/>

Breaking

Tuesday, May 25, 2021

क्या सुशील कुमार को रेलवे की नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा?

क्या सुशील कुमार को रेलवे की नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा?

नई दिल्ली :  दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की ओर से रविवार की सुबह राष्ट्रीय राजधानी से गिरफ्तार किए गए दो बार के ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार के लिए मुसीबत और भी बढ़ गई है, क्योंकि भारतीय रेलवे में उनकी नौकरी भी अब अधर में लटकी हुई है। सुशील कुमार, भारतीय रेलवे में कार्यरत हैं और छत्रसाल स्टेडियम में ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी (ओएसडी) के तौर पर तैनात हैं, जहां अभ्यास करने वाले एक पहलवान की हत्या होने के बाद विवाद पैदा हो गया था।
उत्तर रेलवे के प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा, दिल्ली सरकार से पत्र मिलने के बाद हम नियमानुसार कार्रवाई करेंगे।
सुशील कुमार को उसके सहयोगी अजय कुमार के साथ रविवार सुबह गिरफ्तार किया गया था, जो चार मई को यहां छत्रसाल स्टेडियम में हुए विवाद के बाद पहलवान सागर धनखड़ की मौत के बाद कई राज्यों में 18 दिनों से फरार चल रहे थे।
धनखड़ ने बाद में अस्पताल में दम तोड़ दिया था।
दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के अनुसार, कुमार को पकड़ने के लिए पुलिस पूरा जो लगा रही थी और इन 18 दिनों के दौरान सुशील ने पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और हरियाणा की यात्रा की थी।
आखिरकार रविवार सुबह दिल्ली के मुंडका इलाके से उसे गिरफ्तार कर लिया गया, जब वह कुछ नकदी लेने आया था और राष्ट्रीय स्तर के एक खिलाड़ी से स्कूटी भी ली थी। दिल्ली पुलिस ने कुमार पर एक लाख रुपये और उसके सहयोगी अजय पर 50,000 रुपये के इनाम की भी घोषणा की थी।
स्पेशल सेल के अधिकारियों के मुताबिक, कुमार ने शहर में कुश्ती जगत के पहलवानों को डराने के लिए मोबाइल फोन पर धनखड़ की पिटाई की रिकॉडिर्ंग भी करवाई थी। कुमार को दिल्ली की एक अदालत ने छह दिन की हिरासत में भेज दिया है।
पुलिस ने अदालत को बताया कि कुमार ने अपने दोस्त प्रिंस से धनखड़ की पिटाई का वीडियो बनाने को कहा था। पुलिस ने अदालत को सूचित किया, वह दिल्ली में कुश्ती समुदाय में डर पैदा करना चाहता था।
कुमार ने 18 मई को नई दिल्ली की रोहिणी अदालत में अग्रिम जमानत की अर्जी दी थी, लेकिन अदालत ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी।
4 मई को छत्रसाल स्टेडियम में पहलवानों के दो समूह आपस में भिड़ गए थे, जिससे 23 वर्षीय धनखड़ की मौत हो गई, क्योंकि वह विवाद के दौरान घायल हो गया था। दिल्ली की अदालत ने कुमार के खिलाफ गैर-जमानती वारंट (एनबीडब्ल्यू) भी जारी किया था।
दिल्ली पुलिस ने कुमार के लिए लुकआउट नोटिस भी जारी किया था, जिन्होंने 2008 बीजिंग ओलंपिक खेलों में कांस्य और 2012 लंदन ओलंपिक खेलों में 66 किलोग्राम वर्ग में रजत पदक जीता था।

No comments:

Post a Comment