/>

Breaking

Showing posts with label politics news. Show all posts
Showing posts with label politics news. Show all posts

Thursday, November 11, 2021

November 11, 2021

बीजेपी-जेजेपी पार्टी के दिन अब लद चुके हैं : कमांडो रामेश्वर श्योराण

बीजेपी-जेजेपी पार्टी के दिन अब लद चुके हैं : कमांडो रामेश्वर श्योराण
जींद : ( संजय कुमार ) ÷आम आदमी पार्टी कि जिले की पांचों विधानसभा क्षेत्रों के पदाधिकारियों की मीटिंग बुधवार को सफीदों रोड स्थित एक निजी स्कूल में हुई। मुख्य अतिथि संयोजक पश्चिमी जोन एवं राष्ट्रीय सदस्य लक्ष्य गर्ग,  संगठन मंत्री रामेश्वर श्योराण कमांडो पश्चिमी जोन विशेष अतिथि के रूप में मौजूद थे। जिला प्रधान लाभ सिंह सिद्धू ने बैठक की अध्यक्षता करते हुए बैठक की शोभा बढ़ाई।पार्टी के पश्चिमी जोन संयोजक लक्ष्य गर्ग ने कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों को का आह्वान करते हुए कहा संगठन को मजबूत बनाएं और उन्होंने संगठन को मजबूत बनाने की दिशा निर्देश दिए वार्ड स्तर व पंचायत स्तर पर संगठन को मजबूत बनाकर लोगों के दुख दर्द लोगों की समस्याएं दूर करवाने का काम करें। चाहे इसके लिए कितना ही संघर्ष करना पड़े कितने ही आंदोलन करने पड़े। प्रेस प्रवक्ता डॉक्टर गणेश कौशिक ने जानकारी देते हुए बताया की  विशेष अतिथि के रूप में विराजमान कमांडो रामेश्वर श्योराण ने कहा की बीजेपी सरकार के दिन अब लद चुके हैं। दिनों दिन बढ़ती महगाई किसानों की समस्या की तरफ हरियाणा सरकार बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे रही है। सरकार बिल्कुल भी जनता की समस्याओं के प्रति गंभीर नहीं है। आने वाले समय में आम आदमी पार्टी की सरकार बनेगी।    
जिला प्रधान लाभ सिंह सिद्धू ने कहां की उन्होंने जींद जिले में संगठन की एक मजबूत टीम तैयार कर दी है और जींद जिले के समस्याओं के लिए लड़ेंगे तथा संघर्ष करेंगे। उन्होंने संगठन को जींद जिले में और मजबूत बनाने का कार्यकर्ताओं से आह्वान किया। 
जींद विधानसभा महिला अध्यक्ष डॉ रजनीश जैन ने कहा कि उन्होंने महिलाओं की जींद में एक सशक्त टीम खड़ी कर दी है तथा वे दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिक की तर्ज पर मेडिकल कैंप नि:शुल्क लगाती हैं। इस अवसर पर पांचों विधानसभा क्षेत्रों के अध्यक्ष व संगठन मंत्री मौजूद थे। विशेष रुप से जींद विधानसभा के अध्यक्ष तरसेम गोयल भी उपस्थित थे। अन्य उपस्थित होने वालों में संगठन मंत्री आईडी गोयल अध्यक्ष, वीरेंद्र आर्य उचाना अध्यक्ष, अनिल सुद्कैन, युवा अध्यक्ष विक्रम चहल, अध्यक्ष वेद प्रकाश बेनीवाल , सुधीर गर्गज़ राजेश यादव, पाला रामज़ महावीर शर्मा आदि उपस्थित थे।

