/>

Breaking

Sunday, September 12, 2021

मानवीय जिंदगी को बचाना ही मानव धर्म - सतेंद्र त्रिपाठी

*मानवीय जिंदगी को बचाना ही मानव धर्म - सतेंद्र त्रिपाठी*
जींद : ( संजय कुमार ) ÷ सुप्रीम सीनियर सेकेंडरी स्कूल जींद में शनिवार को अंतरराष्ट्रीय प्राथमिक उपचार दिवस मनाया गया जिसमें विद्यालय के सभी छात्र-छात्राओं ने प्राथमिक उपचार के बारे में विस्तार से जानकारी हासिल की। विद्यालय की शिक्षिका अनीता ढांडा व शारीरिक शिक्षक राजेंद्र कुमार ने बच्चों को प्राथमिक उपचार कैसे करें इसके बारे में बारीकी से सिखाया संगीत अध्यापक मोहित बब्बर ने बताया कि विश्व प्राथमिक उपचार दिवस की शुरुआत रेडक्रॉस ने की है यह अंतरराष्ट्रीय संगठन है जिसकी शुरुआत सन 1863 में हुई व इस से जुड़ी अनेकों जानकारियां बच्चों को दी। विद्यालय के प्राचार्य सतेंद्र त्रिपाठी ने बच्चों को अंतरराष्ट्रीय प्राथमिक उपचार दिवस का महत्व बताते हुए कहा कि रेड क्रॉस का मुख्य कार्य मानव सेवा और आपदा स्थिति में माननीय जिंदगी को बचाना है उन्होंने यह भी बताया कि कई बार ऐसा देखा जाता है कि लोग घरों या बाहर किसी कारणवश चोटिल हो जाते हैं ऐसी स्थिति में लोग घबरा कर अस्पताल चले जाते हैं कुछ मामूली चोटों को प्राथमिक उपचार से घर पर ही ठीक किया जा सकता है। इसका महत्व बताने के लिए व इसके प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से यह दिवस अहम है हमें अपने घरों में फर्स्ट एड किट रखनी चाहिए वह यात्रा के दौरान भी इसे साथ रखना चाहिए। इस मौके पर प्रबंधन समिति के अध्यक्ष शरद अत्री ने भी बच्चों को संबोधित किया व प्राथमिक उपचार दिवस की महत्वता को बताया साथ ही यह भी बताया कि सामाजिक गतिविधियों से जुड़ी ऐसी छोटी-छोटी जानकारियां बच्चे को उसकी शिक्षा के दौरान ही देनी चाहिए जिससे उनके अंदर सामाजिक सेवा की भावना उजागर हो व आगे चलकर समाज सेवा में योगदान दे सकें इस अवसर पर राजकुमार शर्मा, करूणा शर्मा व सभी अध्यापकों ने भी भाग लिया।

No comments:

Post a Comment