/>

Breaking

Tuesday, May 18, 2021

पानीपत में मदद को बढ़े हाथ, आंधे घंटे की बची थी ऑक्सीजन, 15 मिनट में पहुंचाया सिलेंडर

पानीपत में मदद को बढ़े हाथ, आंधे घंटे की बची थी ऑक्सीजन, 15 मिनट में पहुंचाया सिलेंडर

पानीपत में समाजसेवी संस्‍थाएं मदद के लिए आगे आईं।

कोरोना महामारी में कोरोना संक्रमितों की मदद के लिए समाजसेवी संस्‍थाएं लगातार काम कर रहीं। हरियाणा टेक्निकल एसोसिएशन बैकेंड के तौर पर कर रही कार्य। अब सैकड़ों लोगों की कर चुके हैं मदद। छह सदस्यों की टीम ऑनलाइन काम कर रही है।


पानीपत : हरियाणा टेक्निकल एसोसिएशन पानीपत जिले में बैकेंड के तौर पर कार्य कर रहे है। सरकार द्वारा जारी ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए होने वाले रजिस्ट्रेशन से लोगों तक पहुंचकर उन्हें संस्थाओं से निशुल्क सिलेंडर दिलवा रहे है। यह एसोसिएशन बैकेंड के तौर पर प्रशासन के साथ मिलकर कार्य कर रही है। जिसके अधीन सभी शहर की संस्थाएं आती है। प्रशासन ने भी एसोसिएशन का हेल्पलाइन नंबर 98133-63001 जारी किया है। जिसमें तीमारदार सीधे इनसे भी संपर्क साध रहे है। ताकि जरूरतमंदों को जल्द से जल्द सिलेंडर मिल सके। 


हरियाणा टेक्निकल एसोसिएशन के प्रदेशाध्यक्ष हितेश हिंदुस्तानी ने बताया कि हमारी छह सदस्यों की टीम ऑनलाइन काम कर रही है। जैसे ही कोई ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाता है तो उससे संपर्क किया जाता है और फिर बताए गए पते पर वहां की संस्था या रेडक्रॉस के अधिकारियों को सूचित किया जाता है। फिर जरूरतमंद को 15 मिनट में ही सिलेंडर पहुंचा दिया जाता है। इसके लिए इसके बाद उसकी रिपोर्ट बनाकर प्रशासन को दे दी जाती है। संस्थाओं से भी ऑक्सीजन सिलेंडर का डाटा एकत्रित किया जाता है। कहां कितने सिलेंडर भेजे गए है। 

*24 घंटे काम करती हैं एसोसिएशन*

जरूरतमंदों को ऑक्सीजन सिलेंडर भरवाने के लिए 24 घंटे ऑनलाइन काम करती है। इसके लिए छह सदस्य टीम लगी हुई हैै। जो ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन का डाटा व फोन कॉल का डाटा को एकत्रित करते है। तीमारदार के पास सिलेंडर पहुंचा या नहीं। इसकी भी फोनकर जानकारी ली जा रही है। ताकि कोई परेशान न हो सके। 

*जानिए....ऐसे आ रहे एसोसिएशन के पास फोन*

*केस नंबर 1* : प्रदेशाध्यक्ष हितेश हिंदुस्तानी ने ऑनलाइन साइट पर चेक किया कि रात 2 बजकर 50 मिनट पर एकता विहार कॉलोनी उजा रोड से एक महिला ने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाया गया और फिर फोन किया तो महिला बोली सर, जल्दी कीजिए आधे घंटे की ऑक्सीजन बची और जल्दी से भिजवा दीजिए। पता नोट करवाते ही 15 मिनट में रेडक्रॉस सोसायटी की सहायता से सिलेंडर भिजवा दिया गया। 
*केस नंबर 2* : प्रवासी लाल बहादुर ने सुबह 4 बजे फोन किया और बोले साहब, जल्द से ऑक्सीजन सिलेंडर भिजवा दीजिए आधे घंटे की ऑक्सीजन बची है। इसके बाद तुरंत 15 मिनट में रेडक्रॉस के अधिकारियों को सूचित कर सिलेंडर भिजवाया गया।

No comments:

Post a Comment