Monday, November 8, 2021

November 08, 2021

भाजपा की निकम्मी सरकार काग़ज़ी योजनाएं बनाने में लगी है- दीपा शर्मा

देश की जनता त्राहि--त्राहि कर रही है भाजपा की निकम्मी सरकार काग़ज़ी योजनाएं बनाने में लगी है- दीपा शर्मा
पंचकूला : हमारे देश और प्रदेश में चारों तरफ अराजकता का माहौल है। आज हर आमजन चाहे वह किसी वर्ग का है भाजपा को कोसता नजर आ रहा है। यह कहना महिला कांग्रेस की हरियाणा प्रदेश महासचिव दीपा शर्मा का है।दीपा शर्मा ने संवाददाता से चर्चा करते हुए कहा कि जहां एक  तरफ भाजपा सरकार कृषि कानून के जरिए किसान और किसानी को खत्म करने पर तुले है। जबरदस्ती अमल में लाए गए इन कानूनों को लेकर लगभग 10 महीने से किसान आंदोलनरत हैं। लेकिन इस देश के संवेदनहीन प्रधानमंत्री देश विदेशों में जाकर वाहवाही बटोरने में लगे हैं। देश की जनता गर्त में जा रही है और हमारे प्रधानमंत्री अंतरराष्ट्रीय पटल पर अपनी छवि बनाने में लगे हैं।बढ़ती महंगाई ने जनता की कमर तोड़ कर रख दी है। भोजन वस्तु से जुड़ी चीजों के मूल्य आसमान को छूने लगे हैं आम आदमी लाचार नजर आ रहा है। वही दूसरी तरफ यदि कमाई की बात करें तो इन सरकारों ने  रोजगार देने की बजाय रोजगार छीनने का काम किया है। दीपा शर्मा ने कहा कि पूंजीवादी इस सरकार ने पूरे देश को कारपोरेट के हाथों बेच दिया है। देश की हालत इस समय बेहद गंभीर है उन्होंने कहा कि हम अघोषित आपातकाल का सामना कर रहे हैं।  शर्मा ने सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि देश की जनता त्राहि-त्राहि कर रही है और भाजपा की निकम्मी सरकार कागजी योजनाओं में उलझी हुई है।

Tuesday, October 5, 2021

October 05, 2021

सीएम के आदेश के बाद भी नरवाना की मंडियों में शुरू नहीं हुई धान की खरीद

सीएम के आदेश के बाद भी नरवाना की मंडियों में शुरू नहीं हुई धान की खरीद   
नरवाना/ जींद : ( संजय कुमार )÷शनिवार को किसानों के प्रदर्शन के बाद सीएम मनोहर लाल खट्टर ने 3 अक्तुबर यानी रविवार को धान की खरीद शुरू करने के आदेश दिए थे। लेकिन नरवाना क्षेत्र की किसी भी मंडी में रविवार को धान की खरीद शुरू नहीं हो सकी। रविवार को कस्बे की नई अनाज मंडी में धान लेकर पहुंचे किसानों ने चेतावनी दी है कि अगर सोमवार को भी धान खरीद का कार्य शुरू नहीं किया गया तो मार्किट कमेटी कार्यालय का घेराव करके प्रदर्शन किया जाएगा। रविवार को अपनी धान लेकर नरवाना की नई अनाज मंडी में पहुंचे किसानो ने कहा कि जब मुख्यमंत्री ने शनिवार को धान खरीद के आदेश दिए थे तो उन्हे खुशी हुई कि अब फसल बेचने में लम्बा इंतजार नहीं करना पड़ेगा। लेकिन जैसे ही उनकी फसल से भरी ट्राली मंडी में पहुंची और पता चला कि रविवार को खरीद नहीं की जा रही है तो वे मायुष हुए। किसान सत्यवान, अशोक नैन, धर्मबीर, किताब ङ्क्षसह, बलकार ने बताया कि नरवाना में सीएम के पहले आदेश की ही धज्जियां उड़ाई जा रही है तो सीजन के दौरान क्या हालत होगी। किसानों ने यह भी चेतावनी प्रशासन को दी है कि अगर सोमवार सुबह उनकी धान को खरीदने का काम शुरू नहीं किया गया तो वे मार्कि ट कमेटी कार्यालय का घेराव करके प्रदर्शन करेगें। मार्किट प्रशासस से मिली जानकारी के अनुसार अब तक नरवाना क्षेत्र की विभिन्न अनाज मंडियों में लगभग 9250 किवंटल धान की आवक हो चुकी है और धान की आवक लगातार बढती जा रही है।
वर्जन
जो खरीद एजेंसियां है उनके व मीलरों के बीच होने वाले एग्रीमेंट को लेकर कुछ समस्या थी। मील अलॉट हो गए हैं। सोमवार सुबह की धान खरीद का कार्य शुरू कर दिया जाएगा। किसानों की समस्याओं के समाधान को लेकर मार्किट कमेटी प्रशासन हमेशा तत्पर है। किसान व मजदूरों के लिए अन्य सभी व्यवस्थाओं भी दुरूस्त किया गया है।
रोशन लाल, सचिव मार्किट कमेटी नरवाना।

