/>

Breaking

Saturday, November 7, 2020

धुम्रपान और शराब का सेवन दे सकता है कैंसर को बढ़ावा : डा. भोला

सही खान-पान व नियमित व्यायाम देता है कैंसर से बचाव : डा. संदीप

राष्ट्रीय कैंसर जागरूकता दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन

जींद : ( संजय तिरँगाधारी ) जिला मुख्यालय स्थित नागरिक अस्पताल में सीएमओ डा. मनजीत सिंह के दिशा-निर्देशन में शनिवार को राष्ट्रीय कैंसर जागरूकता दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता डिप्टी एमएस डा. राजेश भोला ने की जबकि वरिष्ठ दंत चिकित्सक डा. रमेश पांचाल,
एनसीडी इंचार्ज डा. संदीप लोहान, चिकित्सा अधिकारी डा. अंजू अग्रवाल मौजूद रहे। 
डिप्टी एमएस डा. राजेश भोला ने कार्यक्रम में मौजूद लोगों को कैंसर के प्रति जागरूक करते हुए कहा कि इंसान का शरीर एक मशीन की तरह होता है जो दिन-रात मशीन की तरह कार्य करता है। इसमें समय-समय पर कई तरह की बीमारियां उत्पन्न हो जाती हैं, जिनका समय रहते समाधान होना चाहिए। इन्हीं बीमारीयों में से एक बेहद जटील बीमारी है कैंसर। दुनियाभर में लाखों लोग प्रतिवर्ष इस जटील बिमारी की वजह से दम तोड़ देते हैं। यदि इस बीमारी का सही समय पर पता चले व समय पर इलाज शरू हो तो इस बीमारी का इलाज संभव है। डिप्टी एमएस डा. राजेश भोला ने बताया कि कैंसर शरीर के किसी भी भाग में हो सकता है। इसी प्रकार महिलाओं में स्तन  का कैंसर, योनि कैंसर और पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर होने की संभावना अधिक होती है। इसी तरीके से कैंसर शरीर के त्वचा, ब्लड, ब्रेन, पेट, हड्डियों आदि में होने की संभावना अधिक होती है। डा. भोला ने कैंसर के कारणों के बारे में बताते हुए कहा कि खान-पान की बुरी आदतें, बीड़ी, सिगरेट, तम्बाकू, गुटका, शराब का अधिक सेवन करना व कई तरह के रेडिएशन आदि से कैंसर की बीमारी होती है। कुछ  कैंसर अनुवांशिक भी हो सकते हैं। डा. भोला ने बताया की धुम्रपान में निकोटिन, कार्बन मोनोऑक्साइड व टार जैसे पदार्थ होते हैं जो कैंसर को जन्म देते हैं व इसके साथ-साथ हार्ट अटैक, लकवा, दमा, फेफड़े की बीमारी, नपुंसकता आदि बीमारियां धुम्रपान से हो सकती हैं। अगर हम अपनी जीवन शैली में थोड़ा भी परिवर्तन करते हैं तो कैंसर से बच सकते हैं। सही व देशी खान-पान का सेवन करें, जंक फूड खाने से बचें, धूम्रपान न करें, शराब का सेवन न करें, नियमित योगा व व्यायायम कैंसर बीमारी से बचाने में सहायक होते हैं। 
एनसीडी इंचार्ज डा. संदीप लोहान ने कहा कि कैंसर शरीर की आधारभूत इकाई कौशिका को प्रभावित करता है, किसी भी कैंसर पीडि़त व्यक्ति में तरह-तरह के कई लक्ष्ण हो सकते हैं। जैसे पेशाब में खून आना, खून की कमी की बीमारी, एनीमिया, खांसी के दौरान खून का आना, अचानक शरीर के किसी भाग से खून निकलना, स्तनों में गांठ, कुछ निगलने में दिक्कत होना, मीनोपॉज के बाद भी खून आना, भूख कम लगना, त्वचा में बदलाव महसूस होना, किसी अंग का अधिक उभरना या गांठ महसूस होना। इन लक्षणों वाले किसी भी व्यक्ति को अपने नजदीक के अस्पताल में अपनी जांच करवानी चाहिए ताकि समय रहते इस का इलाज हो सके। 
चिकित्सा अधिकारी डा. अंजू अग्रवाल व वरिष्ठ दंत चिकित्सक डा. रमेश पांचाल ने बताया कि बीड़ी, सिगरेट, तंबाकू, गुटखे के सेवन से मुंह का कैंसर, फेफड़ों में कैंसर, गले का कैंसर, शराब का अधिक  सेवन करने वाले व्यक्ति को लीवर में कैंसर व किडनी कैंसर होने की संभावना अधिक होती है। इसलिए हर किसी को इन सब चीजों से दूर रहना चाहिए। इस मौके पर स्टाफ नर्स सुनीता, पूजा, फिजियोथेरेपिस्ट शीतल मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment