Breaking

Showing posts with label Crime News. Show all posts
Showing posts with label Crime News. Show all posts

Saturday, October 24, 2020

October 24, 2020

पानीपत में दृश्यम जैसी मिस्ट्री:18 महीने से लापता था टेक्नीशियन, घर में निकला नर कंकाल; पत्नी पर हत्या का शक

पानीपत में दृश्यम जैसी मिस्ट्री:18 महीने से लापता था टेक्नीशियन, घर में निकला नर कंकाल; पत्नी पर हत्या का शक

पानीपत : पानीपत में शुक्रवार को दृश्यम फिल्म जैसी मिस्ट्री सामने आई है। यहां विकास नगर में 18 महीने से लापता 31 वर्षीय टेक्नीशियन हरबीर सिंह के घर में खुदाई के दौरान नरकंकाल मिला। आशंका है कि कंकाल टेक्नीशियन का ही है। हत्या का शक पत्नी पर है। *डीएनए टेस्ट से ही मामला साफ हो पाएगा।*
हरबीर के बड़े भाई हरिओम ने आरोप लगाया कि हरबीर की पत्नी और अन्य ने गुपचुप तरीके से कंकाल को घर में ही दूसरी जगह दबा दिया था। मेरे बेटे ने निर्माण कार्य के लिए हो रही खुदाई के दौरान खोपड़ी देखी तो आकर बताया। फिर खुदाई कर कंकाल को निकाला गया। फोरेंसिक एक्सपर्ट डॉ. नीलम आर्या, थाना प्रभारी राजबीर सिंह मौके पर पहुंचे। ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त कराकर कंकाल को कब्जे में लिया। शनिवार को पोस्टमॉर्टम होगा, जिससे पता चलेगा कि कंकाल पुरुष का है या महिला का।

पत्नी पर शक के 6 कारण

1. मायके का ही राजमिस्त्री क्यों? हरिओम ने बताया कि जिस घर में हरबीर रहता था, उसकी पत्नी ने उसी घर में करीब 3 दिन पहले चिनाई का काम लगाया था। उसकी मां और मौसी का बेटा भी आए थे और मायके का ही राजमिस्त्री लाए थे।
2. पत्नी ने पुलिस को सूचना क्यों नहीं दी? शुक्रवार को बाथरूम के लिए गड्ढा खोदा जा रहा था। दोपहर करीब 12 बजे हरिओम का 15 वर्षीय बेटा विशेष चाची के साथ काम कराने लगा। 4 फुट खुदाई के बाद नरकंकाल मिला तो विशेष ने खोपड़ी देख ली। पर पत्नी ने पुलिस को जानकारी नहीं दी।
3. कंकाल को शिफ्ट क्यों किया? आरोप है कि पत्नी और अन्य ने कंकाल को गड्‌ढे से करीब 5 फुट दूर फिर से दबा दिया।
4. कुत्ते का कंकाल क्यों कहा? पूछने पर चाची ने बच्चे को बताया कि तेरे चाचा हरबीर ने कुत्ता दबा रखा था। तब विशेष ने घर जाकर पिता हरिओम को इसकी जानकारी दी। इसके बाद परिजन मौके पर पहुंचे।
5. बच्चे की निशानदेही पर खुदाई करने गए परिजन से झगड़ा क्यों? हरिओम बेटे और भाइयों के साथ आकर खुदाई करने लगे। भाई की पत्नी ने कुदाली छीनकर फेंक दी। कहासुनी होने पर वे घर चले गए। मां के आने पर खुदाई में कंकाल बरामद हुआ।
6. पत्नी ने लापता होने के 3 महीने बाद FIR दर्ज कराई थी। लापता होने के 3 महीने बाद 20 जुलाई 2019 को उसकी पत्नी ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई।

*भाई ने कहा- कंकाल की डीएनए जांच हो*

हरिओम ने कहा कि कंकाल हरबीर का भी हो सकता है। पुलिस डीएनए टेस्ट करा मामले की गहराई से जांच करे। इससे पता चल सके कि कंकाल किसका है। कंकाल को दोबारा दबाने के आरोप से शक के दायरे में आई पत्नी को पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। हरबीर की दो बेटी 11 वर्षीय तनु और 9 वर्षीय मीनाक्षी और 7 वर्षीय बेटा रितिक है।

Sunday, October 18, 2020

October 18, 2020

एएनएम की मौत:विवाहिता ने पिता को कॉल किया-ये मुझे मार देंगे,पहुंचे तो मिली लाश; आरोप- फॉर्च्यूनर गाड़ी, प्लॉट मांग रहा था पति

एएनएम की मौत:विवाहिता ने पिता को कॉल किया-ये मुझे मार देंगे,पहुंचे तो मिली लाश; आरोप- फॉर्च्यूनर गाड़ी, प्लॉट मांग रहा था पति

पानीपत / समालखा : गांव किवाना में शादी के 6 महीने के बाद ही एएनएम की शुक्रवार सुबह मौत हो गई। एएनएम ने कुछ देर पहले ही कॉल कर पिता को बताया था कि पति परेशान कर रहा है। तभी कॉल कट गई। 2 घंटे बाद मायका पक्ष के लोग घर पहुंचे तो उसका शव कमरे में फर्श पर पड़ा था। गले पर निशान था। मायका पक्ष का आरोप है कि पति फॉर्च्यूनर गाड़ी और शहर में प्लॉट के लिए प्रताड़ित करता था।
उसने ही गला घोंटकर हत्या कर दी है। पुलिस पति के खिलाफ केस दर्ज कर आरोपी की तलाश में जुट गई है। बागाेत, महेंद्रगढ़ के रहने वाले धर्मेंद्र ने थाना समालखा में शिकायत दी। बताया कि वह किसान हैं। 20 साल की बेटी आंचल ने मेडिकल से 12 की थी। उसके बाद एएनएम का काेर्स किया था। 2 मार्च 2020 काे उन्हाेंने बेटी आंचल की शादी समालखा के गांव किवाना के रहने वाले दीपक से की थी।
उन्हाेंने शादी में कार आदि सभी सामान बढ़-चढ़कर दिया था। शादी के दाे दिन बाद से ही दीपक ने बेटी का जीना दुश्वार करना शुरू कर दिया। कहता था कि तू अपने पिता से फॉर्च्यूनर लेकर आ। मुझे शहर में एक प्लाॅट भी दिलवा। नहीं ताे मैं तुझे मारकर दूसरी शादी कर लूंगा। वह चुपचाप सहती रही। इससे दीपक के उस पर अत्याचार बढ़ते ही गए। वह मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित करने लगा। शराब पीकर मारपीट करता था।

पिता ने कहा- बेटी का शव नहीं देखने दिया, बुलाई पुलिस

पिता ने बताया कि शुक्रवार सुबह करीब 11:30 बजे बेटी ने उन्हें काॅल किया था। वह राे रही थी। कह रही थी कि ये मुझे मार डालेंगे। जल्दी आ जाओ। उसके बाद अचानक की काॅल कट गया। उन्हाेंने उसे काॅल किए लेकिन नहीं उठा। दाेपहर करीब 1:30 बजे पति ने काॅल कर बताया कि आंचल की तबीयत खराब हाे गई है। वह उसे अस्पताल ले जा रहे हैं। वह तत्काल ही बेटी के घर के लिए निकल गए। दीपक ने उन्हें घर में नहीं घुसने दिया। बाेला कि उसकी हार्ट अटैक से माैत हाे गई है लेकिन शव नहीं देखने दिया। उन्हाेंने काॅल कर समालखा पुलिस काे बुला लिया। पुलिस कमरे में गई ताे शव कमरे में जमीन पर पड़ा था। गले में दुपट्टा लिपटा था। गले पर निशान भी था।

दादा ने पुलिस काे बताया कि इन्हीं लाेगाें ने की हाेगी हत्या

परिजनाें ने बताया कि आराेपी घर से भाग गया। तभी उसके दादा खड़ग सिंह वहां आ गए। उन्हाेंने आराेप लगाते हुए कि इन्हीं लाेगाें ने दादी काे मार डाला था। आंचल की हत्या भी इन्हीं ने की हाेगी। पुलिस ने खड़ग सिंह के बयान दर्ज कर लिए। एसएचओ अंकित ने बताया कि पिता की शिकायत पर दीपक के खिलाफ धारा 304बी के तहत केस दर्ज कर लिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर धाराओं में बदलाव किया जा सकता है। आरोपी की तलाश की जा रही है।
October 18, 2020

