/>

Breaking

Showing posts with label Crime News. Show all posts
Showing posts with label Crime News. Show all posts

Wednesday, May 12, 2021

May 12, 2021

नारनौल सीआईए ने रेवाड़ी काेविड जेल से भागे तीन बंदियों काे पकड़ा

नारनौल सीआईए ने रेवाड़ी काेविड जेल से भागे तीन बंदियों काे पकड़ा

नारनौल : सीआईए पुलिस टीम ने रेवाड़ी की काेविड जेल से भागे तीन बंदियों को पकड़ने में कामयाबी हासिल की है। सीआईए की टीम ने भागे हुए दो बंदियों को मंगलवार सुबह नारनौल क्षेत्र से व एक बंदी को दोपहर बाद हाजीपुर गांव के खेतों से पकड़ा है। पकड़े गए बंदियों की पहचान आशीष वासी काठुवास राजस्थान, अभिषेक वासी मौहल्ला फ्रांसखाना नारनौल व राजेश उर्फ कालिया वासी नांगल काठा के रूप में हुई है। नारनौल की नसीबपुर जिला जेल में कोरोना पॉजिटिव पाए गए बंदियों को रेवाड़ी की काेविड जेल में शिफ्ट कर दिया था। वहीं से 13 बंदी फरार हो गए थे। इसके बाद जिला पुलिस अधीक्षक चंद्रमोहन ने सभी थाना प्रबंधकों, सीआईए नारनौल व स्पेशल स्टाफ महेंद्रगढ़ को सख्त आदेश दिए कि जल्द से जल्द इनको तलाश करके पकड़ा जाए। मंगलवार को नारनौल सीआईए पुलिस ने भागे हुए तीन बंदियों को पकड़ने में कामयाबी हासिल की है। पूछताछ के बाद तीनों बंदियों को रेवाड़ी पुलिस के हवाले किया जाएगा। बता दे कि बंदी आशीष के खिलाफ सतनाली थाने में धोखाधड़ी व हत्या के मामले दर्ज हैं व बंदी अभिषेक पर सदर थाना नारनौल में लूट का मामला दर्ज है और बंदी राजेश उर्फ कालिया पर सदर थाना नारनौल में हत्या का मुकदमा दर्ज है। जिनमें तीनों बंदियों के खिलाफ अदालत में सुनवाई चल रही है।

Tuesday, May 11, 2021

May 11, 2021

किसान आंदोलन में युवती के साथ दुष्कर्म मामले में आया नया मोड़, पिता ने दिया ये स्टेटमेंट

किसान आंदोलन में युवती के साथ दुष्कर्म मामले में आया नया मोड़, पिता ने दिया ये स्टेटमेंट

बहादुरगढ़ : हरियाणा में टिकरी बॉर्डर पर युवती के साथ कथित तौर पर हुए दुष्कर्म को लेकर किसान संयुक्त मोर्चा और पीड़िता के पिता ने ऑनलाइन प्रेस कांफ्रेंस की। जिसमें पिता ने कहा कि अनूप और अनिल को छोड़कर बाकी चारों को पुलिस ने आरोपी बनाया है। मैंने किसी भी तरीके से उनके खिलाफ कोई शिकायत नहीं दी है। मैने पुलिस को जाकर आज दोबारा स्टेटमेंट दिया है कि मैने इन्हें आरोपी नहीं बनाया है।
ऑनलाइन प्रेस कांफ्रेंस के दौरान पीड़िता के पिता ने किसान संयुक्त मोर्चा को क्लीन चिट देते हुए पुलिस पर गम्भीर आरोप लगाये हैं। पीड़िता के पिता ने कहा- उन्होंने सिर्फ किसान सोशल आर्मी से जुड़े अनिल मलिक और अनूप चणौत पर आरोप लगाये थे। लेकिन पुलिस ने पीड़िता के पिता की मदद करने वाले लोगों के खिलाफ भी मामला दर्ज कर दिया।
आपको बता दें कि किसान आंदोलन से जुड़ी दो महिला किसानों ने की मामले को उठाने में मदद। लेकिन पुलिस ने मददगारों के खिलाफ ही मामल दर्ज कर लिया साथ ही अनूप और अनिल पर आरोप लगाते हुए कहा कि वे गलत लोकेशन पर बता कर हरियाणा के अलग हिस्से में बेटी को लेजा रहे थे। पीड़िता के पिता ने किसान संयुक्त मोर्चा और किसान नेता योगेंद्र यादव का मामले में मदद करने पर आभार जताया है।

पिता ने कहा- आरोपियों के खिलाफ हो सख्त कार्रवाई, लेकिन निर्दोष लोगों के खिलाफ कोई कार्रवाई न कि जाए। किसान संयुक्त मोर्चा ने पीड़िता की जान बचाने की कोशिश की थी और परिवार को न्याय दिलाने का भरोसा दिया था। पिता ने बताया- किसान संयुक्त मोर्चा ने कहा था कि पहले एफआईआर आप करवाएं नहीं तो संयुक्त मोर्चा आरोपियों के खिलाफ शिकायत देगा।

