/>

Breaking

Monday, July 27, 2020

राम मंदिर की नींव के लिए भेजा गया सरस्वती नदी, कपालमोचन सरोवर और हथनीकुंड बैराज का जल साधु पवित्र जल लेकर अयोध्या के लिए हुए रवाना 5 अगस्त को मोदी रखेंगे राम मंदिर की आधारशिला

राम मंदिर की नींव के लिए भेजा गया सरस्वती नदी, कपालमोचन सरोवर और हथनीकुंड बैराज का जल साधु पवित्र जल लेकर अयोध्या के लिए हुए रवाना 5 अगस्त को मोदी रखेंगे राम मंदिर की आधारशिला


यमुनानगर। अयोध्या में बनने जा रहे राम मंदिर की नींव में पवित्र सरस्वती नदी, कपाल मोचन सरोवर और हथनीकुंड बैराज का जल भी उपयोग होगा। यमुनानगर से रविवार को संत यह जल लेकर अयोध्या के लिए रवाना हो गए हैं। इस जल का इस्तेमाल 5 अगस्त को राम मंदिर की आधारशिला रखे जाने के दौरान होगा। इस दौरान देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहेंगे।
हथनी कुंड बैराज से क्षेत्र के प्रमुख संत,राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं विश्व हिंदू परिषद के पदाधिकारी पवित्र यमुना जल लेकर अयोध्या के लिए रवाना हुए। वहां पर स्वामी महेश्वरानंद सरस्वती ने कहा कि लंबे संघर्ष व प्रतीक्षा के बाद अयोध्या में भगवान श्री राम के भव्य मंदिर का निर्माण कार्य 5 अगस्त को पूजा अर्चना के उपरांत शुरू कर दिया जाएगा।
देश की सभी पवित्र नदियों का जल पूजा में शामिल किया जाएगा। यमुना नदी,आदिबद्री से सरस्वती नदी और कपाल मोचन से पवित्र सरोवर का जल लेकर अयोध्या पहुंचेंगे। हथनी कुंड बैराज पर सुबह पूजा अर्चना के बाद यमुना नदी का जल कलश लेकर विश्व हिंदू परिषद के अधिकारी और संत रवाना हुए। आरएसएस के जिला संघचालक एडवोकेट मुकेश गर्ग ने बताया कि यमुना नदी, सरस्वती नदी, कपाल मोचन सरोवर का पवित्र जल लेकर विश्व हिंदू परिषद के अधिकारी व संत 4 अगस्त को अयोध्या पहुंचेंगे।

No comments:

Post a Comment