/>

Breaking

Tuesday, September 22, 2020

नौकरी के बहाने ठगी:हरियाणा सरकार की फर्जी वेबसाइट बना निकालीं डीसी रेट पर नौकरियां, फार्म फीस 320 रुपए ऑनलाइन मांग रहे

नौकरी के बहाने ठगी:हरियाणा सरकार की फर्जी वेबसाइट बना निकालीं डीसी रेट पर नौकरियां, फार्म फीस 320 रुपए ऑनलाइन मांग रहे

रोहतक : काेराेना काल में प्रदेश में युवाओं को नौकरी लगवाने के नाम पर ठगी के मामले आए दिन नए सामने आ रहे हैं। अब शातिरों ने एक और नया तरीका अपनाया है। हरियाणा सरकार की वेबसाइट से मिलते-जुलते नाम वाली वेबसाइट बनाकर उस पर डीसी रेट पर नौकरी का झांसा देकर ठगी का प्रयास किया जा रहा है।
झज्जर के एडवोकेट रविंद्र कौशिक ने रोहतक रेंज के एडीजीपी संदीप खिरवार को शिकायत देकर मामले के बारे में अवगत करवाया है। कुछ शातिरों ने हरियाणा सरकार की वेबसाइट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू.हरियाणा.गवर्नमेंट.इन की तरह के नाम की एक मिलती-जुलती वेबसाइट बनाई है। आराेप है कि इस वेबसाइट में हरियाणा सरकार, भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों और याेजनाओं के प्रतीक चिह्न भी अनाधिकृत रूप से इस्तेमाल किए गए हैं।
इन शातिरों ने नाैकरी के लिए आवेदन करने वालाें से ड्राफ्ट या चालान की बजाय 320 रुपए ऑनलाइन पेमेंट मांगी है। यह वापसी भी नहीं होगी। वेबसाइट पर सीधे तौर पर संचालनकर्ता में से किसी का नाम या पता भी नहीं दिया गया है। अब यह जांच के बाद ही सामने आएगा कि यह वेबसाइट कब से है और इस पर प्रसारित विज्ञापनों की सच्चाई क्या है।

प्रदेश में विभिन्न जिलों में डीसी रेट पर बताईं रिक्तियां

नर्स, कम्प्यूटर असिस्टेंट, कैशियर, टेली-कालर, डाटा एंट्री ऑपरेटर, टेक्निशयन, चपरासी, फील्ड मैन, वार्ड ब्वाय के पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे हैं। इस ऑनलाइन फार्म में बेरोजगारों से उनका व्यक्तिगत विवरण यानी आधार कार्ड, पैन नंबर, ईमेल, फोन नंबर आदि जानकारी मांगी है। फार्म फीस 320 रुपए जोकि गूगल पे, फोन पे समेत ऑनलाइन ऑप्शन पर भेजने की शर्त रखी गई है। आरोपी आधार कार्ड, पैन नंबर आदि जानकर ऑनलाइन ठगी भी कर सकता है।

अक्टूबर-नवंबर में इंटरव्यू करवाने का किया दावा

शातिरों ने विज्ञापन में किसी भी जिले के विभिन्न विभागाें में 4 से ज्यादा पदाें पर आवेदन नहीं करने की शर्त रखी है ताकि ज्यादा से ज्यादा आवेदन आ सकें। नौकरियों के इंटरव्यू अक्टूबर और नवंबर में होने के संबंध में ईमेल और मोबाइल नंबर पर जानकारी देने की बात कही गई है। इस वेबसाइट पर संबंधित अधिकारियों या कर्मचारियों से किसी भी जानकारी के लिए कोई भी फोन नंबर, किसी अधिकारी या विभाग का नाम व पता तक नहीं दिया गया।

22 सितंबर दी अंतिम तारीख

शातिरों ने लोगों को जल्दी से अपने जाल के फंसाने के लिए 22 सिंतबर अंतिम तारिख दी। जिससे लोगों के पास इन फार्मों के बारे में इंक्वायरी के बारे में भी समय न हो। जल्दबाजी में फार्म भरें और शातिरों के चुंगल में फंस जाए।

No comments:

Post a Comment