Monday, May 10, 2021

May 10, 2021

लॉकडाउन में भी नहीं रुक रही तस्करी

लॉकडाउन में भी नहीं रुक रही तस्करी

फतेहाबाद : भूना लॉकडाउन की पालना को लेकर जिला पुलिस द्वारा की गई नाकाबंदी के दौरान भूना पुलिस ने भारी सफलता हासिल की है। पुलिस टीम ने बस अड्डा सनियाना के समीप नाकाबंदी के दौरान तीन गाड़ियों से 340 पेटी (कुल 4080 बोतल) शराब बरामद कर चार लोगों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों की पहचान रणवीर, विनोद उर्फ धोलिया व सोहन निवासी सनियाना तथा सुरेन्द्र निवासी ढाणी भोजराज के रूप में हुई है। थाना भूना में इनके खिलाफ आबकारी अधिनियम व लॉकडाउन उल्लंघना पर आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है। मिली जानकारी के अनुसार शनिवार की सुबह डीएसपी अजायब सिंह व थाना प्रभारी कपिल कुमार के मार्गदर्शन में पुलिस की एक टीम सनियाना के पास नाकाबंदी करके वाहनों की चेकिंग कर रही थी। इसी दौरान पुलिस टीम को एक खास मुखबीर से सूचना मिली कि साहू मार्ग से सनियाना की तरफ से तीन वाहन आ रहे हैं, जिनमें भारी मात्रा में अवैध शराब भरी हुई है। सूचना के आधार पर सनियाना बस अड्डे के पास नाकाबंदी कर वाहनों की जांच कर रही थी। इस दौरान साहू रोड की ओर से आ रही गाडि़यों में सवार युवक सामने पुलिस को देखकर घबरा गया और वापस मोड़ने लगे लेकिन सड़क तंग होने के कारण गाडि़यां वापस नहीं मुड़ी। शक के आधार पर पुलिस ने इन गाड़ियों को काबू कर चार लोगों को काबू किया। आबकारी व कराधान अधिकारी की मौजूदगी में जांच में पुलिस ने एक कार से 30 पेटी, दूसरी कार से 30 पेटी जबकि पिकअप गाड़ी से 79 पेटी शराब बरामद की।
लॉकडाउन में 800 वाली पेटी 2000 तक बिक रही है। कोविड-19 महामारी के चलते लगाए गए लॉकडाउन में शराब की बिक्री पर कालाबाजारी धड़ल्ले से हो रही है। देसी शराब संतरा या शहनाई मार्का की पेटी मात्र 770 में परमिट पर मिलती है। पिछले 10 दिनों से परमिट पर शराब की रोक के बाद शराब की ब्लैक बढ़ गई है। जिन ठेकेदारों के पास शराब का स्टॉक पड़ा है, वह अब दो हजार तक देसी शराब की पेटी की बिक्री कर रहे हैं, जिसके कारण लॉकडाउन में शराब तस्करों की भी संख्या बढ़ गई है। लॉकडाउन का उठा रहे थे फायदा : डीएसपी डीएसपी अजायब सिंह ने बताया कि कोविड महामारी को लेकर जिला में लगे हुए लॉकडाउन के चलते कुछ लोग अवैध शराब की तस्करी करके अपना गोरख धंधा कर रहे हैं। पुलिस ने ऐसे लोगों पर लगाम लगाने के लिए विशेष नजर रखी हुई है। इसके चलते शराब तस्कर काबू किए गए हैं। पुलिस ने विभिन्न अपराधिक धाराओं के तहत चारों लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करके उन्हें गिरफ्तार कर लिया है, जिन्हें रविवार को न्यायालय में पेश किया जाए गा

Sunday, May 9, 2021

May 09, 2021

सीआईए ने 115 पेटी शराब के साथ किया एक गिरफ्तार

सीआईए ने 115 पेटी शराब के साथ किया एक गिरफ्तार

-लोकडाउन के दौरान सरकारी आदेशों का उल्लंघन करने व बिना लाईसैंस के रखी हुई थी शराब
जींद : ( संजय तिरँगाधारी ) सीआईए इंचार्ज मनीष सहारण की टीम द्वारा गावं डाहौला से गुप्त सूचना के आधार पर 115 पेटी (1380 बोतल) शराब बरामद की है। इस संबंध में डाहौला निवासी सितार सिहं पुत्र धर्मसिहं को गिरफ्तार किया गया है। 
सीआईए इंचार्ज मनीष सहारण ने बताया कि शुक्रवार शाम को सीआईए की टीम अपराधों की रोकथाम के लिए बस अड्डा नगुरा पर मौजूद थी। इस बीच उप निरिक्षक कुलदीप सिहं को गुप्त सूचना मिली कि गावं डाहौला में अवैध तौर पर शराब बेचने वाले सितार सिहं ने काफी मात्रा में शराब की पेटियां अपने मकान में रखी हुई है। इस सूचना पर सीआईए की टीम ने सितार सिहं के मकान पर रेड की तो उसके मकान से अन्दर से 115 पेटी (1380 बोतल) शराब बरामद हुई। आरोपी सितार सिहं ने अपने मकान में शराब रखने व कोरोना महामारी के दौरान लाॅक-डाउन के सम्बन्ध में सरकार द्वारा दिये गये दिशा-निर्देशों की उल्लंघना करने पर उसके खिलाफ थाना अलेवा में जुर्म धारा 188 आईपीसी व 61-4-20 आबकारी अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया। 
गिरफ्तारी के बाद शनिवार को सितार सिंह को अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे 14 दिन न्यायिक हिरासत के लिए कोविड-19 की पालना करते हुए हिसार जेल भेजने के आदेश जारी किए गए है।
May 09, 2021

पड़ोसी संग पत्नी हुई फरार, पति ने फांसी लगाकर दे दी जान, सुसाइड नोट में लिखी ये बात

पड़ोसी संग पत्नी हुई फरार, पति ने फांसी लगाकर दे दी जान, सुसाइड नोट में लिखी ये बात

जींद : ( संजय तिरँगाधारी ) जींद के उचाना ब्लॉक के घोघड़ियां गांव में एक युवक ने पत्नी के पड़ोसी संग भागने से आहत होकर खुदकुशी कर ली। युवक ने सुसाईड नोट भी छोड़ा है जिसमें चार लोगों पर आरोप लगाए हैं। युवक ने पत्नी के अवैध संबंधों का भी जिक्र किया है।

युवक ने अपनी पत्नी के अवैध संबंधों से तंग आकर जहरीला पदार्थ निगल लिया। मृतक की पहचान घोघड़ियां गांव निवासी 27 वर्षीय दिलेर के रूप में हुई है। अत्महत्या से पहले मृतक ने सुसाइड नोट लिखा, जिसमें उसने अपनी मौत के लिए पत्नी के प्रेमी और दो सालों को जिम्मेदार ठहराया।


सुसाइड नोट में उसने गांव के ही रहने वाले मोना हॉल आबाद टोहाना तथा कैथल जिले के सीवन गांव निवासी रणबीर, जसबीर व टॉटी पर आत्महत्या के लिए मजबूर करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने चारों को नामजद कर जांच शुरू कर दी है।
उचाना थाना पुलिस को दी शिकायत में व्यक्ति ने बताया कि गांव का रहने वाला मोना हाल आबाद टोहाना ने पांच मई को बहला-फुसलाकर उसकी बहू को भगा ले गया। उसको और उसके बेटे को जान से मारने की धमकी दी। इस दौरान मोना के साथ रणबीर, जसबीर व टाटी ने भी उनको धमकी दी। उसकी बहू को भगाने में तीनों का हाथ है।
व्यक्ति ने बताया कि उसकी बहू के भागने से बेटे ने आहत होकर आत्महत्या कर ली। उचाना थाना प्रभारी रविंद्र कुमार ने बताया कि आत्महत्या करने वाले युवक की पत्नी को भगाकर ले जाने व युवक को आत्महत्या के लिए मजबूर करने के आरोप में चार लोगों को नामजद करने के बाद जांच शुरू कर दी है।

