/>

Breaking

Saturday, May 8, 2021

जींद रिफिल होने गए 20 ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं आए वापिस

नागरिक अस्पताल में नहीं ऑक्सीजन सिलेंडर

-जींद रिफिल होने गए 20 ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं आए वापिस
-ऑक्सीन सिलेंडर न होने के चलते सांस लेने में दिक्कत वाले मरीज परेशान
जींद / उचाना ; नागरिक अस्पताल की बिल्डिंग देखने में तो चार मंजिल है, लेकिन यहां पर इन दिनों कोरोना संक्रमण होने से सांस लेने में दिक्कत वाले मरीजों के लिए कोई ऑक्सीन सिलेंडर उपलब्ध नहीं है। बीते रविवार को यहां से 20 ऑक्सीन सिलेंडर जींद नागरिक अस्पताल में रिफिल के लिए भेजे थे लेकिन वहां से आज तक ये ऑक्सीन सिलेंडर वापिस नहीं आए है। यहां पर आए सांस में तकलीफ वाले मरीज को अगर ऑक्सीन की जरूरत पड़ जाए तो यहां पर कोई व्यवस्था नहीं है। सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी के साथ-साथ बुद्धिजीवी वर्ग के लोगों का कहना है कि डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला के खुद के हलके के नागरिक अस्पताल में ये हालात है तो दूसरे अस्पतालों में क्या होगा।
*-5 से 7 मरीज आ रहे हैं जिनका ऑक्सीजन लेबल होता है कम-*
नागरिक अस्पताल में हर रोज 5 से 7 मरीज ऐसे आ रहे है जिनका ऑक्सीन लेबल 80 के आस-पास होता है। ऐसे मरीजों को तुरंत ऑक्सीन की जरूरत होती है लेकिन नागरिक अस्पताल में ऑक्सीन की किल्लत के चलते उन्हें जींद रेफर करना पड़ रहा है। चंद्रपाल शर्मा ने बताया कि उसका छोटा बेटा कोरोना पॉजिटिव है। खांसी होने के साथ-साथ उसको सांस लेने में परेशानी है। उचाना नागरिक अस्पताल में ऑक्सीन सिलेंडर के बारे में पूछा तो यहां पर ऑक्सीन सिलेंडर ही नहीं मिले। जींद में कई प्राइवेट अस्पताल में गया वहां भी नहीं ऑक्सीन सिलेंडर मिले तो सीविल अस्पताल में भी सांस लेने में हो रही परेशानी पर इंजेक्शन लगाया गया वहां भी ऑक्सीन की व्यवस्था नहीं हुई।
सुरेंद्र, बलवान, नरेंद्र, दीपक ने कहा कि डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला को जींद, सोनीपत जिले का कोविड-19 की स्वास्थ्य प्रबंधों का जायजा लेने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। उचाना हलके के नागरिक अस्पताल में ऑक्सीन सिलेंडर तक नहीं है तो कैसे किसी सांस लेने में परेशानी वाली मरीज का उपचार होगा। यहां पर ऑक्सीन सिलेंडर तो सांस की दिक्कत वाले मरीज का उपचार हो जाएगा नहीं तो यहां से अगर दूसरे अस्पताल में लेकर जाते है तो ज्यादा परेशानी होने पर उसकी जान भी जा सकती है। जो सिलेंडर यहां से गए है कम से कम वो तो रिफिल होकर यहां आने चाहिए। यहां पर ऑक्सीन सिलेंडर हर समय रहने चाहिए ताकि कोरोना के मरीजों को तुरंत ऑक्सीन मुहैय्या हो कर उनका उपचार यहां पर समय पर हो सकें।  
*-जींद भेजे हैं रिफिल के लिए ऑक्सीन सिलेंडर -*
नागरिक अस्पताल एमओ डॉ. सुशील गर्ग ने बताया कि जींद नागरिक अस्पताल में 20 ऑक्सीन सिलेंडर जिनमें 18 छोटे, 2 बड़़े है रिफिल के लिए भेजा गया है। अब तक कोई ऑक्सीन सिलेंडर रिफिल होकर नहीं आया है। यहां पर ऑक्सीन की जरूरत वाले मरीज को जींद रेफर किया जाता है क्यों यहां पर ऑक्सीन सिलेंडर नहीं होते।

No comments:

Post a Comment