11 साल के बच्चे का कर लिया अपहरण

11 साल के बच्चे का कर लिया अपहरण

फरीदाबाद : पल्ला थाना क्षेत्र में फिरौती के लिए अपहरण किए गए 11 वर्षीय बच्चे को पुलिस  ने बदमाशों के चंगुल से सकुशल छुड़ा लिया है। बदमाशों ने बच्चे को दिल्ली में गाजीपुर स्थित एक होटल में रखा हुआ था।
दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। उनकी पहचान कल्याणपुरी दिल्ली निवासी सिद्धार्थ सद्धिार्थ और गाजीपुर दिल्ली निवासी अमन के रूप में हुई है। अमन एसी मैकेनिक है, वहीं सिद्धार्थ  कुत्तों का ट्रेनर है। डीसीपी सेंट्रल मुकेश मल्होत्रा ने बताया कि दोनों आरोपी बचपन के दोस्त हैं। लाकडाउन में धंधा मंदा होने के कारण उनके मन में आसानी से पैसा कमाने का लालच जाग गया।
सिद्धार्थ ने अमन को बताया क सेक्टर-91 निवासी एक महिला को जानता है, जो कुत्तों की खरीद-फरोख्त का काम करती है। उसके पास काफी रुपया है। महिला का 11 साल का बेटा भी है। दोनों ने उसके बेटे का अपहरण करने की योजना बना डाली। 13 अक्टूबर की शाम करीब 6 बजे दोनों स्कूटी लेकर सेक्टर-91 गए। वहां महिला के 11 वर्षीय बच्चे को अकेले खेलते पाया तो बहला-फुसलाकर उसे अपने साथ ले गए। बच्चे को दोनों दिल्ली में गाजीपुर के एक होटल में ले गए।

उधर, महिला ने बच्चे की गुमशुदगी की रिपोर्ट पल्ला थाना पुलिस को कर दी। थाना प्रभारी सतीश कुमार ने टीम बनाकर बच्चे की तलाश शुरू की। पूनम के घर के पास लगा एक सीसीटीवी कैमरा खंगाला।
उसमें पूनम ने सिद्धार्थ को पहचान लिया, क्योंकि वह कुत्तों के सिलसिले में उससे मिलती रहती थी। पुलिस ने उसके परिवार वालों से संपर्क किया तो पता चला कि वह तीन दिन से लापता है। इसके बाद पुलिस उसके एक दोस्त तक पहुंची। दोस्त की मदद से सद्धिार्थ को पुलिस ने दबोच लिया। उसने पूछताछ में बच्चे के गाजीपुर स्थित एक होटल में होने की सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने वहां से बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया।

यह कहते है डीसीपी सैन्ट्रल

डीसीपी सैन्ट्रल मुकेश मल्होत्रा का कहना है कि सिद्धार्थ के साथी अमन को भी गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपियों ने बताया कि वे बच्चे की मां से फिरौती मांगने ही वाले थे, मगर उससे पहले ही पुलिस ने उन्हें दबोच लिया। जांच में अमन कोरोना पॉजीटिव पाया गया है। वहीं सिद्धार्थ को जेल भेज दिया है। बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया गया है। आरोपी फिरौती के लिए काल करने ही वाले थे। पल्ला थाना पुलिस की सक्रियता से कामयाबी हासिल हुई।
October 18, 2020

पिता के रिश्ते को किया शर्मसार:पिता ने अपनी ही नाबालिग बेटी के साथ किया दुष्कर्म, मुकदमा हुआ दर्ज

पिता के रिश्ते को किया शर्मसार:पिता ने अपनी ही नाबालिग बेटी के साथ किया दुष्कर्म, मुकदमा हुआ दर्ज

पलवल : गदपुरी थाना क्षेत्र में एक पिता ने अपनी ही नाबालिग बेटी के साथ दुष्कर्म किया। साथ ही उसने किसी को कुछ बताने पर जान से मारने की भी धमकी दी। पुलिस ने बेटी की मां की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कराया है।
जांच अधिकारी इंदू के अनुसार महिला ने शिकायत दर्ज कराई है कि वह घर से बाहर काम करने जाती है। इसी दौरान उनकी 16 वर्षीय बेटी घर पर अकेली रहती है। बेटी नौवीं कक्षा में पढ़ती है। जब वह घर पर नहीं रहती हैं तो उनका पति बेटी को पढ़ाने के बहाने अपने पास बुला लेता था।

Wednesday, October 14, 2020

October 14, 2020

जल्द होना चाहते थे अमीर:10वीं पास दो दोस्तों ने यू-ट्यूब से एटीएम हैक करना सीखा, पहली चोरी में गिरफ्तार

जल्द होना चाहते थे अमीर:10वीं पास दो दोस्तों ने यू-ट्यूब से एटीएम हैक करना सीखा, पहली चोरी में गिरफ्तार

सोनीपत : बिहार के गया निवासी दो दोस्तों ने यू-ट्यूब से एटीएम मशीन को हैक करना सीख लिया। दोनों दोस्त एटीएम से पैसे निकालने के लिए बिहार से कुंडली आ गए। यहां एक युवक की बहन रहती है। दोनों युवक पहले की प्रयास में सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए। कुंडली थाना पुलिस ने दोनों युवकों को गिरफ्तार कर लिया है। कुंडली गांव निवासी आकाश ने शिकायत दर्ज कराई थी कि प्याउ मनियारी के एटीएम को तोड़ने का प्रयास हुआ है।
जब कुंडली थाना के एएसआई देवेंद्र सिंह ने एटीएम में लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले तो दो युवक एटीएम को खोलते हुए दिखाई दे रहे हैं। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर बिहार के गया निवासी राहुल व श्रवण को गिरफ्तार कर लिया। दोनों युवकों ने पुलिस पूछताछ में कबूल किया है कि वे डिवाइस लगाकर एटीएम को हैक करने का प्रयास कर रहे थे। पुलिस ने आरोपियों को कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया है।

*आरोपी बोले- फोन में सब कुछ है, केवल दिमाग लगाने की जरूरत*

पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि साहब फोन में सब कुछ है। केवल दिमाग लगाने की जरूरत है। वे अमीर बनना चाहते थे। इसलिए उन्हें यह सबसे आसान रास्ता लगा। यू-ट्यूब से एटीएम मशीन में एक चिप लगाकर कैसे पासवर्ड स्कैन होता है और कैसे एटीएम कार्ड को हैक किया जा सकता है। यह सब जानकारी सीख ली थी। वे बिहार से कुंडली इसी काम के लिए आए थे। यहां पर राहुल की बहन रहती है।

*एटीएम खोलने का कर रहे थे प्रयास, पुलिस को दी सूचना*

आरोपियों ने बताया कि वे एटीएम मशीन में चिप लगाने के लिए मशीन को खोल रहे थे। अचानक से दो लोग पैसे निकालने के लिए आ गए। वे डर गए और एटीएम से बाहर निकल गए। इसके बाद सीसीटीवी कैमरे की मदद से पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया। एटीएम मशीन हैक करने का उनका यह पहला प्रयास था।

*दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश कर फरीदाबाद जेल भेजा*

पुलिस को सूचना मिली थी एटीएम मशीन तोड़कर पैसे निकालने का प्रयास किया है। सीसीटीवी की मदद से दोनों को पकड़ा गया। उन्होंने मशीन को हैक करने की प्लानिंग का खुलासा किया है। दोनों को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया। दोनों आरोपियों को फरीदाबाद जेल भेजा गया है। देवेंद्र सिंह, एएसआई थाना कुंडली।

Sunday, October 11, 2020

October 11, 2020

फरीदाबाद:टीवी देखकर 14 साल की नाबालिग को चढ़ा मॉडलिंग का शौक, घर से भागी, जयपुर में एक्सीडेंट हुआ तो घरवालों को मिली जानकारी

टीवी देखकर 14 साल की नाबालिग को चढ़ा मॉडलिंग का शौक, घर से भागी, जयपुर में एक्सीडेंट हुआ तो घरवालों को मिली जानकारी

फ़रीदाबाद : शहर में रहने वाली एक नाबालिग को मॉडलिंग का शौक इस कदर छा गया कि वह घर वालों को बताए बगैर भागकर मुंबई जा रही थी। जयपुर में उसका एक्सीडेंट हो गया। पुलिस पूछताछ में उसने अपने घर का पता बताया। इसके बाद राजस्थान पुलिस ने फरीदाबाद पुलिस को इसकी सूचना दी। पुलिस जयपुर जाकर नाबालिग को साथ लाई और काउंसलिंग करने के बाद परिजनों के हवाले कर दिया। खास बात ये है कि 14 वर्षीय नाबालिग आठवीं कक्षा में पढ़ती है। उसे मॉडलिंग का शौक फिल्मों और टीवी सीरियलों को देखकर पैदा हुआ।
पर्वतीय कॉलोनी में रहने वाली 14 वर्षीय नाबालिग 9 अक्टूबर घर से लापता हो गई। घर में उसकी मां और भाई रहते हैं। पिता की मौत हो चुकी है। मां निजी कंपनी में नौकरी करती है। उस दिन मां के ड्यूटी पर जाने के बाद नाबालिग अचानक घर से निकल गई।
शाम को जब मां घर पहुंची तो भाई ने बहन के लापता होने की जानकारी दी। मां रात 8 बजे पुलिस चौकी में आकर शिकायत दी और बेटी को तलाश करने की गुजारिश की। हैरानी की बात ये है कि नाबालिग के पास मोबाइल तक नहीं था। इससे पुलिस की सिरदर्दी बढ़ गई।
नाबालिग जयपुर पहुंच चुकी थी। बताया जाता है कि ऑटो से सफर कर रही थी। उसका एक्सीडेंट हो गया। जयपुर पुलिस ने जब लड़की से पूछताछ की तो उसने घर के बारे में जानकारी दी। रात करीब 10 बजे राजस्थान पुलिस ने फरीदाबाद पुलिस को सूचना दी।
फरीदाबाद पुलिस जयपुर जाकर लड़की को फरीदाबाद लाई और उसकी काउंसलिंग कर परिजनों के हवाले कर दिया। पूछताछ में बताया कि उसके अंदर फिल्मों और टीवी सीरियलों को देखकर मॉडलिंग करने का शौक पैदा हुआ। घरवालों से सपोर्ट न मिलने के कारण वह भागकर मुंबई मॉडलिंग करने जा रही थी।
October 11, 2020

