Breaking

Showing posts with label National News. Show all posts
Showing posts with label National News. Show all posts

Monday, January 16, 2023

January 16, 2023

फिर जेल से बाहर आएगा राम रहीम:सरकार से पैरोल मांगी, 25 जनवरी को सिरसा डेरे के सत्संग में जाने का इच्छुक

फिर जेल से बाहर आएगा राम रहीम:सरकार से पैरोल मांगी, 25 जनवरी को सिरसा डेरे के सत्संग में जाने का इच्छुक

रोहतक : रेप और हत्या के केस में जेल में बंद डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम एक बार फिर जेल से बाहर आ सकता है। डेरामुखी ने हरियाणा सरकार के पास पैरोल की अर्जी लगाई है। फिलहाल राम रहीम रोहतक की सुनारिया जेल में उम्रकैद की सजा काट रहा है। कुछ माह पहले ही राम रहीम पैरोल पूरी कर वापस जेल गया था।
*25 जनवरी को दूसरे संत शाह सतनाम का जन्मदिन*

मिली जानकारी के अनुसार, 25 जनवरी को डेरा सच्चा सौदा के दूसरे संत शाह सतनाम महाराज का जन्मदिन है। सिरसा डेरे की तरफ से हर साल इस दिन बड़ा आयोजन किया जाता है, जिसमें सत्संग और भंडारा किया जाता है। इस बार भी बड़े आयोजन की तैयारी है, जिसमें राम रहीम भी शामिल होना चाहता है।

*जेल प्रशासन को भेजा आवेदन*

25 जनवरी को होने वाले सत्संग व भंडारे के लिए डेरामुखी ने जेल प्रशासन को आवेदन भेजकर सिरसा आने की अनुमति मांगी है। पैरोल की अर्जी लगाने के बाद हरियाणा सरकार और प्रशासन सुरक्षा की दृष्टि पर विचार कर रहे हैं, क्योंकि ये सरकार के लिए बड़ा रिस्क भी साबित हो सकता है। इसलिए इस पर गहनता से विचार किया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार, सिरसा DC के पास ऑर्डर की फाइल भी पहुंच चुकी है, जिस पर रिव्यू किया जाना बाकी है।
*पहले कई बार मिल चुकी पैरोल*

राम रहीम को जुलाई 2017 में यौन शोषण मामले में सजा हुई थी। इसके बाद पंचकूला में काफी दंगे भी हुए थे। बाद में राम रहीम को रोहतक की सुनारिया जेल भेज दिया गया। इसके बाद उसे एक पत्रकार व डेराकर्मी की हत्या के मामले में भी दोषी ठहराया गया और उसे उम्र कैद की सजा हुई। काफी साल जेल में रहने के बाद पिछले एक साल से राम रहीम कई बार पैरोल पर जेल से बाहर आ चुकी है।
राम रहीम इस वक्त रोहतक की जेल में बंद है। इससे पहले वह 3 बार जेल से बाहर आ चुका है।

January 16, 2023

'भारत जोड़ो यात्रा' में कांग्रेस सांसद संतोष सिंह चौधरी का निधन, पंजाब में यात्रा स्थगित

'भारत जोड़ो यात्रा' में कांग्रेस सांसद संतोष सिंह चौधरी का निधन, पंजाब में यात्रा स्थगित
अमृतसर : कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा के दौरान एक दुखद खबर सामने आई है। जहां कांग्रेस नेता और पार्टी के सांसद संतोष सिंह चौधरी का निधन हो गया। संतोष सिंह राहुल गांधी के साथ भारत जोड़ो यात्रा में चल रहे थे।

बताया जा रहा है कि इस घटना के बाद यात्रा को फिलहाल पंजाब में रोक दिया गया है। वहीं राहुल गांधी संतोख सिंह के घर पर उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए जालंधर जाएंगे।
*यात्रा के दौरान कांग्रेस नेता को आया हार्ट अटैक*

दरअसल, यह घटना उस वक्त हुई जब शनिवार सुबह भारत जोड़ो यात्रा लुधियाना के लाडोवाल टोल प्लाजा से फगवाड़ा की तरफ जा रही थी। इस दौरान राहुल गांधी और संतोख कुछ दूरी पर चल रहे थे। इसी दौरान अचानक सुबह करीब साढ़े आठ बजे संतोख सिंह को कुछ बैचेनी हुई और वह वहीं पर बैठ गए। बताया जा रहा है कि उन्हें हार्ट अटैक आया था। आनन-फानन में उन्हें फगवाड़ा के अस्पताल लाया गया, लेकिन कुछ देर बाद ही उनकी मौत हो गई।
*खबर लगते ही मौके पर लगी कांग्रेस नेताओं की भीड़*

