/>

Breaking

Wednesday, September 22, 2021

थाने में 2 दिनों से सरकारी गेंहू से भरा ट्रक खड़ा बना चर्चा का विषय

थाने में 2 दिनों से सरकारी गेंहू से भरा ट्रक खड़ा बना चर्चा का विषय
 जींद/सफीदों ÷ सफीदों के सिटी थाने में पिछले 2 दिनों से खड़ा सरकारी गेंहू से भरा ट्रक चर्चा का विषय बना हुआ है। इस मामले में सफीदों पुलिस कुछ भी बोलने में कन्नी काट रही है। मिली जानकारी के अनुसार सफीदों पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि संदिग्ध परिस्थितियों में जींद रोड स्थित एक सरकारी गोदाम से गेंहू से भरा एक ट्रक निकला है और वह किसी दूसरे गोदाम में जा रहा है। सूचना के आधार पर पुलिस ने ट्रक को काबू करके उसे सिटी थाना में खड़ा कर दिया। पुलिस ने ट्रक के ड्राइवर और हेल्पर को भी काबू किया है। हालांकि इस ट्रक को पकड़े हुए बहुत लंबा समय हो चुका है लेकिन पुलिस इस मामले में कुछ भी बताने को तैयार नही है। वैसे पुलिस ने इस मामले में हैफेड के आलाधिकारियों को सूचित किया है। सफीदों पुलिस ने यह गेंहू से भरा ट्रक सफीदो के हैफेड गोदाम के पास से पकड़ा है। इस ट्रक में करीब 300 बोरियां भरी हुई है और हर बोरी सरकारी मार्का लगा हुआ है। बताया जा रहा है कि इस गेंहू को हैफेड के एक गोदाम से दूसरे गोदाम में अवैध तरीके से भेजा जा रहा था। इसी बीच पुलिस को सूचना मिली तो उसने ट्रक को गोदाम के पास से ही काबू कर लिया। वही इस मामले सूत्र बताते है कि हैफेड के एक  गोदाम में अधिकारियों व कर्मचारियों के द्वारा चोरी से गेंहू बाजार में बेच दिया गया था और बेचते वक्त वे स्टाक का हिसाब लगाना भुल गए। जब बाद में स्टाक मिलाया गया तो वह कम निकला। उसके बाद अधिकारियों व कर्मचारियों में हडकंप मच गया। आननफानन में उस कम गेंहू को पूरा करने के लिए अधिकारियों व कर्मचारियों ने दूसरे गोदाम से संपर्क किया। वहां पर सैटिंग बैठाकर अवैध रूप से गेंहू का ट्रक भरवाया और उसे दूसरे गोदाम के लिए रवाना किया गया लेकिन इसी बीच किसी इस घालमेल की सूचना पुलिस को दे दी और पुलिस ने मौके पर पहुंचकर ट्रक को पकड़ लिया। पुलिस द्वारा पकड़े गए ट्रक में किस-किस की मिलीभगत है यह तो पुलिस जांच में सामने आएगा। वहीं यह भी पता चला है हैफेड के बड़े अधिकारी सफीदों पहुंचे है। अधिकारियों ने पहले तो गोदामों को सील किया। उसके बाद एक-एक गोदाम को खुलवाकर स्टाक की जांच कर रहे हैं। समाचार लिखे जाने तक अधिकारी जांच कर रहे थे। वैसे इस मामले की गहराई से जांच की जाए जो बहुत बड़ा घोटाला सामने आ सकता है।

No comments:

Post a Comment