Sunday, June 27, 2021

June 27, 2021

पूर्व सरपंच ओमप्रकाश बने कंडेला सर्वखाप के प्रधान-विवाद भी हुआ, पंचायत से निकले ग्रामीण

पूर्व सरपंच ओमप्रकाश बने कंडेला सर्वखाप के प्रधान
-विवाद भी हुआ, पंचायत से निकले ग्रामीण
जींद, 27 जून ( संजय कुमार ) कंडेला खाप का प्रधान बनाए जाने को लेकर रविवार को गांव में पंचायत हुई, जिसमें ओमप्रकाश कंडेला को प्रधान चुना गया। लेकिन खाप के दो पूर्व प्रधानों सहित गांव के ही कुछ लाेगों ने ओमप्रकाश को प्रधान मानने से इंकार कर दिया। बीती 11 मार्च को भी ओमप्रकाश को खाप का प्रधान चुना गया था, लेकिन तीन दिन बाद ही 14 मार्च को खाप के चबूतरे पर हुई पंचायत में उन्हें प्रधान मानने से इंकार कर दिया था और प्रधान का पद खाली मान लिया था। अब फिर उन्हें प्रधान चुने जाने पर विवाद खड़ा हो गया है।
रविवार को गांव की चौपाल में निवर्तमान सरपंच अजमेर वाल्मीकि की अध्यक्षता में हुई, जिसमें खाप का प्रधान बनाए जाने को लेकर चर्चा हुई। अध्यक्षता कर रहे अजमेर सरपंच ने कहा कि खाप के प्रधान का पद गैरराजनीतिक होगा और प्रधान को पद की मर्यादा को बनाए रखते हुए काम करना होगा। पंचायत में मौजूद लोगों ने ओमप्रकाश को सर्वजातीय कंडेला खाप का प्रधान बनाने का ऐलान किया। उनके नाम का ऐलान होते ही कुछ लोग नाराज होकर पंचायत से उठकर चले गए। वहीं, ओमप्रकाश कंडेला ने सबका आभार जताते हुए कहा कि वे प्रधान पद की मर्यादा बनाकर रखेंगे। खाप के सभी गांवों में युवाओं के उज्ज्वल भविष्य को लेकर शिक्षा और खेल दोनों है जरूरी, को लेकर अभियान भी चलाएंगे। 
पंचायत में पूर्व सरपंच महाबीर व रणधीर, राजबीर नंबरदार, ब्लाक समिति सदस्य विकास, बलजीत सिंह, राज सिंह, गुड्डू, रतन सिंह, राजेश, ईश्वर, जगदीश वाल्मीकि, सुनील कंडेला आदि ग्रामीण मौजूद थे। वहीं, भाकियू प्रधान हजूरा सिंह, प्रताप सिंह व अन्य ग्रामीणों ने कहा कि गिनती के कुछ लोगों ने पूर्व योजना के तहत इकट्ठे होकर ओमप्रकाश को प्रधान चुना है, जो सही नहीं है। खाप में शामिल सभी गांवों के 36 बिरादरी के लोगों की मौजूदगी में प्रधान का चयन किया जाना चाहिए था। खाप के पूर्व प्रधान टेकराम कंडेला ने भी कहा कि उन्हें पंचायत की कोई जानकारी नहीं थी और ओमप्रकाश को प्रधान मानने से इंकार कर दिया।