बता दें कि जैसे ही कांग्रेस नेताओं को इस घटना की खबर लगी तो मौके पर भीड़ लग गई। किसी तरह राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा को फिल्लौर के भटि्टयां तक ले गए। इसके बाद यात्रा को रोक दिया गया। खुद राहुल गांधी संतोख सिंह को देखने के लिए अस्पताल पहुंचे। फिलहाल अस्पताल में स्थानीय लोगों और कांग्रेस नेताओं की भीड़ लगी हुई है।
*कौन थे सांसद संतोष सिंह चौधरी...*

संतोष सिंह कांग्रेस के पंजाब में कद्दावर नेता थे। उनकी गिनती राज्य के सीनियर नेताओं में होती थी। उन्हंने 1978 में अपना राजनीतिक सफर पंजाब युवा कांग्रेस नेता के तौर पर शुरू किया था। इस दौरान वो 1978 से 1982 तक पंजाब युवा कांग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष रहे। 

वह जालंधर संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस के टिकट पर 2014 और 2019 में चुनाव जीते थे। फिलहाल वो जालंधर एससी सीट से कांग्रेस सांसद थे। संतोख सिंह मूल रूप से लांधरा हाउस, नूर महल रोड, फिल्‍लौर, जालंधर, पंजाब के रहने वाले थे।
*सीएम भगवंत मान से लेकर राहुल गांधी ने यूं जताया दुख*

संतोख सिंह के निधन पर राहुल गांधी समेत तमाम कांग्रेस नेताओं ने ट्वीट करते हुए शोक जताया है। राहुल ने ट्वीट करते हुए लिखा-श्री संतोख सिंह चौधरी जी के अकस्मात निधन से स्तब्ध हूं। वो ज़मीन से जुड़े परिश्रमी नेता, एक नेक इंसान और कांग्रेस परिवार के मज़बूत स्तम्भ थे, जिन्होंने युवा कांग्रेस से सांसद तक अपना जीवन जनसेवा को समर्पित किया। 

वहीं पंजाब के सीएम भगवात मान ने लिखा- जालंधर से कांग्रेस के सांसद संतो ख सिंह चौधरी के असामयिक निधन से मुझे गहरा दुख हुआ है. भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें।
लाल घेरे में स्व.सांसद संतोष सिंह

Sunday, January 15, 2023

January 15, 2023

राखी सावंत के बहाने इस्लाम पर भड़कीं तस्लीमा नसरीन बोलीं- मुस्लिम आदमी से शादी की तो उसे भी...

राखी सावंत के बहाने इस्लाम पर भड़कीं तस्लीमा नसरीन बोलीं- मुस्लिम आदमी से शादी की तो उसे भी...
नई दिल्ली : राखी सावंत के फातिमा बनने की खबर पर तस्लीमा नसरीन का रिऐक्शन वायरल हो रहा है। उन्होंने राखी के निकाह के बहाने इस्लाम धर्म पर जमकर भड़ास निकाली है।

राखी सावंत और उनके मुस्लिम बॉयफ्रेंड की शादी पर अब तस्लीमा नसरीन का ट्वीट वायरल है। राखी के बहाने उन्होंने इस्लाम धर्म के खिलाफ भड़ास निकाली है। उनका कहना है कि दूसरे धर्मों की तरह इस्लाम को भी विकसित होना चाहिए। उन्होंने राखी का नाम लिखकर कहा कि उन्हें भी मुस्लिम से शादी करने के लिए धर्म बदलना पड़ा। 
बता दें कि बीते दिनों राखी सावंत और उनके बॉयफ्रेंड आदिल खान दुर्रानी की शादी की तस्वीरें और वीडियोज वायरल हैं। राखी अपनी शादी के सबूत दे रही हैं वहीं आदिल इस पर कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं।
*इस्लाम को बदलना चाहिए*

तस्लीमा नसरीन ने ट्वीट किया है, यहां तक कि राखी सावंत को भी इस्लाम में कन्वर्ट होना पड़ा क्योंकि उसने ऐसे लड़के से शादी की जो कि मुस्लिम है। दूसरे धर्मों की तरह इस्लाम को भी इवॉल्व्ड होना चाहिए और मुस्लिम और नॉन मुस्लिम के बीच शादी स्वीकार करनी चाहिए।
*बोलीं-पैगंबर मोहम्मद ने की बच्ची से शादी*

तस्लीमा के ट्वीट पर एक सोशल मीडिया यूजर ने जवाब दिया है, नहीं हम पैगंबर मोहम्मद के दिए गए सिद्धांतों से कभी समझौता नहीं करेंगे। इस पर तस्लीमा नसरीन ने जवाब दिया है, उनके 13 पत्नियां थीं जिनमें 6 साल की एक बच्ची और उनकी बहू शामिल थी। क्या आप उनके सिद्धांतों पर चलना चाहते हैं।
*इस्लाम में होने चाहिए ये बदलाव*