इसमें बताया गया है कि उसकी पत्‍‌नी के गांव के ही मोना के साथ अवैध संबंध है। बार-बार मना करने पर भी मोना नहीं रहा है। इसको लेकर उसने अपने साले गांव सीवन निवासी जस्सू तथा रणबीर को भी बताया। दोनों ने उसके साथ मारपीट की।
मामला थाने तक भी पहुंचा लेकिन पंचायती तौर पर समझौता हो गया। इसके बाद भी मोना अपनी हरकतों से बाज नहीं आया। उसके साले जस्सू व रणबीर ने उसे धमकी दी। उचाना थाना पुलिस ने रघबीर की शिकायत पर सुसाइड नोट को आधार मान गांव के ही मोना, गांव सीवन निवासी जस्सू तथा रणबीर के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज किया है।

Saturday, May 8, 2021

May 08, 2021

करनाल में देर रात आम राहगीर समझकर लूटने के लिए CIA टीम की गाड़ी पर किया गंडासी से हमला

करनाल में देर रात आम राहगीर समझकर लूटने के लिए CIA टीम की गाड़ी पर किया गंडासी से हमला

करनाल : में पुलिस ने लूटपाट की वारदातों को अंजाम देने वाले 4 बदमाशों को गिरफ्तार किया है। बताया जाता है कि घात लगाकर बैठे बदमाशों ने आम राहगीर समझकर क्राइम इन्वेस्टीगेशन एजेंसी की टीम के लोगों पर हमला कर दिया, लेकिन जवाबी कार्रवाई में धरे गए। अब इसे बदमाशों की गलतफहमी कहें या पुलिस की होशियारी कि बदमाशों को पकड़ने के लिए ही पुलिस सादा कपड़ों में मौके पर पहुंची थी। पुलिस अब उन्हें रिमांड पर लेकर पूरा रिकॉर्ड खंगालने की तैयारी में जुटी है।

क्राइम इन्वेस्टीगेशन एजेंसी असंध के इंचार्ज रामफल को सूचना मिली थी कि रात के अंधेरे में असंध से कैथल रोड पर गांव चौगामा के समीप कुछ बदमाश राहगीरों को लूटने के इरादे से हथियारों से लैस होकर घात लगाकर बैठे हैं। रामफल ने योजनाबद्व तरीके से एक निजी गाड़ी में टीम बिठाकर रवाना की और जैसे ही यह गाड़ी चौगामा गांव के बस अड्डे के समीप टी प्वाइंट पर पहुंची तो बदमाशों ने पहले टॉर्च दिखाई और फिर गाड़ी रुकते ही आगे की शीशे पर गंडासी से हमला कर दिया। तभी गाड़ी से उतरकर पुलिस कर्मियों ने चारों बदमाशों को काबू कर लिया।
गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान विकास वासी गांव मर्दानहेड़ी, मुल्तान वासी गांव चौगामा, सावन वासी फफड़ाना और संदीप सिंह वासी असंध के तौर पर हुई है। इनके पास से एक अवैध देसी पिस्तौल, तलवार और गंडासी भी बरामद की गई है। CIA इंचार्ज रामफल का कहना है कि आरोपियों के खिलाफ रात को ही केस दर्ज कर लिया गया है। कोर्ट में पेश करके रिमांड पर लिया जाएगा और उनका पूरा रिकॉर्ड खंगाला जाएगा तो वहीं अन्य जानकारी भी जुटाई जाएगी।

Friday, May 7, 2021

May 07, 2021

3 लाख रुपए के लेन-देन के मामले में गोली लगने से 4 गंभीर घायल

3 लाख रुपए के लेन-देन के मामले में गोली लगने से 4 गंभीर घायल
हिसार : जिले में शुक्रवार दोपहर एक परिवार पर फायरिंग करने का मामला सामने आया है। वारदात पैसों के लेन-देन में अंजाम दी गई। गोलीबारी में परिवार के चार लोग घायल हुए हैं, जिन्हें उपचार के लिए सामान्य अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस भी मामले की जांच पड़ताल में जुट गई है। वारदात मिलगेट क्षेत्र में 30 फुटा रोड पर अंजाम दी गई।

30 फुटा रोड निवासी रामप्रसाद सोसाइटी चलाता था। इसी रोड पर रहने वाले मोहन से उसने करीब 3 लाख रुपए लेने थे, लेकिन मोहन पैसे नहीं दे रहा था। करीब दो साल से विवाद चल रहा था कि शुक्रवार को रामप्रसाद पैसे लेने आ गया। बातचीत के दौरान वह तैश में आ गया और उसने मोहन के परिवार पर फायरिंग कर दी। इस गोलीबारी में मोहन, उसकी पत्नी बबली, बेटा गौतम और भतीजा सोमवीर घायल हो गए। 55 साल के मोहन को जांघ, उसकी पत्नी 50 साल की बबली को हाथ, उनके बेटे 19 साल के गौतम को जांघ में गोली लगी।

35 साल सोमवीर को पेट में गोली लगी है। चारों को पड़ोसियों ने सामान्य अस्पताल में भर्ती कराया। सोमवीर को गंभीर हालत होने के कारण हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है। पुलिस ने पीड़ितों की शिकायत पर आरोपी रामप्रसाद के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

Wednesday, May 5, 2021

May 05, 2021

पश्चिम बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं की राजनीतिक हत्याओं के खिलाफ भाजपा नेताओं ने किया विरोध प्रदर्शन

पश्चिम बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं की राजनीतिक हत्याओं के खिलाफ भाजपा नेताओं ने किया विरोध प्रदर्शन

जींद : ( संजय तिरँगाधारी ) बंगाल चुनाव नतीजों के बाद TMC पार्टी के लोगों द्वारा राजनीतिक द्वेष के चलते भाजपा कार्यकर्ताओं की लगातार राजनीति हत्या के विरोध में भाजपा जिला जींद के वरिष्ठ नेताओं ने जींद रानी तालाब पर सांकेतिक धरना दिया ।