झज्जर:अंतरराष्ट्रीय महिला मुक्केबाज मानसी पुलिस को मिली, दो दिन पहले लापता हुई थी

झज्जर:अंतरराष्ट्रीय महिला मुक्केबाज मानसी पुलिस को मिली, दो दिन पहले लापता हुई थी

झज्जर : दो दिन पहले लापता हुई झज्जर के छारा गांव की रहने वाली अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाज मानसी दलाल शनिवार को मिल गई। पुलिस ने उसे तलाश लिया है। मानसी गुरुवार को एक्सरसाइज करने के लिए निकली थी लेकिन वापस नहीं लौटी। सूत्रों का कहना है कि पुलिस ने तीन आरोपियों को भी गिरफ्तार किया है। इसका जल्द खुलासा होगा। अभी पुलिस पहले मानसी का मेडिकल करवाएगी, इसके बाद पूरी घटना की जानकारी दी जाएगी।
17 साल की मानसी रोजाना की तरह गुरुवार को भी दौड़ लगाने के लिए सिकंदरपुर मार्ग पर निकली थी। लेकिन कई घंटे बाद भी वापस नहीं लौटी। मानसी के पिता अंजित दलाल ने बताया कि मानसी गुरुवार शाम 5:30 बजे बादली रोड स्थित ढाबे के आगे ही सिकंदरपुर मोड़ पर दौड़ने के लिए निकली थी उसके पास मोबाइल नहीं था और न ही वह मोबाइल कभी रखती थी।
15-20 मिनट में वह दौड़ लगाकर वापस आ जाती थी। वह सिर्फ अपनी प्रैक्टिस में लगी हुई थी उसे खेलो इंडिया कैंप और इंडिया कैंप के लिए जल्द ही भोपाल भी रवाना होना था। परिवार वालों की शिकायत पर गुरुवार से ही पुलिस भी एक्टिव थी। पुलिस ने अब मानसी को बरामद कर लिया है। उसका मेडिकल करवाया जा रहा है। पुलिस जल्द इस मामले में खुलासा करेगी।
October 11, 2020

सिरसा में सनसनी:एकदम नए सूटकेस में मिली महिला की लाश, गला दबाकर हत्या करने की आशंका; मृतका की पहचान नहीं हुई

सिरसा में सनसनी:एकदम नए सूटकेस में मिली महिला की लाश, गला दबाकर हत्या करने की आशंका; मृतका की पहचान नहीं हुई

सिरसा : सिरसा के डिंग थाना क्षेत्र के अंतर्गत गांव फूलकां से होकर बहने वाली बनमंदौरी माइनर से शुक्रवार शाम को एक सूटकेस में युवती का शव मिला। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को सूटकेस से बाहर निकलवाया। मृतका के गले पर गहरे रंग के निशान हैं, जिससे ये अंदेशा जताया जा रहा है कि गला घोटकर हत्या की गई है। अभी तक पहचान नहीं हो पाई है। पुलिस ने शव को मोर्चरी हाउस में रखवा दिया है।
पुलिस के मुताबिक, जिस सूटकेस में लाश मिली है, वो एक दम नया है। अंदेशा जताया जा रहा है कि हत्या से कुछ समय पूर्व ही सूटकेस खरीदा गया है और हत्या के बाद तुरंत शव को डालकर नहर में फेंका गया है। महिला की उम्र 30-35 साल के बीच लग रही है। पुलिस ने आसपास के थाना क्षेत्रों में भी इस संबंधी सूचित कर दिया है। वहीं मृतका की पहचान के लिए सोशल मीडिया का भी सहारा लिया जा रहा है, ताकि जल्द से जल्द पहचान की जा सके।
October 11, 2020

कोरोना टेस्ट रिपोर्ट में घालमेल:जींद सिविल अस्पताल में कराए आरटीपीसीआर की रिपोर्ट आई निगेटिव, हिसार के निजी अस्पताल में एंटीजन टेस्ट में पॉजिटिव

कोरोना टेस्ट रिपोर्ट में घालमेल:जींद सिविल अस्पताल में कराए आरटीपीसीआर की रिपोर्ट आई निगेटिव, हिसार के निजी अस्पताल में एंटीजन टेस्ट में पॉजिटिव

जींद : बुखार, खांसी, जुकाम से पीड़ित है व्यक्ति, उपचार के लिए हिसार के प्राइवेट अस्पताल ने मांगे 20 हजार रुपए, परिजन ले आए घर कोरोना रिपोर्ट तैयार करने में या फिर टेस्टिंग में बड़ी घालमेल हो रही है। इसी तरह की घालमेल शहर के शांतिनगर के रहने वाले 46 वर्षीय व्यक्ति की रिपोर्ट में हुई है। एक ही दिन में इस व्यक्ति द्वारा जींद के सिविल अस्पताल में करवाए गए आरटीपीसीआर टेस्ट की रिपोर्ट व हिसार के प्राइवेट अस्पताल में करवाए गए एंटीजन किट से टेस्ट की रिपोर्ट अलग आई है। इस पर संबंधित व्यक्ति व उसके परिजन दुविधा में पड़ गए कि आखिर कौन सी रिपोर्ट को वे सही माने।
रिपोर्ट में हुई इस घालमेल पर पीड़ित परिवार सोमवार को सिविल सर्जन को शिकायत कर कार्रवाई की मांग करेगा। शहर के शांतिनगर के रहने वाले 46 वर्षीय सुशील जैन को बुखार, खांसी व जुकाम की शिकायत थी। इसके बाद परिजन उसे 7 अक्टूबर को दोपहर 12 बजे सिविल अस्पताल लेकर पहुंचे। चिकित्सक ने कोरोना टेस्ट कराने की सलाह दी। कुछ ही देर बार सुशील का आरटीपीसीआर टेस्ट किया गया। जिसकी रिपोर्ट 9 अक्टूबर को निगेटिव आई।
सिविल अस्पताल में सैंपल देने के बाद 7 अक्टूबर को ही परिजन सुशील जैन को हिसार के निजी अस्पताल में लेकर पहुंचे। यहां पर शाम को उसका एंटीजन टेस्ट किया गया जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। अस्पताल प्रबंधन सुशील के परिजनों को 20 हजार रुपए उपचार के लिए जमा कराने को कहा। इस पर परिजन उसे वापस ले आए और अब घर पर ही इलाज चल रहा है। शुक्रवार को जब सिविल अस्पताल में किए आरटीपीसीआर की रिपोर्ट निगेटिव आई तो परिजन दुविधा में पड़ गए कि कौन सी रिपोर्ट सही है और कौन सी गलत।

हिसार के प्राइवेट अस्पताल में हुए एंटीजन टेस्ट की रिपोर्ट जिसमें पॉजिटिव बताया गया

एंटीजन में पॉजिटिव तो आरटीपीसीआर टेस्ट में भी पॉजिटिव आती है रिपोर्ट
अक्सर यह देखने में आया कि काफी व्यक्तियों की एंटीजन टेस्ट में रिपोर्ट निगेटिव आती है, लेकिन जब वे आरटीपीसीआर टेस्ट कराते हैं तो उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आ जाती है। लेकिन यह पहला मामला है जब किसी व्यक्ति की आरटीपीसीआर टेस्ट की रिपोर्ट निगेटिव आई हो और एंटीजन टेस्ट की रिपोर्ट पॉजिटिव है।
पहले भी निगेटिव को पॉजिटिव बता चुका है सिविल अस्पताल प्रबंधन : सिविल अस्पताल में तीन दिन पहले ही एक चिकित्सक की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई थी लेकिन कंप्यूटर आॅपरेटर ने उसे पोर्टल पर पॉजिटिव चढ़ा दिया था।
एंटीजन टेस्ट में रिपोर्ट पॉजिटिव और आरटीपीसीआर में उसी दिन की रिपोर्ट निगेटिव आए ऐसा इससे पहले कभी नहीं हुआ। यदि पीड़ित इसकी शिकायत करेगा तो मामले की जांच की जाएगी और तीसरी बार उसका सैंपल करवाया जाना जरूरी है। -डाॅ. पालेराम कटारिया, डिप्टी सिविल सर्जन जींद।