एक और ट्वीट में तस्लीमा ने लिखा है, इस्लाम को विकसित होना चाहिए और आलोचना, फ्री स्पीच, पैगंबर के कार्टून, महिलाओं की समानता, नास्तिकता, तार्किकता सेकुलरिज्म, गैर-मुस्लिम अधिकार, मानव अधिकार, सिविलाइजेशन वगैरह स्वीकार करने चाहिए।
*आदिल ने नहीं दिया जवाब*

बता दें कि राखी सावंत करीब एक साल से आदिल खान दुर्रानी को डेट कर रही हैं। अब कुछ तस्वीरें और वीडियोज वायरल हैं जिनमें राखी और आदिल निकाह करते दिख रहे हैं। 
रिपोर्ट्स हैं कि राखी ने अपना नाम बदलकर फातिमा कर लिया है। खुद आदिल ने ऐसी खबरों को अपने इंस्टाग्राम पर शेयर किया है। हालांकि इस मामले पर आदिल ने चुप्पी साध रखी है। उनका कहना है कि वह रुककर जवाब देंगे।

Friday, October 7, 2022

October 07, 2022

जिन्‍होंने दिए सिक्‍खों के '5 ककार', जानें गुरु गोबिंद सिंह के बारे में 10 महत्‍वपूर्ण बातें

जिन्‍होंने दिए सिक्‍खों के '5 ककार', जानें गुरु गोबिंद सिंह के बारे में 10 महत्‍वपूर्ण बातें 

Guru Gobind Singh: वर्ष 1699 में, गुरु गोबिंद सिंह ने 'खालसा वाणी' की स्थापना की - "वाहेगुरु जी का खालसा, वाहेगुरु जी की फतेह". उन्होंने अपने सभी अनुयायियों का नाम 'सिंह' रख दिया जिसका अर्थ है शेर । उन्होंने खालसा के '5 ककार'  या सिद्धांतों की भी स्थापना की. ये हैं- केश, कंघा, कच्‍छा, कड़ा, कृपाण। 

सिखों के 10वें और अंतिम गुरु 'गुरु गोबिंद सिंह' का जन्म 22 दिसंबर 1666 को हुआ । उनके बचपन का नाम गोबिंद राय था। उन्होंने संस्कृत, फारसी, पंजाबी और अरबी भाषाएं सीखीं। इसके साथ ही उन्‍होंनें धनुष-बाण, तलवार, भाला चलाने की कला भी सीखी। एक आध्यात्मिक गुरु होने के साथ-साथ वह एक निर्भीक योद्धा, कवि और दार्शनिक भी थे। उनकी शिक्षाओं ने सिख समुदाय और अन्य लोगों को कई पीढ़ियों से प्रेरित किया है। आज ही के दिन वर्ष 1708 में, महाराष्ट्र के नांदेड़ में स्थित श्री हुजूर साहिब में उन्‍होंने अपने प्राणों का त्याग किया था। आइये जानते हैं उनके जीवन से जुड़ी 10 बड़ी बातें। 
- गोबिंद राय का जन्‍म सिख धर्म के 9वें गुरु, गुरु तेग बहादुर और माता गुजरी के घर तख्त श्री पटना साहिब (अब पटना) में हुआ था। - वह केवल 9 वर्ष की आयु के थे, जब 10वें सिख गुरू बने।  - अपने पिता गुरु तेग बहादुर के मुगल सम्राट औरंगजेब के हाथों शहादत स्वीकार करने के बाद वह कश्मीरी हिंदुओं की रक्षा के लिए आगे आए। - अपने बचपन में ही, बालक गोबिंद ने संस्कृत, उर्दू, हिंदी, ब्रज, गुरुमुखी और फारसी सहित कई भाषाएं सीखीं। उन्होंने युद्ध में निपुण होने के लिए मार्शल आर्ट भी सीखा। - वह दक्षिण सिरमुर, हिमाचल प्रदेश में यमुना नदी के किनारे एक शहर पांवटा गए। यहां उन्होंने पांवटा साहिब गुरुद्वारा की स्थापना की और सिख सिद्धांतों के बारे में प्रचार किया। पांवटा साहिब आज भी सिखों के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है। यहां उन्‍होंने 3 वर्ष बिताए, जिस दौरान कई ग्रंथ लिखे और अपने अनुयायियों की पर्याप्त संख्या भी एकत्र की। - सितंबर 1688 में, 19 साल की उम्र में, गुरु गोबिंद सिंह ने भीम चंद, गढ़वाल के राजा फतेह खान और शिवालिक पहाड़ियों के अन्य स्थानीय राजाओं की एक संयुक्‍त सेना के खिलाफ भंगानी की लड़ाई लड़ी। लड़ाई एक दिन तक चली और हजारों लोगों की जान चली गई। गुरू गोबिंद सिंह ने संयुक्‍त सेना को हराया। - बिलासपुर की रानी के निमंत्रण पर गुरु गोबिंद नवंबर 1688 में आनंदपुर लौट आए, जो चक नानकी के नाम से जाना जाने लगा है। - 30 मार्च 1699 को, गुरु गोबिंद सिंह ने अपने अनुयायियों को आनंदपुर में अपने घर पर इकट्ठा किया। उन्‍होंने एक स्वयंसेवक से अपने भाइयों के लिए अपना सिर बलिदान करने के लिए कहा। एक अनुयायी दया राम फौरन इसके लिए राजी हो गया। गुरु उन्हें एक तंबू के अंदर ले गए और एक खूनी तलवार के साथ बाहर निकले। उन्होंने फिर से एक स्वयंसेवक को बुलाया और फिर ऐसा ही किया। 5 बार ऐसा करने के बाद, अंत में गुरु पांच स्वयंसेवकों के साथ तम्बू से निकले और तम्बू में पांच सिर कटी बकरियां मिलीं। इन पांच सिख स्वयंसेवकों को गुरु ने 'पंज प्यारे' या 'पांच प्यारे' के रूप में नामित किया. - 1699 की सभा में, गुरु गोबिंद सिंह ने 'खालसा वाणी' की स्थापना की - "वाहेगुरु जी का खालसा, वाहेगुरु जी की फतेह". उन्होंने अपने सभी अनुयायियों का नाम 'सिंह' रख दिया जिसका अर्थ है शेर। उन्होंने खालसा के '5 ककार'  या सिद्धांतों की भी स्थापना की. ये हैं- केश, कंघा, कच्‍छा, कड़ा, कृपाण. - गुरु गोबिंद सिंह ने खालसा और सिखों के धार्मिक ग्रंथ 'गुरु ग्रंथ साहिब' को ही सिखों के अगले गुरु के रूप में नामित किया। उन्होंने 07 अक्टूबर 1708 को अपना शरीर छोड़ दिया।
October 07, 2022

