिहार के अररिया जिले को रवाना हुए। बस में सवार होने से पहले मुकेश व अरविंद ने बताया कि हालात खराब होंगे तो मुश्किलें बढ़ जाएंगी। काफी मजदूर घर वापस जा चुके हैं। अब वे भी बस करके वापस जा रहे हैं। बीसीसीआई उपाध्यक्ष नरेंद्र छिकारा के अनुसार औद्योगिक इकाइयों में लेबर कम होने से भी कामकाज प्रभावित हो रहा हैै। उद्योगपतियों और कंपनियों के संचालकों ने कर्मचारियों को नौकरी छोड़कर नहीं जाने की अपील भी की है, लेेकिन लॉकडाउन के चलते दूसरे प्रदेशों के लोग लगातार बहादुरगढ़ से पलायन कर रहेे हैं।

No comments:

Post a Comment