धरने का नेतृत्व भाजपा जिला अध्यक्ष राजकुमार राजू मोर व भाजपा विधायक डॉ कृष्ण मिढ़ा ने किया । कोरोना महामारी को देखते हुए सीमित संख्या में ही प्रमुख कार्यकर्ताओं को धरने में बुलाया गया था । जिला अध्यक्ष राजू मोर ने कहा कि बंगाल में हो रही घटनाएं सरासर लोकतंत्र की हत्या है और स्वच्छ लोकतांत्रिक राजनीति के लिए कलंक हैं । भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जे पी नड्डा जी के नेतृत्व में बंगाल समेत पूरे देश मे विरोध स्वरूप धरने हो रहे हैं, इसी कड़ी में जींद में भी विरोध प्रदर्शन किया गया है । उन्होंने कहा कि चुनावी रंजिश के चलते भाजपा कार्यकर्ताओं को चुन चुन कर निशाना बनाया जा रहा है, घरों को जलाया जा रहा है ।
विधायक डॉ कृष्ण मिढ़ा ने कहा कि बंगाल में हो रही राजनीतिक हिंसा व गुंडागर्दी लोकतंत्र के लिए खतरनाक है । राजनीति में हार जीत लगी रहती है और चुनाव के बाद चुनावी बातें खत्म हो जाती हैं परंतु जिस तरह भाजपा कार्यकर्ताओं को रंजिश के तहत हिंसा करके मारा जा रहा वो बेहद शर्मनाक और निंदनीय है । बंगाल में 1947 से जैसे हालात बन गए हैं । हालातों को देखते हुए बंगाल सरकार को भंग करके राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की आवश्यकता है ।
इस अवसर भाजपा जिला महामंत्री डॉ सैनी, वरिष्ठ नेता डॉ ओम प्रकाश पहल, सुभाष शर्मा आदि प्रमुख कार्यकर्ता उपस्थित रहे ।
May 05, 2021

सांपला के पूर्व पार्षद संदीप की गुरुग्राम में गोली मारकर हत्या

सांपला के पूर्व पार्षद संदीप की गुरुग्राम में गोली मारकर हत्या 

 गुरुग्राम : रोहतक सांपला के पूर्व पार्षद संदीप उर्फ मॉनिटर की गुरुग्राम के इस्लामपुर में गोली मारकर हत्या कर दी गई है। हत्या का कारण पीजी में हुआ मामूली विवाद बताया जा रहा है। फिलहाल मौके पर पहुंचकर पुलिस मामले की जांच कर रही है। गुरुग्राम सदर थाना पुलिस द्वारा जांच की जा रही है। मामले के अनुसार, संदीप 2014 से 2019 के कार्यकाल में सांपला नगरपालिका के वार्ड नं 6 से पार्षद था। संदीप की हत्या का आरोप मनीष व जोंटी नामक युवकों पर लगे है। बताया जा रहा है कि रात को हुए झगड़ा के कारण संदीप की हत्या की गई है। हत्या में शामिल आरोपी अभी फरार है। पुलिस का दावा है कि जल्द ही आरोपियों की गिरफ्तारी कर ली जाएगी। पुलिस हर पहलू से मामले की जांच कर रही है।
May 05, 2021

कुंजपुरा के मेन बाजार में हुई वारदात

कुंजपुरा के मेन बाजार में हुई वारदात

करनाल : कुंजपुरा के मेन बाजार में दुकान की खिड़की की ग्रिल तोड़कर चाेराें ने 30 हजार कैश और 15 से 20 हजार रुपए के लेडिज सूट चोरी कर लिए। पुलिस ने शिकायत के आधार पर अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस एरिया के सीसीटीवी कैमरे चेक किए जा रहे हैं। लॉकडाउन के बावजूद चोर घटनाएं करने में लगे हैं। दुकानदार राजेश कुमार ने शिकायत दी कि मेरी मेन बाजार कुंजपुरा में एक कपड़े की दुकान है। रात काे किसी अनजान व्यक्ति ने ऊपर की मंजिल पर लगी खिड़की कीग्रिल का शीशा उतारकर लगभग 30 हजार रुपए, 15 से 20 हजार के लेडिज सूट चोरी कर लिए गए हैं। कुंजपुरा थाना पुलिस ने अज्ञात पर कार्रवाई की है।
May 05, 2021

BHIM App नहीं चलने पर कस्टमर केयर पर की थी कॉल, लगी 3 लाख 40 हजार रुपए की चपत

BHIM App नहीं चलने पर कस्टमर केयर पर की थी कॉल, लगी 3 लाख 40 हजार रुपए की चपत

रोहतक : एक व्यक्ति के साथ ऑनलाइन मीडियम से बड़ी धोखाधड़ी की कहानी सामने आई है। पुलिस के मुताबिक इस शख्स के मोबाइल फोन में भारत इंटरफेस फॉर मनी काम नहीं कर रहा था और जब कस्टमर केयर नंबर पर कॉल की तो फोन पर बात करने वाले ने मदद के नाम पर उसके फोन में रिमोट पर लेने के लिए एक और ऐप्प इंस्टाल कराई और फिर जो हुआ, उसके बाद उसके पैर तले की जमीन खिसक गई। उसके खाते से 3 रुपए कम पूरे 3 लाख 40 हजार निकल गए।

पुलिस को दिए बयान में रोहतक के रैवेन्यू कॉलोनी निवासी विजय कुमार ने बताया कि उसका खाता SBI की लघु सचिवालय स्थित शाखा में है। वह अपने मोबाइल में BHIM ऐप्प और बैंक का अपना ऐप्प YONO इस्तेमाल करता है। कई दिन से BHIM ऐप्प नहीं चल रहा था। इसकी जानकारी के लिए उसने कस्टमर केयर नंबर पर बात की।

बात करते-करते एक दूसरे नंबर से कॉल आई, जिसने कहा कि इस नंबर पर बात करो। तभी उससे एनी डेस्क एप्लीकेशन मोबाइल में डाउनलोड करवाई और SBI एप्लिकेशन की भी पूरी जानकारी ले ली। थोड़ी देर बाद शक होने पर पीड़ित ने फोन काट दिया और खाते में बैलेंस चेक किया। पता चला कि अलग-अलग ट्रांजक्शन करके उसके खाते से 3 लाख 39 हजार 997 रुपए निकाल लिए गए। इसके बाद उस नंबर पर दोबारा कॉल की, लेकिन किसी से बात नहीं हुई। अपने साथ हुए धोखे के बारे में विजय ने पुलिस को शिकायत दी तो थाना सिविल लाइन की पुलिस ने आगे की जांच शुरू कर दी है।
गौरतलब है कि कस्टमर केयर के नाम पर ठगी के आए दिन मामले सामने आ रहे हैं। पिछले माह भी इसी तरह बैंक का कस्टमर केयर बताकर ठग ने एक व्यक्ति के खाते से करीब सवा लाख रुपए निकाल लिए गए थे। इसके अलावा भी काफी मामले आ चुके हैं। इसकी पुष्टि करते हुए DSP सुशीला ने कहा कि कस्टमर केयर के नाम पर ठगी के काफी मामले सामने आ रहे हैं। इन्हें ट्रेस करने का प्रयास किया जा रहा है। कुछ मामले ट्रेस कर आरोपितों को गिरफ्तार भी किया है। लोगों को भी जागरूक होना होगा
May 05, 2021

मेडिकल स्टोर संचालक ने रेमडेसिविर के नकली इंजेक्शन बेचकर कमाए एक करोड़, भानजे ने खोली पोल

