/>

Breaking

Tuesday, July 20, 2021

चौटाला की नई सियासी पारी की शुरुआत किसानों से

चौटाला की नई सियासी पारी की शुरुआत किसानों से:

 गाजीपुर बॉर्डर व पलवल में चल रहे आंदोलन में पहुंचेंगे इनेलो सुप्रीमो, JBT घोटाले में सजा काटकर लौटे हैं पूर्व CM
रेवाड़ी : सियासत के मंझे हुए खिलाड़ी पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला प्रदेश में अपनी नई सियासी पारी की शुरुआत करने जा रहे हैं। चौटाला किसान आंदोलन के जरिए अपनी पार्टी इंडियन नेशलन लोकदल को नए सिरे से खड़ा करने की जुगत में लगे हैं। आंदोलनरत किसानों के प्रति उनकी हमदर्दी पहले भी देखने को मिली है, लेकिन कानूनी अड़चनों के चलते अभी तक वह किसानों के धरने में शामिल नहीं हो पाए थे।
लेकिन हाल में ही जेबीटी भर्ती मामले में सजा पूरी होने के बाद रिहा हुए चौटाला ने अपनी नई सियासी पारी की शुरुआत किसान आंदोलन से शुरू करने का फैसला किया है। इसके लिए चौटाला 20 जुलाई को हरियाणा के पलवल में चल रहे किसानों के धरने व गाजीपुर बॉर्डर पर बैठे किसानों के बीच पहुंचेंगे। इसकी जानकारी उनके पुत्र अभय चौटाला ने ट्वीट करके दी है।
बता दें कि ओमप्रकाश चौटाला 4 बार हरियाणा के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। आखिरी बार उनका कार्यकाल 2005 में पूरा हुआ था। पिछले विधानसभा चुनाव से पहले उनकी इनेलो पार्टी दो फाड़ हो गई थी। अजय चौटाला के पुत्र दुष्यंत चौटाला ने बगावत करके अपनी नई पार्टी जन नायक जनता पार्टी का गठन कर लिया था। उसके बाद से इनेलो एक जिले तक सिमट कर रह गई थी।
कई बड़े सीनियर नेता पार्टी छोड़कर दूसरे दल में चले गए थे। चौटाला जेबीटी भर्ती मामले में तिहाड़ जेल में सजा काट रहे थे, इसलिए पार्टी को संभालने का दारोमदार छोटे बेटे अभय चौटाला पर रहा। लेकिन पिछले दिनों सजा पूरी होने के बाद ओम प्रकाश चौटाला जैसे ही जेल से बाहर आए, उसके बाद से ही पार्टी को नए सिरे से खड़ा करने को लेकर मंथन चल रहा है।
ओम प्रकाश चौटाला भली भांति जानते हैं कि इस समय प्रदेश में सबसे बड़ा आंदोलन कोई चल रहा है तो वह किसान आंदोलन है और इसी को भुनाकर नए तरीके से पार्टी को खड़ा किया जा सकता है। वैसे भी कांग्रेस से लेकर अन्य विपक्षी दल किसान आंदोलन के जरिए समय- समय पर सरकार पर निशाना साधने के साथ ही उनके हमदर्द बनने में हर संभव कोशिश करते रहे हैं।
यही कारण है कि ओमप्रकाश चौटाला ने भी जेल से बाहर आने के बाद अब नई सियासी पारी की शुरुआत किसान आंदोलन के जरिए करने का निर्णय लिया। पलवल व गाजीपुर बॉर्डर पर जाने के बाद चौटाला पूरे प्रदेश के भ्रमण पर निकलकर कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे।

No comments:

Post a Comment