/>

Breaking

Wednesday, May 19, 2021

सीएम मनोहर लाल माफी मांगे अन्यथा कार्यवाई करे राज्यपाल--कांग्रेस

सीएम मनोहर लाल माफी मांगे अन्यथा कार्यवाई  करे राज्यपाल--कांग्रेस
-हिसार घटना की निंदा करते हुए कांग्रेसियों ने राज्यपाल के नाम सीटीएम को सौंपा ज्ञापन
जींद : ( संजय कुमार ) कांग्रेसियों ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल हिसार घटना पर माफी मांगे या फिर उनके खिलाफ कोविड नियमों का उल्लंघन करने पर कार्यवाई की जानी चाहिए। इस संबंध में मंगलवार को कांग्रेसियों ने महामहिम राज्यपाल के नाम सीटीएम दर्शन एफव को ज्ञापन सौंपा। खट्टर या 
ज्ञापन देने वालों में मुख्यतया युवक कांग्रेस के जिला प्रधान अमनदीप बेलरखं, प्रमोद सहवाग, रणबीर पहलवान, प्रदीप गिल, प्रो. रमेश सैनी, ज्योति ग्रोवर व पार्षद नरेश सैनी, ऋषिपाल सिहाग शामिल थे। 
सीटीएम दर्शन यादव को सौंपे ज्ञापन में कांग्रेसियों ने कहा कि  16 मई को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल कोविड-19 के सभी नियमों को ताक पर रखकर हिसार में एक अस्थाई कोविड-19 हस्पताल का उदघाटन करने गए थे। हरियाणा की भाजपा-जजपा सरकार ने वैसे तो कोरोना महामारी को लेकर प्रदेश में लॉकडाउन व धारा 144 लगाई हुई है, परंतु प्रदेश के मुखिया ही स्वयं कानून की धज्जियां उड़ा रहे हैं। अगर प्रदेश का मुख्यमंत्री ही कानून के खिलाफ कार्य करेंगे तो प्रदेश की जनता को कोविड-19 की पालना के लिए कैसे बाध्य कर पाएंगे।
ज्ञापन में राज्यपाल को याद दिलाया कि आपको ज्ञात है कि देश का किसान पिछले 6 महीने से भी अधिक समय से मोदी सरकार द्वारा थोपे गए कृषि विरोधी तीन काले कानूनों के विरोध में शांतिपूर्ण तरीके से लगातार संघर्ष कर रहा है। हमारे अन्नदाता की आवाज को न तो केंद्र की सरकार सुन रही है और ना ही हरियाणा की भाजपा- जजपा सरकार। हरियाणा का किसान अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है और परेशान है। ऐसे में स्वाभाविक है कि प्रदेश के किसान ने अपनी आवाज सरकार के कानों तक पहुंचाने के लिए 16 मई को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का हिसार में शांतिपूर्ण तरीके से विरोध किया,  परंतु प्रदेश की तानाशाही सरकार के इशारे पर हरियाणा पुलिस द्वारा किसानों पर बर्बरता पूर्ण तरीके से पेलट गन, लाठीचार्ज और आंसू गैस का प्रयोग किया गया, जिसमें सैकड़ों किसानों व महिलाओं को गंभीर चोटें आई हैं।
हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रदेश के अन्नदाता के साथ किए गए ऐसे घिनौने कृत्य और मुख्यमंत्री द्वारा कानून की धज्जियां उड़ाने की घोर निंदा करती है। ज्ञापन में अनुरोध किया गया कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा कोविड-19 प्रोटोकॉल  धारा 144 का उल्लंघन करने पर उनके विरुद्ध उचित कार्रवाई की जाए। मांग की गई कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल सार्वजनिक रूप से इस बर्बर कृत्य के लिए माफी मांगे व कृषि विरोधी तीन काले कानून जल्द से जल्द रद्द किए जाएं।

No comments:

Post a Comment