जेजेपी ने निभाया वादा, बाबा महेंद्र टिकैत के गांव में बनी आधुनिक लाइब्रेरी

जेजेपी ने निभाया वादा, बाबा महेंद्र टिकैत के गांव में बनी आधुनिक लाइब्रेरी,चौ महेंद्र टिकैत की जयंती पर अजय चौटाला ने लाइब्रेरी का किया उद्घाटन

चंडीगढ़ :  जननायक जनता पार्टी ने अपने वादे के अनुसार उत्तर प्रदेश राज्य में मुजफ्फरनगर जिले के गांव सिसौली में आधुनिक डिजिटल लाइब्रेरी का निर्माण करवा दिया है। जेजेपी ने यह वादा किसानों के मसीहा स्व. चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत के जन्मदिवस के अवसर पर पूरा किया। उनकी जयंती पर वीरवार को गांव सिसौली में आयोजित कार्यक्रम में जेजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अजय सिंह चौटाला पहुंचे। उन्होंने पुष्पांजलि अर्पित कर बाबा महेंद्र टिकैत को नमन किया और यहां एक जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान डॉ. चौटाला ने किसान भवन में चौधरी देवीलाल पुस्तकालय का उद्घाटन कर युवाओं को समर्पित की। बता दें कि इसी वर्ष 15 मई को सिसौली गांव में किसान मसीहा बाबा महेंद्र सिंह टिकैत की पुण्यतिथि कार्यक्रम में जेजेपी प्रधान महासचिव दिग्विजय चौटाला ने ग्रामीणों युवाओं से वादा करते हुए यहां लाइब्रेरी बनाने की घोषणा की थी।
जेजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अजय सिंह चौटाला ने ग्रामीण आंचल के युवाओं के लिए गांव में पढ़ने के लिए लाइब्रेरी का होना जरूरी बताया और कहा कि आधुनिक लाइब्रेरी समय की जरूरत है। उन्होंने कहा कि  सिसौली में चौधरी देवीलाल पुस्तकालय खुलने से यहां के युवाओं को परीक्षाओं और नौकरी की तैयारी में सुविधा होगी। अजय चौटाला ने कहा कि हरियाणा में जेजेपी ग्रामीण क्षेत्र में 108 मॉडल लाइब्रेरी खोलने की दिशा में काम कर रही है। उन्होंने यह भी कहा कि युवाओं के उज्जवल भविष्य के लिए ऐसे कदम निरंतर उठाने चाहिए ताकि ग्रामीणों बच्चों को लाभ मिले। इस अवसर पर स्व. महेंद्र सिंह टिकैत के बेटे राकेश टिकैत और नरेश टिकैट, जेजेपी वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. केसी बागड़, जेजेपी प्रदेश संगठन सचिव देवेंद्र कादियान, पूर्व विधायक पदम दहिया, भूपेंद्र मलिक, कार्यक्रम के आयोजक सचिन चौधरी आदि मौजूद रहे।