 मेडिकल स्टोर संचालक ने रेमडेसिविर के नकली इंजेक्शन बेचकर कमाए एक करोड़, भानजे ने खोली पोल

पानीपत :  ये आपदा में अवसर बनाने वाले नहीं, आपदा के असुर हैं। हैदराबादी अस्पताल स्थित एपी मेडिकल स्टोर के संचालक सेक्टर 13-17 के प्रदीप ने नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचने शुरू कर दिए। उत्तराखंड के एक व्यक्ति से 750 नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन खरीदे। इनमें से 650 इंजेक्शन भांजे-दोस्तों व मेडिकल स्टोर संचालकों व लैब मैनेजर को 15 से 30 हजार रुपये प्रति इंजेक्शन बेच दिए। उसने प्रति इंजेक्शन 12000 रुपये से खरीदा। एक सप्ताह में यानि 90 लाख रुपये के नकली इंजेक्शन खरीदे। करीब एक करोड़ 95 लाख में इन्हें बेचा। यानी एक करोड़ से ज्यादा की कमाई की। बचे हुए सौ इंजेक्शन के बारे में पुलिस पता लगा रही है। भानजे ने ही पोल खोल दी। 
अगर पुलिस के हत्थे इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वाले तीन गिरोह के सात बदमाश नहीं पकड़े जाते तो न जाने ये प्रदीप कितने और करोड़ रुपये कमा लेता। वह नकली इंजेक्शन से कोरोना रोगियों की जिंदगी के साथ भी खिलवाड़ कर रहा था। क्राइम इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (सीआइए-वन) ने आरोपित प्रदीप को अदालत में पेश कर चार दिन की रिमांड पर लिया है।

Tuesday, May 4, 2021

May 04, 2021

लॉकडाउन तोड़ने वालों को पुलिस ने करवाई उठक-बैठक, सुबह सैर पर निकले थे लोग

लॉकडाउन तोड़ने वालों को पुलिस ने करवाई उठक-बैठक, सुबह सैर पर निकले थे लोग

अंबाला : लॉकडाउन नियमों का उल्लघंन करने वालों पर अब पुलिस का डंडा जमकर चल रहा है। बिना वजह घरों से बाहर निकलने वाले लोगों की पुलिस जमकर परेड कर रही है। मंगलवार को सुबह सैर पर निकलने दर्जनों लोगों की पुलिस ने बीच सड़क पर उठक बैठक लगवाकर कसरत करवाई। कैंट एसएचओ विजय कुमार भी बिना वजह घर से बाहर निकलने वालों पर सख्त दिख रहे हैं। उनका वीडियो भी वायरल हो रहा है जिसमें वे एक युवक को थ्प्पड़ मारते हुए दिख रहे हैं। उधर सिटी की सदर पुलिस ने रोक के बावजूद बकरा मंडी का आयोजन करने वालों के खिलाफ भी केस दर्ज किया है। आरोपियों पर धारा-144 की उल्लघंना करने का भी आरोप है। बीएसएनएल ऑफिस के बाहर करवाई परेड
मंगलवार को सुबह ही पुलिस ने गश्त के दौरान सैर पर निकले दर्जनों लोगों को पकड़ लिया। ये लोग कैंट में बीएसएनएल ऑफिस के पास ही सैर कर रहे थे। इसके बाद पुलिस ने बीच सड़क पर ही सभी को सोशल डिस्टेंसिंग में खड़ा किया। फिर सभी को उठक बैठक लगाने के आदेश दिए। मुश्किल फंसे लोगों को पुलिस के डंडे की वजह से मजबूरी में कई उठक बैठक लगानी पड़ी। उठक बैठक कर रहे लोगों की वीडियो बनाकर उसे वायरल कर दिया गया। इसी तरह पुलिस ने हाउसिंग बॉर्ड कॉलोनी में भी बिना वजह घर से बाहर घूम रहे कई लोगों को पकड़ लिया। इन लोगों से भी पुलिस ने उठक बैठक लगवाई। इसके बाद सभी को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया। लॉकडाउन के दौरान इन लोगों को घर से बाहर न निकलने की भी अपील की गई ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोका जा सके।
एसएचओ पर थप्पड़ मारने का आरोप एसएचओ कैंट विजय कुमार भी लॉकडाउन तोड़कर बाहर घूमने वालों पर खासे सख्त दिखाई दे रहे हैं। उनका एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें वे गश्त के दौरान एक युवक से पूछताछ करते नजर आ रहे हैं। पूछताछ के दौरान युवक द्वारा कोई संतोषजनक जवाब न मिलने पर वे उसे थप्पड़ मारते हुए दिखाई दे रहे हैं। एसएचओ के इस बर्ताव की विपक्षी पार्टियों के लोग जमकर आलोचना कर रहे हैं
 पुलिस किसी पर ज्यादती नहीं कर रही है पुलिस सख्ती नहीं करना चाहती पर लोग मानने को तैयार नहीं हैं। जब जिले में पूर्ण लॉकडाउन लगा हुआ तब भी लोग बाहर घूम रहे हैं। पुलिस किसी पर ज्यादती नहीं कर रही है। पर कुछ लोग ऐसा करने के लिए मजबूर कर रहे हैं। सरकार के आदेशों की पालना के लिए कानून के दायरे में हर उचित कदम उठाया जाएगा।

Monday, May 3, 2021

May 03, 2021

एक कोर्ट में 4 केसों में फर्जी दस्तावेजों पर 4 को जमानत दिला ले गई निशा

एक कोर्ट में 4 केसों में फर्जी दस्तावेजों पर 4 को जमानत दिला ले गई निशा

अम्बाला : नाम-निशा आर्य। पता-यमुनानगर जिले के फर्कपुर का पृथ्वी नगर। व्यवसाय-फर्जी जमानती। ये बायोडाटा भले अटपटा लगे लेकिन अम्बाला की अदालतों में सुर्खियों में आ गया है। वजह निशा का कारनामा। उसने चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट  अंबरदीप सिंह की कोर्ट में 4 मामलों में फर्जी दस्तावेजों पर जमानती बनकर 4 आरोपियों को जमानत दिलाई।

उसने झपटमार, धोखाधड़ी के आरोपी व महामारी एक्ट में फंसे नेपाल के तबलीगी जमाती की जमानत कराई। अक्टूबर 2020 में ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी विनोद कुमार ने फर्जी दस्तावेजों पर जमानत कराने का मामला पकड़ा था। तब नकली नोट के साथ पकड़े आरोपी की जमानत के लिए जमीन की फर्जी जमाबंदी व आधार कार्ड लगाया गया था।