हिसार में दाखिल नरवाना के बुजुर्ग की मौत, 35 पॉजिटिव मिले

जिले में कोरोना से शनिवार को नरवाना के बीरबल नगर के रहने वाले 73 वर्षीय बुजुर्ग अमरसिंह की हिसार के एक प्राइवेट अस्पताल में मौत हो गई। बुजुर्ग शुगर व ब्रेन हेमरेज से पीड़ित था। शनिवार को प्राइवेट अस्पताल से जिला स्वास्थ्य विभाग को सूचना मिली की बुजुर्ग की मौत हो गई। जिले में अब तक कुल 45 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं शनिवार को जिले में 35 नए पॉजिटिव केस सामने आए। इनमें शहर के रेलवे और प्राइवेट अस्पताल की महिला डॉक्टर भी शामिल हैं। अब संक्रमितों की संख्या बढ़कर 2395 हो गई है।
October 11, 2020

इंसाफ की मांग:यमुनानगर में पति ने पहले पत्नी फिर खुद पर डाला तेल, सुसाइड का प्रयास, लोगों ने बचाए

इंसाफ की मांग:यमुनानगर में पति ने पहले पत्नी फिर खुद पर डाला तेल, सुसाइड का प्रयास, लोगों ने बचाए

यमुनानगर : लघु सचिवालय के सामने सुबह से इंसाफ के लिए बैठे दंपती ने शाम के समय खुद पर तेल डालकर सुसाइड का प्रयास किया। गुप्तचर विभाग के कर्मचारियों ने उन्हें आत्मदाह करने से रोका। इसी बीच पुलिस कर्मचारी भी वहां पर पहुंच गए। खुद के ऊपर तेल डालने वाले व्यक्ति ने वहां पर पुलिस को खरी-खोटी सुनाई। उसका कहना था कि पुलिस कर्मचारियों ने उसकी पत्नी का घर आकर हाथ पकड़ा।
पुलिस कर्मचारियों के खिलाफ कई बार धरना और शिकायतें कर चुके हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही। इसलिए पति-पत्नी ने लघु सचिवालय के सामने आत्मदाह करने का फैसला लिया था। व्यक्ति का कहना था कि अगर वह गलत है तो उसे पुलिस यहीं पर सजा दे सकती है। डीएसपी से लेकर एसएचओ तक उसे धमकाते हैं।
October 11, 2020

डाटा कांड में बड़ा खुलासा:गांव के ही युवक को शराब पिलाई फिर मारकर जलाया, गर्लफ्रेंड की कार से पहुंचा छत्तीसगढ़

डाटा कांड में बड़ा खुलासा:गांव के ही युवक को शराब पिलाई फिर मारकर जलाया, गर्लफ्रेंड की कार से पहुंचा छत्तीसगढ़

हिसार : कारोबारी राममेहर की कार में जला व्यक्ति उसका ही जानकार रमलू निकला। 1.60 करोड़ रु. का बीमा क्लेम लेने के लिए राममेहर ने खुद को मरा घोषित करने के लिए रमलू को मार डाला। हत्या करने के बाद राममेहर ने अपनी कार को आग लगा दी। कार में रमलू का शव ड्राइवर के साथ वाली सीट पर था। यह खुलासा राममेहर ने पुलिस की पूछताछ में किया है। छत्तीसगढ़ के बिलासपुर से हांसी लाने के बाद पुलिस ने उसे कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे पूछताछ के लिए 7 दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया।
हांसी के एसपी लोकेंद्र सिंह ने बताया कि कार में जला शव राममेहर के डाटा के युवक रमलू का था। राममेहर उसे शाम को गांव से लाया था। शाम से ही दोनों ने शराब पीना शुरू कर दिया। तीन जगह शराब पी। वारदात स्थल पर फिर शराब पी और राममेहर ने गला दबाकर रमलू को मार डाला। रमलू कार में उसके साथ वाली सीट पर बैठा था। रमलू को मारने के बाद राममेहर ने कार के फ्यूल टैंक से डीजल निकाला। डीजल निकालने के लिए वह पाइप साथ लाया था। कार स्टार्ट रख डीजल छिड़का और आग लगा दी।
वारदात के बाद वह पैदल ही ढाणी कुतुबपुर गया। वहां उसने एक कार खड़ी की हुई थी। उसमें दो साथियों को लेकर छत्तीसगढ़ के लिए निकल गया। ढाणी कुतुबपुर में उसका कोई पुराना कर्मचारी रहता है। बिलासपुर में वह परिचित के पास रुका। परिचित को बताया कि वह खेती करना चाहता है और जमीन खरीदने आया है। पुलिस ने आरोपी राममेहर पर हत्या समेत विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया है। रिमांड के दौरान राममेहर से बिलासपुर जाने के लिए इस्तेमाल कार, बरामद हुए मोबाइल नंबर, एटीएम कार्ड, घटना में अन्य किन-किन व्यक्तियों की संलिप्तता रही है, आदि के बारे में पूछताछ की जाएगी।

कबूलनामा: परिवार को झूठी सूचना दे वारदात कर खेतों के रास्ते निकल गया

मेरी आर्थिक स्थिति खराब है। एक से डेढ़ करोड़ रुपए के कर्ज में डूब गया। फैक्ट्री में नुकसान हो रहा था। कर्ज चुकाने के लिए पीएनबी और एचडीएफसी बैंक से पर्सनल लोन लिए। कुछ प्राइवेट लोगों से भी पैसा उठा रखा है। कर्ज में डूबने के बाद आत्महत्या करने के बारे में भी सोची। लेकिन जुलाई में बीमा पॉलिसी खरीदी और खुद को मरा घोषित कर बीमा क्लेम लेने का प्लान बनाया। 6 अक्टूबर को बैंक से 10.90 लाख रुपए निकलवाए। कुछ रकम एक महिला मित्र को दी। दूसरी महिला मित्र के बैंक खाते में पैसा ट्रांसफर किया। बाकी पैसे छिपा दिए। मैंने घरवालों को रात 11:30 बजे झूठी सूचना दी थी कि 2 बाइक व 1 गाड़ी महजद-भाटला रोड पर पीछे लगे हैं। मेरे को मारेंगे व पैसे छीनेंगे। रमलू की हत्या के बाद गाड़ी में अपनी पहचान के लिए लॉकेट डालकर कार को आग लगा दी। कार के जलने के बाद मैं मौके से खेतों के रास्ते पैदल चला। रास्ते में नए मोबाइल नंबर का प्रयोग करके अपने साथियों से सामान पैक करके तैयार रहने को कहा। ढाणी कुतुबपुर में पहले से कार खड़ी कर रखी थी। वहां से कार में अपने साथियों के साथ सवार होकर छत्तीसगढ़ के बिलासपुर पहुंचा। वहां हांसी पुलिस ने मुझे काबू कर लिया। -जैसा आरोपी राममेहर ने पुलिस को पूछताछ में बताया

ढाणी कुतुबपुर में खड़ी कर रखी थी महिला मित्र की कार

एसपी ने बताया कि राममेहर ने ढाणी कुतुबपुर में जो कार खड़ी कर रखी थी, वह उसकी महिला मित्र के नाम पर है। कार में जो दो लोग उसके साथ छत्तीसगढ़ गए थे, उन्हें राममेहर द्वारा जघन्य घटना को अंजाम देने की जानकारी थी, ऐसा पुलिस की अभी तक की छानबीन में नहीं आया है। वारदात को अंजाम देने के बाद राममेहर नए नंबर से फोन कर रहा था। वह हांसी की महिला मित्र के संपर्क में था। पुलिस को उसी से राममेहर के बारे में सुराग लगा। महिला से पुलिस ने पूछताछ की है।

रमलू के 6 बच्चे हैं, शव का डीएनए टेस्ट कराया जाएगा

28 वर्षीय रमलू बावरिया समाज से ताल्लुक रखता था। उसके तीन बेटे व 3 बेटियां हैं। रमलू की हत्या 6 अक्टूबर की रात को हुई। परिवार का कहना है कि रमलू डेरू बजाता था। वह कई-कई दिन बाहर रहता था। उसके लापता होने का शक नहीं हुआ, इसलिए पुलिस को काेई शिकायत नहीं दी थी। रमलू शराब पीने का आदी था। राममेहर भी शराब पीने का आदी था। इसलिए वह शराब के लालच में साथ चला गया होगा। शिनाख्त के लिए पुलिस शव का डीएनए टेस्ट कराएगी।

परिजन लेट क्यों आए, इस पर छानबीन जारी

राममेहर द्वारा हत्या कर शव जलाने के मामले में पुलिस गहन छानबीन कर रही है। अभी तक की छानबीन में परिवार के किसी सदस्य की संलिप्पता सामने नहीं आई है। परिजनों ने पुलिस को देर से क्यों सूचना दी और खुद क्यों देरी से वारदात स्थल पर पहुंचे, पुलिस इसकी छानबीन करेगी। छानबीन में पुलिस को किसी तरह की मिलीभगत के सबूत मिले तो कार्रवाई होगी। अभी तक सामने आया है कि राममेहर के पास घर, दुकान और फैक्ट्री के अलावा 13 एकड़ जमीन है।

