/>

Breaking

Wednesday, July 22, 2020

शिक्षा विभाग की योजना: प्रदेश में आंगनबाड़ी की जगह खुलने हैं प्ले स्कूल, एनटीटी,जेबीटी,बीए,एमए पास को देंगे प्राथमिका,रिकॉर्ड मांगा

शिक्षा विभाग की योजना: प्रदेश में आंगनबाड़ी की जगह खुलने हैं प्ले स्कूल, एनटीटी,जेबीटी,बीए,एमए पास को देंगे प्राथमिका,रिकॉर्ड मांगा

चंडीगढ़। प्रदेश में आंगनबाड़ी केंद्रों की जगह शुरू किए जा रहे एक हजार प्ले स्कूलों में जाने वाले बच्चों को मासिक फीस देनी होगी। इसके लिए बाकायदा अधिकारियों की हुई बैठक में निर्णय हो चुका है। सरकार पहले चरण में चालू वित्त वर्ष में एक हजार आंगनबाड़ी केंद्रों को प्ले स्कूल में तब्दील करेगी। राज्य में चार हजार आंगनबाड़ी केंद्रों के चरणबद्ध तरीके से प्ले स्कूल में बदला जाएगा। प्रदेश में 4500 आंगनबाड़ी केंद्र इस समय स्कूलों की बिल्डिंग में संचालित हो रहें हैं। इन्हें धीरे-धीरे प्ले स्कूल में तब्दील किया जाएगा। इन प्ले स्कूलों में पाठ्यक्रम की सामग्री देने, पुस्तकें, कार्य पुस्तकें देने जैसे काम करेगा। इसके अलावा शिक्षा विभाग ने अब आंगनबाड़ी वर्करों की स्क्रिनिंग को लेकर कागजी कार्रवई शुरू कर दी है।
मौलिक शिक्षा विभाग के निदेशक प्रदीप कुमार ने बताया कि सभी अधिकारियों से जिलों में ऐसी 100-100 आंगनबाड़ी वर्करों की सूची भेजें, जिनके पास एनटीटी, जेबीटी, बीए, एमए और बीएड की शैक्षणिक योग्यताएं हैं। पिछले दिनों शिक्षा विभाग के एसीएस की ओर से राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2019 की सिफारिशों के अनुसार 3 से 6 साल के बच्चों को निशुल्क शिक्षा दिए जाने के कुछ सुझाव भी सरकार को दिए थे।

No comments:

Post a Comment