Thursday, October 6, 2022

October 06, 2022

वंदे भारत एक्सप्रेस हादसे का शिकार, जानवर से टकराने के बाद आगे का हिस्सा क्षतिग्रस्त

वंदे भारत एक्सप्रेस हादसे का शिकार, जानवर से टकराने के बाद आगे का हिस्सा क्षतिग्रस्त

नई दिल्ली : हाई स्पीड वंदे भारत ट्रेन गुरुवार को सुबह 11.18 मिनट पर जानवरों के एक झुंड से टकरा गई। हादसे के बाद ट्रेन को 20 मिनट रोकना पड़ा। फिलहाल ट्रेन को ठीक करके रवाना कर दिया गया है। 


भारत की सबसे आधुनिक और नई खूबियों से लैस नई पीढ़ी की हाई स्पीड वंदे भारत ट्रेन गुरुवार को सुबह 11.18 मिनट पर एक हादसे का शिकार हो गई। दरअसल यह ट्रेन  वटवा और मणिनगर स्टेशन के पास जानवरों के झुंड से टकरा गई। ये ट्रेन मुंबई से अहमदाबाद के लिए आ रही थी. हादसे के दौरान वंदेभारत एक्सप्रेस ट्रेन का फ्रंट का हिस्सा टूट गया। 
*20 मिनट तक रोकनी पड़ी थी ट्रेन*

अहमदाबाद रेलवे  PRO जीतेन्द्र जयंत के मुताबिक सुबह सवा 11 बजे के करीब ये हादसा हुआ। हादसे के बाद ट्रेन को 20 मिनट रोकना पड़ा। फिलहाल ट्रेन को ठीक करके रवाना कर दिया गया। इस वंदे भारत ट्रेन को 30 सितंबर को हरी झंडी दिखाई गई थी। यह ट्रेन 180 से 200 किमी/ प्रतिघंटे की रफ्तार पकड़ सकती है। 
200 kmph से दौड़ेगी वंदे भारत एक्सप्रेस, यहां बन रहे 1600 डिब्बे 
Indian Railways special trains
रेलवे ने बढ़ाई स्पेशल ट्रेनों की तादाद, इन राज्यों को फायदा, देखें पूरी लिस्ट 

आधुनिक सुविधाओं से लैस होंगे 200 स्टेशन, रेल मंत्री ने बताया मास्टर प्लान 

दिवाली और छठ तक रेलवे चलाएगा ये 12 स्पेशल ट्रेनें, इन 6 राज्यों के यात्रियों को लाभ 
भारत की तीसरी वंदे भारत ट्रेन

यह देश में तीसरी वंदे भारत ट्रेन है। इससे पहले नई दिल्ली और वाराणसी तथा नई दिल्ली और माता वैष्णो देवी कटरा के बीच वंदे भारत ट्रेनें चल रही हैं। यह ट्रेन गांधीनगर से अहमदाबाद होते हुए मुंबई तक जाती है फिर वापस इसी रूट से होकर गांधीनगर वापस आती है। 
वंदे भारत एक्सप्रेस हादसे का शिकार
हादसे में उखड़ गया ट्रेन के आगे का हिस्सा

400 और वंदे भारत ट्रेनों को चलाने की तैयारी

रेलवे बोर्ड देशभर में 400 सेमी हाई स्पीड वंदे भारत ट्रेनों को चलाने की तैयारी कर रहा है। बता दें कि वंदे भारत ट्रेन अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस है। इनमें जीपीएस आधारित सूचना सिस्टम, सीसीटीवी कैमरे, वैक्यूम आधारित बायो टॉयलेट, ऑटोमैटिक स्लाइडिंग डोर और हर कोच में चार आपातकालीन पुश बटन हैं। 

बता दें कि नई वंदे भारत एक्सप्रेस को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 30 सितंबर को हरी झंडी दिखाई थी। उन्होंने गांधीनगर से लेकर अहमदाबाद तक इसमें यात्रा भी की थी। इस ट्रेन के हर कोच में बैक्टीरिया फ्री एयर कंडीशनिंग रहेगी। आपातकालीन स्थिति के लिए हर कोच में चार लाइट लगी हैं. वहीं, लोकोपायलट और यात्रियों के बीच कम्यूनिकेशन के लिए भी सुविधा है। 
*सरकार का ये है प्लान*

केंद्र सरकार ने मराठवाड़ा रेल कोच फैक्ट्री में वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों के करीब 1600 डिब्बों का निर्माण करने का फैसला लिया है। इनमें से प्रत्येक डिब्बे पर आठ करोड़ से नौ करोड़ रुपये की लागत आएगी। इसको लेकर फैक्ट्री में आवश्यक बदलाव होने शुरू हो गए हैं।