*-टेकराम बोले: किसान आंदोलन के बाद लेंगे फैसला*
कंडेला खाप के पूर्व प्रधान टेकराम कंडेला ने कहा कि उन्होंने 14 मार्च को खाप के चबूतरे पर अपना इस्तीफा सौंप दिया था। तब पंचायत ने इस्तीफा मंजूर न करके खाप प्रधान बने रहने का आग्रह किया था। लेकिन वह दोबारा प्रधान बनने के इच्छुक नहीं हैं। रविवार को आेमप्रकाश को प्रधान चुने जाने पर टेकराम कंडेला ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कुछ लोगों ने इकट्ठे होकर अपनी मर्जी से प्रधान बना दिया है। वे ओमप्रकाश को प्रधान नहीं मानते हैं। खाप के सभी गांवों और 36 बिरादरी के लोग शामिल नहीं थे। उन्हें भी इस पंचायत के बारे में पता नहीं था। अभी वह किसान आंदोलन में व्यस्त हैं। किसान आंदोलन खत्म होने के बाद खाप के प्रधान पर सभी गांवों की मीटिंग में कोई फैसला लिया जाएगा। टेकराम ने कहा कि सत्ता पक्ष व विपक्ष के कुछ लोग कंडेला खाप को कमजोर करना चाहते हैं, लेकिन उनके मंसूबे पूरे नहीं होने दिए जाएंगे। टेकराम के साथ मौजूद हजूरा सिंह, प्रताप सिंह, राजपाल नंबरदार, अभेराम पंच, हवा सिंह, रामनिवास, हरकेश पंच ने भी ओमप्रकाश को प्रधान मानने से इंकार कर दिया।
--टेकराम को प्रधान मानने की बात कह पंचायत से निकले ग्रामीण-
पंचायत में जब ओमप्रकाश को प्रधान बनाने की बात कही तो कुछ लोगों ने कहा कि वे टेकराम कंडेला को ही खाप का प्रधान मानते हैं। गांव के हजूरा सिंह, हरकेश पंच, अभेराम पंच, धर्मपाल अन्य लोगों ने कहा कि पंचायत में 36 बिरादरी और खाप के सभी गांवों के लोग शामिल नहीं हैं। ये सभी लोग टेकराम को ही प्रधान मानने की बात कहकर पंचायत से उठकर निकल लिए। इससे माहौल में गर्मी भी आ गई। इन लोगों ने यह भी कहा कि ओमप्रकाश को चौपाल में प्रधान चुनने के बजाय पड़ोस की बैठक में उनके नाम पर मुहर लगाई, जो पंचायत का अपमान है। इसके बाद पंचायत में बाकी बचे लोगों ने ओमप्रकाश कंडेला को ही दोबारा खाप प्रधान नियुक्त कर दिया।
June 27, 2021

