/>

Breaking

Sunday, December 6, 2020

पीजीआई कोरोना ट्रायल सवालों के घेरे में, तीसरे चरण के ट्रायल के लिए वालंटियर बनने वाले हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज कोरोना से संक्रमित

पीजीआई कोरोना ट्रायल सवालों के घेरे में 

चंडीगढ़। पीजीआई रोहतक में वालंटियर को लगने वाली कोरोना की वैक्सीन संदेह के घेरे में आ गई है। दरअसल कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के लिए वालंटियर बनने वाले हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। उन्हें शनिवार को कोरोना पॉजिटिव पाया गया। विज ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि वह कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं और अंबाला कैंट के एक सिविल अस्पताल में भर्ती हैं।विज ने पिछले कुछ दिन में उनसे मिलने वालों से अपील की है कि वे भी कोरोना का टेस्ट करवाएं।  

गौर रहे कि हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल में बतौर वॉलंटियर इंजेक्शन लगवाने वाले विश्व के पहले मंत्री बने हैं। रोहतक पीजीआई के एक्सपर्ट डाक्टरों की निगरानी में अम्बाला छावनी के सिविल अस्पताल में अनिल विज को वैक्सीन इंजेक्ट की गई थी।
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने विज के संक्रमित होने पर दुख जताया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'गृहमंत्री जी, आपके कोरोना संक्रमित होने का समाचार मिला। मुझे विश्वास है कि आप अपनी दृढ़शक्ति से इस बीमारी को जल्द मात देंगे। ईश्वर से आपके जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।' 

बता दें कि बीते 20 नवंबर को विज को कोरोना की वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के लिए पहला टीका लगाया गया था। विज ने खुद ही कोरोना वैक्सीन के परीक्षण के लिए वालंटियर बनने की इच्छा जताई थी। 20 नवंबर को हरियाणा में कोवाक्सिन का तीसरे चरण का ट्रायल शुरू किया गया था। इस दौरान अनिल विज को पहला टीका लगाया गया था। विज के साथ 200 वालंटियर्स को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज दी गई थी।

बताया गया कि 28 दिन बाद वैक्सीन का दूसरा डोज दिया जाएगा। बता दें कि भारत बायोटेक कंपनी आईसीएमआर के साथ मिलकर कोरोना की वैक्सीन कोवाक्सिन का निर्माण कर रही है। पीजीआई रोहतक देश के उन तीन सेंटर्स में से है जहां तीसरे चरण के ट्रायल का टीका लगाया गया। कंपनी का दावा है कि उनकी वैक्सीन 90 प्रतिशत कारगर होगी।  

No comments:

Post a Comment