Wednesday, October 5, 2022

October 05, 2022

WhatsApp का बड़ा कदम: अब व्हाट्सएप पर नहीं ले पाएंगे स्क्रीनशॉट्स, जारी हुआ नया सुरक्षा फीचर

WhatsApp का बड़ा कदम: अब व्हाट्सएप पर नहीं ले पाएंगे स्क्रीनशॉट्स, जारी हुआ नया सुरक्षा फीचर

इंस्टेंट मैसेजिंग एप व्हाट्सएप (Whatsapp) ने यूजर्स की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए एक और नए फीचर्स को जारी कर दिया है। व्हाट्सएप में अब व्यू वन्स मैसेज से किए गए मैसेज का स्क्रीनशॉट्स नहीं लिया जा सकेगा। इस फीचर्स के बाद अब यूजर्स की चैट और अधिक सुरक्षित हो जाएगी। बता दें कि पिछली साल अगस्त में व्हाट्सएप ने यूजर्स की सुरक्षा को बढ़ाने के लिए व्यू वन्स मैसेज फीचर जारी किया था। इसके एक साल बाद यानी अगस्त 2022 में मेटा के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने व्यू वन्स मैसेज में स्क्रीनशॉट लेने की सुविधा को बंद करने का एलान किया था।
मार्क जुकरबर्ग ने कई सिक्योरिटी फीचर जारी करते हुए कहा था कि वे WhatsApp की सिक्योरिटी को अब और मजबूत करने जा रहे हैं। इसके लिए हम व्यू वन्स मैसेज (View Once Messages) फीचर में एक और नए फीचर को शामिल कर रहे हैं, इससे व्हाट्सएप यूजर्स की चैट को और अधिक सुरक्षित रखा जा सकता है। इस फीचर में व्यू वन्स मैसेज से किए गए मैसेज का स्क्रीनशॉट्स नहीं लिया जा सकेगा।
व्हाट्सएप का यह स्क्रीनशॉट्स ब्लॉकिंग फीचर्स गूगल-पे और फोन-पे की तरह काम करता है, जो यूजर्स को अपने प्लेटफॉर्म पर स्क्रीनशॉट्स लेने की अनुमति नहीं देता है। ऐसे ही अब व्हाट्सएप पर भी व्यू वन्स मैसेज से किए गए मैसेज का स्क्रीनशॉट्स नहीं लिया जा सकेगा
*ऐसे करता है काम*

इस फीचर की मदद से आप अपनी चैट को सेफ रख सकते हैं। इससे पहले व्यू वन्स मैसेज फीचर को भी यूजर्स की प्रायवेसी को ध्यान में रखकर लाया गया था, इस फीचर से किए गए मैसेज को केवल एक बाद ही देखा जा सकता था। व्हाट्सएप के इस फीचर के बाद यूजर्स की प्रायवेसी को और अधिक सुरक्षित रखा जा सकता है। नए फीचर्स के बाद व्यू वन्स मैसेज (View Once Messages) से किए गए मैसेज को व्हाट्सएप स्क्रीनशॉट्स के लिए ब्लॉक कर देता है, फिर अन्य यूजर उसको सिर्फ एक बार देख सकता है। अन्य यूजर उस मैसेज को न सेव कर सकता है और न उसका स्क्रीनशॉट्स ले सकता है। साथ ही यूजर्स व्यू वन्स मैसेज से किए गए मैसेज को स्क्रीन रिकॉर्ड के जरिए भी रिकॉर्ड नहीं किया जा पाएगा।

Wednesday, September 14, 2022

September 14, 2022

दिल्ली में अब फ्री बिजली नहीं मिलेगी, अगर नहीं किया यह काम, आएगा मोटा बिल

दिल्ली में अब फ्री बिजली नहीं मिलेगी, अगर नहीं किया यह काम, आएगा मोटा बिल

नई दिल्ली : दिल्ली वासियों के लिए उनकी आम आदमी पार्टी की सरकार ने एक बड़ा फैसला लागू कर दिया है। दरअसल, यह फैसला फ्री बिजली को लेकर है। सीएम अरविन्द केजरीवाल ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए जानकारी दी है कि 1 अक्टूबर 2022 से दिल्ली में सबको बिजली पर सब्सिडी नहीं दी जाएगी। यानि फ्री बिजली नहीं मिलेगी। 
केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली में अब सिर्फ उन्हीं लोगों को फ्री बिजली मिलेगी। जो इसके लिए अप्लाई करेंगे। केजरीवाल ने कहा कि 30 सितंबर से पहले दिल्ली वालों को फ्री बिजली के लिए अप्लाई करना होगा। अगर उन्होंने ऐसा नहीं किया तो फिर उन्हें 1 अक्टूबर से बिजली का पूरा बिल देना पड़ेगा। बतादें कि, दिल्ली में 200 यूनिट तक बिजली फ्री है। जबकि 201 से 400 यूनिट पर 50 फीसद बिजली बिल वसूला जाता है। दिल्ली में टोटल 58 घरेलू बिजली उपभोक्ता हैं। जिनमें से 30 लाख लोगों का जीरो बिल आ रहा है। 
*बिजली सब्सिडी के लिए हर माह भी कर सकते हैं अप्लाई*