Saturday, October 10, 2020

October 10, 2020

व्यापारी ने खुद रची थी साजिश:न 11 लाख रुपए लूटे गए और न क्रॉकरी कारोबारी जिंदा जला, वह जिंदा है; छत्तीसगढ़ के बिलासपुर से पुलिस ने गिरफ्तार किया

व्यापारी ने खुद रची थी साजिश:न 11 लाख रुपए लूटे गए और न क्रॉकरी कारोबारी जिंदा जला, वह जिंदा है; छत्तीसगढ़ के बिलासपुर से पुलिस ने गिरफ्तार किया

हांसी : राममेहर ने कहा था, 'जल्दी आ जाओ मेरी जान खतरे में है...दो बाइकों पर सवार लोग मुझे मार डालेंगे...'। ये डायलॉग ड्रामे के निकले। खबर आई है कि मृतक राममेहर जिंदा है...। अगर थोड़ा फ्लैशबैक में जाएं तो हकीकत कुछ और ही दिखाई गई थी। दरअसल, पिछले दो दिन से इस शख्स को 11 लाख रुपए लूटे जाने के बाद लुटेरों द्वारा कार में ही जिंदा जला दिए जाने की बातें सुर्खियों में है। इसी मामले को पुलिस ने 72 घंटे के अंदर सुलझा लिया। उसे छत्तीसगढ़ के बिलासपुर से गिरफ्तार कर लिया गया है। अब सवाल उठता है कि उसने यह सारा ड्रामा क्यों रचा, इसका खुलासा भी पुलिस जल्द ही करने वाली है। साथ ही, कार में जो जला हुआ कंकाल मिला था। वह किसका था?
बताते चलें कि 6 अक्टूबर की रात को हांसी के बरवाला रोड पर पुलिस को एक कार में किसी व्यक्ति के जिंदा जल रहे होने की सूचना मिली थी। पुलिस जब मौके पर पहुंची तो कार जल रही थी और उसमें कंडक्टर सीट पर बैठा व्यक्ति पूरी तरह से राख के ढेर में तब्दील हो चुका था। कार की नंबर प्लेट के आधार पर इसमें जिंदा जले व्यक्ति की शिनाख्त गांव डाटा निवासी राममेहर के रूप में हुई थी, जो बरवाला में डिस्पोजल कप-प्लेट की फैक्ट्री चलाता है।
परिजनों के मुताबिक, राममेहर बुरी तरह से घबराया हुआ था। उसने रात को अपने भांजे को मदद के लिए फोन भी किया था, जिसकी ऑडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो चुकी है। शुक्रवार को इस मामले में खुलासा हुआ है कि राममेहर जिंदा है और उसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।
इस बारे में हांसी के पुलिस अधीक्षक लोकेंद्र सिंह ने बताया कि लूट के बाद जिंदा जलाने की थ्योरी पहले दिन से हजम नहीं हो रही थी। पुलिस मानकर चल रही थी कि किसी नजदीकी का इसमें सारा खेल है। पुलिस को उस समय इस केस में लीड मिली, जब व्यापारी के मरने के बाद भी उसका फोन एक्टिव रहा। व्यापारी ने अपने नंबर से एक महिला को दिन में कई बार कॉल किया और घंटों तक बात हुई। इसके बाद कड़ी से कड़ी जुड़ी।
वहीं सूत्रों के हवाले से सामने आया है कि पुलिस ने महिला का नंबर ट्रेस किया और उसकी लोकेशन पर जाकर उसे दबोच लिया। इसके बाद पुलिस ने महिला से पूछताछ की। उसने बताया कि व्यापारी राममेहर जिंदा और वह बिलासपुर में रह रहा है। हांसी पुलिस ने तुरंत बिलासपुर पुलिस से संपर्क किया और व्यापारी के जिंदा होने वाली बात कन्फर्म करवाई। इसके बाद पुलिस ने व्यापारी को हिरासत में ले लिया।

पुलिस के शक करने की ये थी वजह


कार को बाहर से लॉक किया तो चाबी क्यों नहीं मिली।

व्यापारी कार खोलकर बाहर भी तो आ सकता था, मगर ऐसा हुआ नहीं।

व्यापारी का फोन पुलिस को न कार के अंदर मिला और न ही घटनास्थल के आसपास।

कार में जला मिला शव ड्राइवर के साथ वाली सीट पर था।

व्यापारी राममेहर ने तीन बार परिवार से बात की, मगर कोई भी राममेहर की बात सुनकर घबराया नहीं।

व्यापारी ने रात सवा 11 बजे परिजनों को फोन किया, मगर पुलिस को 50 मिनट बाद सूचना दी गई।

मरने के बाद भी व्यापारी का फोन एक्टिव था।

रात को कार में इतनी बड़ी रकम अकेले लेकर क्यों निकलेगा?

व्यापारी दो दिन से घर नहीं आया था। परिजनों ने यह बात पुलिस से बयान में छिपाई।
October 10, 2020

क्राइम:उधार दिए पैसों में से 100 रुपए मांगने और गाली देने पर खफा रिश्ते में साले ने किया लांगरी जीजा का मर्डर

क्राइम:उधार दिए पैसों में से 100 रुपए मांगने और गाली देने पर खफा रिश्ते में साले ने किया लांगरी जीजा का मर्डर

कुरुक्षेत्र : शराब के नशे ने एक युवक को दोस्त का कातिल बना दिया। नशे धुत दो दोस्तों के बीच पैसे को लेकर झगड़ा ऐसा बढ़ा कि एक ने दूसरे की जान ले ली। शाहाबाद में गुरुवार की रात एक नेपाली युवक की उसके दोस्त ने हत्या कर दी। शव को वहीं फेंक आरोपी भाग निकला। खुलासा शुक्रवार तड़के हुआ। हालांकि देर शाम तक रोहतक जाते समय पुलिस ने रास्ते में ही दबोच लिया। दोनों दोस्त मूलरूप से नेपाल के रहने वाले थे।

वहीं रिश्ते में आरोपी मृतक का साला भी लगता है। मृतक की शिनाख्त काठमांडू, नेपाल वासी करीब 32 वर्षीय चंद्र कुमार के रूप में हुई। पुलिस ने आरोपी विनोद निवासी नेपाल के खिलाफ केस दर्ज किया है। चंद्र सीआईए स्टाफ टू में बतौर लांगरी काम करता था। वहीं विनोद मथाना में एक मछली फार्म पर कार्यरत है।
रिश्तेदारों से मिलने गया, दिनभर पी शराब  गुरुवार को वह छुट्टी लेकर शाहाबाद पहुंचा था। शाहाबाद में उसके मामा का लड़का हुडा चौकी में कार्यरत है। वहीं उसकी बहन भी रहती है। आरोपी विनोद चंद्र के मामा के लड़के का साला है। उसकी भी बहन शाहाबाद में रहती है। वह भी शाहाबाद पहुंचा हुआ था। दोनों ने दिन में बैठकर शराब पी।
थाना प्रभारी देवेंद्र कुमार ने बताया कि गुरुवार रात 11:30 बजे चंद्र बाइक पर लाडवा रोड स्थित रामा पैलेस के सामने आया और वहां शराब पीने लगा। इसी बीच विनोद कुमार भी वहां पहुंचा और दोनों ने शराब पी। 100 रुपए मांगने पर हुई झड़प| चंद्र से लॉकडाउन के दौरान विनोद की बहन ने 5 हजार रुपए उधार लिए थे। चंद्र काफी दिनों से अपने पैसे मांग रहा था।
सीआईए टू प्रभारी मलकीत सिंह के मुताबिक पैसे मांगने पर पहले भी दोनों में कहासुनी हुई थी। गुरुवार रात को चंद्र ने विनोद को कहा कि उसकी बहन उसके पैसे नहीं लौटा रही। उसे पैसों की दिक्कत है। वह उसे 100 रुपए बाइक में तेल डलवाने के लिए दे। यह पैसा उसकी बहन को दिए पैसों में से काट लेना। बातों बातों में चंद्र ने पैसे ना लौटाने पर बहन की गाली भी दी। इससे नशे में धुत विनोद भड़क गया।

तड़के खुलासा, सीसीटीवी से फंसा

शुक्रवार तड़के 6 बजे लोगों ने सड़क किनारे लहूलुहान शव पड़े देखा। सूचना पर एसएचओ देवेंद्र कुमार और सीआईए स्टाफ प्रभारी मलकीत सिंह, वन प्रभारी प्रतीक कुमार की टीमें मौके पर पहुंची। आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे तलाशे तो एक सीसीटीवी में पूरी वारदात नजर आई। उसके रिश्तेदारों ने भी पहचान लिया कि हमला विनोद कर रहा है।