मोदीजी जब आप रैलियां कर रहे थे, मैं ऑक्सीजन के लिए लड़ रहा था रो रहा था-गिड़गिड़ा रहा था: केजरीवाल

मोदीजी जब आप रैलियां कर रहे थे, मैं ऑक्सीजन के लिए लड़ रहा था रो रहा था-गिड़गिड़ा रहा था: केजरीवाल

नई दिल्ली : दिल्ली की राजनीति में एक बार फिर से बवाल शुरु हो गया है. ताजा बवाल ऑक्सीजन संकट को लेकर है।
ऑक्सीजन संकट पर एक रिपोर्ट सामने आई है जिसके बाद सत्ता में बैठी आम आदमी पार्टी और विपक्षी भारतीय जनता पार्टी के बीच रार छिड़ गई है।
दिलचस्प बात तो यह है कि जिस रिपोर्ट के आधार पर भाजपा नेता केजरीवाल सरकार को घेर रहे हैं, वैसी किसी रिपोर्ट की बात से ही सरकार इंकार कर रही है।
भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने एक प्रेस वार्ता बुलाई और कहा कि सुप्रीम कोर्ट के ऑडिट से यह बात सामने आई है कि दिल्ली सरकार की मांग पर आवश्यक्ता से 4 गुना ज्यादा ऑक्सीजन आपूर्ति कर दी गई। ये आपूर्ति देश के दूसरे 12 राज्यों के ऑक्सीजन के कोटे को काट कर दिया गया।
पात्रा ने कहा कि ये सिर्फ झूठ नहीं बल्कि महाझूठ था, जो केजरीवाल सरकार ने बोला। ये महाझूठ अब जाकर सामने आया है, ये सबसे बड़ा अपराध है।
पात्रा ने कहा कि ऑक्सीजन जैसी चीज पर भी कोई सियासत कर सकता है, ये अब जाकर देखने को मिला है।
भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि अपनी नाकामी छिपाने के लिए दिल्ली सरकार ने पूरे देश में झूठ फैलाने का काम किया।
वहीं दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने तो सबसे पहले ऐसी किसी रिपोर्ट के होने से इंकार कर दिया।
सिसोदिया ने कहा कि भाजपा प्रवक्ता जिस रिपोर्ट की बात कर रहे हैं, वैसी कोई रिपोर्ट है ही नहीं। भाजपा इस मामले पर झूठ फैला रही है।
हमें यह जानकारी मिली है कि सुप्रीम कोर्ट ने एक ऑक्सीजन कमेटी बनाई है, हमने कई सदस्यों से बात की है और सब ने एक ही बात कहा है कि उन्होंने ऐसी किसी भी रिपोर्ट को अप्रूवल नहीं दिया है।
सिसोदिया ने पात्रा से पूछा कि जब कमेटी ने ऐसी कोई रिपोर्ट दी ही नहीं है तो ये बीजेपी वाले कौन से रिपोर्ट की बात कर रहे हैं ! अभी जब पूरा मामला सुप्रीम कोर्ट में है तो भाजपाईयों को इस तरह के षड़यंत्र नहीं करना चाहिए।
वहीं दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी इस मुद्दे पर ट्वीटर के जरिए अपना पक्ष रखते हुए कहा कि मेरा गुनाह क्या है, यही न कि मैंने अपने 02 करोड़ लोगों की सांसों के लिए लड़ा।
बिना नाम लिए पीएम मोदी पर प्रहार करते हुए केजरीवाल ने कहा कि जब आप चुनावी रैलियां कर रहे थें, तब मैं ऑक्सीजन का इंतजाम कर रहा था। लोगों को ऑक्सीजन दिलवाने के लिए मैं लड़ा, रोया और गिड़गिड़ाया।
केजरीवाल ने कहा कि लोगों ने ऑक्सीजन की कमी की वजह से अपने बहुत सारे लोगों को खोया है, उन्हें झूठा मत कहिए। उन्हें बहुत बुरा लग रहा है।

Thursday, June 24, 2021

June 24, 2021

स्कूलों को खोलने की मांग को लेकर आज शिक्षा मंत्री से मिलेंगे प्राइवेट स्कूल संचालक

स्कूलों को खोलने की मांग को लेकर आज शिक्षा मंत्री से मिलेंगे प्राइवेट स्कूल संचालक
चंडीगढ़ : आज प्राइवेट स्कूल संचालक हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर से मुलाकात करेंगे। स्कूल संचालकों का कहना है कि अब समय आ गया है कि स्कूलों को दोबारा से खोला जाए, क्योंकि अब बच्चों की शिक्षा बहुत ज्यादा प्रभावित हो रही है। स्कूल संचालकों का कहना है कि अब ऑनलाइन क्लासों से बच्चों का मानसिक और शारीरिक विकास प्रभावित हो रहा है। ऐसे में ये जरूरी है कि स्कूलों को कोविड नियमों के साथ खोला जाए।

आपको बता दें, बुधवार को अंबाला में प्राइवेट स्कूल संचालकों ने बीजेपी विधायक असीम गोयल से भी मुलाकात की थी । असीम गोयल ने स्कूल संचालकों को आश्वासन दिया कि वो इस बारे में शिक्षा मंत्री से बात करेंगे। शिक्षा मंत्री और प्राइवेट स्कूल संचालकों के बीच होने वाली इस बैठक में विधायक असीम गोयल भी रहेंगे। ये बैठक शिक्षा मंत्री के चंडीगढ़ निवास पर होगी। गौरतलब है कि हरियाणा में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से कमी आ रही है।

दूसरी लहर का असर लगभग खत्म होता नजर आ रहा है। ऐसे में सरकार भी लॉकडाउन में लगातार ढील दे रही है। अब प्राइवेट स्कूल संचालक भी सरकार से इस उम्मीद में हैं कि स्कूलों को भी खोला जाए, ताकि वो आर्थिक संकट से उभर सकें और बच्चों की शिक्षा भी प्रभावित ना हो।