रेलवे वर्कशॉप के मोहम्मद सलीम ने खुद को मोहन कुमार बताकर जमानत दी थी। मामले में भी निशा आर्य की भूमिका सामने आई थी। वहीं से जांच शुरू हुई और 4 मामलों में फर्जी दस्तावेजों पर जमानत दिए जाने की बात सामने आई। पुलिस ने निशा आर्य के साथ उसके भाई शुभम, नंदा कॉलोनी की रेनू बाला व फर्कपुर की महिला सिमरन पर धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है।

फर्कपुर में पृथ्वी नगर व नंदा कॉलोनी आमने-सामने हैं। संभावना है कि निशा ने गैंग बना रखा है। सिमरन भी 1 मामले में फर्जी जमानती बन चुकी है। उसने महाराष्ट्र के ठाणे निवासी जितेंद्र मग्गन राठौड़ उर्फ रमेश महेश अग्रवाल उर्फ अजय पंकज शर्मा उर्फ संजय श्याम नरैण को धोखाधड़ी केस में जमानत दिलाई।

इन केसों में दिए फर्जी दस्तावेज

1. महेशनगर थाने में वर्ष 2019 में दर्ज झपटमारी के मामले में कैंट की अमरपुरी कॉलोनी के शुभम को जमानत दिलवाई। जमानती निशा आर्य की तरफ से कोर्ट में फर्जी दस्तावेज दिए गए। 2. यही दस्तावेज सिटी थाने में 6 जुलाई 2019 को दर्ज धोखाधड़ी केस के आरोपी लुधियाना के सुनील डेनिस की जमानत में दिए थे। जमीन से संबंधित दस्तावेज पटवारी व तहसीलदार ने फर्जी बताए। 3. कैंट थाने में 4 फरवरी 2020 को दर्ज धोखाधड़ी केस में यूपी के सुलतानपुर निवासी आरोपी अविनाश उर्फ अर्पित ढींगरा की जमानत के लिए जेएमआईसी नीलम कुमारी की कोर्ट में फर्जी दस्तावेज लगाए। 4. महेश नगर पुलिस द्वारा फॉरेनर्स एक्ट व आपदा अधिनियम में गिरफ्तार किए गए नेपाल के तबलीगी जमाती मोहम्मद गनी मियां तेली की जमानत भी फर्जी दस्तावेजों पर कराई गई। 24 जून 2020 को आरोपी की जमानत के लिए जेएमआईसी नीलम कुमारी की कोर्ट में रेनू बाला ने जो दस्तावेज लगाए थे, वो फर्जी मिले। जाली दस्तावेज तैयार करने में निशा आर्य, उसके भाई शुभम व सिमरन की भी संलिप्तता मिली।

*निशा के घर से फर्जी मुहरें मिली थी*

3 सितंबर 2020 को 26 हजार के नकली नोट के साथ पकड़े कमल विहार के अजीत सिंह उर्फ सोनू की 9 अक्टूबर को एडिशनल सेशन जज कमल कांत शर्मा ने 6 दिन की अंतरिम जमानत मंजूर की थी। अंतरिम जमानत के लिए 80 हजार रुपए का श्योरिटी बांड देने आए व्यक्ति ने मजिस्ट्रेट विनोद कुमार के सामने अपनी पहचान मोहन कुमार के तौर पर बताई। आधार कार्ड, साल 2014-15 की जमाबंदी, 25 सितंबर 2020 का प्रॉपर्टी वेल्युएशन डॉक्यूमेंट व शपथ पत्र दिया था। व्यक्ति की शिनाख्त आरोपी अजीत कुमार की पत्नी रणबीर कौर ने की थी। कोर्ट को दस्तावेजों पर शक हो गया।

जांच में पाया कि फर्कपुर की जमाबंदी के दस्तावेज में कुल भूमि का उल्लेख नहीं किया था। जगाधरी के तहसीलदार को छोटू राम ने जमाबंदी फर्जी होने की रिपोर्ट दी। पकड़े जाने पर मोहन कुमार ने बताया कि वो तो रेलवे वर्कशाप का मोहम्मद सलीम है। सलीम निशा आर्य के ही संपर्क में था। निशा भी गिरफ्तार हुई और उसके घर से दस्तावेजों पर उपयोग की गई मुहरें बरामद की थी। निशा बैंक फर्जीवाड़े में भी फंसी थी। पति मेघराज रेलवे वर्कशॉप में नौकरी करता है।
May 03, 2021

तलाक दिए बिना पति करने जा रहा था दूसरी शादी, पहली पत्नी पुलिस लेकर पहुंच गई

तलाक दिए बिना पति करने जा रहा था दूसरी शादी, पहली पत्नी पुलिस लेकर पहुंच गई

झज्जर : में पहली पत्नी के रहते हुए दूसरी शादी किए जाने की कोशिश का मामला सामने आया है। शादी हो ही रही थी कि फेरे होने से ठीक पहले पत्नी महिला एवं बाल संरक्षण आयोग की टीम और पुलिस को लेकर पहुंच गई। पुलिस ने शादी रुकवाई और आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया।

बताया जा रहा है कि युवक का अपनी पहली पत्नी के साथ दहेज का केस अदालत में पिछले 7 साल से चल रहा है। केस का अभी फैसला नहीं हुआ और न ही दोनों का तलाक हुआ। इसके बावजूद आरोपी झज्जर शहर के एक होटल में गोपनीय तरीके से शादी रचा रहा था। आरोपी सोनीपत जिले का रहने वाला है।

पुलिस को दी शिकायत में पीड़िता ने बताया कि उसकी शादी आरोपी युवक के साथ साल 2014 में हुई थी। लेकिन शादी के बाद से ही उसे दहेज के लिए तंग किया जाने लगा। बाद में उसे घर से निकाल दिया गया। अब वह अपने मायके में रह रही है। ससुराल के ही रिश्तेदार से दूसरी शादी करने का पता लगा था।

महिला एवं बाल संरक्षण आयोग की टीम के सदस्यों ने बताया कि शिकायत मिलने पर वह यहां पहुंचे हैं। उन्होंने युवक को दूल्हे की वेशभूषा में शादी करते हुए पकड़ा है। आरोपी को पुलिस के हवाले कर दिया गया है। जांच पड़ताल के बाद आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
May 03, 2021

बैंककर्मी बन ठग ने खाते में तकनीकी खराबी बताकर 72628 रुपए निकाले

बैंककर्मी बन ठग ने खाते में तकनीकी खराबी बताकर 72628 रुपए निकाले

*5 रु. का मैसेज भेजा, लिंक पर क्लिक करते ही फाेन-पे से निकाली रकम*
पानीपत : बैंककर्मी बनकर ठग ने युवक के खाते में तकनीकी खराबी बताकर 72628 रुपए निकाल लिए। पहले खाते में 5 रुपए जमा कराने के लिए मैसेज भेजा। मैसेज के लिंक पर क्लिक करते ही फाेन-पे के माध्यम से 6 बार में रकम निकाल ली। अब ठग पीड़ित काे धमका रहा है। उसने अज्ञात ठग के खिलाफ सेक्टर-29 थाना में ठगी का केस दर्ज कराया है।

