/>

Breaking

Tuesday, June 8, 2021

ठूस-ठूसकर सवारी भर UP से पानीपत आ रही प्राइवेट बसें

ठूस-ठूसकर सवारी भर UP से पानीपत आ रही प्राइवेट बसें
पानीपत : प्राइवेट बस संचालकों ने कोरोना को मजाक बना दिया है। कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए 3 मई से सरकार ने दिल्ली, पंजाब और चंडीगढ़ को छोड़कर अन्य राज्यों में रोडवेज बसों के आने-जाने पर रोक लगाई हुई है। इसके बावजूद प्राइवेट बस संचालक बसों में सवारियों को ठूस-ठूसकर बेरोक-टोक UP से हरियाणा और हरियाणा से यूपी में प्रवेश कर रहे हैं। पानीपत रोडवेज निगम का कहना है कि ये बसें प्राइवेट बस संचालकों ने कोरोना को मजाक बना दिया है। कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए 3 मई से सरकार ने दिल्ली, पंजाब और चंडीगढ़ को छोड़कर अन्य राज्यों में रोडवेज बसों के आने-जाने पर रोक लगाई हुई है। इसके बावजूद प्राइवेट बस संचालक बसों में सवारियों को ठूस-ठूसकर बेरोक-टोक UP से हरियाणा और हरियाणा से यूपी में प्रवेश कर रहे हैं। पानीपत रोडवेज निगम का कहना है कि ये बसें उनके अड्‌डे से नहीं चल रही।

पानीपत समेत पूरे प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर काफी खतरनाक साबित हुई। जिसके चलते दोबारा लॉकडाउन लगाना पड़ा। बाजार, मॉल, शिक्षण संस्थान समेत बसों का संचालन भी सिमित किया गया। 3 मई से दिल्ली, पंजाब और चंडीगढ़ को छोड़कर अन्य प्रदेशों में रोडवेज बसों का आवागमन बंद कर दिया गया।

फिलहाल UP और उत्तराखंड के लिए पानीपत से रोडवेज बसों का संचालन नहीं किया जा रहा है। सामान्य दिनों में पानीपत से UP को अलग-अलग जिलों के लिए रोजाना 35 रोडवेज बसों का संचालन किया जाता है, लेकिन अब रोडवेजे बसों का संचालन बंद है। जिसका फायदा प्राइवेट बस संचालक उठा रहे हैं। UP के शामली से पानीपत और पानीपत से शामली के लिए बिना रोक-टोक प्राइवेट बस चल रहीं हैं।

ठूस-ठूसकर भरी जा रही सवारी
अवैध रूप से प्राइवेट बसों को दूसरे राज्यों में संचालन के साथ इन बसों में कोरोना के नियमों का भी पालन नहीं किया जा रहा है। लॉकडाउन से पहले बसों में आधी सवारी बैठाने का नियम था, लेकिन अब लॉकडाउन में ही प्राइवेट बसों में 80 तक सवारी भरी जा रही हैं। जिससे कोरोना का खतरा बढ़ रहा है।

रोडवेज बस स्टैंड से नहीं चल रहीं प्राइवेट बसें
रोडवेज निगम के ट्रैफिक मैनेजर कर्मवीर ने कहा कि रोडवेज बस स्टैंड से प्राइवेट बसें नहीं चल रही हैं। प्राइवेट बसों के अवैध संचालन को रोकने की जिम्मेदारी RTA की है।उनके अड्‌डे से नहीं चल रही।

पानीपत समेत पूरे प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर काफी खतरनाक साबित हुई। जिसके चलते दोबारा लॉकडाउन लगाना पड़ा। बाजार, मॉल, शिक्षण संस्थान समेत बसों का संचालन भी सिमित किया गया। 3 मई से दिल्ली, पंजाब और चंडीगढ़ को छोड़कर अन्य प्रदेशों में रोडवेज बसों का आवागमन बंद कर दिया गया।

फिलहाल UP और उत्तराखंड के लिए पानीपत से रोडवेज बसों का संचालन नहीं किया जा रहा है। सामान्य दिनों में पानीपत से UP को अलग-अलग जिलों के लिए रोजाना 35 रोडवेज बसों का संचालन किया जाता है, लेकिन अब रोडवेजे बसों का संचालन बंद है। जिसका फायदा प्राइवेट बस संचालक उठा रहे हैं। UP के शामली से पानीपत और पानीपत से शामली के लिए बिना रोक-टोक प्राइवेट बस चल रहीं हैं।

ठूस-ठूसकर भरी जा रही सवारी
अवैध रूप से प्राइवेट बसों को दूसरे राज्यों में संचालन के साथ इन बसों में कोरोना के नियमों का भी पालन नहीं किया जा रहा है। लॉकडाउन से पहले बसों में आधी सवारी बैठाने का नियम था, लेकिन अब लॉकडाउन में ही प्राइवेट बसों में 80 तक सवारी भरी जा रही हैं। जिससे कोरोना का खतरा बढ़ रहा है।

रोडवेज बस स्टैंड से नहीं चल रहीं प्राइवेट बसें
रोडवेज निगम के ट्रैफिक मैनेजर कर्मवीर ने कहा कि रोडवेज बस स्टैंड से प्राइवेट बसें नहीं चल रही हैं। प्राइवेट बसों के अवैध संचालन को रोकने की जिम्मेदारी RTA की है।

No comments:

Post a Comment