मार्बल के टुकड़े से किए वार

करीब 12 बजे पैसे गुस्साए विनोद ने पास ही पड़े मार्बल का टुकड़ा उठाकर चंद्र पर ताबड़तोड़ वार किए। इससे चंद्र निढाल होकर वहीं गिर गया। करीब दो मिनट तक विनोद लगातार उस पर वार करता रहा।

Friday, October 9, 2020

October 09, 2020

युवक की नृशंस हत्या:सरियों से पीटकर हमलावर बोले- अपनी मौत नहीं मरेगा, फिर बोलेरो से दो बार रौंदकर मार डाला

युवक की नृशंस हत्या:सरियों से पीटकर हमलावर बोले- अपनी मौत नहीं मरेगा, फिर बोलेरो से दो बार रौंदकर मार डाला

भिवानी : गांव पातवान में मामूली विवाद को लेकर बुधवार रात 10 बजे बोलेरो कैंपर गाड़ी चढ़ाकर 35 वर्षीय युवक की हत्या कर दी गई। मृतक के चचेरे भाई दलबीर ने बताया कि वह और उसका भाई विजेंद्र खेत में पानी चलाने जा रहे थे। दोनों भाई अलग-अलग बाइक पर सवार थे। रास्ते में गांव का मनोज व उसके 14-15 साथी गाड़ी लेकर खड़े थे। उन्होंने विजेंद्र का रास्ता रोक लिया।
मनोज ने विजेंद्र पर डंडे से हमला कर बाइक से गिरा दिया। विजेंद्र पास के एक घर में घुस गया। हमलावर घसीटकर उसे गली में ले आए। मनोज, अनिल, सुनील, राजेश, सुरेंद्र, अजय, पंकज, विक्रम, जयभगवान ने उसे लाठियों व सरियों से पीटकर अधमरा कर दिया। जयभगवान ने मुकेश को कहा कि यह अपनी मौत नहीं मरेगा, इसके ऊपर गाड़ी चढ़ा दो।
मुकेश ने गाड़ी को विजेन्द्र के ऊपर से दो बार आगे-पीछे कर निकाल दिया। जब तक परिजन मौके पर पहुंचे, हमलावर फरार हो गए। विजेंद्र को बहल के नर्सिंग होम ले जाया गया, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। विजेंद्र अविवाहित था व परिवार में इकलौता लड़का था। 10 दिन पहले उसका मनोज से दूध कलेक्शन सेंटर पर कुछ झगड़ा हुआ था। आरोपी तब से रंजिश रखे हुए थे।
October 09, 2020

कारोबारी को जिंदा जलाने का मामला:लास्ट कॉल के 3 मिनट बाद बंद हो गया था कारोबारी का फोन संदिग्ध नंबर ट्रैस, अब तक की पुलिस जांच में मामला लूट का नहीं

कारोबारी को जिंदा जलाने का मामला:लास्ट कॉल के 3 मिनट बाद बंद हो गया था कारोबारी का फोन संदिग्ध नंबर ट्रैस, अब तक की पुलिस जांच में मामला लूट का नहीं

हांसी : कारोबारी राममेहर जागलान से 10. 90 लाख लूटकर जिंदा जलाने की वारदात की तफ्तीश में पुलिस ने सीन रिक्रिएट किया। कार में जिंदा जला राममेहर ही था, इसकी पुष्टि के लिए पुलिस डीएनए जांच कराएगी। बैंक से नकदी निकलवाते समय राममेहर के साथ और कौन लोग थे, यह जानने को पुलिस ने बैंक से सीसीटीवी फुटेज मांगी है। बैंक खाते की डिटेल भी मांगी गई है। वारदात को सुलझाने के लिए पुलिस की तीन टीमें पूरे दिन छानबीन में जुटी रहीं।
एसपी लोकेंद्र सिंह खुद वारदात स्थल पर गए। पुलिस की अब तक की छानबीन में मामला पूरी तरह से लूट का नजर नहीं आ रहा। पुलिस सभी एंगल से छानबीन कर रही है। छानबीन में पुलिस के हाथ कुछ संदिग्ध मोबाइल नंबर लगे हैं। मगर पुलिस की तरफ से इनका खुलासा नहीं किया जा रहा है। वारदात को लेकर परिवार के लोगों ने अभी तक किसी पर शक नहीं जताया है। वह पुलिस की छानबीन में ही कुछ निकलकर आने की उम्मीद में हैं। छानबीन सदर पुलिस कर रही है। सीआईए और साइबर क्राइम सेल को भी लगाया गया है। साइबर क्राइम सेल ने कुछ संदिग्ध मोबाइल नंबर ट्रेस किए हैं। राममेहर का फोन कहां गया, जल गया या हत्यारे साथ ले गए, छानबीन की जा रही है।
कार में जिंदा जला व्यक्ति राममेहर ही था, पुलिस की छानबीन में यह एक बड़ा सवाल है। पहचान की पुष्टि के लिए डीएनए जांच होगी। डीएनए जांच के लिए पुलिस ने प्रक्रिया शुरू कर दी है। जांच के लिए परिवार के किसी सदस्य का सैंपल भी लिया जाएगा। पुलिस छानबीन के लिए राममेहर की बरवाला बाइपास पर स्थित फैक्ट्री में भी गई, लेकिन फैक्ट्री बंद मिली। कोई मौजूद नहीं था। पुलिस की अब तक की छानबीन में पूरा मामला लूटपाट का नहीं लग रहा है। पुलिस कई एंगल पर छानबीन कर रही है। एसपी लोकेंद्र सिंह खुद वारदात स्थल पर गए और सबूत जुटाने की कोशिश की। उनके साथ अन्य अधिकारी भी थे। पुलिस ने फिलहाल कुछ खुलासा करने से इनकार कर दिया।

*अभी नहीं मिला कारोबारी का फोन*

राममेहर का फोन अपने बेटे और भांजे को कॉल करने के करीब तीन मिनट बाद बंद हो गया था। बंद हो गया था या हत्यारों ने छीनकर बंद कर दिया, पुलिस पता लगाने की कोशिश कर रही है। फोन कार में जल गया या हत्यारे अपने साथ ले गए, इसकी भी छानबीन की जा रही है।
पुलिस को पुख्ता सबूत मिले : एसपी
पुख्ता सबूत मिले हैं। जल्द ही पूरे मामले का खुलासा कर देंगे। केस को हर एंगल से देख रहे हैं। लोकेंद्र सिंह, एसपी, हांसी।

*बेटी के बस यही दो शब्द, पापा-फोन, फिर हो जाती है बेसुध*

कारोबारी राममेहर को लूट के बाद जिंदा जलाने को लेकर हर कोई स्तब्ध है। जघन्य वारदात का जिक्र डाटा ही नहीं, आसपास के सब गांवों में है। हर कोई यह बोला कि ऐसी घटना पहले न सुनी व न ही देखी। राममेहर जागलान की किसी के साथ कोई दुश्मनी या रंजिश नहीं थी। उम्र भी अधिक नहीं थी। लोग उनकी हत्या के आरोपियों को जल्द से जल्द सलाखों के पीछे देखना चाहते हैं। राममेहर की बड़ी बेटी 17 वर्षीय साक्षी पिता की मौत की खबर सुनने के बाद से सदमे में है। वह बार-बार अचेत हो रही है। जैसे ही होश में आती है तो पापा-पापा पुकारती है या फिर फोन-फोन बोलती है। फोन इसलिए ताकि वह अपने पिता से बात कर सके। गांव के माहाैल की बात करें ताे दोपहर डेढ़ बजे का समय है।
बस स्टैंड पर कुछ ग्रामीण काम करते नजर आए। घर का पता पूछने के लिए मुंह से राममेहर निकाला तो झट से एक व्यक्ति ने एक घर की तरफ इशारा कर दिया। बताने की जरूरत भी नहीं पड़ी कि किस राममेहर की बात कर रहे हैं। राममेहर के घर के बाहर गाड़ियां खड़ी मिलीं। लोगों का आना-जाना था। पुरुष बाहर बने कमरे में बैठे हैं और महिलाएं अंदर। जहां पुरुष बैठे मिले, उस कमरे के पिछली तरफ चारपाई पर राममेहर की बेटी साक्षी लेटी थी। उसे ग्लुकोज़ की बोतल लगाया जा रही थी। आस-पास परिजन बैठे मिले। साक्षी भी थोड़ी-थोड़ी देर में उठकर पिता को याद करने लगती थी और पापा-पापा कहती रही। परिजन मुश्किल से उसको संभाल रहे थे।शोक जताने आए लोग पिता टेकराम को ढांढस बंधा रहे थे। पुलिस की कार्रवाई पर भी ग्रामीण भरोसा जताते मिले और इंतजार कर रहे हैं कि कब पुलिस खबर देगी कि आरोपियों को पकड़ लिया है। हत्या के मामले में परिजनों द्वारा किसी पर कोई शक नहीं जताया गया। न ही किसी रंजिश की बात कही जा रही है।

