/>

Breaking

Thursday, June 10, 2021

साल का पहला सूर्य ग्रहण आज

साल का पहला सूर्य ग्रहण आज, जानें किन शहरों में दिखाई देगा असर और क्या बरतें सावधानी!
नई दिल्ली :  साल 2021 का पहला सूर्य ग्रहण आज यानी गुरुवार को है। सूर्य ग्रहण की खगोलीय घटना तब होती है जब सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी एक सीधी रेखा में आ जाते हैं। आज लगने वाला सूर्य ग्रहण वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा। जिस कारण दिन में सूर्य ग्रहण के समय कई देशों में रिंग ऑफ फायर का नजारा भी देखने को मिलेगा। वलयाकार ग्रहण के दौरान चंद्रमा की परछाई सूर्य के करीब 94 फ़ीसदी हिस्से को पूरी तरह से घेर लेती है जिस कारण इस दौरान सूर्य हीरे की अंगूठी की तरह चमकता दिखाई देता है।

भारतीय समय के अनुसार, सूर्य ग्रहण दोपहर 1:00 बजकर 42 मिनट से शुरू होगा जबकि शाम 6 बजकर 40 मिनट पर समाप्त हो जाएगा। आज लगने वाले सूर्य ग्रहण का भारत में असर ज्यादा देखने को नहीं मिलेगा। एम पी बिरला तारामंडल के निर्देशक देवीप्रसाद दुरई ने बताया कि अरुणाचल प्रदेश के कुछ इलाकों में शाम 5 बजकर 52 मिनट पर जबकि लद्दाख के उत्तरी हिस्सों में 6 बजकर 15 मिनट सूर्य ग्रहण दिखाई देगा। अरुणाचल प्रदेश दिबांग वन्य जीव अभ्यारण के पास सूर्य ग्रहण के समय खगोलीय घटना को भी देखा जा सकता है। भारत के अलावा सूर्य ग्रहण का असर उत्तरी अमेरिका, यूरोप और एशिया की बड़े क्षेत्र में देखा जा सकता है। हालांकि अधिकांश देशों में सूर्य ग्रहण का असर आंशिक रूप से दिखाई देगा। भारतीय समय अनुसार पूर्वाहन 11 बजकर 42 मिनट पर आंशिक सूर्यग्रहण होगा और अपराहन 3 बजकर 30 मिनट से वलयाकार का रूप लेना शुरू करेगा जबकि शाम करीब 5:00 बजे तक आकाश में सूर्य आग की अंगूठी की तरह दिखाई देगा।

ज्योतिर्विद पंडितों के अनुसार, ग्रहण शब्द ही अपने आप में नकारात्मक है। ज्योतिषी की माने तो ग्रहण कहीं भी लगे, आपके इलाके में उसका असर हो या न हो लेकिन उसका प्रभाव मानव के ऊपर पड़ता ही है। इसलिए ग्रहण के दौरान लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत है। ग्रहण के समय में शुभ कार्य करने से बचें। भोजन न बनाएं , धारदार वस्तुओं का प्रयोग न करें। ग्रहण काल के दौरान सोने से बचें। भगवान की मूर्तियों को स्पर्श न करें. दातुन न करें । ग्रहण के समय बालों में कंघी करने से भी बचें। आज लगने वाले ग्रहण के दौरान खास तौर पर वृष, मिथुन, सिंह, तुला और मकर राशि के लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत है।
हिंदू पंचांग के अनुसार, आज का दिन इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि आज न्याय के देवता भगवान शनि का जन्म हुआ था। जिस कारण आज शनि जयंती भी मनाई जाती है। आज ही के दिन वट सावित्री व्रत भी रखा जाता है।

No comments:

Post a Comment