/>

Breaking

Monday, August 31, 2020

बैठक:हसला समेत 4 संगठनों का फैसला; रविवार को नहीं करेंगे परिवार पहचान पत्र बनाने का कार्य

बैठक:हसला समेत 4 संगठनों का फैसला; रविवार को नहीं करेंगे परिवार पहचान पत्र बनाने का कार्य

कैथल:  शिक्षकों के विभिन्न संगठनों ने विचार-विमर्श कर प्रदेश सरकार के शिक्षक विरोधी फैसलों को लेकर कदम उठाने का निर्णय लिया है। जानकारी देते हुए हरियाणा स्कूल लेक्चरर एसोसिएशन (हसला) कैथल के जिला प्रधान ईश्वर ढांडा ने बताया कि हरियाणा मास्टर वर्ग एसोसिएशन के राज्य अध्यक्ष रमेश मलिक, हरियाणा स्कूल लेक्चरर एसोसिएशन के अध्यक्ष दयानंद दलाल, प्राथमिक शिक्षक संघ के राज्य अध्यक्ष तरुण सुहाग और दिलबाग सिंह अहलावत राज्य वित्त सचिव अध्यापक संघ संबंधित हरियाणा कर्मचारी महासंघ ने टेलीफोन पर आपस में बातचीत करके विभिन्न मुद्दों पर सहमति से निर्णय लिया है।

उन्होंने बताया कि चारों संगठनों ने विचार-विमर्श के बाद जो फैसला लिया है कि अध्यापक रविवार को परिवार पहचान पत्र बनाने का काम नहीं करेंगे। इसके अलावा परिवार पहचान पत्र का कार्य केवल सुबह 8 बजे से लेकर दोपहर 2:30 बजे तक ही किया जाएगा। उन्होंने बताया कि संगठनों ने निर्णय लिया है कि भविष्य में यदि सरकार ने नियमित और सुचारू रूप से कक्षाएं चलने के समय इस प्रकार का गैर शैक्षणिक कार्य अध्यापकों पर थौंपा तो चारों संगठन मिलकर गैर शैक्षणिक कार्य का विरोध करेंगे और गैर शैक्षणिक कार्य का बहिष्कार करेंगे।

सीएससी केंद्रों को जिम्मा सौंपे सरकार: सुरेश राणा

जिला वरिष्ठ उप प्रधान सुरेश राणा कहा कि बिना प्रशिक्षण व संसाधनों के परिवार पहचान पत्र बनाने व सत्यापन करने का कार्य न्याय संगत नहीं है। उन्होंने कहा कि परिवार पहचान पत्र बनाने एवं सत्यापन करने के लिए सीएससी (अटल केंद्र) संचालकों को परीक्षण दिया गया है। उनके पास सभी प्रकार के जरूरी संसाधन भी है।

ऐसे में यह कार्य अटल केंद्र से न करवा कर सरकारी स्कूलों के अध्यापकों व कार्यालय स्टाफ से करवाना किसी भी तरह से उचित नहीं ठहराया जा सकता है। उन्होंने बताया कि हालात तो यह है कि पिछले 4 दिनों से फैमिली आईडी पोर्टल का सर्वर ही डाउन पड़ा है, जिसके चलते अध्यापकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार बिना तैयारी व विचार विमर्श किए तुगलकी फरमान जारी कर शिक्षकों व आम जनता की परेशानी को बढ़ाने का काम कर रही है।

No comments:

Post a Comment