*इलाके में हर जुबां पर एक सवाल- क्या कुछ पता लगा*

भाटला से महजद रोड, यह वह लिंक रोड है जहां पर ये जघन्य वारदात हुई। उस रोड की फोटो लेने के लिए गाड़ी से उतर कर बाहर गए तो वहां चौक पर खड़े लोग पूछने लगे, भाई साहब कुछ पता लगा क्या, आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया क्या। पुलिस क्या कर रही है, कब गिरफ्तारी होगी। ग्रामीण महजद के थे।

*7 बहनों का इकलौता भाई था, गांव में गमगीन माहौल*

राममेहर 7 बहनों के इकलौते भाई थे। वह सबसे छोटे थे। 7 बहनों के बाद जब वह हुए तो परिजनों के साथ आस पड़ोस के लोगों ने भी खुशियां मनाई थीं। शोक जताने पहुंचे एक बुजुर्ग बोले कि जब राममेहर पैदा हुआ तो हम सब उस समय यही कहते थे टेकराम की भगवान ने सुन ली। लेकिन अब जब मौत की खबर सुनते हैं तो दुख बहुत हुआ।

*रुपए घर पर लाने थे*

राममेहर के चाचा पूर्व सरपंच जयबीर ने बताया कि 11 लाख रुपयों को घर पर लेकर आना था। इसी के लिए पैसे उसने बैंक से निकलवाए थे। पैसे कहां देने थे इसका ज्यादा जिक्र नहीं किया। बस यह पता लगा कि हिसार में लेन-देन था।

Thursday, October 8, 2020

October 08, 2020

बैंक कर्मी से एक लाख 40 हजार लूटे -पिस्तौल की नोंक पर दिया घटना को अंजाम

बैंक कर्मी से एक लाख 40 हजार लूटे पिस्तौल की नोंक पर दिया घटना को अंजाम

 

जींद /जुलाना : (गौतम सत्यराज ) 
क्षेत्र के गांव ब्राह्मणवास के निकट बाइक सवार तीन बदमाशों ने पिस्तौल के बल पर निजी उज्जीवन बैंक कर्मी से एक लाख 40 हजार 901 रुपये की नकदी लूट ली। बैंक कर्मी ग्रामीण क्षेत्रों से राशि लेकर जींद बैंक में आ रहा था। पुलिस ने अज्ञात बदमाशों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
गांव बहबलपुर निवासी सुखबीर ने जुलाना थाना पुलिस को दी शिकायत में बताया कि वह उज्जीवन बैंक में रिकवरी एजेंट है। उनका बैंक ग्रामीण क्षेत्रों में महिला समूहों को लोन देता है। बुधवार को वह जुलाना एरिया के गांव मालवी, कमाचखेड़ा, ब्राह्मणवास में लोन की राशि की रिकवरी करके गांव की तरफ आ रहा था। जब वह ब्राह्मणवास से निकला तो इसी दौरान बाइक सवार तीन युवक आए और उसका रास्ता रोक लिया।
-गोली मारने की धमकी दे छिन ले गए बैग-
जब तक वह कुछ समझ पाता एक युवक ने पिस्तौल निकालकर गोली मारने की धमकी दी और उसका बैग छीन लिया। बैंक में रिकवरी के आए एक लाख 40 हजार 901 रुपये की राशि थी। बदमाश राशि लेते ही बाइक पर सवार होकर ङ्क्षलक मार्ग से फरार हो गए। बाद में घटना की सूचना पुलिस को दी।
October 08, 2020

हरियाणा में महिला डॉक्टर गिरफ्तार , घर में ही करती थी गर्भपात

हरियाणा में महिला डॉक्टर गिरफ्तार , घर में ही करती थी गर्भपात

फरीदाबाद : स्वास्थ्य विभाग पलवल की टीम ने बड़ी कार्यवाही करते हुए संजय कॉलोनी के एक घर में अवैध रूप से गर्भपात करने जा रही कथित डॉक्टर को रंगे हाथ गिरिफ्तार किया है। इस दौरान पास से गर्भपात की दवाइयां भी बरामद कर ली स्वास्थ्य विभाग ने लिखित शिकायत देकर कथित डॉक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के लिए शिकायत दे दी है। बतादे स्वास्थ्य विभाग पलवल के डिप्टी सिविल सर्जन डॉ जे पी ने बताया कि उनको सूचनाएं मिल रही थी की प्रसिद्ध महिला डॉक्टर 5000 से लेकर 15000 तक गर्भपात कराने के लिए ले रही है। 
 दरअसल स्वास्थ्य विभाग पलवल को पिछले काफी लंबे समय से बल्लभगढ़ में अवैध तरीके से अस्पताल में गर्भपात कराने की सूचनाएं मिल रही थी और इन्हीं सूचनाओं के आधार पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने संजय कॉलोनी में चल रहे एक घर में अस्पताल में नकली ग्राहक बनाकर एक महिला को भेजा। कथित डॉक्टर से गर्भपात कराने के लिए 7000 में सौदा तय हो गया जिसके बाद कथित डॉक्टर ने महिला को दूसरे दिन अस्पताल बुलाया और महिला से ₹7000 ले लिए और उसकी गर्भपात की प्रक्रिया शुरू करने लगी जैसे ही डॉक्टर ने गर्भपात की प्रक्रिया शुरू की स्वास्थ विभाग की टीम ने फौरन मौके पर जाकर कथित महिला डॉक्टर को मौके से रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। स्वास्थ्य विभाग ने आरोपी महिला डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया है और मामले की जांच की जा रही है।

Tuesday, October 6, 2020

October 06, 2020

खुदकुशी:आढ़ती मदन जिंदल ने दुकान में फंदा लगा दी जान, सुसाइड नोट में लिखा-डीएम हैफेड जिम्मेदार

खुदकुशी:आढ़ती मदन जिंदल ने दुकान में फंदा लगा दी जान, सुसाइड नोट में लिखा-डीएम हैफेड जिम्मेदार

अम्बाला : आढ़ती मदनलाल जिंदल उर्फ बबली ने सिटी की नई अनाज मंडी में अपनी आढ़त नंबर-65ए में पंखे के कुंडे से फंदा लगाकर जान दे दी। 55 वर्षीय जिंदल ने दो सुसाइड नोट छोड़े हैं। दोनों में लगभग एक जैसी बात लिखी है। इनमें डीएम हैफेड विकास देशवाल को जिम्मेदार ठहराया है। बबली के बेटे शुभम जिंदल की शिकायत पर देशवाल के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने का केस दर्ज किया है।
चौकी नंबर पांच के प्रभारी सुलतान सिंह के मुताबिक यह सुसाइड नोट मृतक आढ़ती के बेटे शुभम जिंदल ने उन्हें दिया। सुसाइड नोट दुकान की अलमारी में रखा हुआ था। एसएचओ सिटी रामकुमार के मुताबिक सुसाइड नोट व मोबाइल को फोरेंसिक जांच के लिए लैब में भेजा जाएगा। देशवाल के पक्ष जानने के लिए दैनिक भास्कर ने संपर्क करने के कई प्रयास किए। न तो कॉल रिसीव की और न मैसेज का जवाब दिया।
जिंदल मूलरूप से कुरुक्षेत्र के इस्माइलाबाद के रहने वाले थे। करीब 20 साल से अम्बाला में शिफ्ट हो गए थे। उनकी सेक्टर-8 में 725 नंबर कोठी है। मंडी में बेटे के नाम पर शुभम ट्रेडिंग कंपनी है। नोट बंदी के बाद करीब 4 साल पहले उन्होंने बैंक से लोन लेकर सुल्लर रोड पर शुभम राइस मिल शुरू किया था। दूसरा बेटा ऑस्ट्रेलिया में है।
सोमवार को करीब 11 बजे बजे अपनी दुकान पर आए। शटर डाउन कर छत में लगे कुंडे से रस्सी बांधकर फंदा लगा लिया। काफी देर तक शटर नहीं खुला तो मंडी की लेबर व आसपास के आढ़तियों ने जाकर देखा। आढ़ती की मौत की सूचना पाकर लेबर भी रोने लगी।

सुसाइट नोट में लिखा- मेरी इज्जत का सवाल है राइस मिल

मैं मदनलाल जिंदल पुत्र मिश्रीलाल जिंदल आत्महत्या करने जा रहा हूं। जिसका कारण हैफेड डीएम विकास देसवाल हैं। मेरा काम राइस का है। शुभम राइस मिल में 3 सालों से सीएमआर का हैफेड का काम कर रहा हूं। मैंने अपना काम समय पर निपटा दिया है। मैं कभी भी किसी एजेंसी का डिफाल्टर नहीं हुआ।
अब मेरे को डीएम हैफेड जीरी लेने की परमिशन नहीं दे रहा है। मैंने बैंक से लोन लेकर राइस मिल लगवाया है। अगर मिल बंद हो गया तो मैं बैंक की किस्तें कहां से भरूंगा। मैं डीएम हैफेड से तंग आकर आत्महत्या कर रहा हूं। (दूसरे सुसाइड नोट में लगभग यही बातें लिखी हैं। उसमें आखिर में लिखा है-मेरी इज्जत का सवाल है मेरा राइस मिल।