हालांकि, ऐसा नहीं है कि आप सितंबर में फ्री बिजली के लिए अप्लाई नहीं कर पाए तो आगे नहीं कर पायेंगे। दरअसल, आप सितंबर के बाद भी फ्री बिजली के लिए अप्लाई कर सकते हैं लेकिन यहां एक घाटा आपको यह होगा कि आपसे मौजूदा या पिछले महीने का पूरा बिल वसूला जाएगा। अप्लाई करने वाले महीने के अगले महीने से ही आपकी बिजली फ्री होगी। 
*फ्री बिजली पाने के लिए जान लें तरीका*

बतादें कि, दिल्ली की केजरीवाल सरकार से फ्री बिजली जारी रखने के लिए आपको कुछ इस प्रकार से अप्लाई करना होगा। आप फ्री बिजली के लिए केजरीवाल सरकार द्वारा जारी मोबाइल नंबर 7011311111 पर एक मिस्ड कॉल कर सकते हैं। जिसके बाद आपके मैसेज बॉक्स में लिंक आ जाएगा। उस लिंक जैसे ही आप क्लिक करेंगे। आपको एक फार्म मिलेगा। जिसे आपको भर देना है। 
इसके आलावा आप इस नंबर के जरिये व्हाट्सअप पर Hi लिखकर भेज सकते हैं। जिसके बाद आपके पास व्हाट्सअप पर फार्म भेज दिया जाएगा। इसे भरकर आपको व्हाट्सअप पर ही दोबारा सेंड कर देना है। 
*फ्री बिजली के लिए ऑफलाइन भी हो जाएगा अप्लाई*

बतादें कि, आप फ्री बिजली के लिए ऑफलाइन भी अप्लाई कर सकते हैं। केजरीवाल सरकार आपको बिजली बिल के साथ एक फार्म भेजेगी। जिसे भरकर आपको अपने नजदीकी बिजली कार्यालय में जमा कराना होगा  ।
September 14, 2022

भारत के समुद्री इलाके से पाकिस्तानी नाव जब्त, 200 करोड़ की ड्रग्स बरामद

भारत के समुद्री इलाके से पाकिस्तानी नाव जब्त, 200 करोड़ की ड्रग्स बरामद

भारतीय तटरक्षक बल (ICG) ने भारतीय समुद्री सीमा से एक पाकिस्तानी नाव जब्त की है। नाव से 40 किलोग्राम ड्रग्स (हेरोइन) बरामद की गई है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत 200 करोड़ रुपए बताई जा रही है। नाव के साथ चालक दल के 6 लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है। 

ये कार्रवाई गुजरात ATS के खुफिया इनपुट के आधार पर कई गई है। जानकारी के मुताबिक ICG को 13 सितंबर की रात को भारतीय समुद्री सीमा में पाकिस्तान नाव के होने की खुफिया जानकारी मिली। सूचना मिलते ही 2 जहाजों को फोरन गश्त के लिए भेजा गया। 
देर रात अचानक एक पाकिस्तानी नाव भारतीय जल समुद्री क्षेत्र में नजर आई. गश्ती कर रहे भारतीय जहाजों ने उन्हें रुकने का अलर्ट जारी किया। आरोपियों की थोड़ी टालमटोली के बाद नाव को जब्त कर लिया गया। 

नाव की तलाशी लेने पर उसमें 40 किलोग्राम ड्रग्स मिली। जांच एजेंसियों के द्वाच जांच लिए जाने के लिए नाव को जखाउ लाया जा रहा है। पिछले एक साल में भारतीय तटरक्षक बल और एटीएस गुजरात का इस तरह का यह पांचवां संयुक्त अभियान है। 
*पहले भी हुई ड्रग्स की बरामदगी*