डाडाेला गांव के श्रवण कुमार पुत्र ओमप्रकाश ने बताया कि वह एक फैक्ट्री में मजदूरी करता है। उसका सनाैली राेड पर सब्जी मंडी स्थित पंजाब नेशनल बैंक में खाता है। 7 अप्रैल की शाम करीब 7 बजे अज्ञात नंबर से उसके पास काॅल आया। काॅल करने वाले ने कहा कि वह पंजाब नेशनल बैंक एटीएम हेड ऑफिस मुंबई से बाेल रहा है।

ठग ने खाते में तकनीकी खराबी बताई। श्रवण ने कहा कि 29 मार्च काे पिता की माैत हुई थी और 7 काे ब्राह्मण भाेज के कारण वह ज्यादा सवाल जबाव नहीं कर पाया। ठग ने जाे कहा उसकी मानता रहा। ठग ने खाते में पांच रुपए जमा कराने के बहाने एक मैसेज भेजा।

मैसेज में आए लिंक पर क्लिक करने के बाद ठग ने उससे काेड पूछ लिए और खाते से रुपए निकाल लिए। जब पीड़ित ने उससे खाते से रुपए कटने की बात कही ताे ठग ने कहा कि खाते में रुपए डाल देंगे और फिर फाेन बंद कर दिया।

Saturday, May 1, 2021

May 01, 2021

चिट फंड कंपनी ने निवेश का झांसा देकर 2.80 करोड़ रुपये हड़पे

चिट फंड कंपनी ने निवेश का झांसा देकर 2.80 करोड़ रुपये हड़पे

चिट फंड कंपनी ने उपभोक्ता को अच्छी खासी ब्याज दर का झांसा दे 2.80 करोड़ रुपये हड़प लिए। शहर थाना नरवाना पुलिस ने उपभोक्ता की शिकायत पर कंपनी के नौ लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी, अमानत में ख्यानत समेत विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। हरी नगर नरवाना निवासी रमेश ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि वह रूस में योगा की क्लास चलाता है। जिसके चलते अक्सर विदेश में आना जाना लगा रहता है। जनवरी 2015 में उसकी मुलाकात गुरुग्राम निवासी गौत्तम पारती व उसकी पत्नी शिवानी पारती से हुई। उन्होंने बताया कि उनका विदेशों में अच्छाखासा बिजनैस है। जिसके चलते उन्होंने विक्रम कश्यप से मिलवाया और खुद को बिजनेस पार्टनर बताया। उन्होंने बताया कि उनकी क्वीक कैंसीलेंट प्राइवेट लिमिटेड निवेश कंपनी है जो सरकार से रजिस्ट्रड है। जिसके निदेशक रोहित पुरी तथा रणजीत कश्यप है। जनवरी 2015 में उसने आठ लाख रुपये निवेश किए। 

पांच माह बाद चार लोग मुनाफे के साथ 12 लाख रुपये की राशि दे दी गई। जिसके बाद आरोपितों ने उसे और निवेश करने के लिए उकसाया। जिस पर उसने वर्ष 2016 में 60 लाख, जून माह में 50 लाख, दिसम्बर 2017 में 70 लाख तथा 70 लाख रुपये अलग से जबकि 30 लाख रुपये दुबई के खाते में डाले। कुल मिलाकर उसने कंपनी में दो करोड 80 लाख रुपये निवेश किए। बावजूद इसके निवेश अवधि पूरी होने के बाद भी राशि को नहीं लौटाया। जिसको लेकर वह कई बार कंपनी पदाधिकारियों से मिला। शुरु में राशि जल्द लौटाने की बात कहते रहे, बाद में उन्होंने राशि लौटाने से मना कर दिया और बुरा अंजाम भुगतने की धमकी दी। शहर थाना नरवाना पुलिस ने रमेश की शिकायत पर शिवानी पारती, सना पारती, विक्रम कश्यप, रोहित पुरी, रणजीत, देवराज, सतीज खटर, प्रदीप, बंटी के खिलाफ धोखाधड़ी, अमानत में ख्यानत समेत विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
May 01, 2021

हरियाणा का कुख्यात गैंगस्टर सुबे गुर्जर गिरफ्तार, साढ़े सात लाख का था इनाम

हरियाणा का कुख्यात गैंगस्टर सुबे गुर्जर गिरफ्तार, साढ़े सात लाख का था इनाम

चण्डीगढ़ : हरियाणा पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने एक बडी कामयाबी हासिल करते हुए 2016 से फरार चल रहे 7 लाख 50 हजार रुपये के इनामी गैंगस्टर सूबे गुर्जर को एयर पोर्ट, दिल्ली से गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की हैं।

हरियाणा पुलिस के प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि हरियाणा सहित कई राज्यों की पुलिस को सूबे गुर्जर की तैलाश थी।
गुरुग्राम जिले में बड़गुज्जर निवासी गैंगस्टर जो हरियाणा और पड़ोसी राज्यों की पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती बना हुआ था वर्ष 2004-05 से अपराधिक गतिविधियों में कुख्यात अपराधी रहा है। यह मुख्य रुप से कौशल गैंग के साथ मिलकर अपराधो को अंजाम देता था तथा कौशल के पकड़े जाने के बाद यह गैंग की कमान सम्भाल रहा था।
प्रारंभिक पूछताछ के अनुसार सूबे गुर्जर पर दिल्ली-एनसीआर सहित हरियाणा, राजस्थान व उत्तर प्रदेश में  हत्या के 11 मामले, हत्या के प्रयास के 12 मामले, दर्जनों अभियोगों में फिरौती मांगने व जान से मारने की धमकी देने सहित अन्य जघन्य धाराओं के दर्जनों केस दर्ज हैं।
जिनमे से 2 अभियोगों में माननीय अदालत से सजायता है तथा अन्य कई मामलों में उद्घोषित अपराधी/भगोड़ा घोषित है। साथ ही करीब 20 अन्य मामलों में गिरफ्तारी बकाया है।
पकड़े गए गैंगस्टर ने आपराधिक वारदातों को अंजाम देने के लिए लोकल स्तर पर गुर्गे तैयार कर रखे है, जिनका वह अन्य राज्यों व देशों से नेतृत्व करता था। दिल्ली एनसीआर से बाहर रहकर गुर्गों के माध्यम से ही वह फिरौती मांगने, फिरौती से प्राप्त होने वाली रकम हासिल करने व पैसे लेकर मर्डर करवाने (कॉन्ट्रैक्ट किलिंलग) जैसे काम करता था।

