/>

Breaking

Wednesday, September 23, 2020

कार्रवाई पर घमासान:उद्यमी सचदेवा की अवैध फैक्ट्री बचाने के लिए सांसद-विधायक करते रहे फोन, डीटीपी ने किसी सेे नहीं की बात, चलवा दी जेसीबी

कार्रवाई पर घमासान:उद्यमी सचदेवा की अवैध फैक्ट्री बचाने के लिए सांसद-विधायक करते रहे फोन, डीटीपी ने किसी सेे नहीं की बात, चलवा दी जेसीबी

पानीपत : श्री राम दशहरा कमेटी बरसत रोड प्रधान एवं उद्यमी भीम सचदेवा की फैक्ट्री को अवैध बताकर जिला योजनाकार अधिकारी (डीटीपी) ने मंगलवार को तुड़वा दिया। कार्रवाई के दौरान डीटीपी ने न सांसद संजय भाटिया की सुनी, न ही विधायक  प्रमोद विज और विधायक महिपाल ढांडा की। सरकार के नेता व विभिन्न राजनैतिक दलों के पदाधिकारी डीटीपी को फोन करते रह गए। प्रधान सचदेवा के फोन पर आई कॉल भी डीटीपी ने नहीं सुनी। जब तक विधायक प्रमोद विज, भाजपा नेता एवं उद्यमी तरुण गांधी व कांग्रेसी नेता मुकेश टुटेजा पानीपत पहुंचे तब तक फैक्ट्री तोड़कर तहस नहस कर दी गई थी।
डीटीपी की इस कार्रवाई के विरोध में उद्योगपति सचदेवा समेत अन्य उद्यमियों में रोष है। पानीपत इंडस्ट्रियल एसोसिएशन एवं हरियाणा व्यापार मंडल का कहना है कि कोरोना महामारी में फैक्ट्रियां पहले ही भारी मंदी के दौर से गुजर रही हैं ऐसे में फैक्ट्री मालिकों को आर्थिक रूप की बजाय सरकार व इसके अधिकारी तोड़ने में लगे हैं। विधायक प्रमोद विज का कहना है कि ऐसे अधिकारी को शहर में एक मिनट भी नहीं रहने देंगे।
फैक्ट्री मालिक भीम सिंह सचदेवा का कहना है कि मैंने सीएलयू के लिए अप्लाई किया हुआ है। डीटीपी विभाग ने कुछ औपचारिकताएं पूरी करने के लिए बोला है। इनमें प्रमुख रूप से जमाबंदी देनी है। इसके लिए तहसील में अप्लाई नहीं हो पाया, क्योंकि कोरोना महामारी चली हुई है। डीटीपी ने अकेले मुझे ही टारगेट बनाया है, क्योंकि मैं विधायक महिपाल ढांडा का आदमी हूं।

अधिकारी ने सरकार को बदनाम किया : चुघ

हरियाणा व्यापार मंडल के युवा प्रदेशाध्यक्ष राकेश चुघ का कहना है कि फैक्टरियों का तोड़ा जाना किसी भी सूरत में सहन नहीं किया जाएगा। पानीपत डीटीपी जानबूझकर ईमानदार सरकार को बदनाम करने का काम कर रहा है। ऐसे अधिकारी का पानीपत में रहना सही नहीं है। उसके तबादले को लेकर शहर के उद्यमी बुधवार को शहरी विधायक प्रमोद विज से मिलेंगे। यदि प्रदेश सरकार ने डीटीपी का जल्द ही तबादला नहीं किया तो शहर के उद्यमी सड़कों पर उतरने को मजबूर होंगे। इस तरह से अफसरशाही को नहीं चलने देंगे।
10 बार कॉल किया, डीटीपी ने एक बार भी फोन नहीं उठाया, यह अच्छी बात नहीं : विज
विधायक विज का कहना है कि डीटीपी को मैंने कई फोन किए। मैंने भीम सचदेवा के फोन पर काॅल की। अधिकारी ने मेरा भी फोन सुनने से मना कर दिया। सांसद संजय भाटिया व विधायक महिपाल ढांडा ने भी फोन किए, फिर भी कार्रवाई नहीं रोकी। विज का कहना है कि ऐसे अधिकारी को पानीपत में नहीं रहने देंगे। विज ने कहा कि मैंने और विधायक ढांडा ने सीएम से मुलाकात कर मांग की थी कि जो फैक्ट्रियां पूरी बन चुकी हैं या निर्माणाधीन हैं उन्हें रेगुलाइज किया जाए। जब तक रेगुलाइज नहीं हो जाती, तब तक तोड़ा न जाए। मैंने खुद डीटीपी को 10 बार फोन किए लेकिन उसने नहीं उठाए। यह डीटीपी के लिए अच्छी बात नहीं है। मैं इस अधिकारी से पूछना चाहता हूं कि इसे अगर विधायक से बात नहीं करनी तो किससे करनी है।

फाइल दिखाई,लेकिन नहीं देखी :सचदेवा

उद्यमी भीम सिंह सचदेवा का कहना है कि 7 माह पहले दोनों विधायकों ने भरोसा दिलाया था कि शहर में कोई भी फैक्ट्री नहीं तोड़ने दी जाएगी। मैंने सीएलयू के लिए आवेदन किया हुआ है। कोविड के चलते तहसील से जमाबंदी नहीं मिल पाई है। मैंने आवेदन फाइल भी दिखाई, लेकिन नहीं देखी। मैं सरकार से पूछना चाहता हूं कि फैक्ट्री में काम करने वाले ये लोग कहां जाएंगे। यहां काम करने वाले रोटी कहां से खाएंगे।

कई नोटिस दिए, जवाब नहीं आया : डीटीपी

यह फैक्ट्री अवैध थी तो तोड़ी है। इसके आसपास बनी कॉलोनियां भी अवैध है। यहां पर कॉलोनी का नाम कुछ नहीं है। यहां पर कुछ फैक्ट्रियां भी अवैध हैं। फैक्ट्री मालिक को हमने कई बार नोटिस दिए, लेकिन उसका कोई जवाब नहीं आया। हमने विभागीय कार्रवाई की है। अवैध फैक्ट्रियों या कॉलोनियों पर कार्रवाई जारी रहेगी। -ललित कुमार, डीटीपी, पानीपत।

No comments:

Post a Comment