/>

Breaking

Sunday, May 2, 2021

सांसद पर डेरे की जमीन हड़पने का आरोप

सांसद पर डेरे की जमीन हड़पने का आरोप

चंडीगढ़ : मिशन एकता समिति की अध्यक्ष ने कहा- हरियाणा सीएम की शह पर सांसद ने डेरे की जमीन छीनी, जिसके बाद डेरा बाबा की मौत हुई।
हरियाणा के रोहतक जिले के एक डेरे में रहने वाला औघड़ बाबा राम कुमार नाथ का 29 अप्रैल को पहले हार्ट प्रॉब्लम और फिर कोरोना संक्रमण के चलते देहांत हो गया था, जिसके बाद डेरे के अनुयायियों को बाबा का अंतिम संस्कार करने के लिए बॉडी न देकर पुलिस ने स्वयं उनका संस्कार कर दिया था। बाबा के अनुयायी पुलिस व प्रशासन पर यह आरोप लगा रहे है। आज हरियाणा CM आवास के पास आकर बाबा के अनुयायियों ने हवन किया और मौत के तीसरे दिन जो तैय्या किया जाता वह किया । इस दौरान कई पुलिस के जवान वहां मौजूद थे।

इस बारे में मिशन एकता समिति की हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष कांता आलड़िया ने कहा कि उनके बाबा की मौत के बाद शव को उनके अनुयायियों को न सौंप कर प्रशासन और पुलिस ने जानबूझ कर आग के हवाले कर दिया। उन्होंने कहा कि जो डेरे के बाबा होते है उनका अंतिम संस्कार नहीं किया जाता बल्कि उन्हें समाधि दी जाती है। इस प्रकरण को लेकर आज डेरे के लोग मुख्यमंत्री हरियाणा आवास के पास आकर बाबा की मौत के तीसरे दिन तैय्या कर हवन कर रहे थे।

कांता आलड़िया ने हरियाणा के एक बीजेपी सांसद पर आरोप लगाया कि उन्होंने मुख्यमंत्री, DC और SP से मिल कर दलितों के डेरे पर कब्जा कर लिया है, जिस डेरे का मालिकाना हक और रजिस्ट्री दलित समाज के पास है। उन्होंने कहा कि जब उनके डेरे के बाबा रामकुमार नाथ का देहांत हुआ तो उन्हें और डेरे के लोगों को पुलिस ने पकड़ कर थाने में बंद कर दिया और झूठे मुकदमा दर्ज करने की धमकी दी। उसके बाद पीछे से बाबा के शव को आग के हवाले कर दिया, जिससे दलित समाज के लोगों में भारी रोष है।

*सीबीआई जांच की मांग*

उन्होंने बताया कि आज मुख्यमंत्री निवास के पास अपने बाबा की मौत के तीसरे दिन आकर उनकी आत्मा की शांति के लिए हवन किया है और BJP के सांसद, DC और SP रोहतक के खिलाफ जांच करने की मांग की गई है। आज जब हरियाणा CM के चंडीगढ़ स्थित आवास के बाहर दलित समाज के लोग हवन कर रहे थे तो काफी संख्या में पुलिस वहां तैनात थी।

*समाधि बनाने दलित समाज की 5 हजार महिला पहुंचेंगी*

बाबा की मौत के 12 वें दिन रोहतक में जहां बाबा का डेरा था वहां पर अपने हाथों में ईंट व कस्सी लेकर अपने बाबा की समाधि बनाएगी और सरकार के खिलाफ रोष प्रदर्शन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि बाबा के देश में लाखों अनुयायी है जो मस्तनाथ मठ में बाबा की समाधि को बनाऐंगे।उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश में दलित समाज के लोग शोक सभा आयोजित करेंगे और डेरे की जमीन को जिन्होंने हड़पने की कोशिश की है उनके खिलाफ CBI की जांच की मांग करेंगे।

No comments:

Post a Comment