फिरौती नही देने वालों की हत्या व हत्या का प्रयास करवाता था, जिसका मुख्य उद्देश्य व्यापारियों/कारोबारियों में दहशत फैला कर ज्यादा से ज्यादा पैसे वसूलना व आमजन में डर का माहौल पैदा करना था।
स्पेशल टास्क फोर्स, हरियाणा द्वारा इनामी गैंगस्टर सुबे गुर्जर को माननीय अदालत से 7 दिन का पुलिस रिमांड पर प्राप्त करके अलग-अलग राज्यों में सुबे गुज्जर के ठिकानों व मददगारों की तलाश व अपराध में प्रयोग किए गए हथियारों व अन्य साजो सामान को बरामद करने की कार्यवाही अमल में लाई जा रही है।

Friday, April 30, 2021

April 30, 2021

असिस्टेंट ब्रांच इंचार्ज से 3 नकाबपोशों ने लूटे 71 हजार रुपए, 4 गांवों की कलेक्शन कर लौट रहे थे अधिकारी

अंबाला : असिस्टेंट ब्रांच इंचार्ज से 3 नकाबपोशों ने लूटे 71 हजार रुपए, 4 गांवों की कलेक्शन कर लौट रहे थे अधिकारी

अम्बाला : बैंककर्मी ने शोर मचाते हुए नकाबपोशों का पीछा करने की कोशिश की, मगर वह बाइक पर होने के कारण तेजी से भाग निकले। नकाबपोशों ने पांडे की पीठ पीछे से जोर से डंडे से वार किया था
हरियाणा के अंबाला जिले में उत्कर्ष इस्मॉल फाइनेंस बैंक के असिस्टेंट ब्रांच इंचार्ज राकेश पांडे से तीन नकाबपोशों ने 71 हजार रुपए छीन लिए। वारदात गांव सेगता पुल से करीब 500 मीटर आगे गांव नग्गल जा रही सड़क पर अंजाम दी गई। राकेश पांडे गांवों से बैंक की किश्तें लेकर बाइक से लौट रहे थे। इसी दौरान बीच रास्ते में उन्हें बाइक पर तीन युवक मिल गए, जिन्होंने चेहरे को कपड़े से ढका हुआ था।

नकाबपोशों ने पांडे की पीठ पीछे से जोर से डंडे से वार किया और 71 हजार 250 रुपए से भरा पीठू बैग छीनकर फरार हो गए। हालांकि पांडे ने शोर मचाते हुए नकाबपोशों का पीछा करने की कोशिश की, मगर वह बाइक पर होने के कारण तेजी से भाग निकले। इसके बाद घायल अवस्था में पांडे नग्गल थाना पहुंचे और आपबीती सुनाई। इसके बाद पुलिस ने राकेश पांडे की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज करके तलाश शुरू कर दी है।

*4 गांवों की कलेक्शन करके लौट रहे थे पांडे*

शिकायतकर्ता राकेश पांडे के मुताबिक, मूलरूप से वह उत्तर प्रदेश के जिला गौरखपुर के गांव बडगो का रहने वाला है। वह अंबाला छावनी स्थित उत्कर्ष इस्माल फाइनेंस बैंक में असिस्टेंट ब्रांच इंचार्ज है। इससे पहले वह यमुनानगर की ब्रांच में था। वह ऑफिस के अलावा फील्ड एरिया से भी ग्रुप लोन कलेक्शन का काम करता हूं।

गुरुवार सुबह वह अपनी बाइक पर गांव खासपुर, सकराहो, नग्गल व सेगता में कलेक्शन के लिए निकला था। सबसे पहले उसने गांव खासपुरा में ग्रुप लोन बारे मिटिंग करके लोन की किस्तें 20,970 रुपए, उसके बाद गांव नग्गल से 16,970 रुपए, फिर गांव सेगता से 30,310 रुपए लेकर शाम साढ़े 4 बजे गांव सेगता से महेश नगर के लिए चला था। उसने 20,970 रुपए की किस्त पेंट की दोनों जेबों में डाल रखी थी तथा गांव नग्गल व सेगता से मिली किस्तों 47,280 रुपए को अपने बैग में डाल रखा था। इसके अलावा अपनी जेब खर्ची के लिए अलग से तीन हजार रुपए डाल रखे थे।

*सेगता पुल के पास पहुंचते ही हुई वारदात*

राकेश पांडे के मुताबिक, जब वह गांव सेगता पुल से करीब 500 मीटर आगे गांव नग्गल पहुंचा तो पीछे से एक बाइक पर तीन नकाबपोश युवक तेजी से आए और उसकी बाइक के आगे अड़ा दी। उनमें से एक युवक बाइक से उतरा और उसकी पीठ पर जोर से डंडा मारा, जिसके बाद वह नीचे गिर पड़ा। फिर युवकों ने उसकी पेंट की जेब पैसे निकाले और बैग छीनकर फरार हो गए।

Thursday, April 29, 2021

April 29, 2021

करनाल के नायब तहसीलदार की गाड़ी ने बाइक सवार को मारी टक्‍कर, युवक की मौके पर मौत

करनाल के नायब तहसीलदार की गाड़ी ने बाइक सवार को मारी टक्‍कर, युवक की मौके पर मौत

करनाल :  जिले के असंध के नायब तहसीलदार की गाड़ी ने एक बाइक सवार को टक्कर मार दी, जिससे युवक की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया। हादसे के बाद नायब तहसीलदार रमेश कुमार मौके पर मौजूद रहे।

नायब तहसीलदार ने ही पुलिस को सूचना दी। जानकारी मिलते ही पुलिस और एंबुलेंस मौके पर पहुंची। नायब तहसीलदार ने मृतक के शव को खुद अपने हाथों से उठाकर एंबुलेंस में रखा। फिलहाल नायब तहसीदार भी कुछ कहने को तैयार नहीं है। SHO कमलदीप सिंह हादसे की जांच कर रहे हैं।

मिली जानकारी के अनुसार, नायब तहसीलदार रमेश कुमार अपनी निजी कार में जींद से असंध आ रहे थे। जैसे ही वे असंध क्षेत्र के गांव बाहरी स्थित बस अड्डे के समीप पहुंचे तो सामने से आ रहे बाइक सवार को टक्कर मार दी। मृतक की पहचाान घरौंडा क्षेत्र के गांव रायपुरा वासी करीब 50 वर्षीय रमनपाल के रूप में हुई है। वह अपने घर से गांव बाहरी स्थित पीर बाबा पर दूध अर्पित करने जा रहा था।