/>

Breaking

Friday, November 6, 2020

एसडीएम पर गिरी गाज:रेकी में पीएम व रीडर का नाम आने के तीसरे दिन एसडीएम लाडवा का तबादला, अधिकारी बोले- यह रुटीन ट्रांसफर

एसडीएम पर गिरी गाज:रेकी में पीएम व रीडर का नाम आने के तीसरे दिन एसडीएम लाडवा का तबादला, अधिकारी बोले- यह रुटीन ट्रांसफर

कुरुक्षेत्र : आरटीए व एसडीएम की रैकी कर वाट्सएप पर ट्रांसपोर्टरों को सूचनाएं देने वाले गिरोह के साथ एसडीएम कार्यालय के रीडर व पीएन का नाम सामने आने के तीन दिन बाद एसडीएम लाडवा अनिल यादव का तबादला कर दिया। अब उन्हें हरियाणा टेक्निकल एजुकेशन में डिप्टी सेक्रेटरी लगाया है। उनकी जगह फिलहाल किसी की नियुक्ति नहीं है। कोई आला अधिकारी इसकी पुष्टि नहीं कर रहा।
अधिकारियों का तर्क है कि उनका रूटीन में तबादला हुआ है। उधर सीएम फ्लाइंग द्वारा पकड़े गए तीनों आरोपियों को कोर्ट ने ज्यूडिशियल कस्टडी में भेजा है। एसडीएम अनिल यादव पिछले काफी समय से कुरुक्षेत्र में हैं। वे पहले थानेसर एसडीएम रहे थे। इसके बाद उन्हें लाडवा में एसडीएम नियुक्त किया गया। वे पहले से कोरोना पॉजिटिव होने के कारण छुट्टी पर घर में ही आइसोलेट हैं।
यादव के मुताबिक उन्हें तबादले की जानकारी मिली है । सरकार जहां भी नियुक्त करेगी, वहां काम करेंगे। काम में व्यस्त रहने के चलते कभी यह अहसास नहीं हुआ कि कोई उनकी रैकी करता है। न ही कभी रीडर व पीएन के बारे में शिकायत सामने आई थी। उन्हें तो उक्त दोनों का नाम शामिल होने बारे बाद में पता चला।

यह था मामला

बता दें कि सोमवार को सीएम फ्लाइंग ने एसडीएम व आरटीए की रैकी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया था। यह गिरोह ओवरलोडिंग वाले वाहनों की चेकिंग करने निकलने वाले एसडीएम व आरटीए की गुपचुप सूचना संबंधित ट्रांसपोर्टरों को देता था। लाडवा से होकर रोजाना रेत बजरी के सैकड़ों ट्रक निकलते हैं। जब भी एसडीएम या आरटीए चेकिंग या कहीं और निकलते, तो उक्त गिरोह पहले ही वाट्सएप पर इसकी सूचना सांझी करता। सदस्यों ने कबूला कि उनकी एसडीएम कार्यालय के एक रीडर मनजीत व पीएन प्रवीण से सेटिंग थी। बताया कि जब भी कोई गाड़ी फंसती तो वे रीडर मनजीत व प्रवीण की मदद से उसे छुड़वा लेते थे। उक्त गिरोह के तार पूरे हरियाणा के कई वाट्सएप ग्रुप से जुड़े मिले थे।
डीसी शरणदीप कौर बराड़ के मुताबिक उनके पास एसडीएम अनिल यादव के तबादले के आदेश हैं। उनका रूटीन में तबादला हुआ है। सरकार ही तय करती है कि किस अधिकारी को कहां नियुक्त किया जाए। जांच अधिकारी डीएसपी रविंद्र तोमर के मुताबिक आरोपियों से रिमांड के दौरान पूछताछ की गई। फिलहाल जांच चल रही है।

No comments:

Post a Comment