/>

Breaking

Wednesday, September 2, 2020

आदेश:विभाग के निर्देशानुसार ही प्राइवेट स्कूल केवल ट्यूशन फीस लें, बच्चों की पढ़ाई बंद न हाे : डीईओ

विभाग के निर्देशानुसार ही प्राइवेट स्कूल केवल ट्यूशन फीस लें, बच्चों की पढ़ाई बंद न हाे : डीईओ

अम्बाला : प्राइवेट स्कूलों द्वारा अभिभावकों से वार्षिक चार्ज और ज्यादा ट्यूशन फीस वसूलने पर शिक्षा विभाग सख्त हो गया है। डीईओ सुरेश कुमार ने प्राइवेट स्कूलों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि वे विभाग के दिशा निर्देश अनुसार बच्चों से केवल ट्यूशन फीस ही लें। उनसे वार्षिक चार्ज न मांगा जाए। साथ ही किसी भी बच्चे की ऑनलाइन पढ़ाई बंद न हो, ताकि बच्चों पर मानसिक दबाव न पड़े।
यही नहीं डीईओ ने सेंट जोसेफ स्कूल को भी पत्र लिखकर निर्देश दिया है कि स्कूल विभाग द्वारा समय-समय पर जारी निर्देशों की अनुपालना नहीं कर रहा है। अभिभावकों से स्कूल के खिलाफ शिकायतें मिली हैं कि बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई बंद कर उन्हें परेशान किया जा रहा है। इस संबंध में उन्हें बीईओ अम्बाला-वन ने रिपोर्ट सौंपी है। जिसमें लिखा गया कि स्कूल के खिलाफ मिली शिकायतों का समाधान करवा दिया गया है।
वार्षिक चार्ज और ज्यादा ट्यूशन फीस मांगने को लेकर सिटी के सेंट जोसेफ स्कूल, ओपीएस विद्या मंदिर और सेंट पॉल के अभिभावकों ने डीईओ को शिकायत दी थी कि स्कूल वार्षिक चार्ज और ज्यादा ट्यूशन फीस भरने का दबाव बना रहे हैं। चार्ज न भरने पर उनके बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई बंद कर रहे हैं। डीईओ ने सेंट जोसेफ स्कूल की जांच के लिए अम्बाला-वन बीईओ को जिम्मेदारी सौंपी थी।
बीईओने जांच के बाद डीईओे को रिपोर्ट सौंपी और इसके बाद डीईओ ने प्राइवेट स्कूलों के खिलाफ संज्ञान लिया। यही नहीं इस मामले में बाल कल्याण समिति अम्बाला ने भी प्राइवेट स्कूलों को ऑर्डर जारी किए थे कि फीस स्कूल और अभिभावकों के बीच का मामला है। स्कूल बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई बंद न करें। नो स्कूल नो एनुअल चार्जेस स्टूडेंट पेरेंट्स एसोसिएशन की अध्यक्ष कोमल ने बताया कि अभिभावकों ने लगातार प्राइवेट स्कूलों के खिलाफ लड़ाई लड़ते हुए संघर्ष किया।

No comments:

Post a Comment