/>

Breaking

Sunday, June 27, 2021

पूर्व सरपंच ओमप्रकाश बने कंडेला सर्वखाप के प्रधान-विवाद भी हुआ, पंचायत से निकले ग्रामीण

पूर्व सरपंच ओमप्रकाश बने कंडेला सर्वखाप के प्रधान
-विवाद भी हुआ, पंचायत से निकले ग्रामीण
जींद, 27 जून ( संजय कुमार ) कंडेला खाप का प्रधान बनाए जाने को लेकर रविवार को गांव में पंचायत हुई, जिसमें ओमप्रकाश कंडेला को प्रधान चुना गया। लेकिन खाप के दो पूर्व प्रधानों सहित गांव के ही कुछ लाेगों ने ओमप्रकाश को प्रधान मानने से इंकार कर दिया। बीती 11 मार्च को भी ओमप्रकाश को खाप का प्रधान चुना गया था, लेकिन तीन दिन बाद ही 14 मार्च को खाप के चबूतरे पर हुई पंचायत में उन्हें प्रधान मानने से इंकार कर दिया था और प्रधान का पद खाली मान लिया था। अब फिर उन्हें प्रधान चुने जाने पर विवाद खड़ा हो गया है।
रविवार को गांव की चौपाल में निवर्तमान सरपंच अजमेर वाल्मीकि की अध्यक्षता में हुई, जिसमें खाप का प्रधान बनाए जाने को लेकर चर्चा हुई। अध्यक्षता कर रहे अजमेर सरपंच ने कहा कि खाप के प्रधान का पद गैरराजनीतिक होगा और प्रधान को पद की मर्यादा को बनाए रखते हुए काम करना होगा। पंचायत में मौजूद लोगों ने ओमप्रकाश को सर्वजातीय कंडेला खाप का प्रधान बनाने का ऐलान किया। उनके नाम का ऐलान होते ही कुछ लोग नाराज होकर पंचायत से उठकर चले गए। वहीं, ओमप्रकाश कंडेला ने सबका आभार जताते हुए कहा कि वे प्रधान पद की मर्यादा बनाकर रखेंगे। खाप के सभी गांवों में युवाओं के उज्ज्वल भविष्य को लेकर शिक्षा और खेल दोनों है जरूरी, को लेकर अभियान भी चलाएंगे। 
पंचायत में पूर्व सरपंच महाबीर व रणधीर, राजबीर नंबरदार, ब्लाक समिति सदस्य विकास, बलजीत सिंह, राज सिंह, गुड्डू, रतन सिंह, राजेश, ईश्वर, जगदीश वाल्मीकि, सुनील कंडेला आदि ग्रामीण मौजूद थे। वहीं, भाकियू प्रधान हजूरा सिंह, प्रताप सिंह व अन्य ग्रामीणों ने कहा कि गिनती के कुछ लोगों ने पूर्व योजना के तहत इकट्ठे होकर ओमप्रकाश को प्रधान चुना है, जो सही नहीं है। खाप में शामिल सभी गांवों के 36 बिरादरी के लोगों की मौजूदगी में प्रधान का चयन किया जाना चाहिए था। खाप के पूर्व प्रधान टेकराम कंडेला ने भी कहा कि उन्हें पंचायत की कोई जानकारी नहीं थी और ओमप्रकाश को प्रधान मानने से इंकार कर दिया।
*-टेकराम बोले: किसान आंदोलन के बाद लेंगे फैसला*
कंडेला खाप के पूर्व प्रधान टेकराम कंडेला ने कहा कि उन्होंने 14 मार्च को खाप के चबूतरे पर अपना इस्तीफा सौंप दिया था। तब पंचायत ने इस्तीफा मंजूर न करके खाप प्रधान बने रहने का आग्रह किया था। लेकिन वह दोबारा प्रधान बनने के इच्छुक नहीं हैं। रविवार को आेमप्रकाश को प्रधान चुने जाने पर टेकराम कंडेला ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कुछ लोगों ने इकट्ठे होकर अपनी मर्जी से प्रधान बना दिया है। वे ओमप्रकाश को प्रधान नहीं मानते हैं। खाप के सभी गांवों और 36 बिरादरी के लोग शामिल नहीं थे। उन्हें भी इस पंचायत के बारे में पता नहीं था। अभी वह किसान आंदोलन में व्यस्त हैं। किसान आंदोलन खत्म होने के बाद खाप के प्रधान पर सभी गांवों की मीटिंग में कोई फैसला लिया जाएगा। टेकराम ने कहा कि सत्ता पक्ष व विपक्ष के कुछ लोग कंडेला खाप को कमजोर करना चाहते हैं, लेकिन उनके मंसूबे पूरे नहीं होने दिए जाएंगे। टेकराम के साथ मौजूद हजूरा सिंह, प्रताप सिंह, राजपाल नंबरदार, अभेराम पंच, हवा सिंह, रामनिवास, हरकेश पंच ने भी ओमप्रकाश को प्रधान मानने से इंकार कर दिया।
--टेकराम को प्रधान मानने की बात कह पंचायत से निकले ग्रामीण-
पंचायत में जब ओमप्रकाश को प्रधान बनाने की बात कही तो कुछ लोगों ने कहा कि वे टेकराम कंडेला को ही खाप का प्रधान मानते हैं। गांव के हजूरा सिंह, हरकेश पंच, अभेराम पंच, धर्मपाल अन्य लोगों ने कहा कि पंचायत में 36 बिरादरी और खाप के सभी गांवों के लोग शामिल नहीं हैं। ये सभी लोग टेकराम को ही प्रधान मानने की बात कहकर पंचायत से उठकर निकल लिए। इससे माहौल में गर्मी भी आ गई। इन लोगों ने यह भी कहा कि ओमप्रकाश को चौपाल में प्रधान चुनने के बजाय पड़ोस की बैठक में उनके नाम पर मुहर लगाई, जो पंचायत का अपमान है। इसके बाद पंचायत में बाकी बचे लोगों ने ओमप्रकाश कंडेला को ही दोबारा खाप प्रधान नियुक्त कर दिया।

No comments:

Post a Comment