बड़े भाई का आरोप- डीएम 8-10 लाख रिश्वत मांग रहा था

बबली के बड़े भाई सुभाष जिंदल ने आरोप लगाया कि उनका भाई चार साल से राइस मिल चला रहा था। सरकार का कोई बकाया नहीं देना था। हर साल जीरी लेने के लिए डीएम से परमिशन लेनी पड़ती है। उसका भाई आठ-दस दिनों से डीएम के पास जाता था।
दिन में दस-दस चक्कर लगा रहा था, लेकिन डीएम उससे आठ-दस लाख रुपए मांग रहा था। उसने 50 हजार से एक लाख देने की बात कही थी। बबली को लग रहा था कि सेलर शुरू नहीं होने से लोग उसका मजाक उड़ा रहे हैं।

Saturday, October 3, 2020

October 03, 2020

मर्डर:ड्यूटी गए युवक का शव सड़क पर मिला, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मिली चोटों के निशान, हत्या का केस दर्ज

मर्डर:ड्यूटी गए युवक का शव सड़क पर मिला, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मिली चोटों के निशान, हत्या का केस दर्ज

गुरुग्राम ; सेक्टर-10 थाना क्षेत्र में एक 35 वर्षीय युवक का शव सरकारी स्कूल के पास मिला जबकि उसकी बाइक साथ ही खड़ी मिली। इस सूचना पर पुलिस ने मौके से शव बरामद कर नागरिक अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने युवक को मृत घोषित किए जाने के बाद पोस्टमार्टम कराया। पोस्टमार्टम डाक्टरों के बोर्ड ने किया, जिसमें शव पर चोटों के निशान मिलने के बाद हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया।
इस संबंध में सेक्टर-10 थाना प्रभारी संजय यादव ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद शव पर चोटों के निशान मिले हैं, जिस पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। रामप्रसाद निवासी रईया जिला झज्जर ने बताया कि उसका लड़का संदीप एक प्राइवेट कंपनी में काम करता था और गांव मेवका में छोटे लाल के मकान पर किराए पर अकेला रहता था।
शुक्रवार सुबह उन्हें सूचना मिली कि संदीप सरकारी स्कूल में रोड पर पर मृत अवस्था में पड़ा है। उन्होंने लाश की पहचान की और कहा कि संदीप की मौत अज्ञात कारणों से हुई है। इसके बाद शव का पोस्टमार्टम डाक्टरों के बोर्ड द्वारा किया गया। जिसमें डाक्टरों ने बताया कि शव पर गहरे चोट के निशान पाए गए हैं। जिसके आधार पर पुलिस ने हत्या का मुकदमा अज्ञात आरोपियों के खिलाफ दर्ज कर लिया है।

Friday, October 2, 2020

October 02, 2020

सुसाइड:13 पेज का सुसाइड नोट लिख ट्यूबवेल ऑपरेटर ने लगाया फंदा, पत्नी, एएसआई व ससुरालियों पर आत्महत्या के लिए मजबूर करने का आरोप

सुसाइड:13 पेज का सुसाइड नोट लिख ट्यूबवेल ऑपरेटर ने लगाया फंदा, पत्नी, एएसआई व ससुरालियों पर आत्महत्या के लिए मजबूर करने का आरोप

महादेव कॉलोनी में 30 वर्षीय युवक रमन कश्यप ने कमरे में पंखे से लटककर दी जान मौत से एक घंटा पहले पत्नी से हुई आखिरी बातचीत

सिरटा रोड स्थित महादेव कॉलोनी में 30 वर्षीय युवक रमन कश्यप ने फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। सुबह 7 बजे रमन की बहन कमरे में गई थी तो भाई पंखे पर फंदे से लटका था। आत्महत्या से पहले रमन नेे 13 पेज का एक सुसाइड नोट भी लिखा जिसमें पत्नी, ससुरालवालों व कुछ युवकों को मौत को जिम्मेदार ठहराया। सुसाइड नोट में आरोप है कि पत्नी किसी लड़के से मोबाइल पर बातचीत करती थी, जिस वजह से दोनों के बीच तकरार रहने लगी।

पत्नी कई महीने से मायके रह रही थी, उसने पति व ससुराल वालों के खिलाफ शहर थाना में शिकायत भी दर्ज करवाई हुई है। रमन के परिवार का आरोप है कि सिटी थाना की महिला जांच अधिकारी एएसआई बबीता ने उनसे एक लाख रुपए ले लिए और रमन को प्रताड़ित किया गया। रमन की बहन रेनू की शिकायत पर शहर थाना पुलिस ने रमन की पत्नी, पत्नी के घर वालों व एएसआई बबीता सहित कई लोगों के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने का केस दर्ज किया है।

परिवार ने पुलिस के सामने आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की मांग की। गिरफ्तारी न होने पर शाम पौने 5 बजे सिविल अस्पताल के सामने सड़क पर शव रखकर जाम लगा दिया। एक घंटे से ज्यादा समय रोड जाम रहा। मौके पर पहुंचे एसडीएम संजय कुमार, डीएसपी कुलवंत बिश्नोई, डीएसपी दलीप ने आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए दो दिन की मोहलत मांगी जिसके बाद परिवार वालों ने जाम खोला। रमन की बहन रेनू ने बताया कि वह एक बहन और दो भाई हैं। रमन पब्लिक हेल्थ में ट्यूबवेल ऑपरेटर था और मार्च 2019 में शादी हुई थी। अभी उसका कोई बच्चा नहीं है। रमन की पत्नी दूसरे लड़कों से कॉल व मैसेज करती थी जिसे लेकर उसका भाई रोकटोक करता।

वीरवार तड़के ऊपर कमरें में गई ताे भाई पंखे से लटका हुआ था: रेनू

रेनू ने बताया कि रमन की ड्यूटी चार से 12 बजे तक थी। वीरवार तड़के वह कमरे में था। जब मैं किसी काम से ऊपर गई तो भाई पंखे पर लटका हुआ था। उसने मेज पर चढ़कर पंखे पर फंदा लगाया और पांव के नीचे से मेज निकाल दी। भाई को मोबाइल चेक किया तो पता चला कि उसने सुबह 5.45 बजे पत्नी के पास कॉल की थी। पत्नी से क्या बात हुई उन्हें पता नहीं है।

हम अपनी बेटी का घर बसाना चाहते थे। सात-आठ महीने से हमारी लड़की घर बैठी है। पंचायत में भी हमने कहा था कि जो निर्णय होगा, वे मानेंगे। एसएचओ से भी कहा था कि ससुराल वाले राजी हैं और तंग नहीं करेंगे तो हम अपनी लड़की को भेजने को तैयार हैं। बुधवार को मैडम ने मेरी लड़की को कैथल बुलाया था। वह हमसे पूछकर गई थी कि मुझे कैथल बुलाया है। एएसआई ने सीना के कॉल से हमसे बात भी कि और कहा कि रमन लड़की को रखने को तैयार है। हमने रमन के परिवार से 15 लाख रुपए नहीं मांगे। धर्मपाल, सीना के पिता

10-15 दिन पहले दरखास्त आई थी। अगले दिन दोनों पक्ष आ गए। पंचायत समय ले गई कि हम दोनों पक्ष घर पर बैठकर बात कर लेंगे। घर पर उनकी सहमति नहीं हुई तो दोबारा फिर दोनों पक्ष थाने में आए। रमन व उसकी मां ने कहा कि हमारे खिलाफ आप पर्चा ही दर्ज कर दो। आसपास बैठे पुलिसवालों व पंचायत वालों ने भी समझाया कि पर्चे में कुछ नहीं रखा, घर बसा लो। लड़की ने कहा था कि पर्चा दर्ज करवाने के लिए वे सोमवार को आएंगी। बुधवार को लड़का व लड़की अकेले ही बिना बुलाए थाने आए। उन्होंने कहा कि हम घर बसाना चाहते हैं । हम किराए पर कमरा लेकर परिवार से अलग रह लेंगे। मैंने कहा कि तुम मौजिज व्यक्ति को ले आओ जो जिम्मेदारी ले सके और घर बसा लो। लड़के ने कहा कि मैं अपने दफ्तर वालों को बुला लेता हूं। दफ्तर वाले आए गए थे। रमन खुद ही उसकी पत्नी को लेकर आया था और खुद ही छोड़ने गया। सीना ने घर जाकर मेरे पास फोन भी किया कि रमन मुझे सही सलामत छोड़ गया है। उसके बाद क्या हुआ मुझे पता नहीं। -बबीता, एएसआई सिटी थाना जांच अधिकारी

सुसाइड नोट में एएसआई को रुपए देने की बात नहीं है। युवक की पत्नी ने सिटी थाना में पति व ससुराल वालों पर केस दर्ज करवाया था, जिसके सिलसिले में उन्हें थाने में बुलाया गया। परिवार की ओर से अभी कोई सबूत नहीं मिला है। जांच में जो सामने आएगा, उसी अनुसार कार्रवाई होगी। -शशांक कुमार सावन, एसपी कैथल।