/>

Breaking

Tuesday, April 27, 2021

बायोमेट्रिक की जगह मैनुअल से कराया जाए राशन वितरण

बायोमेट्रिक की जगह मैनुअल  से कराया जाए राशन वितरण

-कोरोना संक्रमण के विस्तार से आशंकित राशन डिपो धारकों ने डीसी की मार्फत सीएम को भेजा पत्र
जींद : (आरती शर्मा ) हरियाणा का राशन डिपो धारक अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा है। उसे मुख्य खतरा बायोमेट्रिक मशीन से होने वाला संक्रमण विस्तार का है। इस आशंका को लेकर मंगलवार को जिला राशन डिपो धारक एसोसिएशन ने डीसी के माध्यम से मुख्यमंत्री को पत्र भेजा है।
मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में जिले के डिपो धारकों की ओर से जिला प्रधान मुकेश निडानी ने कहा कि अगर एक व्यक्ति या खुद राशन डिपो धारक इस महामारी से पीड़ित हुआ तो सभी के लिए खतरा बन सकता है। ऐसे में जब तक यह महामारी नियंत्रण में नहीं होती तब तक पोस मशीन को बायोमेट्रिक की जगह पर मैनुअल माध्यम से राशन वितरण करवाया जाए। उन्होंने कहा कि राजस्थान सरकार ने राशन डीलर को 50 लाख रुपए बीमा राशि योजना लागू की है। उसी तर्ज पर हरियाणा सरकार भी ₹50 लाख की बीमा राशि लागू करे ताकि जान गवां देने वाले डिपो धारक के परिवार को आर्थिक सहायता मिल सके।
पत्र में मुकेश निडानी ने कहा कि आज पूरे देश व प्रदेश में कोरोना का कहर चरम पर है जिसके चलते जनता की सेवा हर मानव का कर्तव्य बन जाता है। इस श्रेणी में हरियाणा के 9 हज़ार राशन डिपो धारक भी आते हैं। उन्होंने याद दिलाया कि राशन डिपो धारकों ने पिछले वर्ष भी लगातार कोरोना महामारी काल में अपनी सेवा पूरी निष्ठा व लगन से दी थी और आज जब कारोना की दूसरी लहर बड़ी तेजी से फैल रही है, इसमें भी राशन डिपो धारक अपनी जान की परवाह न करते हुए जनता को राशन पहुंचाने की सेवा दे रहे हैं। कोरोनो महामारी को देखते हुए डिपो धारकों ने आग्रह किया कि हरियाणा का राशन डिपो धारक अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा है। इसमें मुख्य खतरा बायोमेट्रिक मशीन से होने वाला संक्रमण विस्तार का है। अगर एक व्यक्ति या खुद राशन डिपो धारक इस महामारी से पीड़ित हुआ तो सभी के लिए खतरा बन सकता है तो आप से निवेदन है कि जब तक यह महामारी नियंत्रण में नहीं होती तब तक पोस मशीन को बायोमेट्रिक की जगह पर मैनुअल माध्यम से राशन वितरण करवाया जाए। राजस्थान सरकार की तर्ज पर राशन डीलर को 50 लाख रुपए बीमा राशि का लाभ दिया जाना चाहिए, ताकि जान गवां देने वाले डिपो धारक के परिवार को आर्थिक सहायता मिल सके।

No comments:

Post a Comment