/>

Breaking

Friday, May 28, 2021

रामदेव के एलोपैथी - आयुर्वेद विवाद को लेकर विज का बड़ा बयान

रामदेव के एलोपैथी - आयुर्वेद विवाद को लेकर विज का बड़ा बयान
चंडीगढ़ : कोरोना संकट के बीच देश में आयुर्वेद और एलोपैथिक की जंग अब और जोरदार हो गई है।  मुद्दा बाबा रामदेव के नए वीडियो के बाद और गरम हो गया है। इंडियन मेडिकल एसोसिशन (IMA) ने बाबा के खिलाफ सख्त एक्शन की मांग की तो उन्होंने साफ-साफ कह दिया कि रामदेव को किसी का बाप अरेस्ट नहीं कर सकता।  मामला तूल पकड़ता गया तो स्वास्थ्य मंत्री की चिट्ठी के बाद अपना बयान वापस ले लिया था। लेकिन IMA बाबा रामदेव को कतई बख्शने के मूड में नहीं है।  एलोपैथिक डॉक्टरों ने रामदेव के खिलाफ हल्ला बोल दिया है। थाने में शिकायत भी दर्ज करा दी गई है।  साथ ही एक हजार करोड़ रुपये का मानहानि को नोटिस भी रामदेव को भेजा गया है।  ऐसे में बाबा रामदेव को एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है, जिसमें बाबा कह रहे हैं कि किसी का बाप उन्हें अरेस्ट नहीं कर सकता। 
आईएमए व बाबा रामदेव के बीच शुरू हुआ विवाद तो थमता नजर नहीं आ रहा लेकिन इसी कड़ी के तहत हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने एक बार फिर आईएमए व रामदेव द्वारा बनाई गई दवाई को लेकर चल रहे विवाद के बीच बड़ी बात कहीं। विज ने कहा कि विवाद थमना चाहिए, क्योंकि एलोपैथी व आयुर्वेद का अपना अपना महत्व है और दोनों को एक दूसरे की सहयोगी पैथी बनना चाहिए। अनिल विज ने कहा कि आईएमए व रामदेव के बीच चल रहा विवाद थमना चाहिए और यह विवाद गलत है। सभी पैथियां अपनी अपनी जगह सही है। एक दूसरे को गलत कहने की बजाए एक दूसरे की सहयोगी पैथी बनना चाहिए। विज ने कहा कि एलोपैथी ने भी बहुत काम किया है और आयुर्वेद भी बहुत काम करता है।
वहीँ एम्स के डॉक्टर बाबा रामदेव पर सवाल उठा रहे हैं तो बाबा ने भी पतंजलि के लेटरपैड पर लिखी एक चिट्ठी में आईएमए से 25 सवाल किए हैं। इस पर उनके हस्ताक्षर भी हैं।  बाबा ने इस पत्र में हेपेटाइटिस, लीवर सोयराइसिस, हार्ट एनलार्जमेंट, शुगर लेवल 1 और 2, फैटी लीवर, थायराइड, ब्लॉकेज, बाईपास, माइग्रेन, पायरिया, अनिद्रा, स्ट्रेस, ड्रग्स एडिक्शन, गुस्सा आदि पर स्थायी इलाज को लेकर सवाल पूछे हैं। 
इस बीच आयुर्वेद और एलोपैथ की ये लड़ाई एम्स के बाहर तक आ गई है। एम्स के डॉक्टर बाबा रामदेव के खिलाफ विरोध के पोस्ट लेकर खड़े हो गए और जब बाबा के खिलाफ शिकायत दर्ज हुई तो, बाबा ने कह दिया कि किसी का बाप उन्हें अरेस्ट नहीं कर सकता। हालांकि बाबा रामदेव के सहयोगी आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह से बाबा के बचाव में खड़े हैं, वो कह रहे हैं कि कोरोनिल की कामयाबी लोगों को चुभी है।  बाबा ने जो भी कहा है उसका गलत मतलब निकाला जा रहा है। आचार्य बालकृष्ण ने योग गुरु को सही ठहराते हुए कहा कि कोरोनिल की सफलता से एलोपैथिक डॉक्टर्स बौखलाए हुए हैं।  बालकृष्ण ने बाबा की तरफ से सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने केवल एक मैसेज को पढ़कर सुनाया था।  साथ ही ये भी कहा कि आयुर्वेद और एलोपैथ को मिलकर जुलकर काम करना चाहिए। 

No comments:

Post a Comment