1. 6 सितंबर को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने नार्को-टेरर पर बड़ी कार्रवाई की थी ।
पुलिस ने 1200 करोड़ रुपए की ड्रग्स जब्त की थी। इस ड्रग्स को बेचकर आने वाली रकम का इस्तेमाल हिंदुस्तान के खिलाफ आतंकी गतिविधियों में किया जाना था। 
2. 16 अगस्त को ACB के साथ मिलकर मुंबई पुलिस ने करीब 513 किलोग्राम एमडी (मेपेहड्रोन) दवा जब्त की थी। जब्त की गई दवाओं की कीमत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर करीब 1,026 करोड़ रुपए थी। एंटी नारकोटिक्स सेल की वर्ली यूनिट ने गुजरात के भरूच में इस ड्रग फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया था। यह फैक्ट्री अंकलेश्वर इलाके से चलाई जा रही थी। 
3. गुजरात के मुंद्रा पोर्ट पर भारी मात्रा में ड्रग्स पकड़ी गई थी। 3000 किलो पकड़े गए ड्रग्स के तार गुजरात से लेकर दिल्ली और अफगानिस्तान से लेकर दुबई तक से जुड़ते दिख रहे हैं। वहीं इस मामले में NIA की रडार पर दिल्ली का एक बड़ा बिजनेसमैन कबीर तलवार भी है, जो सम्राट होटल में Playboy नाम से एक प्राइवेट क्लब का मालिक है. उसे जल्द ही गिरफ्तार भी किया जा सकता है।

Tuesday, September 13, 2022

September 13, 2022

मक्का मस्जिद में शख्स ने किया ऐसा काम, Video देख भड़के मुस्लिम, हुई गिरफ्तारी

मक्का मस्जिद में शख्स ने किया ऐसा काम, Video देख भड़के मुस्लिम, हुई गिरफ्तारी

सऊदी अरब के मक्का शहर में यमन के एक नागरिक को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोप है कि यह शख्स क्वीन एलिजाबेथ के नाम का उमराह कर रहा था, जबकि किसी गैर मुसलमान के लिए ऐसा करना बिल्कुल मना है। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद शख्स को गिरफ्तार कर लिया गया। 
फोटो- गिरफ्तार हुआ यमन का नागरिक

सऊदी अरब पुलिस ने धार्मिक नगरी मक्का से यमन के एक नागरिक को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार हुआ यह शख्स ब्रिटेन की क्वीन एलिजाबेथ के निधन के बाद उनके नाम पर उमराह करने पहुंचा था। मक्का की बड़ी मस्जिद में बैनर हाथ में लिए इस शख्स का वीडियो क्लिप वायरल हो गया, जिसके ऊपर सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रियाएं मिलने लगीं। लोगों ने सोशल मीडिया पर शख्स को गिरफ्तार करने की मांग की। जिसके बाद यमन के शख्स को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।
दरअसल, इस्लाम में उमराह 15 दिनों का एक धार्मिक तरीका है, जिस दौरान इंसान सिर्फ नमाज और अल्लाह की बातों पर ध्यान देता है। उमराह के दौरान मर चुके लोगों की आत्मा की शांति के लिए दुआ भी की जाती है। लेकिन मृतक सिर्फ मुस्लिम ही होने चाहिए। 
*क्या लिखा था बैनर में ?*

यमन के शख्स ने जिस बैनर को हाथ में लिया हुआ है, उसमें लिखा है कि, महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की आत्मा के लिए उमरा. हम खुदा से कहते हैं कि क्वीन को जन्नत में जगह मिले.  
यमन के इस शख्स ने वीडियो क्लिप बनाकर सोशल मीडिया पर शेयर की। जिसके बाद वीडियो जमकर वायरल हो गई। ट्विटर लोगों का वीडियो को देखते ही गुस्सा भड़क गया, जिसके बाद शख्स की गिरफ्तारी की मांग की जाने लगी। 
*जो मुसलमान नहीं, उसके नाम का उमराह भी नहीं*

यूं तो सऊदी अरब के मक्का शहर में श्रद्धालुओं को किसी भी तरह का बैनर या नारे लगाने के लिए मना किया जाता है। लेकिन अगर किसी का कोई अपना दुनिया में नहीं रहा है तो उसकी आत्मा की शांति के लिए उमराह किया जा सकता है। 

हालांकि,  सिर्फ मुस्लिम मृतक के लिए ही उमराह किए जाने की अनुमति मिलती है। अगर कोई दूसरे धर्म के व्यक्ति के नाम पर उमराह करना चाहेगा तो उसे अनुमति नहीं दी जाएगी। 
*वीडियो वायरल होते ही पुलिस का तुरंत एक्शन*

वीडियो वायरल होने पर सऊदी पुलिस ने इस मामले में तेजी से एक्शन लेते हुए बड़ी मस्जिद की क्लिप में दिखने वाले यमन के नागरिक को गिरफ्तार कर लिया। 
सऊदी अरब सरकार की ओर से बताया गया है कि मस्जिद के अंदर किसी गैर मुसलमान के नाम उमराह करना नियमों के खिलाफ है, जिसकी वजह से यमन के नागरिक की गिरफ्तारी की गई है।